नई पोस्ट करें

Donald Trump: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप की अपील खारिज, न्यूयॉर्क दीवानी जांच में देनी होगी गवाही

2022-10-01 07:08:32 858

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीlockdown violation: यूपी के विधायक अमनमणि त्रिपाठी समेत 12 अन्य के खिलाफ उत्तराखंड में मुकदमा, बाद में जमानत पर छोड़ा गया****** बदरीनाथ-केदारनाथ की यात्रा पर जा रहे उत्तर प्रदेश के विधायक अमनमणि के खिलाफ उत्तराखंड पुलिस ने लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने के मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार, उत्तर प्रदेश के विधायक अमनमणि त्रिपाठी और उनके सहयोगियों को ऋषिकेश में लॉकडाउन के उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार किया गया और बाद में जमानत पर छोड़ दिया गया।उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक (अपराध एवं कानून—व्यवस्था) अशोक कुमार ने बताया कि त्रिपाठी और उनके 10 साथियों के खिलाफ का उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम और महामारी अधिनियम की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि रविवार रात टिहरी जिले के मुनि की रेती पुलिस थाने में विधायक और उनके साथियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और उन्हें 41 ए का नोटिस जारी करने के बाद वापस जाने दिया गया। इससे पहले, अमनमणि अपने 10 साथियों के साथ तीन गाड़ियों के काफिले के साथ रविवार को बदरीनाथ जा रहे थे लेकिन चमोली जिला प्रशासन ने उन्हें रास्ते में ही रोक लिया।कारों के काफिले के चमोली की सीमा में पहुंचे जहां गौचर स्थित कोरोना जांच चौकी पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 14 दिन की पृथक-वास की अवधि पूरी न किए जाने पर जिले में प्रवेश न करने के नियमों का हवाला देते हुए उन्हें रोक दिया। लेकिन उत्तराखंड के अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश तथा देहरादून के जिलाधिकारी की अनुमति का हवाला देकर त्रिपाठी वहां से आगे निकल गए। हांलांकि, बाद में पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने उन्हें कर्णप्रयाग के पास अवरोधक लगा कर रोका और लौटा दिया।कर्णप्रयाग के उपजिलाधिकारी वैभव गुप्ता ने बताया कि बदरीनाथ मंदिर के कपाट अभी बंद होने के कारण विधायक त्रिपाठी और उनके दल को कर्णप्रयाग से वापस भेजा गया। गौचर स्थित स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार, अमन मणि और उनके दल ने कोटद्वार से उत्तराखंड में प्रवेश किया और पौड़ी, श्रीनगर तथा रूद्रप्रयाग से होते हुए चमोली की सीमा में प्रवेश किया था। कोरोना संकट के चलते लागू लॉकडाउन के कारण बदरीनाथ धाम के कपाट खोले जाने की तिथि 30 अप्रैल से 15 दिन आगे खिसकाकर 15 मई कर दी गयी है जबकि गढ़वाल हिमालय के चारधामों में से तीन धामों में कपाट खोले जाने के बावजूद तीर्थयात्रियों को आने की अनुमति नहीं है। अमनमणि चर्चित मधुमिता शुक्ला हत्याकांड में सजा काट रहे पूर्व विधायक एवं बाहुबली नेता अमरमणि त्रिपाठी के बेटे हैं।

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीTrinamool insulted Kali: 'तृणमूल ने किया मां काली का अपमान, राष्ट्रीय प्रतीक का भी अनादर'******Highlights केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस द्वारा नए संसद भवन के ऊपर राष्ट्रीय प्रतीक की आलोचना पर पलटवार करते हुए कहा कि यह ऐसी पार्टी की तरफ से अप्रत्याशित नहीं है जो देवी काली का अपमान करती है और संविधान के प्रति बहुत सम्मान का भाव नहीं रखती है। इससे पहले तृणमूल कांग्रेस सांसद जवाहर सरकार ने दावा किया कि मूल राष्ट्रीय प्रतीक में अशोक के शेर 'सुंदर' थे, जबकि नए संसद भवन के ऊपर बने प्रतीक में शेर 'उग्र' दिख रहे हैं।अशोक की लाट में चित्रित शेरों का अपमानईरानी ने हावड़ा में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'जिन नेताओं ने सालों से संविधान की या तो अवहेलना की या उन्हें त्याग दिया है, उनसे राष्ट्रीय प्रतीक के विरोध की ही उम्मीद है। आज वे राष्ट्रीय प्रतीक से डरते हैं, जो हमारे देश का गौरव है। देवी काली का अपमान करने वाली पार्टी और उसके नेताओं से यह अप्रत्याशित नहीं है कि वे राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान करें।' जवाहर सरकार ने राष्ट्रीय प्रतीक के दो अलग-अलग चित्रों को साझा करते हुए ट्वीट किया, 'यह हमारे राष्ट्रीय प्रतीक का, अशोक की लाट में चित्रित शानदार शेरों का अपमान है। बाईं ओर मूल चित्र है। मोहक और राजसी शान वाले शेरों का। दाईं तरफ मोदी वाले राष्ट्रीय प्रतीक का चित्र है जिसे नये संसद भवन की छत पर लगाया गया है। इसमें गुर्राते हुए, अनावश्यक रूप से उग्र और बेडौल शेरों का चित्रण है। शर्मनाक! इसे तत्काल बदलिए।'विपक्षी नेताओं से सलाह नहीं ली गईस्मृति ईरानी के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए तृणमूल ने राष्ट्रीय प्रतीक के बारे में अपने सांसदों की बातों का समर्थन किया। वरिष्ठ मंत्री शशि पांजा ने कहा, 'यह एक आपदा है। चार सिंह, जिन्हें शांत और राजसी होने चाहिए, उग्र और बेडौल दिखाई देते हैं। ऐसा तब होता है जब विपक्षी नेताओं को विश्वास में नहीं लिया जाता और सलाह नहीं ली जाती है। यह सहकारी संघवाद की भावना के खिलाफ है।'अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीCentral Vista Project: सेंट्रल एवेन्यू 80 फीसदी बनकर तैयार, जानिए नए संसद भवन की खासियत******Highlightsकेंद्र सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा का सेंट्रल एवेन्यू 80 फीसदी बनकर तैयार हो चुका है। सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में सेंट्रल एवेन्यू एरिया में पहले के मुकाबले अब 40 हजार स्क्वॉयर मीटर ग्रीन एरिया बढ़ाया गया है। पहले राजपथ के दोनों तरफ करीब 94 हजार स्क्वॉयर मीटर एरिया में लाल बजरी होती थी अब वहां पर लाल स्टोन की टाइल्स लगाई गई है। अब राजपथ की चौड़ाई 350 मीटर हो गई है, पहले ये कम होती थी। वहीं इसकी लम्बाई की बात करें तो वो राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक करीब ढाई किलोमीटर है।