नई पोस्ट करें

500 रुपए और इससे छोटे नोटों की सप्लाई पर जोर, बाजार से गायब हो रहे 2 हजार रुपए के नोट

2022-10-01 04:30:05 593

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटAaj Ka Panchang 25 September 2022: जानिए रविवार का पंचांग, राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय******आज आश्विन कृष्ण पक्ष की अमावस्या और रविवार का दिन है। अमावस्या तिथि आज का पूरा दिन पार कर के देर रात 3 बजकर 23 मिनट तक रहेगी। आज अमावस्या तिथि वालों का श्राद्ध किया जायेगा। आज सुबह 9 बजकर 6 मिनट तक शुभ योग रहेगा, उसके बाद शुक्ल योग लग जायेगा। साथ ही आज का पूरा दिन पार कर के अगली सुबह 5 बजकर 52 मिनट तक उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र रहेगा। इसके अलावा आज पितृविसर्जन, सर्वपैत्री, अज्ञात श्राद्ध है। आचार्य इंदु प्रकाश से जानिए रविवार का पंचांग,राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय।

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटभारतीय आर्थिक सेवा और भारतीय सांख्यिकी सेवा की लिखित परीक्षा 2021 के परिणाम जारी******संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा जुलाई 2021 में आयोजित भारतीय आर्थिक सेवा/भारतीय सांख्यिकी सेवा की लिखित परीक्षा 2021 के परिणाम जारी कर दिए गए हैं। भारतीय आर्थिक सेवा की लिखित परीक्षा में 32 उम्मीदवार पास हुए हैं जबकि भारतीय सांख्यिकी सेवा की लिखित परीक्षा में 24 उम्मीदवार पास हुए हैं। लिखित परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार/व्यक्तित्व परीक्षण के लिए बुलाया गया है। उम्मीदवारों को व्यक्तित्व परीक्षण के समय अपनी आयु, शैक्षणिक योग्यता, समुदाय, शारीरिक अक्षमता (जिन भी मामलों में लागू हो) आदि के अपने दावे के समर्थन में मूल प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने होंगे।परीक्षा की नियमावली के अनुसार, इन सभी उम्मीदवारों से यह अपेक्षित है कि वे आयोग की वेबसाइट upsconline.nic.in पर उपलब्‍ध विस्तृत आवेदन फॉर्म (डीएएफ) को भरें। यह विस्तृत आवेदन फॉर्म (डीएएफ) आयोग की वेबसाइट पर 15.09.2021 से 28.09.2021 की शाम 6.00 बजे तक उपलब्ध रहेगा। सफल घोषित किए गए उम्मीदवारों को ऑनलाइन विस्तृत आवेदन प्रपत्र भरने से पहले वेबसाइट के संगत पृष्‍ठ पर अपने को रजिस्टर करना होगा।लिखित परीक्षा में पास हुआ कोई उम्‍मीदवार, व्‍यक्तित्‍व परीक्षण के लिए भारतीय आर्थिक सेवा/ भारतीय सांख्यिकी सेवा परीक्षा 2021 हेतु अपनी उम्‍मीदवारी के समर्थन में यदि कोई एक अथवा सभी मूल दस्‍तावेज लाने में विफल रहता है तो उसे व्‍यक्तित्‍व परीक्षण बोर्ड के समक्ष उपस्थित होने की अनुमति नहीं दी जाएगी और उसे यात्रा भत्‍ते (टीए) का भुगतान भी नहीं किया जाएगा।व्यक्तित्व परीक्षण के लिए पास हुए उम्मीदवारों के साक्षात्कार का कार्यक्रम, आयोग की वेबसाइट पर यथासमय प्रदर्शित किया जाएगा। हालांकि, साक्षात्कार की सही तारीख की सूचना उम्मीदवारों को ई-समन पत्र के माध्‍यम से प्रदान की जाएगी। उम्मीदवार इस संबंध में आगे की जानकारी के लिए आयोग की वेबसाइट () देखते रहें।उम्मीदवार अपनी परीक्षा/परिणाम से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी/स्पष्‍टीकरण के लिए (011)-23385271/23381125/23098543 पर कार्य दिवसों में संपर्क कर सकते हैं। इन टेलीफोन नंबर्स पर सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे के बीच बात की जा सकती है।रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटRamadan 2019: आज रमजान का पहला रोज़ा, इन मैसेज, स्टेट्स से दें अपने करीबी को मुबारकबाद******का माह खुदा की इबादत का माह माना जाता है। इस बार 5 मई से रमजान शुरु न होकर 7 मई से रमजान शुरु हो रहे है। जिसके कारण आज पहला रोजा पड़ रहा है।इस्लामिक कैलेंडर के हिसाब से हर साल 29 या 30 रोजे ही रखे जाते हैं। ईद का चांद दिखने पर रोजे विदा होते हैं, जिसके अगले दिन ईद का जश्न मनाया जाता है। बता दें, रमजान के रोजों की खुशी में ही ईद मनाई जाती है।आमतौर पर रमजान माह की शुरुआत चांद के दीदार होने के साथ शुरु होता है। रमजान का महीना तीन हिस्सों में बांटा गया है, जिसे अशरा कहते हैं। मुस्लिम समुदाय के लोग रमजान के पूरे महीने रोजा रखते हैं। इबादत करते हैं, कुरआन पाक की तिलावत कर अल्लाह को राजी करते हैं।ऐसे में आप भी इस पाक महीने खुदा की इबादत करते हुए दोस्तों को रमजान की मुबारकबाद देने के लिए चुने ये खूबसूरत कोट्स और मैसेज।रमजान की आमद है रहमतें बरसाने वाला महीनाआओ आज सब खताओं की माफ़ी मांग लेंदर-ए-तौबा खुला है इस महीने में...ऐ माह-ए-रमजान आहिस्ता चल, अभी काफी कर्ज चुकाना हैअल्लाह को करना है राजी और गुनाहों को मिटाना हैख्वाबों को लिखना है और रब को मनाना हैरमजान मुबारकखुशिया नसीब हो जन्नत करीब हो तू चाहे जिसे वो तेरे करीब होकुछ इस तरह हो करण अल्लाह कामकक् आर मदीना की ज़ियारत नसीब होरहमतें बरसाने वाला महीना है,आओ आज सब खताओं की माफी मांग लें,दर-इ-तौरबा खुला है इस महीने मेंरमजान मुबारकखुशिया नसीब हो जन्नत करीब होतू चाहे जिसे वो तेरे करीब होकुछ इस तरह हो करम अल्लाह कामक्का और मदीना की तुझे ज़ियारत नसीब होखुदा से यही दुआ है हमारी आपसदा हंसते रहो जैसे हंसते हैं फूलदुनिया के सारे गम तुम्हें जाएं भूलचारों तरफ फैलाओं खुशियों के गीतइसी उम्मीद के साथ यार तुम्हे मुबारक हो रमजानना रहेगा ये सदा, कुछ ही दिन का मेहमान हैरहमत से भर लो झोलियां, गुजर रहा माह-ए-रमजान हैरमजान मुबारक

500 रुपए और इससे छोटे नोटों की सप्लाई पर जोर, बाजार से गायब हो रहे 2 हजार रुपए के नोट

