नई पोस्ट करें

तृणमूल उम्मीदवारों को चुनाव लड़ने के लिए 10 से 20 करोड़ रुपये दे रही है: कांग्रेस

2022-10-01 05:07:25 772

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसTata और महिंद्रा ने लगाया EV पर दांव, टोयोटा, होंडा और सुजुकी का हाइब्रिड मॉडल उतारने पर जोर******Highlightsमोटर्स और महिंद्रा जैसी घरेलू कंपनियां जहां इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) पर दांव लगा रही हैं वहीं टोयोटा, होंडा और सुजुकी जैसी प्रमुख जापानी कंपनियों का जोर हाइब्रिड मॉडल उतारने पर है। ऑटो विनिर्माता पर्यावरण के अनुकूल ईंधन को बढ़ावा देने के लिए अलग-अलग रणनीति अपना रहे हैं। दुनिया भर में इलेक्ट्रिक वाहन से जुड़ी प्रौद्योगिकियों को बड़ी तेजी से अपनाया जा रहा है। इसमें एसएचईवी (मजबूत हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन), एफसीईवी (ईंधन सेल इलेक्ट्रिक वाहन), बीईवी (बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन) और पीएचईवी (प्लग-इन हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन) शामिल हैं।भारत में इस समय मुख्य रूप से बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन (बीईवी) और हाइब्रिड वाहन ही बनाए जा रहे हैं। टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा ने अगले कुछ वर्षों में कई बीईवी मॉडल उतारने की योजना बनाई हुई है। इन कंपनियों ने इस क्षेत्र के लिए बड़े पैमाने पर संसाधन तैयार किए हैं। इसी तरह हुंदै, किआ और एमजी मोटर ने भी बीईवी मॉडल बाजार में पेश किए हैं। देश की सबसे बड़ी कार विनिर्माता कंपनी मारुति सुजुकी भी 2025 में अपना पहला इलेक्ट्रिक वाहन पेश करने की तैयारी कर रही है। इस बीच मारुति सुजुकी ने अपनी कारों को और अधिक ईंधन कुशल बनाने के लिए हाइब्रिड तकनीक पर भी दांव लगाया है। इसके अलावा टोयोटा और होंडा ने भी देश में हाइब्रिड मॉडल पेश किए हैं।टाटा मोटर्स पैसेंजर व्हीकल्स के प्रबंध निदेशक शैलेश चंद्रा कहा कि इलेक्ट्रिक वाहन इस उद्योग का भविष्य हैं और कंपनी ने हरियाली तथा बेहतर कल के प्रति जुनून के कारण इस दिशा में कदम बढ़ाया है। उन्होंने कहा, ‘‘दूसरी ओर, हाइब्रिड एक ऐसी तकनीक है जो अल्पकालिक है, क्योंकि इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से सीएएफई (कॉरपोरेट औसत ईंधन अर्थव्यवस्था) मानदंडों को पूरा करने के लिए किया जा रहा है।’’ सीएएफई नियमों के तहत ऑटो विनिर्माताओं को औसत कार्बन उत्सर्जन में कटौती करने की जरूरत है। महिंद्रा एंड महिंद्रा के ऑटोमोटिव खंड के अध्यक्ष विजय नाकरा ने कहा कि अपनी ईवी आधारित योजनाओं के साथ सरकार की स्पष्ट नीति के कारण कंपनी बैटरी इलेक्ट्रिक वाहनों के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ने जा रही है। मारुति सुजुकी इंडिया के कार्यकारी अधिकारी (कॉरपोरेट मामले) राहुल भारती ने एसएचईवी की तरफदारी करते हुए कहा कि इस प्रौद्योगिकी से कार्बन उत्सर्जन को 30-40 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। भारती ने कहा कि चूंकि एसएचईवी को बाहरी चार्जिंग बुनियादी ढांचे की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए कोई रेंज की चिंता नहीं है और इसलिए इस तकनीक को तेजी से बढ़ाया जा सकता है।

