नई पोस्ट करें

IPL 2021, RCB vs SRH : आरसीबी के 'विजय अभियान' को सनराइजर्स की चुनौती, डिविलियर्स और राशिद में टक्कर

2022-10-01 06:27:25 857

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करराहुल, सोनिया के खिलाफ आयकर मामले में सुप्रीम कोर्ट 4 दिसंबर को करेगा अंतिम सुनवाई****** उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष और उनकी मां सोनिया गांधी के 2011-12 के आयकर आकलन का मामला फिर से खोलने से संबंधित प्रकरण में दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाली उनकी याचिकाओं पर चार दिसंबर को अंतिम रूप से दलीलें सुनी जाएंगी। दिल्ली उच्च न्यायालय ने इस मामले में आयकर विभाग को राहुल गांधी और सोनिया गांधी के पुराने रिकॉर्ड की छानबीन करने का अवसर देते हुए दोनों को राहत देने से इंकार कर दिया था।न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति एस ए अब्दुल नजीर की पीठ ने राहुल और की याचिकाओं पर कोई नोटिस जारी नहीं किया क्योंकि आयकर विभाग की ओर से उसके वकील न्यायालय में उपस्थित थे। आय कर विभाग ने इस मामले में शीर्ष अदालत में कैविएट दाखिल कर रखी थी कि उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ कोई अपील दायर होने की स्थिति में उसका पक्ष सुना जाना चाहिए।कैविएट एक न्यायिक प्रक्रिया है जिसके तहत मुकदमे से संबंधित किसी भी पक्षकार को एकतरफा आदेश प्राप्त करने से रोकने के लिए आवेदन दायर किया जाता है। पीठ ने संक्षिप्त सुनवाई के बाद कहा, ‘‘चूंकि प्रतिवादी (आयकर विभाग) ने उपस्थिति दर्ज करायी है, हम औपचारिक नोटिस जारी नहीं कर रहे हैं। हालांकि, हम मामले की अंतिम सुनवाई के लिये चार दिसंबर की तारीख निर्धारित कर रहे हैं।’’राहुल गांधी, सोनिया गांधी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आस्कर फर्नाण्डीज ने अपनी अपील में उच्च न्यायालय के 10 सितंबर के फैसले को चुनौती दी है। कांग्रेस नेताओं के खिलाफ आयकर विभाग का मामला नेशनल हेराल्ड प्रकरण से जुड़ा है जिसमे ये सभी आपराधिक कार्यवाही का सामना कर रहे हैं। कांग्रेस नेताओं की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता पी चिदंबरम, कपिल सिब्बल और अरविन्द दातार पेश हुए। चिदंबरम ने जब आयकर विभाग के मामले के संदर्भ में इसकी पृष्ठभूमि बताने का प्रयास किया तो पीठ ने कहा, ‘‘इसकी पृष्ठभूमि से हमारा सरोकार नहीं है परंतु सवाल आयकर के पुन: निर्धारण के लिए नोटिस (आयकर विभाग द्वारा जारी) के बारे में है। सवाल यह है कि क्या यह नोटिस वैध है या नहीं।’’इस मामले में सुनवाई शुरू होते ही पीठ ने कहा कि उसकी राय है कि गांधी ये मुद्दा कर निर्धारण अधिकारी के समक्ष उठा सकते हैं। हालांकि, चिदंबरम ने कहा कि सवाल आय कर विभाग द्वारा उन्हें नोटिस देने के बारे में है और इसका निर्णय करना होगा कि क्या यह सही है या नहीं। आय कर विभाग की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि राहुल और सोनिया गांधी तथा फर्नाण्डीज द्वारा उठाया गया मुद्दा गलत है। इस पर पीठ ने कहा कि याचिकाओं में उठाये गये मुद्दे पर विचार की जरूरत है।सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा कि इसके लिए दो विकल्प है। पीठ ने कहा एक विकल्प है कि, ‘‘हम नोटिस जारी करेंगे परंतु हम कहेंगे कि कर निर्धारण अधिकारी निर्धारण कार्यवाही आगे बढ़ाए। हालांकि, उसके अंतिम निर्णय पर अमल नहीं किया जाएगा और उसे इस न्यायालय के समक्ष रखा जाएगा।’’ दूसरा विकल्प यह है कि हम दो सप्ताह बाद इसकी सुनवाई करेंगे और आप सभी हमारी मदद कर सकते हैं। उच्च न्यायालय का फैसला लंबा है।’’उच्च न्यायालय ने राहुल गांधी और सोनिया गांधी का 2011-12 के कर निर्धारण फिर से करने के आदेश को चुनौती देने वाली उनकी याचिका खारिज कर दी थी। कांग्रेस नेताओं के खिलाफ आयकर विभाग की जांच भाजपा नेता सुब्रमणियन स्वामी द्वारा नेशनल हेराल्ड मामले के सिलसिले में दायर निजी शिकायत की जांच से निकली है। नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस के तीनों नेता इस समय जमानत पर हैं।सोनिया गांधी और राहुल गांधी को निचली अदालत ने 19 दिसंबर, 2015 को जमानत दी थी।

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करनरगिस फाखरी स्टारर हॉरर फिल्म 'अमावस' का फर्स्ट लुक जारी, 14 दिसंबर को हो रही है रिलीज****** हैलोवीन के मौके पर 'अमावस' के निर्माताओं ने फिल्म की पहली झलक जारी कर दिया है। 1920 ईविल रिटर्न्स, रागिनी एमएमएस2 और अलोन जैसी फिल्में बनाने वाले इस फिल्म के भी निर्देशक है। भूषण पटेल के निर्देशन में बनी इस फिल्म में सचिन जोशी, विवान भटेना, और नवनीत कौर ढिल्लन, मोना सिह और अली असगर हैं। जो कि 14 दिसंबर को रिलीज होगी।'अमावस' का पोस्टर डरावना और रहस्यमई है।फिल्म की शूटिंग लंदन में हुई और इसे 40 दिनों में पूरा कर लिया गया है।तरण आदर्श से इस पोस्टर को शेयर करते हुए बताया कि ये फिल्म 14 दिसंबर को रिलीज होगी। इसके साथ ही इसका टीजर 5 नवंबर को आउट होगा। अब देखना है कि यह सिनेमा घरों पर कितना जादू चला सकती है।आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करGold Shine: सोने की घरेलू मांग 2018 में 1.40 प्रतिशत गिरकर 760 टन पर आयी, वैश्विक मांग 4 प्रतिशत बढ़ी******Goldअधिक कीमत तथा कुछ सरकारी कदमों से सोने की घरेलू मांग 2018 में 1.40 प्रतिशत गिरकर 760.40 टन पर आ गयी। हालांकि इस दौरान में चार प्रतिशत की तेजी आयी। विश्व स्वर्ण परिषद की वार्षिक रिपोर्ट में बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी गयी। परिषद ने कहा कि विवाह के मुहूर्त वाले दिनों की कम संख्या रहने, कीमतों में भारी उथल-पुथल होने तथा सरकार द्वारा पारदर्शिता के लिये उठाये गये विभिन्न कदमों से यह गिरावट आयी है। वर्ष 2017 में घरेलू स्वर्ण मांग 771.20 टन रही थी।