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटBigg Boss 15 | क्या इस वजह से हमेशा के लिए आ जाएगी करण कुंद्रा और जय भानुशाली की दोस्ती में दरार?******बिग बॉस 15 का 11वां दिन कई कारणों से याद किया जाएगा। जिसमें सबसे खास है करण कुंद्रा और जय भानुशाली के बीच की तकरार। शो में एक दूसरे के साथ खास बॉन्ड रखने वाले करण कुंद्रा और जय भानुशाली की दोस्ती में दरार सी आ गई है। दोनों की दोस्ती अब एक कठिन राह से गुजर रही है। दोनों के बीच प्रतीक सहजपाल के साथ हुई जय भानुशाली की अनबन के बीच बहस होती नजर आई।कल रात हुई घटना के बारे में करण कुंद्रा जय भानुशाली से बात करते हैं। करण और विशाल जय को समझाते हैं कि उन्हें गलियां नहीं देनी चाहिए। हालांकि, जय अपनी बात उनके सामने रखते हैं। जय और करण के बीच एक दूसरे लड़ते नजर आते हैं। जहां करण जय के प्रतीक को गाली देने के लिए गलत ठहराते हैं। जय करण के साथ बहस करते हुए कहते हैं, "मुझे मालूम है की मैं सही हूं!"हालांकि, करण बताते हैं कि प्रतीक के खिलाफ जय ने जो बात कही वह ठीक नहीं थी। एक अप्रत्याशित मोड़ में, शो के कंटेस्टेंट्स एक दूसरे की दोस्ती की भूलने लगे हैं। जाहिर है इससे करण कुंद्रा और जय भानुशाली के फैंस को दुख होगा क्योंकि शो के दौरान दोनों की खास बॉन्डिंग फैंस को पसंद आ रही थी।नॉमिनेट होने वाले टास्क के बारे में बात करें तो नॉमिनेशन टास्क के दौरान माइशा अय्यर और ईशान सहगल ने अफसाना खान को नॉमिनेट किया। तेजस्वी प्रकाश और करण कुंद्रा, डोनल को नॉमिनेट करते हैं। अकासा और माएशा के नामों पर बहस करने के बाद, उमर और जय ने अकासा को नॉमिनेट किया। विधि और विशाल, ईशान को नॉमिनेट करते हैं और माइशा को बचाते हैं। वहीं अफसना और सिंबा ने विशाल को नॉमिनेट किया है।इस तरह नॉमिनेट होने वाले कंटेस्टेंट्स में अफसाना खान, डोनल, अकासा, विशाल और ईशान इस हफ्ते घर से बेघर होने के लिए नॉमिनेट किए गए हैं।अब देखना होगा कि शो का रुख की कदर मोड़ लेने वाला है।रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटDiwali 2021 : दीपावली पर इस तरह करें सिंपल मेकअप, नजर आएगा झिलमिलाता चेहरा****** के दिन हर कोई सबसे खास और अलग दिखना चाहता है। खासतौर पर महिलाएं, इसके लिए वेतमाम तरह की तैयारियां भी करती हैंफिर चाहे स्पेशल साड़ी हो, जूलरी हो या फिर मेकअप। अगर आप भी इस फेस्टिव सीजन में सिम्पल लुक से सभी को इम्प्रेस करना चाहती हैं तो ऐसे में हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछआसान मेकअप टिप्स जो सबसे अलग दिखने में आपकीमदद करेंगे। तो आइए जानते हैं।मेकअप करने से पहले प्राइमर जरूर लगाएं। ये स्किन को ग्लोइंग दिखाने में आपकी मदद करेगा इसके साथ ही रिंकल्स, फाइन लाइन्स जैसी स्किन समस्याएं को छिपाने में भी मदद करता है। इस तरह आपके मेकअप को परफेक्ट शुरूआत मिलती है और वो लंबे समय तक टिका भी रहता है। जब भी आप प्राइमर का इस्तेमाल करें तो थोड़ी देर रूक जाए क्योंकि ऐसा करने से प्राइमर त्वचा में अच्छी तरह से एब्जॉर्ब हो जाएगा। इसके बाद वॉटरप्रूफ बेस का इस्तेमाल करें। इसके लिए आप स्पॉन्ज को गीला करके लगाएं। अगर त्वचा पर कोई दाग-धब्बे कि समस्या है तो टोन से मेल खाता कंसीलर इस्तेमाल करना न भूलें।मार्केट में कई तरह के फाउंडेशन मौजूद हैं जो स्किन को अलग-अलग फिनिश देते हैं। लेकिन फेस्टिव लुक के लिए इल्यूमिनेटिंग फाउंडेशन का प्रयोग करें। इस तरह के फाउंडेशन में शिमर ऐड होता है जिसकी वजह से त्वचा काफी शाइनी नजर आती हैं।पिंक कलर और पीच शेड वाला ब्लशर चेहरे पर बेहद अच्छा दिखता है। नाक के दोनों तरफ, गालों के उभरे वाली जगह और डबल चिन को छिपाने के लिए डार्क ब्राउन शेड के ब्लशर का इस्तेमाल करें। इससे चेहरा आकर्षक नजर आएगा। इस बात का ध्यान रखें कि ब्लशर के साथ-साथ चीक्स बोन पर भी हाइलाइटर जरूर लगाएं।दिवाली एक नाइट फेस्टिवल है तो ऐसे में आप अपनी आखों को स्मोकी लुक भी दे सकती हैं। इसके आलावा आप कलर्ड लाइनर व कलर्ड मस्कारे से लाइनर लगा सकती हैं। यह भी आंखों को एकदम अलग लुक देगा। आखिरी में आंखों पर जेल युक्त काजल लगाकर आई मेकअप को कंप्लीट करें।अगर आप अपनी आंखों को थोड़ा बोल्ड लुक दे रही हैं तो ऐसे में होठों को न्यूड रखें। आप चाहे तो लाइट पिंक कलर या पीच कलर कीलिपस्टिक का इस्तेमाल कर सकते हैं।आमतौर पर फेस्टिव सीजन पर महिलाएं बाल खुले रखना ही पसंद करती हैं लेकिन इस सीज़न आप फिशटेल, फ्रेंच चोटी या साइड चोटी बनाकरट्राई कर सकती हैं। उसके बाद अपने हेयर स्टाइल को हेयर एक्सेसरीज से सजाना न भूलें।रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटशनि दोष से छुटकारा दिला सकता है शमी का पेड़, लेकिन ना करें ये गलती******Highlightsजीवन में धन दौलत, घर में सुख समृद्धि-खुशहाली आदि लाने के लिए वास्तु शास्त्र में कई पेड़-पौधों का जिक्र किया गया है। इन्हीं में से एक शमी के पेड़ का भी नाम है। ज्योतिष में भी शमी के पौधे को बहुत चमत्कारी माना गया है।कहा जाता है कि इस पौधे का संबंध शनि ग्रह से भी होता है। ऐसे में इस पौधे को घर में लगाने से शनिदेव की कृपा मिलती है साथ हीघर परिवार में कभी धन की कमी नहीं होती है। तो आइए शनि देव की कृपा पाने और शनि दोष से छुटकारा पाने के लिए शमी के पैधे का विशेष उपायजानते हैं।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिस घर में शमी का पेड़ होता है उस घर में समस्या नहीं आतीहै। ज्योतिष इसे घर के ईशान कोण यानी पूर्वोत्तर दिशा में लगाने की सलाह देते हैं। इस दिशा में लगाने से धन की कमी नहीं होती है। इसके अलावा इस पेड़ को लगाने से व्यापार और नौकरी में भी तरक्की मिलती है।मान्यताओं के अनुसार अगर आप किसी शुभ काम के लिए घर से बाहर निकल रहे हैं तो ऐसे में शमी के दर्शन करने के बाद ही घर से बाहर निकलें। कहा जाता है कि ऐसा करने से घर में शुभ काम होने लगते हैं।वास्तु के अनुसार भगवान शिव को शमी का पेड़ बेहद ही प्रिय है। इसलिए रोजाना भगवान शिव को शमी के पत्ते या फूल अर्पित करने चाहिए। ऐसा करने से भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं।शमी के पौधे को हमेशा शनिवार के दिन ही लगाना चाहिए। इस दिन लगाना काफी शुभ माना जाता है। वहीं हिंदू धर्म में दशहरे के दिन शमी के पेड़ की विधिवत पूजा का विधान है। कहा जाता है कि अगर आप इस दिन शमी के पेड़ की पूजा करके इसे घर में लगाते हैं तो यह भी बहुत शुभ फल देता है।शमी के पौधे को घर के मुख्य द्वार के बाईं ओर ही रखना चाहिए। ऐसा करनेसे घर में नकारात्मक ऊर्जा नहीं आती है। साथ ही वास्तु दोष भी दूर होता है।ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक शमी का पौधा घर में लगाने से शनि दोष का प्रभाव कम हो जाता है। अगर किसी पर शनि की साढ़ेसाती या ढैया चल रही है तो घर में शमी का पेड़ लगाना चाहिए। ऐसा करने से शनि की साढ़ेसाती और शनि प्रकोप से राहत मिलती है। मान्यताओं के अनुसार, शमी के नीचे रोजाना सरसों तेल का दीया जलाना चाहिए। इससे शनि देव प्रसन्न होते हैं। साथ ही उनकी कृपा से घर-परिवार की समस्त बाधाएं दूर हो जाती हैं।वास्तु शास्त्र के अनुसार, शमी के पौधे को हमेशा घर के आंगन या बालकनी में लगाना चाहिए जहां पर छत ना हो। कभी भी इसे घर के अंदर नहीं लगाना चाहिए। इसके साथ ही नियमित रूप से इसकी देखभाल करनी चाहिए।

500 रुपए और इससे छोटे नोटों की सप्लाई पर जोर, बाजार से गायब हो रहे 2 हजार रुपए के नोट

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटITBP Bus Accident: जम्मू कश्मीर में बड़ा हादसा, ITBP के जवानों से भरी बस नदी में गिरी, 7 जवान शहीद******Highlights जम्मू कश्मीर के पहलगाम में बड़ा हादसा हो गया है। यहां ITBP के जवानों से भरी एक बस नदी में गिर गई है। हादसे में 7जवानों के शहीद होने की खबर मिली है और कई जवान घायल हुए हैं। घायल जवानों में से भी कई जवानों की हालत गंभीर है, इसलिए उन्हें बेहतर इलाज के लिए एयरलिफ्ट करके श्रीनगर ले जाया गया है।जिस बस का एक्सीडेंट हुआ है, उसमें कुल 39 जवान सवार थे। इसमें 37 जवान ITBP के थे और 2 जवान जम्मू कश्मीर पुलिस के थे। ये हादसा बस के ब्रेक फेल होने की वजह से हुआ है और ये जवान चंदनवाड़ी से पहलगाम की ओर जा रहे थे। ये वही जवान थे, जिनकी अमरनाथ यात्रा में ड्यूटी लगी हुई थी।जानकारी के मुताबिक, जिस जगह पर ये हादसा हुआ, वहां बड़ी संख्या में सैलानी आते हैं। ऐसे में ये सवाल भी उठ रहा है कि ऐसी खतरे वाली जगह पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम क्यों नहीं किए गए।रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहाजवानों से भरी बस के नदी में गिरने की खबर सुनकर आस-पास के इलाके में हड़कंप मच गया है। लोगों की भारी भीड़ यहां दिखाई दे रही है और जवानों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है। जितने जवान घायल हुए थे, उन्हें सबसे पहले पहलगाम के हॉस्पिटल में ले जाया गया था, इसके बाद जिन्हें ज्यादा गंभीर चोट लगी है, उन जवानों को श्रीनगर ले जाया गया।शोपियां में कश्मीरी पंडितों को आतंकियों ने मारी गोलीजम्मू कश्मीर से एक और बड़ी खबर सामने आई है। यहां एक बार फिर टारगेट किलिंग की गई है। आतंकियों ने 2 कश्मीरी पंडितों को गोली मारी है। एक कश्मीरी पंडित की मौत हो गई है और दूसरे की हालत नाजुक बताई जा रही है। ये मामला जम्मू कश्मीर के शोपियां से सामने आया है।जिस कश्मीरी पंडित की मौत हुई है, उसका नाम सुनील भट्ट बताया जा रहा है। वहीं पंडित प्रीतिम्बर कुमार जख्मी हैं। गौरतलब है कि शोपियां में आतंकियों के खिलाफ ताबड़तोड़ अभियान चलाया जा रहा है। इस वजह से आतंकी बौखलाए गए हैं और लगातार हमले की साजिशें रचते रहते हैं।रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोट'बिग बॉस 13' के एक्स कंटेस्टेंट विशाल आदित्य सिंह का खुलासा, मधुरिमा तुली संग कोई दुश्मनी नहीं******: पूर्व युगल (एक्स कपल) और ने रियलिटी टीवी शो 'नच बलिए' और के मंच पर अपने झगड़ों को लेकर काफी सुर्खियां बटोरीं हैं। एक-दूसरे को गाली देने से लेकर शारीरिक हिंसा में शामिल होने तक दोनों अक्सर विवादों के साथ सुर्खियों में रहे। ऐसा लगता है कि अब दोनों अपने झगड़ों के दौर से आगे बढ़ चुके हैं। विशाल ने हाल ही में आईएएनएस को दिए एक साक्षात्कार में मधुरिमा के साथ अपने हालिया संबंधों के बारे में बात की।विशाल आदित्य सिंह ने कहा, "मेरे दिल में उसके लिए कोई घृणा नहीं है। हम अभी भी दोस्त हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम रोज मिलते हैं या रोज बात करते हैं। हम अपने झगड़े से आगे बढ़ गए हैं। हम अब परिपक्व व्यवहार करते हैं। उसके लिए कटु भावनाएं नहीं है और मधुरिमा और मेरे बीच कोई दुश्मनी नहीं है।"विशाल ने यह भी बताया कि 'बिग बॉस-13' के बाद उनका जीवन कैसे बदल गया है। उन्होंने कहा, "मैं उस शो का हिस्सा बनकर धन्य महसूस करता हूं। अब अधिक लोग मुझे जानते हैं। मेरी पहुंच बढ़ गई है। मुझे 'बिग बॉस' के कारण बहुत लोकप्रियता मिली। यहां तक कि मेरा पेशेवर जीवन भी बदल गया है और मुझे कई ऑफर मिले हैं।"हाल ही में विशाल आदित्य सिंह और रश्मि देसाई एक फैशन शो में रैंप वॉक करते नज़र आए थे, जिसका वीडियो और फोटो खूब वायरल हुएथे।

500 रुपए और इससे छोटे नोटों की सप्लाई पर जोर, बाजार से गायब हो रहे 2 हजार रुपए के नोट

