नई पोस्ट करें

Munmun Dutta Birthday: रियल लाइफ में बेहद बिंदास हैं जेठालाल की पड़ोसन 'बबिता जी', बनना चाहती थीं डॉक्टर

2022-10-01 05:36:47 626

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरचीनी खिलाड़ी पेंग शुआई ने बदला अपना बयान, कहा- नहीं लगाये थे यौन उत्पीड़न के आरोप******Highlightsचीन की टेनिस स्टार पेंग शुआई शारीरिक शोषण के अपने पुराने आरोपों से पलट गई है। शुआई ने फ्रांस के एक अखबार को बताया कि उन्होंने कभी चीनी अधिकारी के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप नहीं लगाये थे और दुनिया भर के लोगों में उनको लेकर चिंता ‘बड़ी गलतफहमी’ का नतीजा है।फ्रांस के खेल अखबार ‘ल एक्विप’ में सोमवार को उनका इंटरव्यू प्रकाशित हुआ है । इसमें हालांकि यौन उत्पीड़न के शुरूआती आरोपों और चीन की सरकार द्वारा किसी तरह का दबाव बनाये जाने जैसे कई अहम सवालों का जवाब नहीं मिला। पेंग ने अखबार से कहा ,‘‘ यौन उत्पीड़न । मैने कभी ऐसा कुछ नहीं कहा। यह बहुत बड़ी गलतफहमी है । उस पोस्ट के अब कोई मायने नहीं निकाले जाने चाहिये ।’’ वह पोस्ट पेंग के अकाउंट के तुरंत हटा दी गई।इस बारे में अखबार के पूछने पर उसने कहा ,‘‘ मैने उसे हटाया।’’ इसका कारण पूछने पर पेंग ने कहा ,‘‘ क्योंकि मैं ऐसा चाहती थी।’’ उसने इन सवालों का कोई सीधे जवाब नहीं दिया कि क्या चीनी सरकार ने उस पर दबाव बनाया है। उसने कहा ,‘‘ मैं कहना चाहती हूं कि भावनायें ,खेल और राजनीति अलग अलग है। मेरी रूमानी समस्याओं, निजी जिंदगी को खेल और राजनीति से नहीं जोड़ा जाना चाहिये ।’’ यह पूछने पर कि नवंबर की उस पोस्ट के बाद उनका जीवन कैसा है, उसने कहा ,‘‘ जैसा होना चाहिये । कुछ खास नहीं ।’’अखबार ने कहा कि उसने एक दिन पहले बीजिंग के एक होटल में पेंग से एक घंटे तक बात की। चीन की ओलंपिक समिति ने यह इंटरव्यू लेने में मदद की। वहीं, इससे पहले अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने एक बयान में कहा कि आईओसी अध्यक्ष थॉमस बाक ने शनिवार को पेंग के साथ डिनर किया और उसने आईओसी सदस्य क्रिस्टी कोवेंट्री के साथ चीन और नॉर्वे का कर्लिंग मैच देखा।अखबार ने कहा कि उसे सवाल पहले ही भेजने पड़े और चीन की ओलंपिक समिति के एक अधिकारी ने ट्रांसलेटर की भूमिका निभाई। बता दें कि नवंबर में पेंग ने चीन के पूर्व उप प्रधानमंत्री और सत्तारूढ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के पोलितब्यूरो की स्थायी समिति के सदस्य झांग गाओली पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। इसके बाद से उनके गायब होने की खबरें सामने आ रही थी।

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरइन 5 आसान से स्टेप्स में घर बैठें करें हेयर स्पा, बाल रहेंगे हमेशा हेल्दी******बालों को सुंदर और स्वस्थ बनाने के लिए हेयर स्पा सबसे अच्छा तरीका है। जिसमें पौष्टिक तेल से मालिश, शैंपू, कंडीशनिंग आदि चरणबृद्ध तरीके में किए जाते हैं। हेयर स्पा करने से बालों की चमक को बरकरार रखने के साथ हर समस्या से निजात दिलाते हैं। हालांकि, हेयर स्पा करने से पहले यह जानना बहुत ही जरूरी है कि आपके बाल किस प्रकार के हैं। आपको किसी तरह क इंफेक्शन आदि तो नहीं है। इसके बाद ही तेल की मालिश, शैंपू, कंडीशनर और हेयर मास्क का उपयोग करके बालों को नरम और चिकना किया जाता है। अगर आप घर में हेयर स्पा करने के बारे में सोच रही हैं तो अपनाएं ये तरीका।हेयर स्पा किसी भी प्रकार के बालों के लिए बहुत अच्छा है। हेयर स्पा बालों के टूटे हुए छल्ली का कायाकल्प करता है। धूल, धुएं और प्रदूषण के कारण बाल अक्सर सुस्त हो जाते हैं। ऐसे में बालों को हेल्दी रखने के लिए हेयर स्पा बहुत ही जरूरी माना जाता है। बालों को कलर करने के बाद अक्सर वह रूखे हो जाते हैं लेकिन हेयर स्पा करने से आपके बालों का रूखापन भी ठीक हो जाएगा। इसके साथ ही तनाव, हार्मोनल परिवर्तन, मौसम परिवर्तन या किसी अन्य कारण से बालों के झड़ने की समस्या को भी कंट्रोल करने में मदद मिलेगी। हेयर स्पा करने से आपके सिर में तेजी से ब्लड सर्कुलेशन होता है। जिससे बाल मजबूत भी होते है।बादाम तेल, नारियल तेल, ऑलिव ऑयल आदि तेल को गुनगुना करके हल्के हाथों से बालों की जड़ों में लगाएं। 15-20 मिनट मसाज करने के बाद आधा घंटा के लिए ऐसे ही बाल छोड़ दें।तेल से मसाज करने के बाद स्टीम लेना बहुत जरूरी है। इसके लिए गर्म पानी में तौलिया को भिगो लें और इसे निचोड़ कर बालों में अच्छी तरह से लपेट लें। 15 मिनट तक इसे करें। इससे आपके सिर के पोर्स खुल जाएंगे। जिससे आसानी से तेल सिर के अंदर जा सकेगा।तीसरे स्टेज में बालों को शैंपू करेंगे। इसके लिए नैचुरल या माइल्ड शैंपू का यूज करें। हमेशा गर्म की बजाय ठंडा पानी का इस्तेमाल करें।हेयर वॉश करने के बाद कंडीशनर करना बहुत ही जरूरी है। सबसे पहले बालों को हल्के हाथों से अच्छी तरीके से पोंछ लें। इसके बाद आप ग्रीन टी की पत्तियों के साथ आधा चम्मच नींबू का रस मिलाकर एक कंडीशनर बना सकते हैं। इसे लगाने के 10-15 मिनट के लिए बालों को छोड़ दें। इसके बाद साफ पानी से बालों को धो लें।हेयर मास्क के लिए आप अंडे और नारियल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आप चाहे तो 1 केला, 2 चम्मच ऑलिव ऑयल, 2 अंडे और थोड़ा सा शहद डालकर अच्छे से मिक्स कर लें। इसके बाद इसे बालों में लगा लें। कम से कम 20 मिनट लगा रहने के बाद साफ पानी से बालों को धो लें।रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरBulldozer on education mafia: नोएडा में शिक्षा माफियाओं पर 'बुलडोजर' चलाने की मांग, निजी स्कूलों की मनमानी से परेशान हैं अभिभावक******HighlightsBulldozer on education mafia: नोएडा में निजी स्कूलों द्वारा कथित तौर पर मनमाने तरीके से की गई फीस वृद्धि के खिलाफ गौतमबुद्ध नगर जिले के ग्रेटर नोएडा (वेस्ट) में कई अभिभावकों ने 'बुलडोजर' पर सवार होकर रविवार को प्रदर्शन किया। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से 'शिक्षा माफिया' पर बुलडोजर चलाने की मांग की। अभिभावकों ने आरोप लगाया कि स्कूल परिवहन के नाम पर मोटी रकम वसूल रहे हैं और एनसीईआरटी की अपेक्षाकृत सस्ती किताबों के बजाय निजी प्रकाशकों की महंगी किताबें खरीदने के लिए दबाव बना रहे हैं।अभिभावकों ने ग्रेटर नोएडा (वेस्ट) में प्रदर्शन किया जिसे अब नोएडा एक्सटेंशन के नाम से जाना जाता है। यह प्रदर्शन नेफोवा और एनसीआर पेरेंट्स एसोसिएशन के बैनर तले किया। प्रदर्शन के दौरान अभिभावक जेसीबी (बुलडोजर) लेकर सड़क पर उतरे। नेफोवा के अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने कहा, 'हम लोगों ने स्कूल फीस वृद्धि को लेकर दो हफ्ते पहले बूट पॉलिश करके सांकेतिक प्रदर्शन किया था। उसके बाद जिलाधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा था, लेकिन अभी तक कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया है।'उन्होंने आगे कहा कि महंगाई की मार से अभिभावक पहले से ही परेशान हैं, इस बीच निजी स्कूलों द्वारा फीस बढ़ाने का दबाव अभिभावकों को झेल पाना काफी मुश्किल लग रहा है। इसलिए हम इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, और जब तक सरकार फीस वृद्धि वापस नहीं ले लेती, तब तक आंदोलन जारी रखा जाएगा। प्रदर्शन में शामिल सविता नाम की महिला ने कहा, 'प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी तरह के माफियाओं और अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई की है। उनका बुलडोजर लगातार माफिया और गैंगस्टर पर चल रहा है। हम उनसे मांग करते हैं कि शिक्षा माफिया पर भी बुलडोजर चलाया जाए।'बता दें, मनमाने तरीके फीस वसूल रहे निजी स्कूलों के खिलाफ प्रदर्शन कई सालों से अभिभावक कर रहे हैं। कई जगह इसको लेकर गुहार भी लगा चुके हैं, पर इस समस्या का समाधान नहीं निकल रहा है। सरकारी स्कूलों में मोटी सैलरी पाकर भी शिक्षक बच्चों पर ध्यान नहीं देते, वहीं निजी स्कूलों में शिक्षा के नाम पर मनमाने तरीके से पैसे लिए जाते हैं। ऐसे में अभिभावकों के सामने प्रदर्शन करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचता।

Munmun Dutta Birthday: रियल लाइफ में बेहद बिंदास हैं जेठालाल की पड़ोसन 'बबिता जी', बनना चाहती थीं डॉक्टर

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरUP Assembly Election 2022: वोट डालते हुए कानपुर की महापौर ने शेयर किया फोटो, DM ने दिए FIR दर्ज करने के आदेश******Highlightsउत्तर प्रदेश में तीसरे चरण के लिए मतदान शुरू हो चुका है। यहां कई दिग्गजों की किस्मत भी दांव पर लगी हुई है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी इस दौरान वोट डाला। इस बीच कानपुर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। कानपुर में महापौर प्रमिला पांडे ने वोट डालते हुए EVM की तस्वीर शेयर की थी। मामले के तूल पकड़ने के साथ कानपुर की जिलाधिकारी ने एफआईआर दर्ज करने के आदेश दे दिए हैं।DM Kanpur Nagar नेहा शर्मा ने ट्वीट किया, 'कानपुर में श्रीमती प्रमिला पांडे द्वारा हडसन स्कूल मतदान केंद्र में मतदान की गोपनीयता भंग करने के फल स्वरुप उनके विरुद्ध सुसंगत धाराओं में FIR कराई जा रही है।' बीजेपी युवा मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष नवाब सिंह के खिलाफ भी गोपनीयता भंग करने के कारण मामला दर्ज कराया जा रहा है। जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने इसको लेकर भी ट्वीट किया है।उन्होंने लिखा, 'श्री नवाब सिंह, पूर्व अध्यक्ष, भाजपा युवा मोर्चा द्वारा मतदान केंद्र में मतदान की गोपनीयता भंग करने के फल स्वरुप उनके विरुद्ध सुसंगत धाराओं में FIR कराई जा रही है।' बता दें, आज उत्‍तर प्रदेश में तीसरे चरण में 16 जिलों के 59 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान कराया जा रहा है। इनमें 15 सीटें सुरक्षित हैं। इस चरण में 97 महिलाओं सहित कुल 627 उम्‍मीदवार मैदान में है। एटा, महरौनी और महोबा सीटों पर सबसे अधिक 15-15 उम्‍मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं। करहल सीट पर मात्र तीन प्रत्‍याशी ही चुनाव मैदान में है।रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरYamaha ने लॉन्च की नई बाइक FZ250, कीमत 1.19 लाख रुपए******जापान की टू-व्हीलर कंपनीयामाहा(Yamaha) मोटर नेयंगिस्टर्स की फेवरिट FZ250 को भारत में लॉन्च कर दिया है। कंपनी ने इसकी शुरुअाती कीमत 1.19 लाख रुपए रखी है। लुक्स और डिजाइन के मामले में बाइक स्पोर्टी है। वैसे तो यामाहा की FZ की पूरी सीरीज ही युवाअों की फेवरिट रही है। अब यामाहा ने अपनी FZ250 को थोड़े और नए लुक के साथ भारत में उतारा है।रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरदेश के सात एयरपोर्ट पर अब नहीं लगेगी हैंड बैग पर मुहर, एक अप्रैल से शुरू होगी नई व्‍यवस्‍था****** केंद्रीय औद्योगिकी सुरक्षा बल (CISF) ने कहा है कि एक अप्रैल से सात एयरपोर्ट पर हैंड बैग टैग पर मुहर लगाने की व्यवस्था खत्म की जा रही है।यात्रियों की सुविधा के लिए दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोचीन और अहमदाबाद हवाईअड्डों को यात्रियों की सुविधा के लिए सुरक्षा तंत्र को नई प्रणाली से अपग्रेड करने के लिए चुना गया है। सीआईएसएफ के महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा कि यात्रियों के हैंड बैग को चेक कर मौजूदा मोहर लगाने की व्यवस्था सात हवाईअड्डों पर एक अप्रैल 2017 से खत्म कर दी जाएगी।सीआईएसएफ प्रमुख ने कहा कि इस कदम से यात्रियों को सुरक्षा आवश्यकताओं से समझौता किए बिना हवाईअड्डे पर परेशानी रहित सुरक्षित वातावरण मिल सकेगा।सिंह ने कहा कि अर्धसैनिक बल देश भर के 59 हवाईअड्डों पर सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालते हैं। यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए नई प्रणाली को अपनाकर सुरक्षा तंत्र को उन्नत करने के उपाय किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस प्रणाली से सुरक्षा जांच प्रक्रिया में तेजी आएगी और सीआईएसएफ कर्मियों को संदिग्ध सामानों की जांच के लिए अधिक समय मिलेगा।

Munmun Dutta Birthday: रियल लाइफ में बेहद बिंदास हैं जेठालाल की पड़ोसन 'बबिता जी', बनना चाहती थीं डॉक्टर

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरDelhi News: BJP का AAP पर पलटवार, कहा: 'आबकारी पर जवाब दें ,इधर उधर ना भागें'******Highlights भारतीय जनता पार्टी ने शराब घोटाले को लेकर आम आदमी पार्टी की सरकार पर करार हमला बोला है। बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने दावा किया कि, दिल्ली सरकार ने आबकारी नीति में हुए उल्लंघनों और एक विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों को नजरअंदाज किया था।भाजपा प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि दिल्ली की आबकारी नीति के अनुसार शराब के उत्पादक, खुदरा विक्रेता और वितरक एक नहीं हो सकते। इतना ही नहीं, इनसे जुड़ी कंपनियों के निदेशक और हितधारक भी एक नहीं हो सकते। उन्होंने दावा किया कि 25 अक्टूबर, 2021 को दिल्ली के आबकारी विभाग द्वारा ऐसे कुछ मामलों को सरकार के संज्ञान में लाया गया था, जिनमें उत्पादक, खुदरा विक्रेता और वितरक एक समान थे लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।'भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने कहा कि, एक विशेषज्ञ समिति ने सुझाव दिया था कि शराब की ब्रिकी बढ़ाने के लिए प्रचार-प्रसार नहीं किया जाना चाहिए लेकिन दिल्ली सरकार ने शराब के एक कार्टन पर एक कार्टन मुफ्त देना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि, "समिति ने सुझाया था कि आबकारी नीति में कर्नाटक के मॉडल को अपनाया जाना चाहिए जिसमें थोक व्यापार का काम सरकार का होगा।" समिति ने कहा था कि व्यक्ति विशेष को एक से अधिक लाइसेंस नहीं दिया जा सकता है। प्रवेश वर्मा ने आरोप लगाया कि समिति ने गांवों और कॉलोनियों में जहां व्यापारिक बाजार नहीं है, वहां शराब की दुकानें ना खोलने का सुझाव दिया था लेकिन सरकार ने सभी सुझावों को नजरअंदाज किया।इसके साथ ही बीजेपी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से इन आरोपों का स्पष्ट जवाब मांगा और कहा कि जो सवाल उठाए जा रहे हैं वह नीतिगत हैं ना कि राजनीतिक। त्रिवेदी ने कहा, ‘‘जवाब हमें आबकारी नीति पर चाहिए। ना तो ईमानदारी की बात करिए और ना ही बिरादरी की।’’ वर्मा ने आप नेताओं पर तंज कसते हुए कहा, ‘‘शिक्षा मंत्री से जब हम केमिस्ट्री का सवाल पूछते हैं तो वह हिस्ट्री का जवाब देते हैं।’’रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरथोक महंगाई 18 महीने बाद आई शून्य से ऊपर, अप्रैल में 0.34 फीसदी पर पहुंची****** पिछले 18 महीने से नेगेटिव जोन में चल रही थोक महंगाई दर पहली बार पॉजिटिव जोन में दिखाई दी है। दाल, आलू तथा चीनी के दाम चढ़ने से थोक महंगाई में इजाफा देखने को मिला है। केंद्रीय सांख्‍यकी विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार अप्रैल में मुद्रास्फीति 0.34 फीसदी पर पहुंच गई। पिछले महीने मार्च में थोकमूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति शून्य से 0.85 फीसदी नीचे थी। मौजूदा गणना में दालें 36 फीसदी, आलू 35 फीसदी और चीनी 16 फीसदी महंगी हुई है।सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, मासिक थोकमूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की सालाना दर शून्य से उपर निकलकर 0.34 फीसदी अस्थायी आंकड़ा) हो गई जो कि पिछले महीने शून्य से 0.85 फीसदी नीचे थी। एक साल पहले इसी माह में यह शून्य से 2.43 फीसदी नीचे थी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार नकारात्मक रख से बाहर निकलते हुए थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अप्रैल में सकारात्मक दायरे में आ गई। इस दौरान खनिजों तथा ईंधन के दाम कम हुए। CPI Inflation: अप्रैल में 5.39% हुई रिटेल महंगाई, दाल और चीनी से लेकर कपड़े तक सभी की बढ़ी कीमतेंवहीं दूसरी ओर दालें 36.36 फीसदी, आलू 35.45 फीसदी तथा चीनी 16.07 फीसदी महंगे हुए। अप्रैल में खनिजों के दाम 27.24 फीसदी घटे। प्याज कीमतों में 18.18 फीसदी तथा ईंधन और बिजली में 4.83 फीसदी की गिरावट आई। मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर फिक्की के अध्यक्ष हर्षवर्धन नियोतिया ने उम्मीद जताई कि रिजर्व बैंक 7 जून को एक स्वीकार्य मौद्रिक नीति पेश करेगा। नियोतिया ने कहा, यह महत्वपूर्ण होगा कि सुधारों की रफ्तार को कायम रखा जाए। रिजर्व बैंक की जमीनी स्थिति पर निगाह है। जून की मौद्रिक नीति घोषणा में हमें सामंजस्य बैठाने वाला रख दिखाई देगा।खाद्य मुद्रास्फीति अप्रैल में 4.23 फीसदी रही जबकि मार्च में यह 3.73 फीसदी पर थी। सब्जियों की महंगाई दर इस अप्रैल में 2.21 फीसदी रही। दालों के दाम 36.36 फीसदी बढ़ गए जो मार्च में 34.45 फीसदी बढ़े थे। अप्रैल में फलों के दामों की वृद्धि शून्य से 2.38 फीसदी नीचे रही। वहीं पेट्रोल के दाम 4.18 फीसदी घटे जबकि एलपीजी के दाम 1.84 फीसदी घटे। वहीं विनिर्मित उत्पादों की मूल्यवृद्धि बढ़कर अप्रैल में 0.71 फीसदी हो गई।Inflation: 17 महीने बाद पॉजिटिव जोन में थोक महंगाई, अप्रैल में WPI (-)0.85 फीसदी से बढ़कर 0.34 फीसदी पर पहुंचीसरकार ने फरवरी के थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़ों को संशोधित कर शून्य से 0.85 फीसदी नीचे कर दिया है। पहले यह आंकड़ा 0.91 फीसदी था। डेलायट इंडिया की वरिष्ठ अर्थशास्त्री रिचा गुप्ता ने कहा, थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े सकारात्मक दायरे में आने से निकट भविष्य में मौद्रिक रख में नरमी की गुंजाइश नहीं रह गई है। पिछले सप्ताह आए आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित या खुदरा मुद्रास्फीति अप्रैल में बढ़कर 5.39 फीसदी हो गई, जो इससे पिछले महीने 4.83 फीसदी पर थी।इंडस्ट्री ने दाल की कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए दिए सुझाव, कहा- आयातकों के लिए तय हो भंडारण सीमा

Munmun Dutta Birthday: रियल लाइफ में बेहद बिंदास हैं जेठालाल की पड़ोसन 'बबिता जी', बनना चाहती थीं डॉक्टर

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरअगर आप चाहते हैं अपने निवेश में वृद्धि और स्थिरता, तो बेहतर विकल्‍प हो सकता है महिंद्रा टॉप 250******If you want growth and stability in investment, Mahindra Top 250 can be a better optionभारत सरकार और रिजर्व बैंक द्वारा तमाम फिस्कल और मौद्रिक राहत सेभारतीय अर्थव्यवस्था में बाउंस बैक की उम्मीद निकट भविष्य में की जा रही है, ऐसे में विश्लेषकों का मानना है कि आनेवाले समय में बाजार पूंजीकरण के लिहाज से शीर्ष 250 कंपनियां निवेशकों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती हैँ। इसे देखते हुए महिंद्रा म्यूचुअल फंड ने टॉप 250 निवेश योजना को पेश किया है। यह योजना निवेश में वृद्धि और स्थिरता पर फोकस करेगी। के मुख्य मार्केटिंग अधिकारी (सीएमओ) जतिंदर पाल सिंह ने बताया कि महिंद्रा टॉप 250 निवेश योजना का लक्ष्य एक ऐसी पोर्टफोलियो का निर्माण करना है, जिसका लॉर्ज और मिड कैप कंपनियों में बराबर का एक्सजोपर हो और यह बाजार चक्र के आधार पर टैक्टिकल कॉल ले।उनके मुताबिक टॉप 250 निवेश योजना उन निवेशकों के लिए उपयुक्त है, जो लंबी अवधि में संपत्ति का निर्माण और आय चाहते हैं। यह स्कीम क्वालिटी, आउटलुक और वैल्यूएशन (क्यूओवी) प्रक्रिया के जरिये बेहतर रिटर्न की संभावना प्रदान करती है।यह एनएफओ 6 दिसंबर को खुला है और 20 दिसंबर को बंद होगायह स्कीम लगातार बिक्री और खरीदी के लिए फिर से अलॉटमेंट की तारीख के बाद 5 व्यवसायिक दिन (वर्किंग डे) के अंदर खुलेगी।हाल के समय में शीर्ष 250 कैटेगरी ने बेहतर रिटर्न निवेशकों को दिया है, जिसमें 7 और 10 साल की अवधि में इसने कभी निगेटिव रिटर्न नहीं दिया है। 30 जून 2019 के आधार पर भारतीय बाजार के कुल बाजार पूंजीकरण का करीबन 89 फीसदी हिस्सा इन्हीं 250 कंपनियों के पास है। विश्लेषकों के मुताबिक एनएफओ एक बेहतर सिस्टम है, जिसके जरिये निवेश कर लॉर्ज और मिड कैप का लाभ पाया जा सकता है। लॉर्ज कैप इंडेक्स, निफ्टी और बीएसई सेंसेक्स भले ही नई ऊंचाई पर हों, पर इनका मूल्यांकन अभी भी कम है।जतिंदर पाल सिंह के मुताबिक स्कीम की योजना सभी बाजार पूंजीकरण में अलोकेट करने की है जिसमें टॉप डाउन और बॉटम अप रणनीति का मिलाजुला रुख होगा, जो रिसर्च और आउटलुक पर आधारित होगा। यह स्कीम 70-199 फीसदी भारत की शीर्ष 250 कंपनियों में निवेश करेगी। हालांकि जब जरूरत होगी तो पोर्टफोलियो को री-अलोकेट भी किया जा सकता है। नियम आधारित पोर्टफोलियो में लॉर्ज कैप और मिड कैप में 35-35 फीसदी का निवेश होगा।