रिपोर्ट में कहा गया कि विभिन्न केंद्रीय बैंकों ने 2018 में 74 प्रतिशत अधिक सोने की खरीद की। उन्होंने 2018 में 651.50 टन सोने की खरीद की जबकि 2017 में उन्होंने 374.80 टन सोने की खरीद की थी। परिषद के प्रबंध निदेशक (भारत) सोमासुंदरम पीआर ने पीटीआई भाषा से कहा कि आगामी आम चुनाव तथा खर्च में वृद्धि को देखते हुए 2019 में सोने की घरेलू मांग 750 से 850 टन के बीच रहने का अनुमान है।उन्होंने कहा कि आभूषणों की घरेलू मांग 2018 में एक प्रतिशत गिरकर 598 टन पर आ गयी। हालांकि मूल्य के संदर्भ में आभूषणों की मांग पांच प्रतिशत बढ़कर 16.66 लाख करोड़ रुपये पर रही। इस दौरान कुल निवेश मांग चार प्रतिशत कम होकर 162.40 टन पर आ गयी। मूल्य के संदर्भ में यह दो प्रतिशत की तेजी के साथ 45,250 करोड़ रुपये पर पहुंच गयी।सोमासुंदरम ने कहा कि इस दौरान संगठित रत्न एवं आभूषण क्षेत्र में वृद्धि होने से इसका अवैध बाजार 2017 के 115 टन से कम होकर 2018 में 90-95 टन पर आ गया। परिषद ने कहा कि 1971 में अमेरिकी डॉलर को सोने में बदलने की प्रक्रिया बंद होने के बाद सोने की वैश्विक मांग सबसे उच्च स्तर पर रही। उसने कहा कि 2018 में सोने की मांग में तेजी में चना का सबसे मुख्य योगदान रहा।

IPL 2021, RCB vs SRH : आरसीबी के 'विजय अभियान' को सनराइजर्स की चुनौती, डिविलियर्स और राशिद में टक्कर

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करश्रद्धांजलि: 6 बार सांसद रहे अनंत कुमार ने लोकसभा चुनावों में कभी हार का मुंह नहीं देखा****** केंद्रीय मंत्री का बेंगलुरु के एक अस्पताल में सोमवार तड़के 2 बजे निधन हो गया। कैंसर से पीड़ित अनंत का पिछले काफी समय से इलाज चल रहा था। 59 वर्षीय अनंत का पहले लंदन और न्यूयॉर्क में इलाज चला था और 20 अक्टूबर को ही वह बेंगलुरु वापस आए थे। अनंत कुमार का जन्म 22 जुलाई 1959 को हुआ था। वह बेंगलुरु दक्षिण सीट से सांसद थे। अनंत भारतीय जनता पार्टी के उन गिन-चुने नेताओं में शामिल थे, जिनकी वजह से पार्टी दक्षिण भारत में अपनी पहचान बना पाई। अनंत 1998 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में भी मंत्री थी और पार्टी के अंदर उन्हें ट्रबल शूटर भी माना जाता था।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार में अनंत 2014 से ही रसायन और उर्वरक मंत्रालय का काम देखते थे। अनंत को 2016 में संसदीय कार्य मंत्री की जिम्मेदारी भी दी गई थी। वह बेंगलुरु दक्षिण सीट से लगातार 6 बार सांसद चुने गए। साल 1996 में अनंत कुमार ने बेंगलुरु साउथ सीट से पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ा और उसके बाद उन्होंने कभी हार का मुंह नहीं देखा। आपातकाल के दौरान जेल जा चुके अंनत कुमार अपने छात्र जीवन से ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए थे। 1985 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय सचिव बने।भारतीय जनता युवा मोर्चा में काम करने के बाद भाजपा ने 1996 में अनंत कुमार को बेंगलुरु दक्षिण से टिकट दिया था, जहां से वह आज तक लगातार जीतते हुए आए। 1999 में अनंत कुमार को अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में नागरिक उड्डयन मंत्री बनाया गया। वाजपेयी मंत्रिमंडल में अनंत कुमार सबसे कम उम्र के कैबिनेट मंत्री थे। इसके अलावा अनंत कुमार ने शहरी विकास मंत्रालय और खेल मंत्रालय का कामकाज भी संभाला। साल 2004 में भाजपा ने अनंत कुमार को पार्टी का महासचिव बनाया जहां उन्हें मध्य प्रदेश, बिहार और छत्तीसगढ़ के साथ-साथ दूसरे राज्यों की जिम्मेदारी दी गई।यूरिया की 100 फीसदी नीम कोटिंग का लक्ष्य सरकार ने अनंत कुमार के रसायन और उर्वरक मंत्री रहते ही हासिल किया। अनंत कुमार के परिवार में उनकी पत्नी तेजस्विनी, एवं दो बेटियां ऐश्वर्या और विजेता हैं। सभी पार्टियों के नेताओं से अनंत के अच्छे रिश्ते थे। यही वजह है कि फ्लोर मैनेजमेंट के लिए उन्हें संसदीय कार्यमंत्री बनाया गया था।आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करगुजरात: बगावत से परेशान कांग्रेस अपने 44 विधायकों को रातोंरात बेंगलूरू लेकर गई******राज्‍यसभा चुनावों से पहले के अचानक पार्टी छोड़कर भाजपा में चले जाने के बाद पार्टी यहां अब अपनी खिसकती जमीन को बचाने में जुटी हुई है, ताकि आगामी राज्‍यसभा चुनावों में वह कमजोर स्थिति में न पहुंच जाए। इसके तहत पार्टी गुजरात में अपने 44 विधायकों को शुक्रवार रात एकाएक बेंगलुरु ले गई। नाम न उजागर करने की शर्त पर पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, गुजरात में मौजूदा हालात को देखते हुए जहां हमारे सदस्यों को लालच देने की कोशिश की जा रही है, हम अपने 44 विधायकों को बेंगूलरू भेज दिये हैं। प्रदेश के एक अन्य नेता ने घटनाक्रम की पुष्टि की है। वहीं दिन में कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मांग की थी कि धन और ताकत का इस्तेमाल करके कांग्रेस के विधायकों का शिकार करने के लिए चुनाव आयोग भाजपा के खिलाफ एक आपराधिक मामला दर्ज करे। इस आरोप को भगवा दल ने खारिज किया है। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि 'गुजरात में भाजपा ने खरीद-फरोख्त में करोड़ों रुपये खर्च किए हैं। आपने यह देखी है, गुजरात में भाजपा की नीति है कि सभी कानूनों को तोड़कर जैसे भी हो सत्ता में बने रहा जाए'। सिंघवी ने कहा कि पार्टी अपने सारे विकल्प खुले रख रही है और विधायकों को चेतावनी दी कि दल-बदल विरोधी कानून के तहत वे छह वर्ष तक चुनाव लड़ने के अयोग्य हो जाएंगे।बता दें कि कल गुजरात में विपक्षी पार्टी को तगड़ा झाटका देते हुए तीन और विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था। इसी के साथ राज्यसभा चुनाव से पहले पार्टी छोड़ने वाले विधायकों की संख्या छह हो गई। कांग्रेस ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल को गुजरात से संसद के उच्च सदन के लिए फिर उतारा है।