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटभारत नवाचार सूचकांक 2019: कर्नाटक टॉप पर, छोटे राज्‍यों में दिल्‍ली ने मारी बाजी, ये है पूरी लिस्‍ट******india Innovation Index 2019 ने ज्ञान साझेदार के रूप में प्रतिस्‍पर्धी क्षमता के लिए संस्‍थान (इंस्‍टीट्यूट फॉर कम्पीटिटिवनेस) के साथ मिलकर 'भारत नवाचार सूचकांक (III) 2019' जारी किया है। के मामले में कर्नाटक अव्वल है, प्रमुख राज्यों में पहले तीन स्थान पर कर्नाटक के अलावा तमिलनाडु वमहाराष्ट्र हैं।केंद्र शासित प्रदेश एवं छोटे राज्यों की श्रेणी में दिल्ली पहले पायदान पर है। दरअसल यह सूचकांक राज्यों की नवाचार की क्षमता और प्रदर्शन के सतत आकलन के लिए बनाया गया है। इस सूचकांक के निर्माण के लिए पांच सक्षम बनाने वाले पैमानों और दो प्रदर्शन के पैमानों पर राज्यों को परखा गया। सक्षम बनाने वाले पैमानों में मानव संसाधन, निवेश, कारोबार का माहौल, सुरक्षा और कानूनी वातावरण को रखा गया था। वहीं, ज्ञान के उत्पादन और ज्ञान के प्रसार को प्रदर्शन के पैमानों में रखा गया था।इस दृष्टि से शेष शीर्ष 10 प्रमुख राज्‍यों में क्रमश: तमिलनाडु, महाराष्ट्र, तेलंगाना, हरियाणा, केरल, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, गुजरात और आंध्र प्रदेश हैं। शीर्ष 10 प्रमुख राज्‍य मुख्‍यत: दक्षिण एवं पश्चिम भारत में केंद्रित हैं। सिक्किम और दिल्‍ली क्रमश: पूर्वोत्‍तर एवं पहाड़ी राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों/सिटी राज्‍यों/छोटे राज्‍यों में शीर्ष स्‍थान पर हैं। दिल्ली, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश कच्‍चे माल को उत्‍पादों में तब्‍दील करने के मामले में सर्वाधिक दक्ष राज्‍य हैं।इस मौके पर नीति आयोग के उपाध्‍यक्ष डॉ. राजीव कुमार, नीति आयोग के सीईओ श्री अमिताभ कांत, विज्ञान विभाग में सचिव श्री आशुतोष शर्मा, जैव प्रौद्योगिकी विभाग में सचिव रेणु स्‍वरूप और आयुष सचिव वैद्य राजेश कोटेचा की उपस्थिति में इस सूचकांक को जारी किया गया।डॉ. राजीव कुमार ने उम्‍मीद जताई कि भारत नवाचार सूचकांक दरअसल नवाचार परिवेश के विभिन्‍न हितधारकों के बीच सामंजस्‍य सृजित करेगा और भारत आगे चलकर प्रतिस्‍पर्धी क्षमता वाले सुशासन की ओर अग्रसर हो जाएगा। अमिताभ कांत ने कहा कि दुनिया में अग्रणी अभिनव देश बनने के लिए अपनी असंख्य चुनौतियों के बीच भारत के पास एक अनूठा अवसर है। रेणु स्‍वरूप ने कहा कि प्रतिस्‍पर्धी क्षमता के केंद्रीय बिन्‍दु के रूप में क्लस्‍टर आ‍धारित नवाचार से लाभ उठाया जाना चाहिए। आशुतोष शर्मा ने कहा कि देश में नवाचार के माहौल को बेहतर बनाने के लिए यह सूचकांक एक बड़ी शुरुआत है क्‍योंकि यह अभिनव आइडिया के कच्‍चे माल एवं उत्‍पाद दोनों से ही जुड़े घटकों पर फोकस करता है। वैद्य कोटेचा ने कहा कि यह सूचकांक एक-दूसरे के साथ राज्‍य के प्रदर्शन के मानकीकरण और प्रतिस्‍पर्धी संघवाद को बढ़ावा देने के लिए एक अच्‍छा प्रयास है।इसका मतलब है नई पहल। इसके तहत यह देखा जाता है कि कौन राज्य किस क्षेत्र में और क्यों बेहतर कर रहा है। वहां राज्य के संसाधन, तकनीक और मानव संसाधन के बीच कैसा ताममेल है। इसके लिए उसने किस तरह की मदद ली और उनमें किस तरह की चुनौतियां सामने आईं और उसे कहां तक हल करने में सफल रहा। साथ ही इसका वहां के लोगों पर क्या असर पड़ा। नवाचार में निवेशक, शोधकर्ता और आविष्कारक सभी को एक मंच मिलता है।देश के सभी राज्यों की भौगोलिक और आर्थिक स्थिति भिन्न हैं। जब केन्द्र सरकार कोई योजना बनाती है तो कई बार किसी राज्य के लिए वह उतना फायदेमंद नहीं हो पाता जितनी उम्मीद होती है। नवाचार सूचकांक के जरिए राज्यों का मजबूत और कमजोर पक्ष सामने आएगा। इससे जरूरत के मुताबिक नीति बनाने में मदद मिलेगी।कर्नाटक131तमिलनाडु252महाराष्‍ट्र313तेलंगाना494हरियाणा527केरल648उत्‍तर प्रदेश7155पश्चिम बंगाल8116गुजरात969आंध्र प्रदेश10810पंजाब11713ओडिशा121011राजस्‍थान131212मध्‍य प्रदेश141314छत्‍तीसगढ़151417बिहार161615झारखंड171716सिक्किम1111हिमाचल प्रदेश225उत्‍तराखंड341मणिपुर434जम्‍मू –कश्‍मीर553त्रिपुरा669अरुणाचल प्रदेश776असम8112नगालैंड997मिजोरम10810मेघालय11108दिल्‍ली131चंडीगढ़222गोवा315पुडुचेरी456अंडमान एवं निकोबार द्वीप547दमन एवं दीव673दादरा एवं नागर हवेली784लक्षद्वीप868

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटBangladesh Flood: बांग्लादेश में मॉनसून की बारिश ने बरपाया कहर, 60 लाख लोग प्रभावित, उठाया गया ये कदम******Highlights बांग्लादेश और सीमावर्ती भारतीय राज्यों मेघालय व असम में मॉनसून की बारिश मुसीबत बनकर आई है। बांग्लादेश में लगातार हो रही बारिश से बाढ़ जैसे हालत बन गए हैं, जिससे 60 लाख लोग प्रभावित हैं। इस प्राकृतिक आपदा के मद्देनजर देश ने सहायता, राहत एवं बचाव कार्य के लिए सेना को मदद के लिए बुलाया है। आधिकारिक अनुमान के मुताबकि, मकानों में पानी घुस जाने के चलते करीब 60 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं।देश के उत्तरी-पूर्वी और उत्तरी क्षेत्र की नदियों में जलस्तर लगातार बढ़ने के चलते कई लोग अस्थाई शिविरों में रुके हुए हैं। बाढ़ पूर्वानुमान और चेतावनी केंद्र (एफएफडब्ल्यूसी) के प्रवक्ता ने कहा, "देश की चार प्रमुख नदियों में से दो नदियों में जलस्तर खतरे के निशान से बहुत ऊपर है और हालात लगभग 2004 के बाढ़ जैसे हैं।"कई लोगों को सुनामगंज में पानी भरने के बाद छतों पर शरण लेना पड़ा था, हालांकि बाद में नावों की मदद से उन्हें बाहर निकाला गया। बाढ़ के कारण कितने लोगों की मौत हुई ,है इस संबंध में अभी तक कोई आधिकारिक आंकड़ा उपलब्ध नहीं है। अनौपचारिक आंकड़ों के मुताबिक, देश में कम से कम 19 लोगों की मौत हुई है।एफएफडब्ल्यूसी ने मेघालय और बांग्लादेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश को इस बाढ़ का कारण बताया है। बाढ़ का पानी कई बिजली घरों में भर गया है, जिसके कारण प्रशासन को इन बिजली घरों को बंद करना पड़ा है। इसके कारण इंटरनेट और मोबाइल फोन संवाएं बंद हो गई हैं। इससे पहले बांग्लादेश ने सेना को प्रशासन की मदद के लिए बुलाया है।रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटभारत में इस साल से उपलब्‍ध होगी 5G सेवा, एयरटेल और जियो एक बार फ‍िर आए आमने-सामने******5G subscription in India to become available in 2022मोबाइल उपकरण बनाने वाली स्‍वीडन की कंपनी एरिक्‍सन ने अपने एक बयान में कहा है कि अगली पीढ़ी की 5जी टेक्‍नोलॉजी पर आधारित मोबाइल सेवाएं देश में 2022 तक उपलब्‍ध होने की पूरी संभावना है। एरिक्‍सन ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में अनुमान जताया है कि वर्ष 2025 के अंत तक 80 प्रतिशत मोबाइल कनेक्‍शन एलटीई तकनी (4जी) पर होने का अनुमान है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2022 तक देश में उपलब्‍ध हो जाएंगी और 2025 के अंत तक देश में 5जी यूजर्स की संख्‍या कुल मोबाइल कनेक्‍शन का पांच प्रतिशत होगा।