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेस129 विलफुल डिफॉल्‍टर्स पर है बैंकों का 28,525 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया****** सरकार ने आज लोकसभा में जानकारी दी कि इस साल 30 जून तक सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों से सौ करोड़ रुपए से अधिक का ऋण लेने वाले विलफुल डिफॉल्‍टर्स (जानबूझ कर कर्ज न चुकाने वाले) की संख्या 129 थी, जिन्होंने 28,525 करोड़ रुपए का कर्ज बैंकों से लिया है।Note Banसिर्फ 57 कर्जदारों पर बैंकों का 85,000 करोड़ रुपए बकाया, लोन नहीं चुकाने वालों का नाम होगा सार्वजनिक! विभिन्न प्रकार की ट्रेनों में फ्लैक्सी किराया प्रणाली शुरू किए जाने के बाद दो महीनों से भी कम समय में रेलवे को करीब 56 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आमदनी हुई है।रेल राज्य मंत्री राजेन गोहैन ने बताया, राजधानी, दूरंतो और शताब्दी गाडि़यों में फ्लैक्सी किराया प्रणाली की शुरूआत के कारण नौ सितंबर 2016 से 31 अक्‍टूबर 2016 के बीच करीब 56 करोड़ रुपए की अतिरिक्त आमदनी हुई।तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसभारतीय एथलीट गोमती 4 साल के लिए बैन, एशियाई चैंपियनशिप का गोल्ड भी लिया गया वापस******नई दिल्ली| गोमती मारिमुथु को चार साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है। उनसे साथ ही 2019 एशियाई चैम्पियनशिप में जीता गया स्वर्ण पदक भी छीन लिया गया। एथलेटिक्स इंटीग्रिटी यूनिट (एआईयू) ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी। एआईयू ने कहा कि 31 साल की भारतीय धावक को मई 2023 तक प्रतिबंधित किया गया है और पिछले साल दो महीने की समय सीमा में सभी रेसों में अयोग्य घोषित कर दिया गया है।गोमती को 2019 एशियाई चैम्पियनशिप में एनाबोलिक स्ट्रायड नानड्रोलोन के सेवन का दोषी पाया गया था। उनका बी सैम्पल भी पॉजिटिव पाए जाने के बाद शुक्रवार को यह फैसला लिया गया। इसके बाद उनके तीन और टेस्ट पॉजिटिव पाए गए हैं ।18 मार्च से 17 मई 2019 के बीच उन्होंने जितने भी टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था, उसमें उनकी भागीदारी को रद्द कर दिया गया है। गोमती अब खेल पंचाट न्यायालय (सीएएस) में इस फैसले के खिलाफ अपील कर सकती हैं।

तृणमूल उम्मीदवारों को चुनाव लड़ने के लिए 10 से 20 करोड़ रुपये दे रही है: कांग्रेस