सूत्रों ने बताया कि वाघेला के प्रति वफादार कुछ और विधायक इस्तीफा दे सकते हैं, जबकि अन्य अगले सप्ताह कांग्रेस के उम्मीदवार के खिलाफ वोट कर सकते हैं जैसा कि राष्ट्रपति चुनाव में हुआ था। 11 लोगों ने विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार की बजाय रामनाथ कोविंद के लिए मतदान किया था। राज्य की 182 सदस्य विधानसभा में कांग्रेस की संख्या 57 से घटकर 51 रह गई है। इसका असर आगामी राज्यसभा चुनाव में पटेल की किस्मत पर पड़ सकता है।आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करबसंत पंचमी: राष्ट्रपति और पीएम मोदी ने देशवासियों को दी बधाई, प्रयागराज में 4.5 लाख लोगों ने गंगा में स्नान किया******Highlights बसंत पंचमी के मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को शुभकामनाएं दी है। राष्ट्रपति ने अपने संदेश में देश की खुशहाली और समृद्धि की कामना की है। वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने अभी अपने संदेश देशवासियों को बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा की शुभकामनाएं दी है।राष्ट्रपति कोविंद ने अपने संदेश में कहा-बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को मेरी हार्दिक शुभकामनाएं। मैं कामना करता हूँ कि बसंत का आगमन सभी देशवासियों के जीवन में सुख, समृद्धि और उत्तम स्वास्थ्य का संचार करे तथा विद्या की देवी मां सरस्वती सभी के जीवन को ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करें।वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संदेश में कहा-'सभी देशवासियों को बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा की ढेरों शुभकामनाएं। मां शारदा की कृपा आप सभी पर बनी रहे और ऋतुराज बसंत हर किसी के जीवन में हर्षोल्लास लेकर आए।'उधर, प्रयागराज में संगम तट पर चल रहे माघ मेला के चतुर्थ स्नान पर्व ‘बसंत पंचमी’ के अवसर पर शनिवार को सुबह 10 बजे तक लगभग 4.5 लाख श्रद्धालुओं ने यहां गंगा और संगम में स्नान किया। मेला प्रशासन के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। मेला प्रशासन ने बताया कि सुबह से ही श्रद्धालुओं का मेला क्षेत्र में आना जारी है और धूप खिली होने की वजह से दिन में भारी संख्या में लोगों के आने की संभावना है।मेला प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि बसंत पंचमी पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने के मद्देनजर पुलिस ने मेला क्षेत्र में आठ नए खोया-पाया केंद्र बनाए हैं जिन्हें विभिन्न सेक्टरों में स्नान घाट पर पहले से बने वाच टावर के समीप स्थापित किया गया है। उन्होंने बताया कि केंद्रीय भूले-भटके शिविर को पीले हवाई गुब्बारे से चिह्नित किया गया है।इनपुट-भाषा

IPL 2021, RCB vs SRH : आरसीबी के 'विजय अभियान' को सनराइजर्स की चुनौती, डिविलियर्स और राशिद में टक्कर

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करजिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव विधानसभा चुनाव में जीत की गारंटी नहीं! जानिए क्या कहता है यूपी का इतिहास******उत्तर प्रदेश में शनिवार को संपन्न हुए जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में सत्तारूढ़ समर्थित उम्मीदवारों के 67 जिलों में जीत हासिल करने के बाद भाजपा का यह दावा है कि अगले वर्ष की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए यह प्रचंड विजय पार्टी की जीत का मार्ग प्रशस्त करेगी।जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में हालांकि सत्तारूढ़ दल की यह उपलब्धि कोई नई नहीं है। इसके पहले वर्ष 2016 में 74 जिलों में हुए जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में सत्ता में रहते हुए समाजवादी पार्टी (सपा) ने 59 सीटें जीती थीं जबकि भाजपा और बसपा को पांच-पांच, कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल को एक-एक और तीन सीटों पर सपा के ही बागी चुनाव जीते थे। तब सपा को 36 जिलों में निर्विरोध जीत मिली थी और इस बार 21 जिलों में भाजपा उम्मीदवार निर्विरोध जीत गये। अबकी चुनाव में भाजपा को 67, सपा को पांच, राष्ट्रीय लोकदल को एक, जनसत्ता दल को एक और एक निर्दलीय उम्मीदवार को जीत मिली है।भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने शनिवार को दावा किया कि जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में मिली यह प्रचंड विजय आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा की जीत का मार्ग प्रशस्त करेगी। उत्तर प्रदेश सरकार के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी PTI से बातचीत में जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में भाजपा की भारी जीत पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव में पार्टी की फ‍िर से रिकॉर्ड बहुमत से सरकार बनेगी।हालांकि राजनीतिक समाजशास्त्री, भारतीय समाजशास्त्र परिषद के पूर्व सचिव और लखनऊ विश्वविद्यालय के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रोफेसर राजेश मिश्र ने PTI से बातचीत में कहा, "जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव परिणाम का आने वाले विधानसभा चुनाव में क्या असर होगा, कोई दावा नहीं किया जा सकता है।"उन्होंने कहा, "2011 में बसपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष की सर्वाधिक सीटें जीतीं और 2012 के विधानसभा चुनाव में हार गई। 2016 में जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में सपा ने सबसे ज्यादा सीटें जीती और 2017 के विधानसभा चुनाव में बुरी तरह हार गई। इसलिए अगले वर्ष के विधानसभा चुनाव में इन शक्तियों (भाजपा के जिला पंचायत अध्यक्षों) का क्या प्रभाव होगा, कहा नहीं जा सकता है।"