भारती एयरटेल, रिलायंस जियो, वार्डे कैपिटल और यूवी असेट रिकंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी ने कर्ज में डूबी रिलायंस कम्‍युनिकेशंस की संपत्ति खरीदने के लिए बोलियां जमा कराई हैं। तीन कंपनियों आरकॉम, रिलायंस टेलीकॉम और रिलायंस इंफ्राटेल लिमिटेड के लिए कुल 11 बोलियां आई हैं।आरकॉम के ऊपर करीब 33,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। कर्जदाताओं ने अगस्‍त में 49,000 करोड़ रुपए का दावा जमा किया था। सूत्रों के मुताबिक कर्जदाताओं की समिति की शुक्रवार को फ‍िर से बैठक होगी, जिसमें बोलियों को अंतिम रूप दिया जाएगा। आरकॉम ने अपनी पूरी संपत्ति बिक्री के लिए रखी है।ऋण शोधन कार्यवाही में जाने से पहले कंपनी ने अपने 122 मेगाहर्ट्ज स्‍पेक्‍ट्रम का मूल्‍य 14,000 करोड़ रुपए आकलित किया था। इसके अलावा कंपनी ने अपने टॉवर कारोबार का मूल्‍य 7,000 करोड़ रुपए, ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क का मूल्‍य 3,000 करोड़ रुपए और डेटा सेंटर का मूल्‍य 4,000 करोड़ रुपए आंका गया था।

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटमध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के 19 नए मामले, कोई मौत नहीं****** मध्य प्रदेश में मंगलवार को किसी भी व्यक्ति की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत नहीं हुई है। प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 10,512 है। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 19 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में अभी तक कुल 7,91,689 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। प्रदेश में फिलहाल कोविड-19 के केवल 190 मरीज हैं, उन सभी का इलाज चल रहा है। प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले 24 घंटों में प्रदेश के 52 जिलों में से 08 जिलों में ही संक्रमण के नये मामले आये, जबकि 44 जिलों में एक भी नया मामला नहीं आया है।उन्होंने कहा कि प्रदेश में पिछले 24 घंटों में के सात नए मामले भोपाल में आए, जबकि इंदौर में चार, ग्वालियर में तीन तथा कटनी, नरसिंहपुर, राजगढ़, सिवनी व शिवपुरी में एक-एक नया मामला आया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 7,91,689 संक्रमितों में से अब तक 7,80,987 मरीज स्वस्थ हो गये हैं।अधिकारी ने बताया कि मंगलवार को कोविड-19 के 31 रोगी स्वस्थ हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मंगलवार को केवल 3,977 लोगों को कोविड-19 के टीके लगाए गये। इसी के साथ प्रदेश में अब तक 2,56,92,264 लोगों को टीका लग चुका है।वहीं, प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आने के बाद सरकार द्वारा अब स्कूलों को खोलने की तैयारी शुरू हो चुकी है। यहां 26 जुलाई से स्कूलों में 11वीं और 12वीं की कक्षाएं एव छात्रावास खोले जाएंगे। वहीं कक्षा 9वीं और 10वीं की कक्षाएं 5 अगस्त से शुरू की जाएंगी।इस बाबत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि स्कूल 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ प्रारंभ होंगे। कक्षाओं के खोले जाने के संबंध में क्राइसिस मैनेजमेंट समूह स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लेंगे।रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटShashi Tharoor: शशि थरूर लड़ सकते हैं कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद अटकलें तेज******कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने आज सोमवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से दिल्ली में मुलाकात की। हालांकि, अभी ये स्पष्ट नहीं है कि इस मुलाकात की वजह क्या है। थरूर ने सोनिया गांधी से मुलाकात ऐसे समय की है, जब हाल ही में उन्होंने ऐसे संकेत दिए हैं कि वह अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ सकते हैं। वहीं, सोनिया गांधी से मुलाकाता के कुछ घंटे पहले थरूर ने कांग्रेस में सुधार की मांग करने वाली एक पोस्ट को समर्थन करते हुए ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि अध्यक्ष पद के हर उम्मीदवार को यह संकल्प लेना चाहिए कि निर्वाचित होने पर वह 'उदयपुर नवसंकल्प' को पूरी तरह लागू करेगा।तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद थरूर ने ट्विटर पर पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं की ओर से सुधार की मांग करने वाली याचिका का समर्थन किया। पार्टी कार्यकर्ताओं की ऑनलाइन याचिका के संबंध में शशि थरूर ने ट्वीट किया, ''मैं इस याचिका का स्वागत करता हूं, जिसे कांग्रेस के युवा सदस्यों के एक समूह की ओर से पार्टी में रचनात्मक सुधारों की मांग करते हुए प्रसारित किया जा रहा है। इसमें अब तक 650 से ज्यादा हस्ताक्षर इकट्ठे हुए हैं। मुझे इसका समर्थन करने और इसके आगे बढ़ने में खुशी हो रही है।''कांग्रेस कार्यकर्ताओं की ओर से प्रसारित की गई ऑनलाइन याचिका में पार्टी को मजबूत करने के लिए कदम उठाने संबंधी बातें कही गई हैं। ऑनलाइन याचिका में कहा गया है, "हम कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ने वाले हर उम्मीदवार से अपील करते हैं कि वह यह संकल्प ले कि ब्लॉक कमेटी से लेकर कांग्रेस कार्य समिति तक, पार्टी के सभी सदस्यों को वह साथ लेकर चलेगा और पदभार ग्रहण करने के 100 दिनों के भीतर उदयपुर नवसंकल्प को पूरी तरह लागू करेगा।" कांग्रेस ने मई में चिंतन शिविर के बाद 'उदयपुर नवसंकल्प' जारी किया था, जिसमें पार्टी के संगठन में कई सुधार के सुझाए दिए गए थे। इनमें 'एक व्यक्ति, एक पद' और 'एक परिवार, एक टिकट' की व्यवस्था की बातें प्रमुख हैं।