सेंट्रल विस्टा में राजपथ के दोनों तरफ अब 16 किलोमीटर का वॉक-वे बनाया गया है। यह वॉक-वे राजपथ के दोनों तरफ बनी कैनाल के साथ बनाया गया है। पहले जब पर्यटक या दिल्ली के लोग यहां घूमने के लिए आते थे तो राजपथ के आसपास बैठने के लिए एक बेंच भी नहीं होती था लेकिन अब राजपथ के दोनों तरफ पर्यटकों के लिए 422 बैंच बनाए गए हैं।राजपथ के दोनों तरफ बरसात में पहले पानी भर जाता था लेकिन अब वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के जरिए उस पानी को इकट्ठा किया जाएगा और समय-समय पर उसी पानी का छिड़काव ऑटोमेटिक मशीनों के द्वारा राजपथ के दोनों तरफ ग्राउंड में लगी घास पर छिड़काव करने के लिए किया जाएगा। पानी का छिड़काव करने के लिए 6 हजार स्प्रिंकेल्स लगाए गए हैं। राजपथ और इंडिया गेट के आसपास बनी कैनाल में गंदा पानी खट्ट हो जाता था और पहले इनके नालों की स्थिति बदतर हो चुकी थी लेकिन अब इनके नालों को बेहद खूबसूरत तरीके से रीडेवलेप किया गया है और इनके नालों के ऊपर कई छोटे-छोटे ब्रिज बनाए गए हैं।सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के पहले फेस में 500 से ज्यादा गाड़ियों को पार करने की सुविधा की गई है और जब इसका दूसरा फेस बनकर तैयार होगा तो पार्किंग का स्पेस बढ़कर डबल हो जाएगा। सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में 4 अंडर पास बनाए गए हैं, टॉयलेट्स की सुविधा की गई है। इसके साथ ही इंडिया गेट के पास स्टेप गार्डन बनाए गए हैं। सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत 1333 स्मार्ट लाइट पोल, 114 स्मार्ट साइन बोर्ड बनाए गए हैं।वहीं शनिवार को केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि सेंट्रल विस्टा एवेन्यू अपने नए प्रभाव के साथ पूरी तरह से तैयार है। सेंट्रल विस्टा एवेन्यू में पुनर्विकास के बाद हरित कवरेज को बढ़ाया गया है। पुरी ने कहा कि शीतकालीन सत्र से पहले नई संसद का निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाएगा। बता दें कि, सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत नए संसद भवन की नींव साल 2020 में रखी गई थी, इसके निर्माण कार्य में पहले करीब 971 करोड़ रुपए के खर्च का लक्ष्य रखा गया था लेकिन अब यह खर्च 29 फीसदी बढ़कर 1250 करोड़ से अधिक हो सकता है। सरकार ने सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के पूरा होने की डेडलाइन अक्टूबर 2022 रखी है। सरकार चाहती है कि नए संसद भवन में शीतकालीन सत्र आयोजित किया जाए।

Donald Trump: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप की अपील खारिज, न्यूयॉर्क दीवानी जांच में देनी होगी गवाही

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीAsia Cup 2022: टीम इंडिया को सुपर 4 में पहुंचते ही लगा बड़ा झटका, स्टार ऑलराउंडर हुआ बाहर******Highlightsपाकिस्तान के खिलाफ रविवार को संभावित अहम मुकाबले से पहले भारतीय टीम को बड़ा झटका लगा है। टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा इंजरी के चलते टीम से बाहर हो गए हैं। बीसीसीआई के मुताबिक जडेजा को दाहिने घुटने में चोट लगी है जिसके चलते वे एशिया कप टूर्नामेंट में आगे नहीं खेल सकेंगे। सौराष्ट्र के चोटिल खिलाड़ी की जगह गुजरात के ऑलराउंडर अक्षर पटेल को टीम में जगह दी गई है।बीसीसीआई ने जडेजा के चोटिल होने की खबर को ट्विटर पर शेयर किया। भारतीय बोर्ड ने अपने आधिकारिक मीडिया एडवाइजरी में लिखा, “एशिया कप स्क्वॉड में अक्षर पटेल ले रहे हैं रवींद्र जडेजा की जगह। ऑल इंडिया सीनियर सेलेक्शन कमिटी ने जारी एशिया कप में अक्षर पटेल को रवींद्र जडेजा का रिप्लेसमेंट बनाया है। जडेजा को दाहिने घुटने में चोट लगी है और वे पूरे टूर्नामेंट से बाहर हो चुके हैं। फिलहाल वे बीसीसीआई मेडिकल टीम की निगरानी में हैं। उनके रिप्लेसमेंट, अक्षर पटेल को पहले स्क्वॉड में स्टैंडबाय के रूप में शामिल किया गया था और वे जल्द दुबई में टीम को ज्वॉइन करेंगे।” जडेजा ने पाकिस्तान के खिलाफ सूर्यकुमार यादव और हार्दिक पांड्या से ऊपर आकर चौथे नंबर पर बल्लेबाजी की थी। उन्होंने स्पिनर्स को अटैक पर लगाकर भारत को घेरने की फिराक में लगे पाकिस्तान के चक्रव्यूह को तोड़ा था। जडेजा ने मुश्किल परिस्थिति में क्रीज पर आकर 29 गेंदों पर 35 रन की पारी खेलकर आर्चराइवल्स के खिलाफ भारत की जीत की बुनियाद तैयार करने के साथ इमारत भी खड़ी की थी। जडेजा ने इस मैच में बेहद किफायती गेंदबाजी भी की थी। हालांकि उन्हें कोई विकेट नहीं मिला पर उन्होंने 2 ओवर में सिर्फ 11 रन दिए थे।ऐसे में, संभावना के मुताबिक पाकिस्तान के सुपर 4 में पहुंचने पर रविवार 4 सितंबर को भारत का उससे मुकाबला होगा। इस संभावित महामुकाबले में रोहित शर्मा की कप्तानी वाली भारतीय टीम को अपने इस स्टार ऑलराउंडर की कमी काफी खल सकती है। रोहित शर्मा (कप्तान), केएल राहुल (उप-कप्तान), विराट कोहली, सूर्यकुमार यादव, दीपक हुड्डा, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), दिनेश कार्तिक (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, अक्षर पटेल, आर अश्विन, युजवेंद्र चहल, रवि बिश्नोई, भुवनेश्वर कुमार, अर्शदीप सिंह, आवेश खानअमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीMI vs CKS Dream11 Team: इन खिलाड़ियों पर लगा सकते हैं दांव, यह हैं संभावित Playing 11******इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2022 के 59वें मैच में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम वानखेड़े स्टेडियम में मुंबई इंडियंस का सामना करेगी। दोनों ही टीमों के लिए ये एक औपचारिक मैच होगा क्योंकि चेन्नई पाइंट्स टेबल में 9वें और मुंबई 10वें स्थान पर है। पूर्व कप्तान रविंद्र जडेजा चोट के कारण इस सीजन के बाकी मैचों से चेन्नई का साथ छोड़ चुके हैं। वहीं, मुंबई की टीम भी अपने खिलाड़ियों के लचर प्रदर्शन से परेशान है। ऐसे में माही की कप्तानी वाली चेन्नई और रोहित की कप्तानी वाली मुंबई के बीच रोमांचक होने की उम्मीद हैं। आइए जानते हैं आज के मुकाबले की बेस्ट ड्रीम इलेवन टीम....