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरराजस्व विभाग की जवाबी सलाह पर नाराज हुआ चुनाव आयोग, कही ये बातें****** ने अपनी सलाह पर की ओर से ‘बेढंगे एवं हल्के’ लहजे में दिए गए जवाब पर बुधवार को फटकार लगाई है। आयोग ने राजस्व विभाग को सलाह दी थी कि चुनाव के दौरान उसकी प्रवर्तन एजेंसियों की कोई भी कार्रवाई निष्पक्ष एवं भेदभाव रहित होनी चाहिए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसपर विभाग ने जवाब देते हुए कहा था कि उसकी कार्रवाई हमेशा राजनीतिक संबंधों पर गौर किये बिना ‘तटस्थ’, ‘निष्पक्ष’ तथा ‘भेदभाव रहित’ होती है। विभाग ने आयोग से आयकर विभाग के साथ चुनावी प्रक्रिया में अवैध धन के उपयोग के बारे में सूचना साझा करने को भी कहा था।राजस्व विभाग के जवाब पर आयोग ने कहा, ‘चुनाव आयोग उसकी ओर से दी गई पूर्ण निष्पक्ष एवं भेदभाव रहित रहने वाली सलाह पर राजस्व विभाग की तरफ से अनौपचारिक एवं हल्के ढंग से दी गई प्रतिक्रिया पर अत्यंत आक्रोश प्रकट करता है। सलाह को लागू करने के तरीकों का ब्योरा देने की बजाए विभाग ने जवाबी सलाह देने की गुस्ताखी की। स्थापित शिष्टाचार के उल्लंघन और एक संवैधानिक प्राधिकरण को संबोधित करने के लिए इस्तेमाल किए गए लहजे एवं तरीके पर अत्यंत निराशा व्यक्त करता है।’चुनाव आयोग ने कहा, ‘इसलिए आयोग राजस्व विभाग को अनुचित टिप्पणी करने के लिए फटकार लगाता है और उम्मीद करता है कि आयोग की तरफ से उक्त परामर्श में जारी किए गए निर्देशों का अक्षरश: पालन होगा।’ आपको बता दें कि के कारण 10 मार्च से आचार संहिता लागू होने के बाद आयकर विभाग ने राजनेताओं तथा उनसे जुड़े लोगों पर कई छापे मारे हैं। विपक्षी दलों ने इसे चुनाव के दौरान केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग करार दिया है।रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरविभाजन विभीषिका स्मृति दिवस: कांग्रेस का तंज, कहा- UP चुनाव आते ही PM को विभाजन की आई याद******कांग्रेस ने देश के बंटवारे के समय के लोगों के संघर्षों एवं बलिदान की याद में ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ मनाने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा को लेकर शनिवार को उन पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री पहले पाकिस्तान को उसके स्वतंत्रता दिवस एवं राष्ट्रीय दिवस पर बधाई देते हैं तथा फिर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नजदीक आने पर विभाजन को याद करते हैं। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी कहा कि भाजपा के ‘विभाजनकारी छल-कपट’ की पोल अब खुल चुकी है।बता दें कि, ने शनिवार को घोषणा की कि 14 अगस्त को लोगों के संघर्षों एवं बलिदान की याद में विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाएगा और कहा कि बंटवारे के दर्द को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता। मोदी ने कहा कि विभाजन के कारण हुई हिसा और नासमझी में की गई नफरत से लाखों लोग विस्थापित हो गए और अनेक लोगों ने जान गंवा दी।कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता ने प्रधानमंत्री के एक पुराने ट्वीट और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को लिखे गये उनके पत्र को साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘विभाजनकारी छल-कपट की पोल खुली, अब देश को नही बरगला सकते। 22 मार्च को पाकिस्तान को बधाई। याद रहे 22 मार्च वो दिन है जब मुस्लिम लीग ने (22 मार्च, 1940) को बंटवारे का प्रस्ताव पारित किया था। पिछले 14 अगस्त को भी पाक को बधाई। उत्तर प्रदेश का चुनाव आते ही विभाजन की याद आई। वाह साहेब !’’कांग्रेस महासचिव ने प्रधानमंत्री का जो जो ट्वीट साझा किया, वो 14 अगस्त, 2015 का है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी है। सुरजेवाला ने जिस पत्र का हवाला दिया, वो प्रधानमंत्री ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष को वहां के ‘राष्ट्रीय दिवस’ पर लिखा था। कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री को यह घोषणा करने से पहले इस पर माफी मांगनी चाहिए थी कि उनके ‘वैचारिक पूर्वजों’ और मुस्लिम लीग के कारण ही देश का बंटवारा हुआ।उन्होंने दावा किया, ‘‘इनके वैचारिक पूर्वजों और मुस्लिम लीग ने मिलकर जो माहौल बनाया था उस वजह से बंटवारा हुआ। इन्हें पहले माफ़ी मांगनी चाहिए।’’ खेड़ा ने कहा, ‘‘बंटवारे के समय मेरे परिवार के 14 सदस्य मारे गए थे। ये कौन होते हैं हमारी टीस दूर करने वाले ? इनकी वजह से मेरी टीस है और आज यह टीस फिर बढ़ रही है।’’

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरLast Chance: आज आधी रात तक इन जगहों पर चला सकते हैं 500 रुपए का पुराना नोट******गुरुवार आधी रात के बाद 500 रुपए के पुराने नोट का चलन पूरी तरह से बंद हो जाएगा। दरअसल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटको बंद करने की घोषणा के बाद, इन्हें कुछ बुनियादी जरूरतों के लिए चलन में जारी रखा गया था। लेकिन 15 दिसंबर को 500 रुपए के नोट को पूरी तरह से बंद किया जा रहा है।आपको बता दें कि सरकार पेट्रोल पंप, रेलवे, सरकारी बसों, एयरपोर्ट और मेट्रो में भी 500 रुपए के पुराने नोटों का चलन पहले ही बंद कर चुकी है। अब गुरुवार के बादटोल बूथों, पावर फर्मों, एलपीजी एजेंसियों, सराकरी करों आदि में पुरानी करंसी का प्रयोग नहीं किया जा सकेगा।