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसहरियाणा सरकार ने महंगाई भत्‍ता बढ़ाया, DA 9 से बढ़ाकर किया 12 प्रतिशत******Haryana hikes DA rate to 12 pc हरियाणा सरकार ने लोकसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन के बाद राज्‍य सरकार के कर्मचारियों, पेंशनर्स और फैमिली पेंशनर्स के लिए (डीए) बढ़ाने की घोषणा की है। राज्‍य सरकार ने 1 जनवरी 2019 से महंगाई भत्‍ता की दर को 9 प्रतिशत से बढ़ाकर 12 प्रतिशत करने की घोषणा की है। वित्‍त मंत्री कैप्‍टन अभिमन्‍यु ने कहा कि सरकार के इस फैसले से सरकारी खजाने पर हर महीने लगभग 17.70 करोड़ रुपए का अतिरिक्‍त बोझ आएगा। उन्‍होंने कहा कि चालू वित्‍त वर्ष (2019-20) के दौरान सरकारी खजाने पर जनवरी 2019 से लेकर फरवीर 2020 तक के 14 महीने के लिए 247.80 करोड़ रुपए का अतिरिक्‍त बोझ पड़़ेगा। अभिमन्‍यु ने कहा कि राज्‍य सरकार ने ऐसे कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्‍ता भी 6 प्रतिशत बढ़ाया है, जो 6वें वेतन आयोग के ग्रेड या पूर्व-संशोशित पे स्‍केल के हिसाब से वेतन ले रहे थे। इनके लिए महंगाई भत्‍ते की दर को बेसिक पे के 148 प्रतिशत से बढ़ाकर 154 प्रतिशत किया गया है। यह बढ़ी हुई महंगाई दर 1 जनवरी 2019 से प्रभावी होगी।इस फैसले से सरकारी खजाने पर हर महीने लगभग 63.55 लाख रुपए का अतिरिक्‍त भार आएगा। इस मद में वित्‍त वर्ष 2019-20 के दौरान जनवरी 2019 से फरवरी 2020 तक के 14 महीनों के दौरान सरकारी खजाने पर 8.80 करोड़ रुपए का बोझ पड़ेगा।तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसAUS Open: शान से ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में पहुंची एश्ले बार्टी, फाइनल में इस खिलाड़ी से होगा मुकाबला!******Highlightsदुनिया की नंबर-1 महिला टेनिस खिलाड़ी एश्ले बार्टी ने ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में पहुंच इतिहास रच दिया है। बार्टी 42साल बाद साल के पहले ग्रैंडस्लैम के फाइनल में प्रवेश करने वाली पहली ऑस्ट्रेलियन महिला खिलाड़ी बन गई हैं। बार्टी ने सेमीफाइनल में अमेरिका के मैडिसन कीज को सीधे सेटों में 6-1, 6-3 से मात दी।मैच में बार्टी पहले ही सेट से कीज पर हावी नजर आयीं। बार्टी ने पहला सेट 6-1 से अपने नाम कर लिया। इसके बाद दूसरे सेट में भी बार्टी ने उन्हें संभलने का कोई मौका नहीं दिया और मैच को आसानी से अपने पाले में कर लिया। जीत के बाद बार्टी ने कहा कि मैं खुश हूं कि मुझे यहां अपना सर्वश्रेष्ठ टेनिस खेलने का मौका मिला।"बता दें कि फाइनल में दुनिया की नंबर-1 खिलाड़ी एश्ले बार्टी का सामना इगा स्वातेक और कोलिंस के मैच के विजेता से होगा।तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसKapil Sibal: कांग्रेस हाईकमान को बड़ा झटका, सीनियर नेता कपिल सिब्बल ने दिया पार्टी से इस्तीफा******Highlightsसीनियर कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी को बड़ा झटका दिया है। सिब्बल ने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी है। उन्होंने कहा, 'मैंने 16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया।' समाजवादी पार्टी से राज्यसभा के लिए नामांकन करने के बाद सिब्बल ने मीडिया से बातचीत के दौरान ये जानकारी दी।उन्होंने कहा, 'मैं समझता हूं कि जब एक निर्दलीय की आवाज उठेगी तो लोगों को ऐसा लगेगा कि वे किसी पार्टी से नहीं जुड़े हुए हैं। हम विपक्ष में रहकर गठबंधन बनाना चाहते हैं ताकि हम मोदी सरकार का विरोध करें।'सिब्बल ने कहा, 'हम चाहते हैं कि 2024 में ऐसा माहौल बने कि मोदी सरकार की जो खामियां हैं, उसे जनता तक पहुंचाया जा सकें। मैं इसका प्रयास करूंगा।'सिब्बल (Kapil Sibal) ने कहा, 'मैंने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में राज्यसभा के लिए नामांकन भरा है। मैं अखिलेश यादव का आभारी हूं कि उन्होंने मेरा समर्थन किया। मैं आजम खान के प्रति भी आभार प्रकट करता हूं।'इससे पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बयान भी सामने आया। उन्होंने बताया, 'समाजवादी पार्टी की तरफ से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल द्वारा राज्यसभा की सदस्यता के लिए नामांकन किया गया है। वे समाजवादी पार्टी के समर्थन से राज्यसभा जा रहे हैं। अभी पहला नामांकन हुआ है। राज्यसभा के लिए दो अन्य लोगों के नाम बहुत जल्द घोषित हो जाएंगे।'