बता दें कि कांग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने के सवाल पर शशि थरूर ने अब तक कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया है। पत्रकारों की ओर से चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने चुप्पी साधे रखी। पिछले दिनों एक इंटरव्यू में थरूर ने कहा था कि उन्होंने चुनाव लड़ने के बारे में अभी सोचा नहीं है। वहीं, विदेश से लौटने के बाद सोनिया गांधी पार्टी के नेताओं से मिल रहीहैं। सोनिया गांधी से आज शशि थरूर के अलावा, सांसद दीपेंद्र हुड्डा, बॉक्सर विजेंदर, मध्य प्रदेश के नए कांग्रेस प्रभारी जेपी अग्रवाल और झारखंड कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे नेमुलाकात की।गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए अधिसूचना 22 सितंबर को जारी की जाएगी और नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 24 से 30 सितंबर तक चलेगी। नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 08 अक्टूबर है। एक से अधिक उम्मीदवार होने पर 17 अक्टूबर को वोटिंग होगी और नतीजे 19 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटचीन का 1 करोड़ से अधिक रोजगार सृजन का लक्ष्य, आर्थिक मंदी के बावजूद शहरी नागरिकों को मिलेगी नौकरी****** चीन ने इस साल शहरी नागरिकों के लिए आर्थिक मंदी के बावजूद 1.1 करोड़ नई नौकरियों के सृजन का लक्ष्य तय किया है। ‘पीपुल्स डेली’ की रिपोर्ट के अनुसार, यह कदम देश की आर्थिक वृद्धि को मध्यम से उच्च गति की ओर जारी रखने के लिए लिया गया है।रेनमिन यूनिवर्सिटी ऑफ चाइना के प्राध्यपाक झेंग गोंगचेंग ने कहा, “पिछले साल चीन ने 1.314 करोड़ शहरी रोजगारों का सृजन किया था और चीन को इस साल के लक्ष्य को भी हासिल कर लेना चाहिए।” उन्होंने कहा कि सेवा क्षेत्र और अधिक नौकरियों को पैदा कर सकता है।रुपएऔरइससेछोटेनोटोंकीसप्लाईपरजोरबाजारसेगायबहोरहे2हजाररुपएकेनोटCongress Leader leaving Party: गुलाम नबी से पहले ये दिग्गज नेता भी छोड़ चुके हैं कांग्रेस, जानें क्यों पार्टी से सभी का भंग हो रहा मोह******Highlights देश में करीब 60 वर्षों तक सत्ता के शीर्ष पर रही कांग्रेस से एक के बाद दिग्गज नेता पार्टी छोड़कर जा रहे हैं। इससे पीएम मोदी का कांग्रेस मुक्त भारत बनानेका नारा सच साबित होता दिख रहा है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और कई बार केंद्र में मंत्री रहे वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने भी अब कांग्रेस पार्टी को अलविदा कह दिया है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि कांग्रेस में सबकुछ अच्छा नहीं चल रहा और पार्टीबेहद मुश्किल दौर से गुजर रही है। गुलाम नबी से पहले वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से अब तक दर्जनों कांग्रेसी नेता पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। ज्यादातर नेताओं ने भाजपा का ही दामन थामा है। इससे कांग्रेस पार्टी की लगातार दुर्गति हो रही है। हैरानी की बात तो यह है कि कांग्रेस पार्टी में रहकर लगभग अपनी उम्र गुजार देनेवाले दिग्गज कांग्रेसी भी पार्टी को टाटा कर रहे हैं। इससे पार्टी का अस्तित्व लगातार खतरे में पड़ता जा रहा है। साथ ही नेतृत्व पर गंभीर सवाल खड़ेहो रहेहैं। आखिर कुछ तोवजह है कि एक के बाद एक लगातार वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं का पार्टी से मोह भंग हो रहा है।आपको बता दें कि गुलाम नबी आजाद ने ऐसे वक्त में कांग्रेस पार्टी को अलविदा कहा है जब पार्टी में राष्ट्रीय अध्यक्ष ढूंढ़ने की कवायद तेजी से चल रही है। इस बीच में अंदर से छन-छन के खबरें आती रही हैं कि एक धड़ा राहुल गांधी को दोबारा पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की कोशिश कर रहा है। कहीं गुलाम के आजाद होने की वजह गांधी परिवार का लगातार पार्टी पर कब्जा बने रहना तो नहीं है। आखिर ऐसा क्या हो गया कि कांग्रेस में इंदिरा, राजीव, संजय और सोनिया गांधी के करीबी रहे गुलाम नबी आजाद ने अचानक पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। पार्टी में कुछ तो गड़बड़ जरूर चल रहा है। गुलाम नबी आजाद कांग्रेस नेतृत्व से नाराज चल रहे प्रमुख जी-23 नेताओं में शामिल थे। वह पहले भी कई बार पार्टी के आलाकमान और नेतृत्व पर सवाल उठा चुके हैं।उनसे पहले किन-किन बड़े दिग्गज कांग्रेसियों ने पार्टी को अलविदा कहा है आइए वह भी आपको बताते हैं।कई बार केंद्र में मंत्री रहे और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील दिग्गज कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल भी अभी कुछ माह पहले ही पार्टी को अलविदा कह चुके हैं। वह जी-23ग्रुप के प्रमुख नेताओं में थे। पंजाब में कई बार कांग्रेस सरकार बनने पर मुख्यमंत्री रहे। राहुल गांधी से विवाद के चलते वर्ष 2022 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी छोड़ दी और कांग्रेस को पंजाब में करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा।मध्य प्रदेश की सियासत में बड़ा कद रखने वाले और कभी राहुल गांधी के सबसे करीबी रहे कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी वर्ष 2021 में पार्टी में अंदरूनी कलह के चलते भाजपा में शामिल हो चुके हैं। अब वह मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं।राहुल गांधी के बेहद करीबी कहे जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे जितिन प्रसाद भी कांग्रेस को अलविदा कह चुके हैं। करीब 32 वर्षों तक कांग्रेस में रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने भी यूपी चुनाव से पहले पार्टी का दामन छोड़ दिया। वह भाजपा में शामिल हो गए। यूपी सरकार में मंत्री हैं। कांग्रेस के दिग्गज नेता तरुण गोगोई के सबसे करीबी रहे हिमंत बिस्वा सरमा ने 2015 में कांग्रेस को छोड़ दिया था। इसके बाद वह भाजपा में शामिल हो गए थे। वर्तमान में वह भाजपा नीत सरकार में असम के मुख्यमंत्री हैं। मणिपुर से कांग्रेस विधायक रहे एन बीरेन सिंह ने भी वर्ष 2017 में कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। भाजपा में शामिल हो गए। वहां भाजपा सरकार बनने पर मुख्यमंत्री हुए। अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की सरकार में मुख्यमंत्री रहे पेमा खांडू ने भी भाजपा का दामन थाम लिया। अब वहां भाजपा सरकार में मुख्यमंत्री हैं। दिग्गज कांग्रेसी नेता पीसी चाको भी कांग्रेस छोड़कर शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) में शामिल हो गए।पूर्व केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ नेता जयंती नटराजन ने वर्ष 2015 में ही कांग्रेस पार्टी छोड़ दी थी। उन्होंने राहुल गांधी समेत अन्य कांग्रेसियों पर काफी आरोप भी लगाए थे।यूपी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे जीके वासन ने 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद ही कांग्रेस को टाटा कर दिया था। उन्होंने भी कांग्रेस के आलाकमान पर तमिलनाडु की कांग्रेस इकाई की अनदेखी का आरोप मढ़ा था। सोनिया गांधी के बेहद करीबी रहे टॉम वडक्कन ने भी पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक के बाद कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। उनका स्टैंड इस मसले पर पार्टी से अलग था। महाराष्ट्रमें दिग्गज कांग्रेसियों में गिने जाने वाले रंजीत देशमुख विलासराव सरकार में मंत्री रहे। उन्होंने भी कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया था। हरियाणा के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता चौधरी वीरेंद्र सिंह ने वर्ष 2014 में ही कांग्रेस को छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। फिर मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री बने। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष रह चुकीं रीता बहुगुणा जोशी ने वर्ष 2016 में कांग्रेस छोडड़कर भाजपा में शामिल हो गईं। 2017 में योगी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री भी रहीं। उनके पिता स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा भी दिग्गज कांग्रेसी थे और यूपी के लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहे। अभिनेत्री उर्मिला मतोंडकर ने सिर्फ पांच महीने ही कांग्रेस पार्टी को अलविदा कह दिया था। लंबे समय तक कांग्रेस की ओर से गोवा के मुख्यमंत्री रहे। वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले ही कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद वह तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। मणिपुर के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष गोविंददास कौंथोजम ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर हाल ही में भाजपा ज्वाइन कर लिया है।कांग्रेस पार्टी के दिल्ली के दिग्गज नेता और सीएम चेहरा रहे अजय माकन भी पार्टी को अलविदा कह चुके हैं।उत्तराखंड के पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हरक सिंह रावत भी कांग्रेस पार्टी छोड़ चुके हैं।गुजरात के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व मुख्यमंत्री रहे शंकर सिंह वाघेला भी कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं।पूर्व कांग्रेसी नेता रहे अखिलेश सिंह की पुत्री और रायबरेलवी की सदर सीट से विधायक अदिति सिंह ने वर्ष 2022 में यूपी विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा का दामन थाम लिया था। उन्होंने प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गांधी पर गंभीर आरोप लगाए थे। यूपी से कांग्रेस के नेता और राहुल गांधी के करीबी इमरान मसूद ने वर्ष 2022 में पार्टी को अलविदा कह दिया। कांग्रेस पंजाब इकाई के प्रमुख सुनील जाखड़ ने भी पार्टी हाईकमान पर चापलूसों और चुगलखोरों से घिरा होने का आरोप लगाकर इस्तीफा दे दिया था।युवा कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने भी कुछ माह पहले कांग्रेस छोड़ दिया था। इसके बाद वह भाजपा में शामिल हो गए। पार्टी नेतृत्व और राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा था।पूर्व केंद्रीय मंत्री आश्वनी कुमार करीब 40 वर्ष तक कांग्रेस में रहे। इसके बाद उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इस प्रकार दर्जनों अन्य कांग्रेसी भी पार्टी छोड़ चुके हैं।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 07:18
उद्धरण 1 इमारत
विधानसभा चुनाव 2018: मध्य प्रदेश में आज थम जाएगा चुनाव प्रचार, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम****** में को होने जा रहे के लिए के अंतिम दौर में उम्मीदवारों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। गौरतलब है कि सूबे में सोमवार शाम को 5 बजे प्रचार थम जाएगा, इसलिए चुनाव लड़ रहे लोगों के पास कोताही करने का समय नहीं है। वहीं, दूसरी तरफ प्रशासन ने चुनाव को शांतिपूर्वक संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए है। केंद्रीय सुरक्षाबलों की 650 कंपनियां तैनात की गई है, वहीं सुरक्षा के लिए हेलिकॉप्टर का भी सहारा लिया जा रहा है।मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, विधानसभा चुनाव के लिए 28 नवंबर को होने वाले मतदान समाप्ति के 48 घंटे पहले यानी 26 नवंबर की शाम 5 बजे चुनाव प्रचार थम जाएगा। इसके बाद राजनीतिक दल केवल डोर टू डोर प्रचार कर सकेंगे। लाउडस्पीकर अथवा किसी भी प्रकार के ध्वनि विस्तारक यंत्र का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा। आधिकारिक जानकारी के अनुसार, चुनाव में कानून एवं शांति व्यवस्था के लिए और शांतिपूर्ण मतदान के उद्देश्य से केंद्रीय सुरक्षाबलों की 650 कंपनियां तैनात की गई हैं।रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसके अलावा प्रदेश के बाहर से आए 33 हजार होमगार्ड भी निर्वाचन ड्यूटी में तैनात किए जाएंगे। बालाघाट जिले में केंद्रीय सुरक्षाबलों की 76 कंपनियां, भिंड में 24, छिंदवाड़ा और मुरैना में 19-19, सागर और भोपाल में 18-18 कंपनियां तैनात की गई हैं। प्रदेश के 85 प्रतिशत पुलिस बल और होमगार्ड के 90 प्रतिशत बल चुनाव कार्य में तैनात किए गए हैं। सुरक्षा व्यवस्था के लिये बालाघाट, मंडला और भोपाल में एक-एक हेलीकॉप्टर तैनात रहेंगे। संचार व्यवस्था बेहतर करने के लिए 20 सेटेलाइट फोन एवं 28 हजार वायरलेस सेट चुनाव में उपयोग किए जा रहे हैं।