LPG galleryडिजिटल वॉलेट के जरिए फंडों में निवेश की मिल सकती है अनुमति, SEBI इस विकल्‍प पर कर रहा है विचाररियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरNokia 7.2 में होगा सर्कुलर कैमरा, IFA 2019 से पहले लीक हुई इमेज******Nokia 7.2 images leaked ahead of IFA 2019 एचएमडी ग्‍लोबल के आने वाले स्‍मार्टफोन की कुछ इमेज लीक हुई हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस नए डिवाइस के बैक पर सर्कुलर कैमरा मॉड्यूल फीचर होने की संभावना है। फ‍िनलैंड की कंपनी एचएमडी ग्‍लोबल ने पहले ही यह घोषणा की थी कि वह आईएफए 2019 के शुरू होने से एक दिन पहले 5 सितंबर को अपने नए फोन के बारे में घोषणा करेगी।फोनअरेना ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि आने वाले अगले महीने में एचएमडी ग्‍लोबल कम से कम तीन नए स्‍मार्टफोन नोकिया 5.2, नोकिया 6.2 और नोकिया 7.2 को लॉन्‍च कर सकती है। इनकी बिक्री घोषणा के कुछ हफ्ते बाद शुरू होगी। ऑनलाइन लीक हुई इमेज से यह पता चला है कि नोकिया 7.2 में एक थिन लाइन होगी और एक सर्कुलर कैमरा है, जिसमें तीन सेंसर और एक एलईडी फ्लैश होगा। इसके अलावा लीक हुई इमेज से यह भी पता चला है कि ट्रिपल कैमरा सेटअप के नीचे एक फ‍िंगरप्रिंट सेंसर होगा, जबकि इसके फ्रंट पर एक वाटरड्रॉप नॉच को देखा जा सकता है।बेजल-लेस डिस्‍प्‍ले के साथ नोकिया 7.3 में एक 3.5एमएम ऑडियो जैक होगा। फोन के निचले हिस्‍से पर एक स्‍पीकर और एक यूएसबी पोर्ट भी दिखाई दे रहा है।

रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरTokyo Olympics 2020 : रवि और दीपक ने सेमीफाइनल में बनाई जगह, अंशु मलिक को मिली निराशा******भारतीय पहलवान रवि दाहिया ने अपने ओलंपिक अभियान की मजबूत शुरुआत करते हुए बुल्गारिया के जॉर्जी वेलेंटिनोव वेंगेलोव को तकनीकी दक्षता के आधार पर 14-4 से हराकर 57 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। रवि के अलावा दीपक पूनिया ने भी अपने मुकाबले को जीतकर 86 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं।अल्जीरिया के अब्देलहक खेरबाचे को तकनीकी दक्षता के आधार पर हराने वाले वेंगलोव के खिलाफ दहिया ने अपना शानदार फॉर्म जारी रखते हुए शुरू से ही दबाव बनाये रखा। दहिया ने पिछले दौर में कोलंबिया के टिगरेरोस उरबानो आस्कर एडवर्डो को तकनीकी दक्षता के आधार पर हराया था।चौथे वरीय भारतीय पहलवान ने लगातार विरोधी खिलाड़ी के दायें पैर पर हमला किया और पहले पीरियड में ‘टेक-डाउन’ से अंक गंवाने के बाद पूरे मुकाबले में दबदबा बनाए रखा। गत एशियाई चैंपियन दाहिया ने उस समय 13-2 से जीत दर्ज की जबकि मुकाबले में एक मिनट और 10 सेकेंड का समय और बचा था। भारतीय पहलवान ने दूसरे पीरियड में पांच टेक-डाउन से अंक जुटाते हुए अपनी तकनीकी मजबूती दिखाई।वहीं पूनिया ने पुरूषों के 86 किग्रा वर्ग में आसान ड्रॉ का पूरा फायदा उठाते हुए प्री क्वार्टर फाइनल में नाइजीरिया के एकेरेकेमे एगियोमोर को मात दी जो अफ्रीकी चैम्पियनशिप के कांस्य पदक विजेता हैं। नाइजीरियाई पहलवान के पास ताकत थी लेकिन पूनिया के पास तकनीक थी और वह भारी पड़ी।इसके बाद दीपक ने क्वार्टर फाइनल में भी शानदार खेल दिखाते हुए आखिरी पलों में चीन के पहलवान जुशेन लिन को 6-3 से हराकर सेमीफाइनल में अपनी जगह को सुनिश्चित किया।वहीं 19 साल की अंशु मलिक महिलाओं के 57 किलोवर्ग के पहले मुकाबले में यूरोपीय चैम्पियन बेलारूस की इरिना कुराचिकिना से 2-8 से हार गई।रियललाइफमेंबेहदबिंदासहैंजेठालालकीपड़ोसनबबिताजीबननाचाहतीथींडॉक्टरस्पुतनिक वी को DCGI की मंजूरी, भारत में हर साल बनेंगी 85 करोड़ खुराक******स्पुतनिक वी को DCGI की मंजूरी, भारत में हर साल बनेंगी 85 करोड़ खुराकरूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने कहा कि भारत में हर साल की 85 करोड़ से अधिक खुराक तैयार होंगी। भारत ने कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए स्पुतनिक वी के सीमित आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी दी है। भारतीय दवा महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने आपातकालीन उपयोग के लिए इस वैक्सीन को पंजीकृत किया है। यह वैक्सीन रूस में क्लीनिकल ट्रायल को पूरा कर चुकी है, तथा भारत में तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल में इसके परिमाण सकारात्मक हैं। भारत में यह परीक्षण डॉ.रेड्डीज के साथ मिलकर किए गए।पढ़ें- पढ़ें- आरडीआईएफ ने एक बयान में कहा कि करीब तीन आबादी वाले देशों में वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी मिल चुकी है और भारत स्पुतनिक वी को मंजूरी देन वाला 60वां देश है। बयान में कहा गया कि आबादी के लिहाज से भारत इस टीके को अपनाने वाला सबसे बड़ा देश है और वह स्पुतनिक वी के उत्पादन में भी अग्रणी है। डीसीजीआई ने कुछ शर्तों के साथ स्पुतनिक वी के सीमित आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दी है।अभी तक Sputnik V की भारत में कीमत कितनी होगी यह स्‍पष्‍ट नहीं है। अन्य देशों में जहां इसे मंजूरी दी गई है वहां इसकी कीमत 10 डॉलर प्रति डोज से कम है। अभी फिलहाल इस वैक्सीन को लेकर सरकार की जो मौजूदा व्यवस्था चल रही है उसी आधार पर इसे लोगों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। डॉ रेड्डी लैबोरेटरीज से 10 करोड़ डोज बनाने की डील हुई है। इसके अलावा RDIF ने हेटरो बायोफार्मा, ग्‍लैंड फार्मा, स्‍टेलिस बायोफार्मा, विक्‍ट्री बायोटेक से 85 करोड़ डोज बनाने का भी करार कर रखा है। इस वैक्सीन को मंजूरी मिलने से वैक्सीन लगवाने वालों के लिए एक और वैक्सीन उपलब्ध हो गई है, जिससे कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन अभियान को तेजी से बढ़ाने में मदद मिलेगी।