ईशान किशन, ऋतुराज गायकवाड़, डेवोन कॉनवे (C), तिलक वर्मा, रोहित शर्मा, मोइन अली (VC), डेनियल सैम्स, जसप्रीत बुमराह, ड्वेन ब्रावो, मुकेश चौधरी, महेश थीक्षाना।रुतुराज गायकवाड़, डेवान कॉनवे, रॉबिन उथप्पा, अंबाती रायुडू, मोइन अली, शिवम दुबे, एमएस धोनी (कप्तान और विकेटकीपर), ड्वेन ब्रावो, सिमरजीत सिंह, महेश थीक्षाना, मुकेश चौधरीईशान किशन (wk), रोहित शर्मा (c), तिलक वर्मा, टिम डेविड, कीरोन पोलार्ड, रमनदीप सिंह, डेनियल सैम्स, मुरुगन अश्विन, जसप्रीत बुमराह, रिले मेरेडिथ, कुमार कार्तिकेयअमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीसौरव गांगुली ने राहुल द्रविड़ को बताया गुणी कोच, रवि शास्त्री से तुलना करने पर क्या बोले दादा******भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट टीम के हेड कोच की तारीफ की है। उनका मानना है कि उनके पूर्व साथी क्रिकेटर राहुल द्रविड़ में भारतीय कोच के रूप में सफल होने के लिए सभी गुण हैं। गांगुली को लगता है कि द्रविड़ में ‘‘प्रखरता, सतर्कता और पेशेवरपन’’ जैसे गुण हैं जिससे उन्होंने भारतीय कोच के रूप में सफल होना चाहिए।भारत के पूर्व कप्तान ने शनिवार को कोलकाता में आयोजित एक प्रचार कार्यक्रम से इतर कहा, ‘‘वह (द्रविड़) अपने खेल के दिनों की तरह ही प्रखर, सतर्क और पेशेवर हैं। अंतर केवल इतना है कि अब उन्हें भारत के लिए नंबर तीन पर बल्लेबाजी करने की ज़रूरत नहीं है, जिसमें उन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों का सामना करना पड़ा था और उन्होंने लंबे समय तक अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभायी।’’उन्होंने आगे कहा, ‘‘कोच के रूप में भी वह शानदार भूमिका निभाएंगे क्योंकि वह निष्ठावान हैं और उनके पास कौशल है।’’ बीसीसीआई प्रमुख होने के कारण द्रविड़ को भारतीय कोच नियुक्त करने में गांगुली की भूमिका अहम रही। उन्होंने रवि शास्त्री की जगह ली है। गांगुली ने कहा, ‘‘प्रत्येक की तरह वह भी गलतियां करेंगे, लेकिन जब तक आप सही काम करने की कोशिश करते हैं, तब तक आप दूसरों की तुलना में अधिक सफलता हासिल करेंगे।’’गांगुली ने हालांकि द्रविड़ की तुलना उनके पूर्ववर्ती शास्त्री से करने से इनकार कर दिया। गांगुली ने कहा, ‘‘उनका व्यक्तित्व अलग है। एक हमेशा चर्चा में रहता है जो उसका मजबूत पक्ष है जबकि दूसरा सर्वकालिक महान खिलाड़ी होने के बावजूद चुपचाप काम करेगा। दो व्यक्ति एक ही तरह से सफल नहीं हो सकते हैं।’’राहुल द्रविड़ ने पिछले साल न्यूजीलैंड सीरीज से भारत के हेड कोच का पद संभाला। साउथ अफ्रीका में मिली हार के अलावा सभी घरेलू सीरीज भारतीय टीम ने उनके प्रतिनिधित्व में जीती हैं। न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने जीत से आगाज किया फिर इसके बाद साउथ अफ्रीका से लौटने पर घरेलू सीरीज में वेस्टइंडीज और श्रीलंका को करारी शिकस्त दी। ऐसे में अभी तक स्वदेश में तो उनका कार्यकाल शानदार रहा है लेकिन शास्त्री से अगर उनकी तुलना करनी है तो मौजूदा हेड कोच को विदेश में खुद को साबित करना होगा।सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ ने लंबे समय तक एक दूसरे के साथ क्रिकेट खेला और भारतीय टीम को बुलंदियों तक पहुंचाया। 2003 वर्ल्ड कप, ऑस्ट्रेलिया में जाकर ऑस्ट्रेलिया को हराना, इन सभी मौकों पर गांगुली कप्तान थे और द्रविड़ उपकप्तान। ऐसे में यह जोड़ी इस वक्त खेल नहीं रही लेकिन मैनेजमेंट में एक साथ काम कर भारतीय क्रिकेट को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभा रही है।

Donald Trump: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप की अपील खारिज, न्यूयॉर्क दीवानी जांच में देनी होगी गवाही

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीअप्रैल 2019 तक एक लाख से अधिक भर्ती करेगा रेलवे****** बोर्ड के अध्यक्ष अश्वनी लोहानी नेकहा कि भारतीय रेल वे अगले साल मार्च - अप्रैल तक एक लाख से अधिक रिक्त पदों पर भर्ती का काम पूरा कर लेगा। लोहानी ने कहा कि रेलवे के पास लगभग 1.10 लाख रिक्त पदों के लिए लगभग 2.27 करोड़ आवेदन आये हैं , जिसका विज्ञापन इस साल की शुरुआत में दिया गया था।इन पदों के लिए परीक्षाएं सितंबर, अक्तूबर और नवंबर में कराई जायेगी। इनमें रेलवे सुरक्षा बल के पद भी शामिल हैं।उन्होंने संवाददाताओं को बताया, ‘‘मार्च-अप्रैल 2019 तक ये नियुक्तियां हो जाएगी। 10 जुलाई तक 2.27 करोड़ आवेदनों की छंटनी पूरी कर ली जाएगी। हम उनकी शारीरिक और मानसिक जांच दिसंबर-जनवरी तक पूरा कर लेंगे और मार्च तक उनकी नियुक्ति कर दी जाएगी।’’ इसके अलावामंगलवार कोरेलवे बोर्ड ने एक आदेश जारी किया है जिसके मुताबिक एसी डिब्बों में यात्रा करने वाले यात्रियों को जो फेस टॉवेल दिए जाते हैं उनकी जगह पर अब सस्ते , छोटे और एक बार इस्तेमाल योग्य नेपकिन दिए जाएंगे।रेलवे , यात्रियों के लिए यात्रा अनुभव को बेहतर बनाने पर ध्यान दे रहा है। इसी क्रम में कुछ महीने पहले रेलवे बोर्ड ने एसी डिब्बों में यात्रा करने वालों को नायलॉन के कंबल उपलब्ध कराने का सभी जोनों को आदेश दिया था और अब कॉटन के बिना बुनाई वाले फेस टॉवल देने को कहा है। फिलहाल फेस टॉवेल पर जो खर्च आता है वह प्रति टॉवेल 3.53 रुपए है। सभी रेलवे जोनों के महाप्रबंधकों को 26 जून को भेजे गए पत्र में बोर्ड ने कहा है कि नए नेपकिन पर खर्च कम आएगा क्योंकि उन्हें थोक में खरीदा जा सकता है और वह आकार में भी छोटे होंगे। एसी डिब्बों में यात्रा करने वालों के टिकट में बेडरोल की कीमत शामिल होगी।अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीBilkis Bano Gang Rape: बिल्कीस बानो मामले में सभी 11 दोषी हुए रिहा, 2008 में सुनाई गई थी आजीवन कारावास की सजा******Highlights गुजरात में गोधरा कांड के बाद 2002 में बिल्कीस बानो सामूहिक बलात्कार और उनके परिवार के सात लोगों की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे सभी 11 दोषी सोमवार को गोधरा उप-कारागार से रिहा हो गए। गुजरात सरकार ने अपनी क्षमा नीति के तहत इनकी रिहाई की मंजूरी दी। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। मुंबई में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की एक विशेष अदालत ने 11 दोषियों को बिल्कीस बानो के साथ सामूहिक बलात्कार और उनके परिवार के सात सदस्यों की हत्या करने के जुर्म में 21 जनवरी 2008 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। बाद में बंबई उच्च न्यायालय ने उनकी दोषसिद्धि को बरकरार रखा था। इन दोषियों ने 15 साल से अधिक कैद की सजा काट ली थी, जिसके बाद उनमें से एक दोषी ने समय से पहले रिहाई के लिए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था।क्षमा नीति के तहत हुई रिहाईपंचमहल के आयुक्त सुजल मायत्रा ने बताया कि उच्चतम न्यायालय ने गुजरात सरकार से उसकी सजा माफ करने के अनुरोध पर गौर करने का निर्देश दिया, जिसके बाद सरकार ने एक समिति का गठन किया था। मायत्रा ही समिति के प्रमुख थे। मायत्रा ने कहा, ‘‘कुछ महीने पहले गठित समिति ने सर्वसम्मति से मामले के सभी 11 दोषियों को क्षमा करने के पक्ष में निर्णय किया। राज्य सरकार को सिफारिश भेजी गई थी और कल हमें उनकी रिहाई के आदेश मिले।’’इस मामले में जिन 11 दोषियों को रहा किया गया है वे हैं-जसवंतभाई नाईगोविंदभाई नाईशैलेष भट्टराधेश्याम शाहबिपिन चन्द्र जोशीकेसरभाई वोहानियाप्रदीप मोरधियाबाकाभाई वोहानियाराजूभाई सोनीमितेश भट्टरमेश चंदानाशमशाद पठान ने किया विरोधइनकी रिहाई पर मानवाधिकार मामलों के अधिवक्ता शमशाद पठान ने सोमवार की रात कहा कि बिल्कीस बानो मामले से कम जघन्य और हल्के अपराध करने के जुर्म में बड़ी संख्या में लोग जेलों में बंद हैं और उन्हें कोई माफी नहीं मिल रही है। पठान ने कहा कि सरकार जब इस तरह के फैसले लेती है तो तंत्र पर से लोगों का भरोसा उठने लगता है। गौरतलब है कि तीन मार्च 2002 को गोधरा कांड के बाद हुए दंगों के दौरान दाहोद जिले के लिमखेड़ा तालुका के रंधिकपुर गांव में भीड़ ने बिल्कीस बानो के परिवार पर हमला किया था। अभियोजन के अनुसार, ‘‘बिल्कीस उस समय पांच महीने की गर्भवती थीं। उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था। इतना ही नहीं, उनके परिवार के सात सदस्यों की हत्या कर दी गई थी।’’ अदालत को बताया गया था कि छह अन्य सदस्य मौके से फरार हो गये थे। इस मामले के आरोपियों को 2004 में गिरफ्तार किया गया था।

Donald Trump: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप की अपील खारिज, न्यूयॉर्क दीवानी जांच में देनी होगी गवाही

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीMothers Day 2019: आपकी हर हरकत पर नजर रखते है मां के ये 7 जासूस, मां से बड़ा डिटेक्टिव कोई नहीं******नए जमाने की मां से ये उम्मीद करना कि मां को कुछ पता नहीं चलेगा, ये आपकी गलतफहमी है। दरअसल आपकी मां से बड़ा जासूस कोई है ही नहीं। नए जमाने की मां दोस्त भी है और पुलिस भी। उसके जासूस चप्पे चप्पे पर फैले हुए हुए हैं, आप गलती करें और उस तक खबर पहुंचे। खासकर जवान होते बच्चों को लेकरमां के पास एक पारखी नजर होती है जो पिता के पास शायद नहीं होती। इसके लिए वह कई लोगों का सहारा लेती है तो फिर आप भी जानें आखिर आपकी मां किन हथियार को अपना सहारा मानती है।पड़ोसी एक ऐसा शख्स है जो आपसे ज्यादा आपकी मां का सगा है। वो आपके बारे में हर खबर मां के कान में डाल देगा। बच्चा फला फ्लोर पर था, फलां लड़की थी...फलां जगह देखा। उसे आपके पल-पल भर की खबर रहती है। ऐसे में मां को आपकी खबर का न पता चले, यह तो हो ही नहीं सकता।- मोबाइल दूसरा जासूस है। कहने को तो ये आपके हाथ में है लेकिन कई बार रिमोट मां के हाथ में रहता है। मां अपने बच्चे के मोबाइल चोरी-छिपे किसी न किसी तरह से चेक ही कर लेती है। जिससे उसे पता चल जाता है कि आखिर उसका बच्चा किससे और कब बात करता है। आप कुछ पोर्न देख लें और अगले दिन मां चरित्र निर्माण पर ज्ञान दे ते समझ लें मां को पता चल गया।स्कूल में आप क्या कर रहे है। पढ़ाई में कैसे है? इस सभी के बारे में आपके क्लास टीचर से अच्छा तो कोई बता ही नहीं सकता है। इतना ही नहीं वो आपकी जानकारी से बाहर रहकर चोरी छिपे आपकी पर्सनल रिपोर्ट भी मां को दे देते हैं।- दोस्त आपका और जासूस मां का। बड़ी नाइंसाफी है। आपके बेस्ट फ्रेंड वो तोता है जिसके भीतर आपके सारे राज छिपे हैं और उस तोते की गरदन मां समय समय पर मरोड़ती रहती है। यानी अब तो दोस्त भी दोस्त न रहा।ये शख्स आपकी मां की आंख और कान बन चुका है। सोसाइटी गार्ड भी मां का एक ऐसा हथियार है जो बच्चों की पल पल की जानकारी मां को देता है। कभी गौर से देखिएगा आपको देखने के बाद वो जब मां से बात करता है तो उसकी आवाज प्राय धीमी होती है।ये तो जगत जासूस है। काम वाली बाई यानि की पूरी सोसाइटी की बिंदास खबरी। ऐसे में मां अपने बच्चे के बारे में न पता करें। ऐसा तो हो ही नहीं सकता है।मां के प्यार के आगे अपने भाई-बहन भी धोखा दे देते है। वह भी प्यार के आगे आपके ही खबरी बन जाते है। ऐसे में यहीं लगता है अपना सगा तो सगा ही नहीं रहा। यह तो दुनिया का दस्तूर है। जो कि ऐसे ही चलता रहेगा।