गौरतलब है कि इस बार के चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली जबकि बहुजन समाज पार्टी ने चुनाव मैदान से खुद को अलग कर लिया था। बसपा प्रमुख मायावती ने 28 जून को यह घोषणा की कि "बसपा ने फैसला लिया है कि वह इस समय प्रदेश में हो रहे जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव नहीं लड़ेगी।"मायावती ने कहा, "इसमें कोई संदेह नहीं है कि उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव जीतना अब पूरी तरह से ख़रीद-फ़रोख़्त और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग आदि करने पर ही आधारित बनकर रह गया है और इस मामले में अब भाजपा भी वही तौर-तरीके अपना रही है जो पूर्व में समाजवादी पार्टी अपने शासनकाल में अपनाती रही है। इसी वजह से बसपा को वर्ष 1995 में सपा के साथ तत्कालीन गठबंधन सरकार से अलग होना पड़ा था।"सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी पर सत्ता के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए शनिवार को कहा, "जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में सत्तारूढ़ दल ने सभी लोकतांत्रिक मान्यताओं का तिरस्कार करते हुए स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव को एक मजाक बना दिया। सत्ता का ऐसा बदरंग चेहरा कभी नहीं देखा गया।"यादव ने कहा, "भाजपा ने जो धांधली जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में की है उसका जवाब अब 2022 में जनता देने को तैयार बैठी है। समाजवादी पार्टी की सरकार बनने पर ही लोकतंत्र बहाल होगा और तभी जनता के साथ न्याय होगा।" यादव के बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष और पंचायत चुनाव के प्रदेश प्रभारी विजय बहादुर पाठक ने कहा, "सपा अध्यक्ष का मापदंड दोहरा है। आजमगढ़ में उनके उम्मीदवार चुनाव जीतते हैं तो निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रशासन को धन्यवाद देते हैं और जब कड़े संघर्ष में दूसरे जिलों में हार जाते हैं तो प्रशासन पर आरोप लगाकर पूरे तंत्र पर ही सवाल उठाते हैं।"पाठक ने कहा कि सपा मुखिया का अफसरों को खुले तौर पर धमकाने का निर्वाचन आयोग को संज्ञान लेना चाहिए। यादव ने शनिवार को चेतावनी दी थी, "प्रशासनिक अधिकारियों को याद रखना चाहिए कि सेवा नियमावली का उल्लंघन करते हुए सत्ता दल के पक्ष में संदिग्ध गतिविधियों में संलिप्त पाए जाने पर उनके विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी।" लोकतांत्रिक मूल्यों के सवाल पर प्रोफेसर राजेश मिश्र ने कहा, "1995 से जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव ऐसे ही होते हैं और मौजूदा सत्ता दल (भाजपा) सीमा का अतिक्रमण कर रहा है।" प्रोफेसर मिश्र ने कहा, ''यह लोकतंत्र नहीं है, यह बलतंत्र है और कतई यह भ्रम नहीं होना चाहिए कि यह लोकतंत्र है।"आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करब्रिटिश टेनिस खिलाड़ी एंडी मरे को फ्रेंच ओपन के लिए मिला वाइल्ड कार्ड******पेरिस| दुनिया के पूर्व नंबर-1 टेनिस खिलाड़ी ब्रिटेन के एंडी मरे को 27 सितंबर से यहां शुरू होने वाले फ्रेंच ओपन में वाइल्ड कार्ड से प्रवेश दिया गया है। मरे को पिछले महीने अमेरिका ओपन में भी वाइल्ड कार्ड से ही प्रवेश मिली थी, जहां उन्हें दूसरे राउंड के मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा था।पिछले साल अपने कुल्हे की सर्जरी के बाद से मरे का यह पहला ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट था। उन्होंने अमेरिका ओपन के पहले राउंड में 49वें नंबर के खिलाड़ी जापान के याशिहितो निशियाको को 4-6, 4-6, 7-6 (7/5), 7-6 (7/4), 6-4 से मात दी थी। लेकिन दूसरे राउंड में उन्हें 15वीं सीड कनाडा के फेलिक्स एगुर एलासिमे से हार का सामना करना पड़ा था।मरे के अलावा अन्य सात खिलाड़ियों को भी रोला गैरों टूर्नामेंट के लिए वाइल्ड कार्ड से प्रवेश दिया गया है। 33 साल के मरे ने रोला गैरों में अपना पिछला मुकाबला तीन साल पहले खेला था, जहां सेमीफाइनल में उन्हें स्टेन वावरिंका के खिलाफ पांच सेटों तक चले मैराथन मुकाबले में शिकस्त झेलनी पड़ी थी।महिला एकल वर्ग में एयूजेनी बोउकार्ड अैर टवेटाना पिरोंकोवा को भी मुख्य ड्रॉ में वाइल्ड कार्ड से प्रवेश मिला है। दुनिया की नंबर-1 महिला टेनिस खिलाड़ी आस्ट्रेलिया की एश्लेग बार्टी पहले ही इस टूर्नामेंट से हटने की पुष्टि कर चुकी हैं।क्ले कोर्ट पर खेले जाने वाले फ्रेंच ओपन का आयोजन मई में होना था, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था और अब इसका आयोजन 27 सितम्बर से 11 अक्टूबर तक होगा।इस बीच, आयोजनकर्ताओं ने घोषणा की है कि रोला गैरों टूर्नामेंट में दर्शकों के प्रवेश करने की अनुमति होगी। आयोजकों ने बताया कि फ्रेंच ओपन में एक दिन में दर्शकों की अधिकतम संख्या 1500 तक रखी गई है।रोला गैरों को तीन मुख्य कोर्ट पर तीन जोन में बांटा जाएगा और दर्शक भी उस हिसाब से विभाजित रहेंगे। तीसरे सबसे बडे कोर्ट पर एक दिन में केवल 1500 दर्शकों को ही प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।

IPL 2021, RCB vs SRH : आरसीबी के 'विजय अभियान' को सनराइजर्स की चुनौती, डिविलियर्स और राशिद में टक्कर