तृणमूल उम्मीदवारों को चुनाव लड़ने के लिए 10 से 20 करोड़ रुपये दे रही है: कांग्रेस

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसपश्चिम बंगाल में अगर BJP सत्ता में आती है तो यहां की माटी का लाल ही मुख्यमंत्री बनेगा: अमित शाह****** केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में पिछले दिनों भाजपा अध्यक्ष जे.पी.नड्डा के काफिले पर हमले को लेकर रविवार को राज्य की ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि केंद्र को राज्य के उन आईपीएस अधिकारियों को केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर बुलाने का अधिकार है, जो नड्डा की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार थे। शाह ने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने में विफल रही हैं और राज्य विकास के सभी मापदंडों पर तेजी से पिछड़ता जा रहा है।गृह मंत्री ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि बनर्जी और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस राज्य सरकार की विफलताओं से जनता का ध्यान हटाने के लिए ‘बाहरी-भीतरी’ के मुद्दे को उठा रही है। उन्होंने कहा, ‘‘केंद्र को राज्य सरकार को (आईपीएस अधिकारियों को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर बुलाने के लिए) पत्र भेजने का पूरा अधिकार है। अगर उन्हें कोई संशय है तो नियम पुस्तिका देख सकते हैं।’’ ‘बाहरी-भीतरी’ की बहस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल में यदि भाजपा सत्ता में आती है तो कोई माटी का लाल ही मुख्यमंत्री बनेगा।उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि ममता दी कुछ चीजें भूल गई हैं। जब ममता दी कांग्रेस में थीं तो क्या उन्होंने इंदिरा गांधी को बाहरी कहा था? क्या उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंहराव के लिए इस शब्द का इस्तेमाल किया था? क्या वह ऐसा देश बनाने की कोशिश कर रही हैं, जहां एक राज्य की जनता को दूसरे राज्यों में आने की अनुमति नहीं है?’’ शाह ने बांग्लादेशी घुसपैठ के मुद्दे पर भी ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधा।उन्होंने कहा, ‘‘तृणमूल कांग्रेस कभी घुसपैठ बंद नहीं कर सकती क्योंकि वह तुष्टिकरण की राजनीति में भरोसा करती है। केवल भाजपा इसे रोक सकती है। ममता बनर्जी किसानों के प्रदर्शन को तो समर्थन देती हैं लेकिन बंगाल के किसानों को केंद्रीय योजनाओं का लाभ नहीं उठाने देतीं। क्या संघीय ढांचे को सम्मान देने का यही तरीका है?’’एक प्रश्न के उत्तर में शाह ने कहा कि कोविड-19 महामारी पर नियंत्रण के बाद नागरिकता संशोधन कानून के क्रियान्वयन के नियम बनाये जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘कोरोना वायरस की वजह से इतनी बड़ी कवायद नहीं की जा सकती। जैसे ही कोविड-19 का टीकाकरण शुरू होगा, हम इस बारे में चर्चा करेंगे।’’केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ममता बनर्जी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राज्य के लोग बदलाव के इच्छुक हैं और वे राजनीतिक हिंसा, भ्रष्टाचार, फिरौती और बांग्लादेशी घुसपैठ से मुक्ति चाहते हैं। बंगाली संस्कृति और साहित्य के प्रतीक रवींद्रनाथ टैगोर से जुड़े इस शहर में आयोजित रोड शो के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए शाह ने वादा किया कि अगर भाजपा सत्ता में आई तो वह राज्य की पुरानी प्रतिष्ठा बहाल करेगी जब इसे ‘सोनार बांग्ला’ कहा जाता था।उन्होंने रोड शो के दौरान जुटी भारी भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘मैंने अपने जीवन में कई रोड शो में हिस्सा लिया और उनका आयोजन किया लेकिन ऐसा रोड शो नहीं देखा। यह लोगों के ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ गुस्से को प्रदर्शित करता है। यह भीड़ नरेंद्र मोदी जी के विकास के एजेंडे के प्रति आस्था को प्रतिबिंबित करती है।’’ उन्होंने कहा कि यह इच्छा केवल राजनीति नेता बदलने की नहीं है बल्कि भ्रष्टाचार, राजनीतिक हिंसा, फिरौती और बांग्लादेशी घुसपैठ से मुक्ति की है।तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसडायबिटीज के रोगी डाइट में जरूर शामिल करें ये 4 चीजें, नहीं बढ़ेगा शुगर लेवल******हर दूसरा शख्स आजकल डायबिटीज से पीड़ित है। डायबिटीज बीमारी दो तरह की होती है। टाइप वन डायबिटीज और टाइप टू डायबिटीज। दोनों ही तरह की डायबिटीज में खानपान का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। मधुमेह का रोग होने पर शरीर में इंसुलिन का स्तर गिरने लगता है जिसकी वजह से कई मरीजों के शरीर में अलग से इंसुलिन भी इंजेक्ट की जाती है। अगर आप भी डायबिटीज के पेशेंट हैं तो खानपान में कुछ चीजों को शामिल करना सेहत के लिए लाभदायक है। जानें वो कौन सी चीजें हैं जिन्हें मधुमेह के रोगियों के खानपान में जरूर शामिल करना चाहिए। ऐसा करके डायबिटीज को कंट्रोल किया जा सकता है। इसके साथ ही उन्हें अलग से इंसुलिन इंजेक्ट करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।मेथी डायबिटीज रोगियों के लिए असरदार है। अगर आप मधुमेह की बीमारी से पीड़ित हैं तो रोजाना खाली पेट मेथी के पाउडर को गर्म पानी के साथ खा लें। ऐसा करने से शुगर लेवल कंट्रोल रहता है। इसके साथ ही इंसुलिन की मात्रा शरीर में बढ़ जाती है।आपने लोगों को कई बार कहते हुए सुना होगा कि डायबिटीज रोगियों के लिए करेला रामबाण है। ऐसा इसलिए क्योंकि करेला जितना कड़वा होता है उतना ही डायबिटीज रोगियों के लिए असरदार होता है। करेला का कड़वापन शरीर में शुगर लेवल को कंट्रोल करता है। इसलिए मधुमेह के रोगियों को रोजाना सुबह करेले के जूस का सेवन करना चाहिए।हल्दी कई औषधीय गुणों से भरपूर होती है। अगर किसी भी व्यक्ति को टाइप टू डायबिटीज है तो वो रोजाना के रुटीन में हल्दी का जरूर इस्तेमाल करें। हल्दी में करक्यूमिन नामक सक्रिय घटक होता है जो डायबिटीज को नियंत्रित करने का काम करता है।अंडा, दही और दूध भी डायबिटीज रोगियों के लिए असरदार है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि किसी भी चीज में चीनी का इस्तेमाल ना करें। इन सब चीजों में प्रोटीन होता है जो मधुमेह की समस्या को काफी हद तक कंट्रोल करता है।