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीAkshay Kumar ने फिल्म इंडस्ट्री में पूरे किए 30 साल, 'पृथ्वीराज' का नया पोस्टर रिलीज******Highlights एक्टर अक्षय कुमार ने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में 30 साल पूरे कर लिए हैं और यश राज फिल्म्स ने एक नया 'पृथ्वीराज' पोस्टर बनाकर उनके इस उपलब्धि को शानदार तरीके से दिखाया है, जिसमें अभिनेता की हर एक फिल्म को दिखाया गया है। प्रोडक्शन हाउस द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में अक्षय को यह कहते हुए सुने जा सकते हैं कि: "यह मेरे दिमाग में भी नहीं आया कि यह गतिविधि सिनेमा में मेरे 30 साल पूरे होने का जश्न मनाने के लिए हो रही है! यह शानदार है कि मेरी पहली फिल्म सौगंध को 30 साल बीत चुके हैं!""मेरे फिल्मी करियर का पहला शॉट ऊटी में था और यह एक एक्शन शॉट था! इस भाव के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। यह वास्तव में खास है।"अक्षय की अगली फिल्म 'पृथ्वीराज' निडर और पराक्रमी सम्राट पृथ्वीराज चौहान के जीवन और वीरता पर आधारित है। वह उस महान योद्धा की भूमिका निभा रहे हैं, जिसने आक्रमणकारी के खिलाफ बहादुरी से लड़ाई लड़ी थी।फिल्म का निर्देशन डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी ने किया है, जो टेलीविजन महाकाव्य 'चाणक्य' और समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फिल्म 'पिंजर' के निर्देशन के लिए जाने जाते हैं। मानुषी छिल्लर ने संयोगिता की भूमिका निभाई है।यह फिल्म 3 जून को हिंदी, तमिल और तेलुगू में रिलीज होने वाली है।अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीKhatron Ke Khiladi 11: क्या फिनाले के पहले ही विनर घोषित हो गए थे अर्जुन बिजलानी? पत्नी ने किया ये पोस्ट******रोहित शेट्टी की तरफ से होस्ट किए जाने वाले शो खतरों के खिलाड़ी सीजन 11 अपने फिनाले की तरफ है। शो के विनर का ऐलान होने वाला है। मगर ऐसा बताया जा रहा है अर्जुन बिजलानी ने शो को जीत लिया है। उधर दिव्यांका त्रिपाठी फैंस का दिल जीतने में कामयाब रही हैं। उनके शो जीतने के लिए फैंस का काफी सपोर्ट सोशल मीडिया पर नजर आया। हालांकि, शो को फिनाले 25-26 सितंबर को टेलीकास्ट किया गया था। जो 21 सिंतरब को शूट किया गया था। शो के विनर का नाम फिलाने में करने के बजाए पहले ही सोशल मीडिया किया जाने लगा है।ऐसा बताया जा रहा है कि अर्जुन बिजलानी शो के विनर के तौर पर उभरे हैं, और टीवी की सबसे चहेती बहू शो की फर्स्ट रनरअप रही हैं। फिनाले की होड़ में दिव्यांका त्रिपाठी और अर्जुन बिजलानी के बीच शानदार मुकाबला हुआ, जिसे अर्जुन ने अपने नाम किया। बहरहाल, इस बारे में आधिकारिक पुष्टि तभी हो पाएगी जब शो के दौरान विनर का ऐलान होगा।मगर इन सबके बीच की पत्नी ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर ट्रॉफी की तस्वीरों को शेयर किया है। इससे ये जाहिर हो जाता है कि अर्जुन बिजलानी ने शो को अपने नाम किया है।सोशल मीडिया पर दिव्यंका त्रिपाठी दहिया के फैंस का मानना है कि विनर कोई भी हो लेकिन असल विनर दिव्यंका ही हैं। तभी तो ट्विटर पर दिव्यांका त्रिपाठी दहिया के फैंस इस बार डिजर्विंग विनर दिव्यांका को ट्रेंड कर रहे हैं।

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीIT और BPO कंपनियों के कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, सरकार ने वर्क फ्रॉम होम सुविधा को 31 दिसंबर तक बढ़ाया******Govt extends work from home norms for IT, ITes companies till Dec 31सरकार ने आईटी और बीपीओ कंपनियों के लिए वर्क फ्रॉम होम कनेक्टिविटी नियमों को 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया है। वर्क फ्रॉम होम की समयावधि 31 जुलाई को खत्‍म हो रही थी। सरकार के इस फैसले के बाद आईटी और बीपीओ कंपनियां अपने कर्मचारियों को अब 31 दिसंबर तक वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दे सकती हैं। दूरसंचार विभाग ने देर रात ट्विट कर कहा कि कोविड-19 की वजह से मौजूदा खतरे को देखते हुए सुविधा के लिए दूरसंचार विभाग ने अन्‍य सेवा प्रदाताओं के लिए नियम व शर्तों में दी जाने वाली राहत को 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया है।वर्तमान में लगभग 85 प्रतिशत आईटी कर्मचारी अपने घरों से ही काम कर रहे हैं और केवल वहीं लोग ऑफ‍िस जा रहे हैं, जिनकी महत्‍वपूर्ण कार्यों में उनकी जरूरत है।मार्च में, दूरसंचार विभाग ने कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अदर सर्विस प्रोवाइडर्स के लिए अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम सुविधा उपलब्‍ध कराने के लिए कुछ नियमों में छूट दी थी। इसके बाद इस छूट को बढ़ाकर 31 जुलाई कर दिया गया था।भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्‍या 11.55 लाख के पार होने और इससे 28,084 लोगों की मौत के बाद दूरसंचार विभाग ने वर्क फ्रॉम होम की सुविधा को दिसंबर तक बढ़ाने का फैसला किया है।अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीUP Election 2022 Special: उत्तर प्रदेश में जाति है कि जाती ही नहीं******Highlights उत्तर प्रदेश की सियासत में जाति है कि जाती ही नहीं। बीजेपी हिंदुत्व की राह को थामे जरूर है लेकिन जातीय समीकरण को भी दुरस्त किया जा रहा है। सीएम योगी कभी पिछड़े समाज के मौर्या जाति को तो कभी वैश्यों को लुभाने के लिए सम्मेलन करते हैं, वही ब्राह्मण समाज को लुभाने की कोशिश भी साफ नजर आती है। गैर कुर्मी और गैर यादवों पर फोकस कर रही बीजेपी ने तो अखिलेश के परंपरागत वोट बैंक यादव को भी अपने पाले में करने के लिए बीजेपी ने लखनऊ में सम्मेलन कर यादवों को साधने की सियासत भी करते नजर आई। आखिर हो क्यों न अगले साल विधानसभा चुनाव जो होना है और बिना जातीय समीकरण 5 कालीदास मार्ग की कुर्सी नही मिलती।