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करStock Market: तेज शुरुआत के बाद बाजार में गिरावट, सेंसेक्स 200 अंक लुढ़का, निफ्टी भी 15700 के नीचे******Stock Market LiveHighlightsभारतीय शेयर मार्केट में आज शुरुआत तो तेजी के साथ हुई। लेकिन कुछ ही देर बाद बाजार लाल निशान पर आ गए। सेंसेक्स में करीब 170 अंकों की गिरावट आ चुकी है। वहीं निफ्टी भी 15700 के करीब आ गया है। आज सबसे ज्यादा पिटाई IT और मेटल शेयरों में दिखाई दी है। वहीं आटो इंडेक्स में भी गिरावट में हैं। जबकि बैंक और फाइनेंशियल इंडेक्स में तेजी दिख रही है। फार्मा, रियल्टी और FMCG इंडेक्स भी हरे निशान में हैं।फिलहाल करीब 40 मिनट के कारोबार के बाद सेंसेक्स में 195 अंकों की गिरावट आई है और यह 52,712.12 के स्तर पर ट्रेड कर रहा है। जबकि निफ्टी 82.00 अंकों की गिरावट के साथ 15,670.05 के लेवल पर है। आज के टॉप लूजर्स में टाटा स्टील, M&M, TCS, विप्रो, टेक महिंद्रा, डॉ रेड्डी और HDFC शामिल हैं।सेंसेक्स में इंडसइंड बैंक, आईटीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, सन फार्मा, आईसीआईसीआई बैंक, नेस्ले, हिंदुस्तान यूनिलीवर और मारुति बढ़त दर्ज करने वाले प्रमुख शेयरों में शामिल थे। दूसरी ओर टाटा स्टील, टीसीएस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, विप्रो, इंफोसिस, टेक महिंद्रा और एचडीएफसी में गिरावट हुई। अन्य एशियाई बाजारों में तोक्यो और शंघाई के बाजार हरे रंग में कारोबार कर रहे थे, जबकि सोल और हांगकांग में गिरावट आई।विदेशी कोषों की लगातार बिकवाली से निवेशकों की भावनाएं प्रभावित हुईं, जिसके चलते रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले नौ पैसे की गिरावट के साथ 79.03 पर आ गया। विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में कमजोरी से रुपये की गिरावट सीमित हुई। उन्होंने कहा कि हालांकि भारत और विश्व स्तर पर मुद्रास्फीति और वृद्धि की चिंताओं के चलते स्थानीय मुद्रा पर दबाव है। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 78.97 पर खुला, और आगे कमजोर रुख के साथ 79.03 पर आ गया। इस तरह रुपया पिछले बंद के मुकाबले नौ पैसे कमजोर था। रुपया पिछले सत्र में शुक्रवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 78.94 पर बंद हुआ था।

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्कररेल यात्रा लिए चुकाने होंगे ज्यादा पैसे? स्टेशन विकास शुल्क वसूलने पर विचार कर रही रेलवे******Highlightsलंबी दूरी की रेलयात्रा आने वाले समय में महंगी हो सकती है, क्योंकि भारतीय रेलवे पुनर्विकसित स्टेशनों पर चढ़ने या उतरने वाले यात्रियों पर स्टेशन विकास शुल्क के रूप में 10 रुपये से 50 रुपये तक प्रभार लगाने की योजना बना रही है। अधिकारियों ने कहा कि बुकिंग के दौरान ट्रेन टिकट में शुल्क जोड़े जाने की संभावना है, लेकिन ऐसे स्टेशनों के चालू होने के बाद से ही यह शुल्क लगाया जाएगा।उपभोक्ता शुल्क को 3 श्रेणियों में बांटा जाएगा। सभी वातानुकूलित श्रेणी के लिए 50 रुपये, शयनयान श्रेणी के लिए 25 रुपये और अनारक्षित क्लास के लिए 10 रुपये का लगाया जाएगा। बोर्ड द्वारा जारी एक सर्कुलर के अनुसार उपनगरीय रेलयात्रा के लिए स्टेशन विकास शुल्क नहीं लिया जाएगा। इसमें कहा गया है कि इन स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट भी 10 रुपये महंगा होगा। ‘स्टेशन विकास शुल्क (SDF) ऐसे स्टेशनों पर चढ़ने और उतरने वाले यात्रियों से लिया जाएगा।’SDF पुनर्विकसित हुए सभी स्टेशनों पर एक समान होगा और एक अलग घटक और लागू GST के रूप में शुल्क लिया जाएगा, जिसके लिए अलग से दिशानिर्देश जारी किए जाएंगे। अधिकारियों ने कहा कि SDF लगाने से रेलवे के लिए निरंतर राजस्व प्रवाह सुनिश्चित होगा और यह मॉडल रेलवे के लिए वित्तीय रूप से व्यवहार्य बन सकेगा, ताकि निजी क्षेत्र को आकर्षित किया जा सके।भारतीय रेलवे में आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न स्टेशनों का पुनर्विकास किया जा रहा है। के रानी कमलापति स्टेशन और पश्चिम रेलवे के गांधीनगर राजधानी स्टेशन को विकसित और चालू किया गया है।आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करPetrol-Diesel Price Today: महंगा हुआ कच्चा तेल, आज सुबह घोषित हुईं पेट्रोल डीजल की ताजा कीमतें******Petrol Diesel Price दुनिया भर के बाजारों में तेल की कीमतों को लेकर मारामारी मची है। बीते सप्ताह 108 डॉलर प्रति बैरल के नीचे आई कच्चे तेल की कीमतों में एक बार फिर उछाल आया है। ब्रेंट क्रूड का रेट इस समय 111 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर चल रहा है। कच्‍चे तेल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी की वजह से पेट्रोलियम कंपनियों पर भी दबाव बढ़ रहा है लेकिन भारत में अभी भी राहत का सिलसिला जारी है।सरकारी तेल कंपनियों ने सोमवार सुबह 6 बजे पेट्रोल-डीजल की कीमतों (Petrol-diesel price) की घोषणा। फिलहाल पेट्रोल डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ है। दिल्‍ली में पेट्रोल अब भी 96.72 रुपये और मुंबई में 109.27 रुपये लीटर बिक रहा है। देश में सबसे सस्ते पेट्रोल की बात करें तो यह पोर्ट ब्लेयर में है, जहां इसकी कीमत 84.10 रुपये है और डीजल ₹79.74 लीटर है। बीते साल नवंबर से दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 95.41 रुपये प्रति लीटर थी, जबकि डीजल 86.67 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था। इसके बाद यूपी सहित 5 राज्यों में चुनाव खत्म होते ही कई बार पेट्रोल-डीजल के दामों में बदलाव देखने को मिला। रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद देश में पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान छूने लगे। 6 अप्रैल तक पेट्रोल-डीजल में करीब 10 रुपये का इजाफा हुआ। देश की राजधानी दिल्ली में 12 अप्रैल 2022 को पेट्रोल की कीमत (Delhi Petrol Price Today) 105.41 रुपए और डीजल (Delhi Diesel Price Today) 96.67 रुपए प्रति लीटर है। लेकिन 21 मई को केंद्र सरकार की पहल के बाद लोगों को एक बार फिर से राहत मिली।अगर आप पेट्रोल-डीजल के लेटेस्‍ट रेट चेक करना चाहते हैं तो इसके ल‍िए तेल कंपन‍ियां SMS के माध्‍यम से रेट चेक करने की सुविधा देती हैं। इंडियन ऑयल (IOC) के उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9224992249 नंबर पर व एचपीसीएल (HPCL) के उपभोक्ता HPPRICE <डीलर कोड> लिखकर 9222201122 नंबर पर भेज सकते हैं। बीपीसीएल (BPCL) उपभोक्ता RSP<डीलर कोड> लिखकर 9223112222 नंबर पर भेज सकते हैं।