2022-10-01 06:11
उद्धरण 2 इमारत
Vedanta Foxconn : महाराष्ट्र की जगह गुजरात में क्यों लगा सेमीकंडक्टर संयंत्र? वेदांता के अनिल अग्रवाल ने दिया जवाब******वेदांता समूह ने इसी सप्ताह फॉक्सकॉन के साथ साझेदारी में अहमदाबाद के निकट एक सेमीकंडक्टर प्लांट लगाने की घोषणा की है। लेकिन इस घोषणा के साथ ही विवाद भी जुड़ गया है। महाराष्ट्र की राजनीतिक पार्टियों ने आरोप लगाया है कि यह प्लांट पहले उनके राज्य में प्रस्तावित था, लेकिन सत्ता परिवर्तन के साथ ही इसे गुजरात स्थानांतरित कर दिया गया।वेदांता समूह के प्रमुख अनिल अग्रवाल ने सेमीकंडक्टर चिप विनिर्माण के प्रस्तावित संयंत्र को महाराष्ट्र से गुजरात ले जाने पर पैदा हुए विवाद के बीच बृहस्पतिवार को कहा कि इस संयंत्र की जगह का फैसला पूरी तरह पेशेवर और स्वतंत्र परामर्श के आधार पर किया गया है। अग्रवाल ने अपने कई ट्वीट में इस संयंत्र को स्थानांतरित करने से जुड़े विवाद पर स्थिति स्पष्ट करने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि भले ही चिप विनिर्माण संयंत्र को गुजरात ले जाने का फैसला किया गया है लेकिन उनका समूह महाराष्ट्र में भी निवेश के लिए प्रतिबद्ध है।वेदांता और उसकी साझेदार फॉक्सकॉन के सेमीकंडक्टर चिप संयंत्र पर करीब 1.52 लाख करोड़ रुपये का निवेश करने जा रही है। अग्रवाल ने इस संदर्भ में अपनी स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा, ‘‘वेदांता-फॉक्सकॉन गठजोड़ करोड़ों डॉलर वाले इस निवेश के लिए माकूल जगह का आकलन पेशेवर ढंग से करता रहा है। यह एक वैज्ञानिक एवं वित्तीय प्रक्रिया है जिसमें कई साल भी लग जाते हैं। हमने यह प्रक्रिया दो साल पहले शुरू की थी।’’अग्रवाल ने कहा कि हमने गुजरात, कर्नाटक और महाराष्ट्र जैसे कुछ राज्यों का चयन किया और पिछले दो साल से हम इनमें से हरेक राज्य की सरकार के साथ बात करते रहे हैं।’’ वेदांता समूह के प्रमुख ने कहा कि गुजरात का अंतिम रूप से चयन कंपनी की उम्मीदों पर खरा उतरने की वजह से किया गया।अनिल अग्रवाल ने कहा कि समूह 1,000 एकड़ जमीन मुफ्त में चाहता था जबकि पानी एवं बिजली को भी रियायती दरों पर मुहैया कराने की मांग रखी गई थी। उन्होंने कहा, ‘‘हमने अपनी अपेक्षाएं पूरी होने पर कुछ महीने पहले ही गुजरात को इस संयंत्र के लिए चुन लिया था। लेकिन जुलाई में महाराष्ट्र सरकार ने प्रतिस्पर्द्धी पेशकश कर अन्य राज्यों को पीछे छोड़ने की कोशिश की। लेकिन हमें यह संयंत्र एक ही जगह लगाना है लिहाजा पेशेवर एवं स्वतंत्र परामर्श के आधार पर हमने गुजरात को ही अंतिम तौर पर चुना।’’
2022-10-01 04:51
उद्धरण 3 इमारत
भारतीय आर्थिक सेवा और भारतीय सांख्यिकी सेवा की लिखित परीक्षा 2021 के परिणाम जारी******संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा जुलाई 2021 में आयोजित भारतीय आर्थिक सेवा/भारतीय सांख्यिकी सेवा की लिखित परीक्षा 2021 के परिणाम जारी कर दिए गए हैं। भारतीय आर्थिक सेवा की लिखित परीक्षा में 32 उम्मीदवार पास हुए हैं जबकि भारतीय सांख्यिकी सेवा की लिखित परीक्षा में 24 उम्मीदवार पास हुए हैं। लिखित परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार/व्यक्तित्व परीक्षण के लिए बुलाया गया है। उम्मीदवारों को व्यक्तित्व परीक्षण के समय अपनी आयु, शैक्षणिक योग्यता, समुदाय, शारीरिक अक्षमता (जिन भी मामलों में लागू हो) आदि के अपने दावे के समर्थन में मूल प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने होंगे।परीक्षा की नियमावली के अनुसार, इन सभी उम्मीदवारों से यह अपेक्षित है कि वे आयोग की वेबसाइट upsconline.nic.in पर उपलब्‍ध विस्तृत आवेदन फॉर्म (डीएएफ) को भरें। यह विस्तृत आवेदन फॉर्म (डीएएफ) आयोग की वेबसाइट पर 15.09.2021 से 28.09.2021 की शाम 6.00 बजे तक उपलब्ध रहेगा। सफल घोषित किए गए उम्मीदवारों को ऑनलाइन विस्तृत आवेदन प्रपत्र भरने से पहले वेबसाइट के संगत पृष्‍ठ पर अपने को रजिस्टर करना होगा।लिखित परीक्षा में पास हुआ कोई उम्‍मीदवार, व्‍यक्तित्‍व परीक्षण के लिए भारतीय आर्थिक सेवा/ भारतीय सांख्यिकी सेवा परीक्षा 2021 हेतु अपनी उम्‍मीदवारी के समर्थन में यदि कोई एक अथवा सभी मूल दस्‍तावेज लाने में विफल रहता है तो उसे व्‍यक्तित्‍व परीक्षण बोर्ड के समक्ष उपस्थित होने की अनुमति नहीं दी जाएगी और उसे यात्रा भत्‍ते (टीए) का भुगतान भी नहीं किया जाएगा।व्यक्तित्व परीक्षण के लिए पास हुए उम्मीदवारों के साक्षात्कार का कार्यक्रम, आयोग की वेबसाइट पर यथासमय प्रदर्शित किया जाएगा। हालांकि, साक्षात्कार की सही तारीख की सूचना उम्मीदवारों को ई-समन पत्र के माध्‍यम से प्रदान की जाएगी। उम्मीदवार इस संबंध में आगे की जानकारी के लिए आयोग की वेबसाइट () देखते रहें।उम्मीदवार अपनी परीक्षा/परिणाम से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी/स्पष्‍टीकरण के लिए (011)-23385271/23381125/23098543 पर कार्य दिवसों में संपर्क कर सकते हैं। इन टेलीफोन नंबर्स पर सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे के बीच बात की जा सकती है।
वापसी