स्पुतनिक वी भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ इस्तेमाल होने वाली तीसरी वैक्सीन है। इससे पहले डीसीजीआई ने जनवरी में पुणे में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन कोविशील्ड तथा भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दी थी। आरडीआईएफ के सीईओ किरिल दिमित्रिव ने कहा कि वैक्सीन को मंजूरी एक बड़ा मील का पत्थर है, क्योंकि दोनों देशों के बीच स्पुतनिक वी के नैदानिक ​​परीक्षणों और इसके स्थानीय उत्पादन को लेकर व्यापक सहयोग विकसित हो रहा है।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 06:31
उद्धरण 1 इमारत
Sidhu Moose Wala Shot Dead: सिद्धू मूसेवाला की हत्या के कनाडा से जुड़े तार, लॉरेंस बिश्नोई गैंग के सदस्य गोल्डी बराड़ ने ली जिम्मेदारी******Highlightsमशहूर पंजाबी गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या कर दी गई। पंजाब के मानसा जिले के गांव जवाहरके में एके-47 से ताबड़तोड़ फायरिंग हुई। फायरिंग में सिद्धू मूसेवाला की जान चली गई, जबकि उनके दो साथी घायल हो गए। लॉरेंस बिश्नोई गैंग के साथी और कनाडा में बैठे गोल्डी बराड़ ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी ली है।बता दें कि पंजाब में मुख्यमंत्री भगवंत मान की अगुआई वाली आम आदमी पार्टी की सरकार ने बीते दिन यानी शनिवार को ही सिद्धू मूसेवाला की सिक्योरिटी घटाई थी। मूसेवाला साथियों के साथ गाड़ी से जा रहे थे। इस दौरान काले रंग की गाड़ी में सवार हमलावरों ने उन पर फायरिंग कर दी। बताया जा रहा है कि उन पर 20-30 ताबड़तोड़ फायरिंग की गई।गंभीर हालत में गायक को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उनकी मौत की पुष्टि कर दी। मानसा अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. रंजीत राय ने बताया कि तीन लोगों को अस्पताल लाया गया, जिनमें से सिद्धू मूसेवाला की मौत हो गई थी। वहीं, दोनों घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद इलाज के लिए उच्च संस्थान रेफर कर दिया गया है।सिद्धू मूसेवाला की हत्या पर पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने शोक जताया। उन्होंने ट्वीट किया, "मैं सिद्धू मूसेवाला की जघन्य हत्या से बहुत दुखी हूं। इसमें शामिल किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। मैं सभी से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं।"बता दें कि सिद्धू मूसेवाला ने पंजाब विधानसभा चुनाव में मानसा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ाथा। उन्होंने आम आदमी पार्टी के डॉ. विजय सिंगला के खिलाफ चुनाव लड़ा था। मूसेवाला को हार का सामना करना पड़ा था। उन्हें हराने वाले विजय सिंगला पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बनाए गए थे। हालांकि, पिछले दिनों राज्य के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भ्रष्टाचार के आरोप में उन्हें पद से बर्खास्त किया था।
2022-10-01 06:13
उद्धरण 2 इमारत
US China Taiwan: चीन को लगातार गुस्सा दिलाने की कोशिश में अमेरिका, एक और प्रतिनिधिमंडल पहुंचा ताइवान******Highlightsअमेरिकी कांग्रेस का एक और प्रतिनिधिमंडल ताइवान पहुंचा है और उसने ताइवान की राष्ट्रपति साई इन वेंग से गुरुवार सुबह मुलाकात की। अमेरिका और ताइवान के नेताओं के बीच यह मुलाकात ऐसे वक्त में हो रही है, जब चीन के साथ दोनों देशों के संबंध बेहद तनावपूर्ण हैं। चीन पूरे ताइवान को अपना हिस्सा मानता है। इससे पहले अमेरिकी प्रतिनिधिसभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी अगस्त में ताइवान की यात्रा पर आई थीं, हालांकि चीन ने इस यात्रा का काफी विरोध किया था और उसने अपने सैन्य अभ्यास को तेज करते हुए लगभग रोज ही ताइवान की ओर लड़ाकू विमान, ड्रोन आदि भेजे थे।फ्लोरिडा से डेमोक्रेटिक पार्टी की सदस्य स्टेफनी मर्फी की अगुवाई में प्रतिनिधिमंडल ने ताइवान की राष्ट्रपति से मुलाकात की है। चीन के सैन्य खतरों का जिक्र करते हुए साई ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल की यात्रा ‘ताइवान के प्रति अमेरिकी कांग्रेस के अडिग समर्थन को दर्शाती है।’ उन्होंने कहा, ‘ताइवान दबाव में नहीं आएगा। हम हमारे लोकतांत्रित प्रतिष्ठानों और जीवन जीने के तरीकों की रक्षा करेंगे। ताइवान पीछे नहीं हटेगा।’ इस पर मर्फी ने कहा कि संसद को ‘अंतराष्ट्रीय संगठनों में ताइवान की वृहद भागीदारी की वकालत करनी चाहिए।’उन्होंने कहा, ‘ताइवान ने दिखाया है कि वह अंतरराष्ट्रीय समुदाय का एक जिम्मेदार सदस्य है, खासतौर पर जन स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दों पर। वह अंतरराष्ट्रीयों मंचों पर भागीदारी का हकदार है।’ गौरतलब है कि मर्फी उन सांसदों में शामिल हैं, जिन्होंने वह विधेयक पेश किया है जिसके तहत अमेरिका ताइवान की मदद करने के लिए उसे हथियार दे सकता है, ठीक उसी प्रकार से जैसे उसने यूक्रेन को हथियार दिए हैं। पिछले सप्ताह राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रशासन ने ताइवान को एक अरब डॉलर की हथियार ब्रिकी की मंजूरी दी थी। इस पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता माओ निंग ने बुधवार को कहा कि वाशिंगटन और ताइपे के बीच रक्षा सहयोग को लेकर चीन की आपत्ति ‘स्पष्ट’ है।