हुकूमत से ब्राह्मणों की नाराजगी को लेकर अक्सर खूब चर्चा हुई। विकास दुबे से लेकर हरिशंकर तिवारी के नाम पर सरकार पर ब्राह्मणों को टारगेट करने का आरोप लगा। सियासी सूझबूझ से वोटिंग करने वाले इस बुद्धजीवी वर्ग को साधने में सभी दल जुट गए हैं। बीजेपी भी ब्राह्मणों की नाराजगी को लेकर गंभीर है और समय-समय पर इनको साधने के लिए ब्राह्मण सम्मेलन करती रहती है। महर्षि भारद्वाज, महर्षि वशिष्ठ और महर्षि देवरहा बाबा के बहाने ब्राह्मणों को सम्मान देने का जिक्र किया।इसी नाराजगी को समझ बसपा ने चुनावी रथ तैयार किया और अयोध्या से शुरू हुआ ब्राह्मण सम्मेलन। ब्राह्मण सम्मेलन का नेतृत्व सतीश चंद्र मिश्रा ने किया। 2007 के विधानसभा चुनाव में इसी वोट के सहारे मायावती सत्ता पर काबिज हुई थीं। ब्राह्मण को अपने खेमे में लाने के लिए अखिलेश यादव ने पूर्वांचल बाहुबली तिवारी परिवार को सपा में शामिल किया।यूपी में पिछड़े तबके में यादव वोट बैंक अच्छी खासी तादाद में हैं और मंडल के दौर से मुलायम सिंह के साथ लामबंद हैं। हालांकि केंद्रीय चुनावों में इस तबके का सपा से मोहभंग भी हुआ है। इस बार बीजेपी की नजर भी यादवों पर है। बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने कमान संभालते हुए यादव सम्मेलन कर अखिलेश के मूल वोटर्स पर डोरे डालने की कोशिश भी की थी। उन्होंने कहा था कि यादव समाज राष्ट्रवादी होता है, यादव जातिवादी नहीं होते। लोग सोच रहे बीजेपी में यादव नहीं हैं, पर सबको पता होना चाहिए कि यादव की बदौलत बीजेपी चल रही है।यूपी में तकरीबन 12 फीसदी आबादी मल्लाह, केवट और निषाद जातियों की है। गोरखपुर, गाजीपुर, बलिया, संत कबीर नगर, मऊ, मिर्जापुर, भदोही, वाराणसी, इलाहाबाद ,फतेहपुर, सहारनपुर और हमीरपुर जिलों में निषाद वोटरों की अच्छी खासी संख्या है। निषाद पार्टी के अलावा मुकेश साहनी भी निषाद वोट बैंक पर दावा कर रहे है। निषाद कश्यप यूनियन भी पूर्वांचल में सक्रिय है। काजल निषाद के जरिये सपा भी निषाद वोटर्स को लुभा रही है। कांग्रेस पहले ही निषाद यात्राएं निकाल चुकी है। हर दल निषादों को लुभाने की कोशिश में जुटा है। अब बीजेपी के साथ निषाद पार्टी कब गठबन्धन का असर लगभग 50 से ज्यादा सीटों पर पड़ना तय है। संजय निषाद का कहना है बीजेपी से उनके समाज की मांगों को लेकर रस्साकशी थी जिस पर अब सहमति बन चुकी है और निषाद समाज उनके साथ है।सपा प्रमुख अखिलेश यादव इस बार विधानसभा चुनाव मे सत्ता में वापसी के लिए सोची-समझी और सधी रणनीति के साथ चुनावी मैदान में कदम बढ़ा रहे हैं। इस क्रम में सूबे में राजनीतिक दलों से गठजोड़ करने के साथ-साथ अखिलेश अपने राजनीतिक समीकरण को भी दुरुस्त करते दिखई दे रहे हैं। पूर्वांचल की सियासत में किंगमेकर माने जाने वाले ओम प्रकाश राजभर को वह अपने पाले में पहले ही कर चुके है। पूर्वांचल में 18 प्रतिशत राजभर वोट है जो की 48 से 60 विधानसभा पर सीधा असर डालते है।RLD की ताकत ही जाट और मुस्लिम समीकरण की रही है। 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों ने इन दोनों समुदायों के बीच नफरत और दुश्मनी की ऐसी दीवार खड़ी कर दी कि RLD का ये समीकरण पूरी तरह ध्वस्त हो गया। जाट वोट बीजेपी के साथ शिफ्ट हो गया। मुस्लिम भी गैर-बीजेपी दलों में बंटकर रह गए। इस झटके से RLD उबर नहीं पाई। आलम यह है कि अब पार्टी अपने सियासी वजूद को बचाने की जंग लड़ रही है। 2014 के लोकसभा चुनाव में चौधरी अजित सिंह और उनके बेटे जयंत चौधरी भी चुनाव हार गए। 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में RLD अकेले 277 सीटों पर चुनाव लड़ी लेकिन सिर्फ एक सीट पर जीत हासिल कर सकी। 2019 का लोकसभा चुनाव भी RLD के लिए किसी बुरे सपने जैसा रहा। कागजों में बेहद मजबूत दिख रहा SP-BSP-RLD गठबंधन बुरी तरह फेल हो गया। RLD तीनों ही लोकसभा सीटें हार गई। अजित सिंह और जयंत चौधरी को एक बार फिर शिकस्त का सामना करना पड़ा।इससे पहले सीएम योगी ने पिछड़ा वर्ग में बड़ी हिस्सेदारी रखने वाले मौर्या सम्मेलन में शिरकत कर अपनी सरकार के पिछड़े समाज के हित में किये कामों का ब्यौरा दिया। ताबड़तोड़ जातीय सम्मेलन की कड़ी में वैश्यों को साधने की भी कोशिश हो रही है बीजेपी नेता नरेश अग्रवाल की मौजूदगी में वैश्यों को ज्यादा से ज्यादा वोटिंग के लिए संकल्प दिलवाया गया तो बीजेपी अध्यक्ष ने दलितों को जाति और पैसों के नाम पर नही बल्कि राष्ट्र के नाम पर वोट देने के लिए समझाने की अपील की।यूपी में मुस्लिम समुदाय को भी पिछड़ा वर्ग में गिना जाता है। यूपी में जनसंख्या के लिहाज से मुस्लिमों की आबादी 20 फीसदी है। 1990 से पहले इन वर्ग के वोट बैंक पर कांग्रेस पार्टी की मजबूत पकड़ हुआ करती थी लेकिन 1990 के बाद सपा और बसपा ने इस जाति पर मजबूत पकड़ बना ली। वहीं उत्तर प्रदेश में आजादी के बाद से ही इस जाति को केवल वोट बैंक ही समझा जाता रहा है। उसी समझ के साथ प्रदेश में AIMIM ले डेरा डाल दिया है।पिछड़ा वर्ग में दलित मतदाता की संख्या की राजनीति में के बाद सबसे ज्यादा है। आजादी के बाद इस मतदाताओं पर सबसे ज्यादा कांग्रेस पार्टी की पकड़ हुआ करती थी लेकिन बसपा के गठन के बाद इस जाति के सबसे बड़े मसीहा कांशीराम और मायावती बनकर उभरी। वहीं, दलित वोट बैंक गैर जाटव और जाटव में बंटा हुआ है। दलितों में जाटव जाति की जनसंख्या ज्यादा है जो कुल वोट बैंक का 54 फीसदी है। मौजूदा दौर में दलितों की मसीहा के रूप में बहुजन समाज पार्टी कि मायावती का नाम सबसे बड़ा है साथ ही साथ भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर भी अपना दावा मजबूत कर रहे है। बात करे 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 24 फीसदी दलितों का वोट मिला जबकि कांग्रेस को 18.5 फीसदी। 2014-2019 लोक सभा चुनाव, 2017 विधानसभा चुनाव से ये वोट बैक बीजेपी में शिफ्ट होता दिख रहा है।उत्तर प्रदेश में सवर्ण मतदाता 23 फीसदी हैं, जिसमें ब्राह्मण सबसे ज्यादा 11 फीसदी, राजपूत 8 फीसदी और कायस्थ 2 फीसदी हैं। सवर्ण जाति के वोट बैंक पर कभी भी किसी राजनीतिक दल का कब्जा नहीं रहा है। ये जातियां खुद ये तय करती है कि राजनीतिक पार्टियों में अपनी मजबूत दावेदारी किसको दी जाएं। 