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करसुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन अजान के समय करेंगे, पर नियम राजनेताओं के लिए भी हो: मुस्लिम धर्मगुरु******दिल्ली दंगे, बुलडोजर एक्शन , महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर से अजान विवाद जैसे देश और महाराष्ट्र में मुस्लिम समाज से जुड़े मौजूदा राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों को लेकर मुंबई के 'ऑल इंडिया खिलाफत कमिटी' ने मुस्लिम समाज के धर्मगुरु, वकील और राजनेताओं के साथ मुम्बई के भायखला के खिलाफत हाउस में बैठक की। इस बैठक में महाराष्ट्र में अजान के वक्त लाउडस्पीकर का विवाद साथ ही दिल्ली जहांगीर पूरी दंगो समेत देश के अन्य शहरों में जहां मुस्लिमों पर अन्याय-अत्याचार हो रहे उसपर चर्चा की गई। बैठक में ये भी प्रस्ताव पास हुआ कि जिन- जिन शहरों में मुसलमानों के मकान बुलडोजर से तोड़े जा रहे उन्हें मानवीय सहायता दी जाए, साथ ही कानूनी लडाई लड़ी जाए।बैठक में मुम्बई के कई मौलाना, उलेमा, कांग्रेस, एनसीपी, MIM,समाजवादी पार्टी के नेता , वकील, पत्रकार, सोशल एक्टिविस्ट मौजूद रहे । बैठक के बाद नेताओ ने लाउडस्पीकर और अजान के मुद्दे पर कहा कि महाराष्ट्र सरकार इस मुद्दे से निपटने में सक्षम है। कुछ लोग राजनीतिक फायदे के लिए माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। लाउडस्पीकर से अजान के मुद्दे पर मुस्लिम नेताओं और धर्मगुरुओं ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट और पुलिस के आदेशों का पालन करेंगे। वही देश भर में मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा है उसके खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी।मौलाना कश्मीरी ने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन अजान के समय करेंगे पर नियम राजनेताओं के लिए भी हो। उनके रैलियों में सभाओं में लाउडस्पीकर पर बैन लगे या सुप्रीम कोर्ट ने जो डेसिबल तय किये उंसका पालन हो।वहीं बैठक में शामिल कई मौलानाओं का ने कहा कि मुस्लिमों के मॉरल को डाउन करने की कोशिश हो रही है। पूरे देश के प्रमुख मुस्लिम धर्मगुरुओं और शख्सियतों को बुलाकर देश में जो मुस्लिमों पर अत्याचार हो रहे उसपर चर्चा हो और एक्शन हो।वहीं भिवंडी ठाने से सपा विधायक रईस शेख ने कहा कि- 'महाराष्ट्र में हालात अच्छे है। आगे भी अच्छी रहेंगे। देश के हालात चिंताजनक है। हमे संभलकर बोलना है। सोशल मीडिया पर बार-बार वही उकसाने वाला बयान दिखाया जाता है।'एनसीपी नेता मजीद मेनन ने कहा कि- ' अजान का मामला जल्द सुलझ जाएगा। पर देश के हालात बिगड़े हैं। गैर बीजेपी शाषित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को एक साथ लाने की कोशिश हो रही है। हो सकता है कि मुम्बई में ही ये मीटिंग हो। केंद्र सरकार से सिर्फ मुसलमान ही नही बल्कि गैर मुसलमान भी खफा हैं। आनेवाले दिनों में देशभर के मुस्लिम थिंक टैंक के साथ और भी बैठके की जाएगी।आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करबाड़मेर में गिरा IAF का MiG-21 Bison लड़ाकू विमान, पायलट सुरक्षित****** राजस्थान के बाड़मेर में बुधवार को भारतीय वायुसेना (IAF) का MiG-21 Bison लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। हादसे में पायलट को चोट आई है।हालांकि, वहसुरक्षित है। मिली जानकारी के अनुसार, पायलट ट्रेनिंग के लिए लड़ाकू विमान उड़ा रहा था और इसी दौरान हादसा हो गया।जमीन पर गिरते हीMiG-21 Bison लड़ाकू विमान के टुकड़े-टुकड़े हो गए और उसमें आग लग गई।यह घटना बाड़मेर में भुरटिया-मातासर सरहद पर हुई है। यहां पायलट ट्रेनिंग फ्लाइट के दौरान MiG-21 Bison लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। पायलट के पैर में फ्रैक्चर होने की जानकारी मिली है।भारतीय वायुसेना ने बताया कि MiG-21 Bison लड़ाकू विमान में टेक ऑफ के बाद तकनीकी खराबी आई। वायुसेना ने ट्वीट किया, "आज शाम करीब 05:30 बजे वेस्टर्न सेक्टर में भारतीय वायुसेना के MiG-21 Bison विमान में प्रशिक्षण उड़ान भरने के बाद तकनीकी खराबी का आ गई।"भारतीय वायुसेना ने ट्वीट में आगे लिखा, "पायलट सुरक्षित बाहर निकल गया। कारणों (हादसे के) का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश दिया गया है।"

आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करहिमांश कोहली का परिवार आया कोरोना वायरस की चपेट में, सोशल मीडिया पर दी जानकारी******अभिनेता हिमांशकोहली ने इस बात की जानकारी दी है कि उनके माता-पिता और उनकी बहन कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गएहैं और सिर्फ वह ही इस महामारी की चपेट में आने से बचे रहे हैं।हिमांशने कहा, "घर में मैं इकलौता स्वस्थ इंसान हूं और मुझ पर दो जिम्मेदारी है, एक अपने परिवार की देखभाल करना और दूसरा कोविड संक्रमितों के क्लब में खुद को शामिल न करना। बेशक इसे मैनेज करना आसान नहीं है, लेकिन इस वक्त मेरे परिवार को मेरी सबसे ज्यादा जरूरत है और खुशकिस्मती से मुंबई रहने और घबराने की जगह मैं यहीं हूं।"हिमांशु ने बताया उनके परिवार के ये तीन सदस्य फिलहाल एक ही कमरे में साथ रह रहे हैं।अभिनेता ने कहा, "मैं एक अलग कमरे में रह रहा हूं। हमने अपने यहां काम करने वालों को भी एक अलग कमरा और एक अलग वॉशरूम दे रखा है। परिवार के किसी भी संक्रमित सदस्य को कमरे से बाहर आने या किसी दूसरे के वॉशरूम को यूज करने की इजाजत नहीं है। दरवाजे तक सारी सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं और हम हर दो घंटे में घर को सैनिटाइज कर रहे हैं।"