ताइवान दक्षिण-पूर्वी चीन के तट से लगभग 160 किमी दूर एक द्वीप है, जो फूजौ, क्वानझोउ और जियामेन के चीनी शहरों के सामने है। यहां शाही किंग राजवंश का शासन चलता था, लेकिन इसका नियंत्रण 1895 में जापानियों के पास चला गया। द्वितीय विश्व युद्ध में जापान की हार के बाद, ये द्वीप वापस चीनी हाथों में चला गया। माओत्से तुंग के नेतृत्व में कम्युनिस्टों द्वारा मुख्य भूमि चीन में गृह युद्ध जीतने के बाद, राष्ट्रवादी कुओमिन्तांग पार्टी के नेता च्यांग काई-शेक 1949 में ताइवान भाग गए। च्यांग काई-शेक ने द्वीप पर चीनी गणराज्य की सरकार की स्थापना की और 1975 तक राष्ट्रपति बने रहे।चीन ने कभी भी ताइवान के अस्तित्व को एक स्वतंत्र देश के रूप में मान्यता नहीं दी है। उसका तर्क है कि यह हमेशा एक चीनी प्रांत था। ताइवान का कहना है कि आधुनिक चीनी राज्य 1911 की क्रांति के बाद ही बना था, और यह उस राज्य या चीन के जनवादी गणराज्य का हिस्सा नहीं है, जो कम्युनिस्ट क्रांति के बाद स्थापित हुआ था। दोनों देशों के बीच राजनीतिक तनाव जारी है। आपको बता दें चीन और ताइवान के आर्थिक संबंध भी रहे हैं। ताइवान के कई प्रवासी चीन में काम करते हैं और चीन ने ताइवान में निवेश किया है।संयुक्त राष्ट्र ताइवान को एक अलग देश के रूप में मान्यता नहीं देता है। दुनिया भर में केवल 13 देश- मुख्य रूप से दक्षिण अमेरिकी, कैरिबियन, द्वीपीय और वेटिकन इसे मान्यता देते हैं। वहीं अमेरिका की चीन से बढ़ती दुश्मनी के चलते उसकी नीति स्पष्ट नहीं लग रही है। जून में राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा था कि अगर चीन ताइवान पर कब्जा करेगा, तो अमेरिका उसकी रक्षा करेगी। लेकिन इसके ठीक बाद में बाइडेन के बयान पर सफाई देते हुए अमेरिका ने कहा कि वह ताइवान की स्वतंत्रता का समर्थन नहीं करता है। अमेरिका का ताइपे के साथ कोई औपचारिक संबंध नहीं है, फिर भी वह उसे अंतरराष्ट्रीय समर्थन देता है और हथियारों की आपूर्ति करता है।साल 1997 में रिपब्लिकन पार्टी के तत्कालीन हाउस स्पीकर न्यूट गिंगरिच ने ताइवान का दौरा किया था। तब भी चीन ने ऐसी ही प्रतिक्रिया दी थी, जैसी वो अभी दे रहा है। चीन के नेताओं के साथ अपनी बैठकों का जिक्र करते हुए गिंगरिच ने कहा था, "हम चाहते हैं कि आप समझें, हम ताइवान की रक्षा करेंगे।" लेकिन उसके बाद स्थिति बदल गई। चीन आज विश्व राजनीति में बहुत मजबूत शक्ति बन गया है। चीनी सरकार ने 2005 में एक कानून पारित किया था, जिसमें कहा गया कि अगर ताइवान अलग होने की बात करता है, तो उसे सैन्य कार्रवाई से मुख्य भूमि में शामिल किया जा सकता है।ताइवान की सरकार ने हाल के वर्षों में कहा है कि केवल द्वीप के 23 मिलियन लोगों को अपना भविष्य तय करने का अधिकार है और हमला होने पर वह अपनी रक्षा करेगा। 2016 से, ताइवान ने एक ऐसी पार्टी को चुना है, जो ताइवान की स्वतंत्रता की वकालत करती है।
2022-10-01 05:06
उद्धरण 3 इमारत
चुनावी बांड के पहले चरण की बिक्री होगी 1 से 10 मार्च तक, SBI की 4 शाखाओं से की जा सकेगी खरीदारी****** (इलेक्टोरल बांड्स) के लिए पहले चरण की बिक्री 1 से 10 मार्च तक की जाएगी। वित्त मंत्रालय ने आज यह जानकारी दी। मंत्रालय ने कहा कि इन बांडों को भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की प्राधिकृत शाखाओं से खरीदा जा सकेगा। सरकार ने इस साल दो जनवरी को चुनावी बांड योजना को अधिसूचित किया था। इस योजना के प्रावधानों के तहत कोई भी व्यक्ति जो भारत का नागरिक है या कोई भी ऐसी इकाई जिसकी स्थापना देश में हुई है, चुनावी बांड खरीद सकती है। एसबीआई को शुरुआत में अपनी चार प्राधिकृत शाखाओं पर चुनावी बांड जारी करने या उसे भुनाने की अनुमति दी गई है। चार महानगरों नई दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई स्थित स्टेट बैंक की चार प्रमुख शाखाओं में इस बांडों की बिक्री की जाएगी। मंत्रालय ने कहा कि इस योजना की पहली खेप मार्च, 2018 में जारी की जाएगी। यह 2018 की पहली तिमाही के लिए होगी। पहले इसे जनवरी, 2018 में जारी किया जाना था। इसी के अनुरूप पहली खेप की बिक्री एक से 10 मार्च तक की जाएगी।वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2017-18 के बजट में योजना की घोषणा की थी। इसके तहत सिर्फ ऐसे पंजीकृत राजनीतिक दल जिन्हें पिछले लोकसभा चुनाव या राज्यों के विधानसभा चुनाव में कम से कम एक प्रतिशत मत मिला है, वही चुनावी बांड पाने के पात्र होंगे। मंत्रालय ने कहा कि कोई भी पात्र राजनीतिक दल किसी अधिकृत बैंक की शाखा में बैंक खाते के जरिये इसे भुना सकेगा। कोई भी एक व्यक्ति अकेले या संयुक्त रूप से या अन्य लोगों के साथ मिलकर चुनावी बांड खरीद सकता है।चुनावी बांड को राजनीतिक दलों को मिलने वाले नकद चंदे के विकल्प के रूप में देखा जा रहा है। इससे राजनीतिक चंदे में पारदर्शिता आने की उम्मीद है। जारी किए जाने की तारीख से 15 दिन तक चुनावी बांड वैध होगा। वैधता की अवधि समाप्त होने के बाद किसी राजनीतिक दल को इसके लिए भुगतान नहीं किया जाएगा। राजनीतिक दल जिस दिन अपने खाते में बांड जमा कराएगा उसी दिन ही राशि उनके खाते में डाल दी जाएगी।
वापसी