1990 से पहले उत्तर प्रदेश की सत्ता पर और 5 कालीदास मांग पर ब्राह्मण और राजपूत जातियों का खासा दबदबा था जिसके चलते उत्तर प्रदेश में 8 ब्राह्मणों मुख्यमंत्री और 3 राजपूत मुख्यमंत्री प्रदेश को मिले। अब फिर एक बार सत्ता पर दोबारा से काबिज होने के लिए बसपा और सपा ब्राह्मणों को रिझाने के लिए भरपूर कोशिश कर रही हैं। बहुजन समाज पार्टी ने जहां 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले ब्राह्मण बाहुल्य जनपदों में ब्राह्मण सम्मेलन किया। वहीं अब समाजवादी पार्टी ने भी ब्राह्मण के देवता के रूप में पूजे जाने वाले भगवान परशुराम की मूर्ति लगाने की बात कही। उत्तर प्रदेश में गाजियाबाद, हमीरपुर, गौतम बुध नगर, प्रतापगढ़, बलिया, जौनपुर, गाजीपुर, फतेहपुर, बलरामपुर, गोंडा राजपूत की आबादी वाले जिले हैं तो वहीं ब्राह्मण आबादी वाले जिलो की संख्या 2 दर्जन से भी ज्यादा है।यूपी की राजनीति में एक बात सबसे खास ये है कि जो इन जातियों के समीकरण को ठीक से बैठा पाता है वहीं यूपी की हुकूमत पर काबिज होता है। विधान सभा चुनाव से पहले हर पार्टी अपना अपना दावा ठोकती रही हैं कि उनका समीकरण सबसे सटीक है लेकिन असलियत क्या है ये तो विधानसभा चुनाव 2022 के परिणाम पर निर्धारित होगा।

अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीगुजरात ATS ने 600 करोड़ रुपए की 120 किलोग्राम हेरोइन जब्त की, 3 लोग गिरफ्तार******Highlights गुजरात आतंकवादी रोधी दस्ते (एटीएस) ने राज्य के मोरबी जिले में 120 किलोग्राम हेरोइन जब्त की है, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 600 करोड़ रुपये आंकी गई है। इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि मादक पदार्थ की खेप, आरोपियों को उनके पाकिस्तानी समकक्षों ने भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा के पास अरब सागर में पहुंचाई थी और उसे एक अफ्रीकी देश पहुंचाया जाना था।राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) आशीष भाटिया ने पत्रकारों को बताया कि शुरुआत में इसे गुजरात की देवभूमि द्वारका जिले में सलाया के पास एक तटीय इलाके में छिपाकर रखा गया था और फिर इसे मोरबी के ज़िनज़ुदा गांव लाया गया, जहां से इसे रविवार को जब्त किया गया। डीजीपी ने कहा, ‘‘खुफिया जानकारी के आधार पर कार्रवाई करते हुए गुजरात एटीएस ने रविवार को गांव में एक निर्माणाधीन मकान में छापा मारा और 120 किलोग्राम की, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 600 करोड़ रुपये है। इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है।’’उन्होंने बताया कि पाकिस्तान के निवासी जाहिद बशीर ब्लोच ने यह खेप भेजी थी, जो 2019 में राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) द्वारा जब्त की गई 227 किलोग्राम हेरोइन के मामले में वांछित है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि जब्त मादक पदार्थ को एक अफ्रीकी देश भेजा जाना था। उन्होंने बताया कि जब्त मादक पदार्थ को, गिरफ्तार किए गए मुख्तार हुसैन और समसुद्दीन हुसैन मियां सैयद को अक्टूबर के आखिरी सप्ताह में समुद्र में सौंपा गया था। इसकी व्यवस्था ब्लोच ने मुख्तार हुसैन के भाई इसा राव के साथ मिलकर की थी।अधिकारी ने बताया कि संयुक्त अरब अमीरात में इसके वितरण की साजिश रची गई थी, जैसा कि अतीत में भी अधिकतर मामलों में किया गया है। मादक पदार्थ की खेप को भारतीय तस्करों को एक अफ्रीकी देश ले जाने के लिए सौंपा जाना था। पाकिस्तान और ईरान से मादक पदार्थों की तस्करी के लिए आमतौर पर भारतीय तस्करों का इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने कहा, ‘‘ इस मामले में, गुजरात एटीएस द्वारा गिरफ्तार किए गए आरोपियों ने अफ्रीका भेजे जाने वाली खेप को भारत में बेचने की योजना बनाई थी।’’अधिकारी ने बताया कि निर्माणाधीन मकान जहां से मादक पदार्थ जब्त किए गए वह तीसरे आरोपी गुलाम हुसैन उमर भगद का है। उन्होंने कहा, ‘‘ तस्करों ने भारतीय मार्ग चुना क्योंकि यह सस्ता एवं छोटा पड़ता है और वे अपनी अवैध गतिविधियों को आसानी से छुपा सकते हैं क्योंकि क्षेत्र में चलने वाली लगभग 25,000 मछली पकड़ने वाली नौकाओं में छुपना आसान है।’’भाटिया ने बताया कि तट का इस्तेमाल पाकिस्तान के और ईरान के हेरोइन के तस्करों द्वारा भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखा के पास मादक पदार्थ को लाने ले जाने के लिए एक पारगमन बिंदु के रूप में किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, गुजरात पुलिस अभी तक ऐसे सभी प्रयास विफल करने में कामयाब रही है, मादक पदार्थे की खेप को जब्त किया गया है और आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।’’राज्य के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने मादक पदार्थों के खतरे से निपटने के लिए पुलिस के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ गुजरात पुलिस की एक और उपलब्धि। गुजरात पुलिस मादक पदार्थों की समस्या से निपटने के लिए बढ़-चढ़कर कार्रवाई कर रही है। गुजरात एटीएस ने करीब 120 किलोग्राम मादक पदार्थ जब्त किए हैं।’’ एटीएस ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि ऐसे मामलों में पूछताछ और जांच से पता चला है कि ‘‘ गुजरात तट के माध्यम से किए जा रहे प्रयासों की संख्या में इस वृद्धि के लिए विभिन्न भू-राजनीतिक कारण जिम्मेदार हैं।’’ गौरतलब है कि पिछले सप्ताह भी राज्य पुलिस ने देवभूमि द्वारका जिले में तीन लोगों के पास से 313.25 करोड़ रुपये की हेरोइन और ‘मेथामफेटामाइन’ जब्त की थी।