(इनपुट-आईएएनएस)आरसीबीकेविजयअभियानकोसनराइजर्सकीचुनौतीडिविलियर्सऔरराशिदमेंटक्करअमेजन की टक्कर में Flipkart लाई 72 घंटे की सेल, आधी से भी कम कीमत पर मिलेंगे प्रोडक्ट्स****** ई-कॉमर्स वेबसाइट्स 72वें स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर ग्राहकों को आकर्षित करने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहती। एक तरफ जहां 9 अगस्‍त से 12 अगस्‍त तक Amazon Freedom Sale आयोजित कर रही है वहीं 10 अगस्‍त से 12 अगस्‍त तक की The Big Freedom Sale चलने वाली है। फ्लिपकार्ट की इस सेल में ग्राहकों को प्रोडक्ट्स पर 80% तक की छूट मिलेगी। Flipkart अपने The Big Freedom Sale में कंपनी ग्राहकों के लिए अलग-अलग ब्रांड्स और कैटेगरीज के प्रोडक्ट्स पर कई आकर्षक ऑफर्स ला रही है। फ्लिपकार्ट की इस सेल में ग्राहकों को हर 8 घंटे बाद ब्लॉकबस्टर डील मिलेगी। अगर सेल के दौरान कोई ग्राहक सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करता है तो उसे 10 फीसदी कैशबैक भी मिलेगा।फ्लिपकार्ट की यह सेल 10 अगस्‍त को रात 12 बजे से शुरू होगी। इस सेल में 10 तारीख की रात 12 बजे से 2 बजे तक 'Rush Hour' में भारी छूट मिलेगी। 'फ्रीडम काउंटडाउन' नाम की डील में 10 से लेकर 12 तारीख तक रोज शाम 7.47 बजे से 8.18 बजे तक 31 मिनट के लिए प्रोडक्ट्स की कीमतों में कमी रहेगी। साथ ही 'One Deal Every Hour' में सेल के दौरान हर घंटे एक नई डील लाई जाएगी। इस तरह से इस पर आपको 24 घंटों में 24 डील मिलेंगी।Flipkart की The Big Freedom Sale में हर श्रेणी के प्रोडक्ट पर अलग-अलग छूट मिल रही है। यहां आपको Samsung, Apple और Xiaomi के स्मार्टफोन्स पर भारी छूट मिल सकती है। फ्रीज, वाशिंग मशीन, मिक्स्चर जैसे घरेलू उपकरणों पर 70% तक की छूट मिलेगी। लैपटॉप, ऑडियो और कैमरे पर 80% तक का डिस्‍काउंट मिल सकता है। घरेलू फर्नीचर्स और साज-सज्जा के सामान पर भी 40% से 80% तक की छूट दी जाएगी।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 06:58
उद्धरण 1 इमारत
Aligarh Hooch Tragedy: अलीगढ़ में जहरीली शराब पीने से तीन और लोगों की मौत****** अलीगढ़ जिले में नहर में फेंकी गई कथित जहरीली शराब पीने के कारण 3 और लोगों की मौत होने से एक गांव में मरने वालों की संख्या नौ हो गई है। शुक्रवार को एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। अलीगढ़ के मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी (सीएमओ) भानु प्रताप कल्याणी ने पुष्टि की कि गुरुवार से अब तक रोहेरा गांव में जहरीली शराब के सेवन करने वाले नौ लोगों के पोस्टमार्टम किये जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि पीड़ितों का उपचार मुख्य रूप से जवाहर नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल और कुछ निजी अस्पतालों में किया जा रहा है।कल्याणी के मुताबिक एक ईंट भट्ठे पर काम करने वाले कई मरीज अब भी अस्पताल में जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हैं। पुलिस के अनुसार शुक्रवार की सुबह अकबराबाद थाना क्षेत्र के कोड़ियागंज में एक अन्‍य ईंट भट्ठे पर काम करने वाले मजदूर की कथित तौर पर नकली शराब पीने से मौत हो गई। पुलिस के मताबिक यह शराब उसी नहर में एक टोकरे में तैर रही थी जो बुधवार को रोहेरा के मजदूरों को मिली थी।जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के मुख्‍य चिकित्‍सा अधीक्षक डॉक्टर हारिस मंजूर ने 'पीटीआई-भाषा' को बताया, “इस अस्पताल में बुधवार रात से बृहस्पतिवार शाम तक 32 लोग भर्ती हुए जिनमें सात (कुल नौ मौतों में से) की आज सुबह तक मौत हो गई और 25 का उपचार अभी भी चल रहा है, जिनमें कई की हालत अभी भी गंभीर है।” सीएमओ कल्‍याणी ने पत्रकारों को बताया कि पिछले शुक्रवार (28 मई) को जहरीली शराब की घटना के बाद अब तक कुल 98 लोगों का पोस्टमार्टम किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन उन सभी 98 लोगों की मौत के कारणों की पुष्टि के लिए बिसरा रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है।प्रशासन ने 28 मई की जहरीली शराब की घटना से अब तक 35 लोगों की मौत की पुष्टि की है। दो जून को रोहेरा गांव में हुई जहरीली शराब की घटना में महिलाओं समेत सभी पीड़ित बिहार राज्य के प्रवासी मजदूर हैं और यहां एक स्‍थानीय ईंट भट्ठे पर काम करते हैं और अस्थायी तौर पर झोपड़ियों में रहते हैं। हादसे के बाद गुरुवार को जब मीडियाकर्मी वहां पहुंचे तो एक दर्जन से अधिक बच्चे भूखे प्‍यासे मिले जिनके माता-पिता अस्पतालों में भर्ती थे। यह मामला संज्ञान में आते ही स्थानीय विधायक दलवीर सिंह ने तुरंत बच्चों के भोजन की व्यवस्था कराई।वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने गुरुवार को संवाददाताओं को बताया था कि बुधवार रात जवां थाना क्षेत्र के रोहेरा गांव के पास एक नहर में फेंकी गई संदिग्ध रूप से मिलावटी शराब पीने से बड़ी संख्या में ईंट भट्ठा श्रमिक बीमार हो गए। इससे पहले 28 मई को अवैध शराब के सेवन से कम से कम 35 लोगों की मौत हो गई थी।
2022-10-01 06:29
उद्धरण 2 इमारत
Happy Earth Day 2019 Google Doodle: पृथ्वी दिवस में गूगल डूडल ने दी कई इतिहास से जुड़ी पुरानी जानकारियां******आज विश्व प्रथ्वी दिवस (World Earth Day) है। जो कि हर साल 22 अप्रैल के दिन मनाई जाती है। इस बार गूगल डूडलने भी इसे और भी खास बना दिया है। जिसमें उन्होंने हजारो साल पुराना इतिहास दिखाया है। गूगल ने इस डूडलसे कई स्लाइस के रुप में दिखाया है। जिसमें आपको हर एक स्लाइड में क्लिक करने में अलग ही इतिहास नजर आएगा। विश्व पृथ्वी दिवस 22 अप्रैल 1970 से मनाया जा रहा है। इसकी शुरुआत एक अमेरिकी सीनेटर गेलॉर्ड नेल्सन ने की थी। साल 1969 में कैलिफोर्निया के सांता बारबरा में तेल रिसाव के कारण भारी बर्बादी हुई थी, जिससे वह बहुत आहत हुए और पर्यावरण संरक्षण को लेकर कुछ करने का फैसला लिया।22 जनवरी को समुद्र में तीन मिलियन गैलेन तेल रिसाव हुआ था, जिससे 10,000 सीबर्ड, डॉल्फिन, सील और सी लायन्स मारे गए थे। इसके बाद नेल्सन के आह्वाहन पर 22 अप्रैल 1970 को लगभग दो करोड़ अमेरिकी लोगों ने पृथ्वी दिवस के पहले आयोजन में भाग लिया था। इस साल की थीम है- Protect Our Species यानी कि जीवों की नस्लों के साथ-साथ पेड़-पौधों की रक्षा करें।World earth dayWorld earth dayWorld earth dayWorld earth dayWorld earth dayWorld earth day
2022-10-01 05:52
उद्धरण 3 इमारत
Gold price today 12 march 2021: शिवरात्री के बाद सोना हुआ सस्‍ता, चांदी में आई भारी गिरावट******Gold price today 12 march 2021 check 22 carat 24 carat delhi mumbai chennai kolkata statewise rate listशिवरात्री के अवकाश के बाद शुक्रवार को राष्‍ट्रीय राजधानी में सोना 291 रुपये घटकर 44,059 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्‍यूरिटीज के मुताबिक सोने की अंतरराष्‍ट्रीय कीमतों में गिरावट आने और रुपये के मूल्‍य में वृद्धि से घरेलू बाजार में भी कीमती धातुओं में कमजोरी देखने को मिली है। इससे पहले कारोबार सत्र में सोना 44,350 रुपये प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी में भी भारी गिरावट आई है। चांदी 1096 रुपये टूटकर 65,958 रुपये प्रति किलोग्राम रह गई, जबकि पिछले कारोबार सत्र में यह 67,054 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में भारतीय रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 20 पैसे मजबूती के साथ 72.71 पर कारोबार कर रहा था।अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में, सोना और चांदी दोनों कमजोरी के साथ क्रमश: 1707 डॉलर प्रति औंस और 25.67 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहे थे। एचडीएफसी सिक्‍यूरिटीज के वरिष्‍ठ विश्‍लेषक तपन पटेल (जिंस) ने कहा कि डॉलर में रिवकरी के साथ शुक्रवार को सोने की कीमतों में कमजोरी का रुख देखने को मिला। कमजोर हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में शुक्रवार को सोना 0.81 प्रतिशत की गिरावट के साथ 44,517 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अप्रैल महीने में डिलिवरी वाले सोना वायदा की कीमत 362 रुपये यानी 0.81 प्रतिशत की गिरावट के साथ 44,517 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई। इसमें 11,004 लॉट के लिये कारोबार किया गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार, न्यूयॉर्क में सोना 0.88 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,707.50 डॉलर प्रति औंस चल रहा था। कमजोर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को घटाया जिससे वायदा बाजार में शुक्रवार को चांदी वायदा कीमत 776 रुपये की गिरावट के साथ 66,769 रुपये प्रति किलो रह गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के मई महीने में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 776 रुपये यानी 1.15 प्रतिशत की तेजी के साथ 66,769 रुपये प्रति किलो रह गयी जिसमें 12,444 लॉट के लिये कारोबार हुआ। वैश्विक स्तर पर, न्यूयार्क में चांदी की कीमत 1.61 प्रतिशत की हानि के साथ 25.77 डॉलर प्रति औंस चल रहा था। मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा बाजार में कच्चा तेल की कीमत शुक्रवार को एक रुपये की तेजी के साथ 4,795 रुपये प्रति बैरल हो गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में मार्च महीने में डिलिवरी वाले कच्चा तेल अनुबंध की कीमत एक रुपये यानी 0.02 प्रतिशत की तेजी के साथ 4,795 रुपये प्रति बैरल हो गयी। इसमें 5,097 लॉट के लिये कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा अपने सौदों का आकार बढ़ाने की वजह से वायदा कारोबार में कच्चातेल कीमतों में तेजी रही। वैश्विक स्तर पर, न्यूयॉर्क में वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड का भाव 0.38 प्रतिशत की तेजी के साथ 65.57 डॉलर प्रति बैरल चल रहा था जबकि ब्रेंट क्रूड का भाव 0.17 प्रतिशत की गिरावट के साथ 69.51 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर था। हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच सटोरियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में शुक्रवार को एल्युमीनियम की कीमत 1.1 प्रतिशत की गिरावट के साथ 171 रुपये प्रति किग्रा रह गई। एमसीएक्स में एल्युमीनियम के मार्च महीने में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 0.05 पैसे अथवा 1.1 प्रतिशत की गिरावट के साथ 171 रुपये प्रति किग्रा रह गई जिसमें 1,052 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार में उपभोक्ता उद्योगों की कमजोर मांग की वजह से कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे यहां एल्युमीनियम वायदा कीमतों में गिरावट आई। घरेलू बाजार की कमजोर मांग के बीच कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान करने से वायदा कारोबार में शुक्रवार को तांबा वायदा भाव 1.54 प्रतिशत की हानि के साथ 673.55 रुपये प्रति किलो रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में मार्च माह में डिलीवरी होने वाले अनुबंध के लिये तांबा का भाव 10.55 रुपये यानी 1.54 प्रतिशत की हानि के साथ 673.55 रुपये प्रति किलो रह गया। इसमें 3,342 लॉट के लिये सौदे किये गये। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग की वजह से सटोरियों द्वारा अपने सौदों की कटान करने से मुख्यत: तांबा वायदा कीमतों में हानि दर्ज हुई।हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में शुक्रवार को निकेल वायदा भाव 1.46 प्रतिशत की हानि के साथ 1,164.10 रुपये प्रति किलो रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में मार्च माह में डिलीवरी होने वाले अनुबंध के लिये निकेल का भाव 17.20 रुपये यानी 1.46 प्रतिशत की हानि के साथ 1,164.10 रुपये प्रति किलो रह गया। इसमें 2,148 लॉट के लिये सौदे किये गये। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग के कारण मुख्यत: निकेल वायदा कीमतों में हानि दर्ज हुई।
वापसी