अमेरिकाकेपूर्वराष्ट्रपतिट्रंपकीअपीलखारिजन्यूयॉर्कदीवानीजांचमेंदेनीहोगीगवाहीSSC CGL 2018 Result: आज घोषित हो सकते हैं एसएससी सीजीएल 2018 के रिजल्ट, यहां करें चेक ssc.nic.in****** एसएससी सीजीएल 2018 भर्ती परीक्षा परिणाम की घोषणा आज हो सकती है। एसएससी सीजीएल के नतीजे ssc.nic.in पर जारी होंगे। आयोग ने पहले चरण की परीक्षा के परिणाम की संभावित तिथि 20 अगस्त यानी आज घोषित की थी। पहले चरण की परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थी 11 से 13 सितंबर के बीच आयोजित होने वाली दूसरे चरण की परीक्षा में शामिल होंगे। सीजीएल परीक्षा केंद्रीय मंत्रालयों और दफ्तरों में स्नातक शैक्षिक योग्यता वाले पदों के लिए होती है। आयोग ने अभी इस भर्ती में शामिल पदों की संख्या घोषित नहीं की है।सीजीएल 2018 के पहले चरण की परीक्षा 4 से 13 जून के बीच ऑनलाइन आयोजित की गई थी। इसमें देशभर से 834746 अभ्यर्थी शामिल हुए थे जबकि आवेदन 25.97 लाख ने किया था। परीक्षा 33 राज्यों के 131 शहरों में बनाए गए 362 परीक्षा केंद्रों पर हुई थी।कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने संयुक्त स्नातक स्तरीय भर्ती 2018 (सीजीएल) के पहले चरण की परीक्षा की उत्तर कुंजी पहले जारी कर दी गई है।ग्रुप डी के टैक्स असिस्टेंट के पद की उम्र सीमा में बदलाव किया है। इस नोटिस के अनुसार, ग्रुप डी के टैक्स असिस्टेंट की आयु सीमा 20-27 के बजाए 18-27 की गई है। अधिक जानकारी के लिए आप कर्मचारी चयन आयोग की वेबसाइट को विजिट कर सकते हैं। लेकिन आप यहां 5 अगस्त को जारी किया गया पूरा नोटिस भी देख सकते

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 06:32
उद्धरण 1 इमारत
शिल्पा-शमिता और मां सुनंदा शेट्टी पर कसा कानूनी शिकंजा, जारी हुआ समन******बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी, उनकी मां सुनंदा शेट्टी और बहन शमिता शेट्टी को एक व्यवसायी ने 21 लाख रुपये के कर्ज के लिए अदालत में घसीटा है। कोर्ट की तरफ से तीनों को 28 फरवरी को पेश होने के लिए कहा गया है।एएनआई के एक अपडेट के अनुसार, "अंधेरी कोर्ट ने अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी कुंद्रा , उनकी बहन शमिता शेट्टी और मां सुनंदा शेट्टी को एक व्यवसायी की शिकायत के बाद समन जारी किया है, जिन्होंने उनके द्वारा 21 लाख रुपये का ऋण नहीं चुकाने का आरोप लगाया है; कोर्ट ने तीनों को 28 फरवरी को पेश होने का आदेश दिया है।"कथित तौर पर, एक ऑटोमोबाइल एजेंसी के मालिक ने तीनों के खिलाफ कानूनी फर्म मेसर्स वाई एंड ए लीगल के माध्यम से 21 लाख रुपये की धोखाधड़ी के लिए शिकायत दर्ज की थी। व्यवसायी ने दावा किया कि शिल्पा के दिवंगत पिता ने 21 लाख रुपये उधार लिए थे और उन्हें जनवरी 2017 में ब्याज के साथ राशि का भुगतान करना था।शिकायत के अनुसार, शिल्पा शेट्टी, बहन शमिता और मां, सुनंदा उस ऋण को चुकाने में विफल रहीं, जो कथित रूप से लिया गया था। सुरेंद्र ने प्रति वर्ष 18% ब्याज पर राशि उधार ली थी।कथित तौर पर चेक सुरेंद्र की कंपनी के पक्ष में लिखा गया था, एजेंसी के मालिक का यह भी दावा है कि सुरेंद्र ने अपनी बेटियों और पत्नी को मांगे गए ऋण के बारे में बताया।हालांकि, इससे पहले कि सुरेंद्र कर्ज चुका पाते, 11 अक्टूबर, 2016 को उनका निधन हो गया और तब से शिल्पा, शमिता और उनकी मां ने कर्ज चुकाने से इनकार कर दिया। उन्होंने पैसे देने से भी इनकार किया है।
2022-10-01 05:31
उद्धरण 2 इमारत
सेंसेक्स RBI की मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले 308 अंक टूटा****** बंबई का सूचकांक आज के शुरआती कारोबार में 308 अंक टूटा। ऐसा आरबीआई की आज पेश होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले कोषों और खुदरा निवेशकों द्वारा बिकवाली बरकरार रखने के बीच हुआ। इसके अलावा रपए में नरमी का भी रझान पर असर हुआ जो आज अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 32 पैसे टूटकर 66.37 पर आ गया।सूचकांक कल की कमजोरी बरकरार रखते हुए आज 308.90 अंक या 1.20 प्रतिशत टूटकर 25,307.94 पर आ गया। सेंसेक्स कल के कारोबार 246.66 अंक टूटकर बंद हुआ था। इधर नैशनल स्टाक एक्सचेंज का सूचकांक निफ्टी 94.80 अंक या 1.21 प्रतिशत टूटकर 7,700.90 पर आ गया।रुपया आयातकों की ओर से महीने के अंत में अमेरिकी मुद्रा की मांग के बीच आज डॉलर के मुकाबले 32 पैसे टूटकर 66.37 पर आ गया।विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि इसके अलावा विदेशी पूंजी की सतत निकासी और घरेलू शेयर बाजार में शुरआती नरमी से भी रुपया पर दबाव पड़ा। हालांकि विदेशी बाजारों में अन्य मुद्राओं के मुकाबले डालर में नरमी से रपए की गिरावट पर लगाम लगी। रुपया कल 11 पैसे की मजबूती के साथ 66.05 पर बंद हुआ था।
2022-10-01 05:13
उद्धरण 3 इमारत
Radhe Shyam Poster: 'राधे श्याम' का नया पोस्टर रिलीज, मुस्कुराते नजर आए प्रभास******नवरात्रि, के शुभ अवसर पर राधे श्याम के निर्माताओं ने प्रभास का एक नया पोस्टर रिलीज किया है। पोस्टर में प्रभास एक पिलर को पकड़े हुए मुस्कुराते नजर आ रहे हैं। प्रभास कैजुअल पोशाक में नजर आ रहे हैं, उन्होंने पीले रंग की टी-शर्ट और चेकदार पैंट पहनी हुई है। प्रभास ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर फिल्म राधे श्याम का नया पोस्टर शेयर किया है। पोस्टर में ऊपर लिखा है- कई त्यौहार, एक प्यार। वहीं पोस्टर के नीचे फिल्म का नाम और रिलीज डेट लिखी है। पोस्टर में रिलीज डेट 30 जुलाई 2021 लिखी है। यानी कि फिल्म की रिलीज तारीख में अभी तक कोई बदलाव कोविड की वजह से नहीं हुआ है जो बाकी फिल्मों के साथ हुआ है।पोस्टर शेयर करते हुए प्रभास ने लिखा- ''इन खूबसूरत त्यौहारों को एक ही चीज बांधता है और ये प्यार है, इसे महसूस करें। इसका आनंद लीजिए। इसे फैला दीजिए। आपको और आपके प्रियजनों को उगादी, गुड़ी पड़वा, बैसाखी, विशु, पुथंडु, जुआर शीतल, चेती चंद, बोहाग बिहू, नवरेह और पोइला बोशाक की हार्दिक शुभकामनाएं।राधे श्याम प्रभास के लिए एक खास फिल्म है, इस फिल्म में प्रभास के साथ पूजा हेगड़े लीड रोल में हैं।
वापसी