तृणमूल उम्मीदवारों को चुनाव लड़ने के लिए 10 से 20 करोड़ रुपये दे रही है: कांग्रेस

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसमहिला विश्व कप: बरकरार रहा न हारने का रिकॉर्ड, भारत ने पाकिस्तान को धोया****** विश्व कप में रविवार को शानदार फॉर्म में चल रही भारतीय टीम ने को 95 रन से करारी मात दी। इस तरह से भारतीय महिलाओं ने पाकिस्तानी महिलाओं के खिलाफ अजेय होने का अपना रिकॉर्ड बरकरार रखा। भारत की तरफ से दिया गया 170 रन का टारगेट पाकिस्तान के लिए काफी साबित हुआ और उसकी पूरी टीम सिर्फ 74 रन बनाकर आउट हो गई। भारतीय गेंदबाजों ने शानदार गेंदबाजी के दम पर भारत को इस विश्व कप में लगातार तीसरी जीत दिला दी।भारतीय टीम की शानदार गेंदबाजी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान की तरफ से सिर्फ 2 बल्लेबाज, नाहिदा खान (23) और कप्तान सना मीर (29) ही दहाई का आंकड़ा पार कर पाईं। भारत की तरफ से एकता बिष्ट ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 10 ओवर में सिर्फ 18 रन देकर 5 पाकिस्तानी खिलाड़ियों को आउट किया। उनके अलावा मानसी जोशी को 2 और झूलन गोस्वामी, दीप्ति शर्मा और हरमनप्रीत कौर को एक-एक विकेट हासिल हुआ। एकता बिष्ट को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया।इससे पहले शानदार फॉर्म में चल रही भारतीय टीम बड़ा स्कोर बनाने में असफल रही थी। भारतीय टीम पाकिस्तान को सिर्फ 170 रनों का लक्ष्य दे सकी। इस मैच में न स्टार सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना का बल्ला चला और न ही कप्तान का। नतीजा हुआ कि पूरी टीम निर्धारित 50 ओवरों में 9 विकेट खोकर 169 रन ही बना सकी।ऐसा लग रहा था कि भारतीय महिलाएं पूरे ओवर नहीं खेल पाएंगी और टीम जल्द ही ऑल आउट हो जाएगी, लेकिन झूलन गोस्वामी और सुषमा वर्मा ने अंत में अहम साझेदारी कर उसे 150 के पार पहुंचाने में मदद की। पूनम राउत ने भारत के लिए सबसे ज्यादा 47 रन बनाए। उनके अलावा दीप्ती शर्मा 28 और हरमनप्रीत कौर (10), सुषमा (33) और झूलन (14) ही दहाई के आंकड़े को छू सकीं। भारत की शुरुआत खराब और बेहद धीमी रही टीम का स्कोर जब 7 रन था तभी चौथे ओवर की तीसरी गेंद पर शानदार फॉर्म में चल रही मंधाना (2) पवेलियन लौट गईं। पूनम और दीप्ती ने हालांकि विकेट पर अपने पैर जमाए लेकिन रनों की गति को बढ़ा नहीं सकीं।दोनों ने 18.5 ओवरों में 3.55 की औसत से सिर्फ 67 रन जोड़े। अर्धशतक से 3 रन दूर पूनम को संधु ने अपना शिकार बनाया और यहां से भारत के विकेट ताश के पत्तों की तरह गिरने लगे। कप्तान मिताली राज सिर्फ 8 रन ही बना सकीं। अंत में सुषमा और झूलन ने सातवें विकेट के लिए 34 रनों की साझेदारी कर टीम को इस स्कोर तक पहुंचाने में मदद की। मानशी जोशी 4 रन और पूनम यादव 6 रनों पर नाबाद लौटीं। पाकिस्तान की तरफ से नाशरा संधू ने सर्वाधिक 4 विकेट लिए। सादिया युसूफ को 2 सफलता मिलीं। डायना बेग और असमाविया इकबाल के हिस्से एक-एक विकेट आया।

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसSurya-Samson VIDEO: सूर्या ने केरल पहुंचकर जीता फैंस का दिल, अपने फोन में दिखाई लोकल ब्वॉय संजू सैमसन की फोटो******Highlightsभारतीय क्रिकेट टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाली टी20 सीरीज के लिए तिरुवनंतपूरम पहुंच गई। केरल की राजधानी में उतरने के बाद भारतीय खिलाड़ियों का त्रिवेंद्रम हवाई अड्डे पर जोरदार स्वागत हुआ। अपने पसंदीदा खिलाड़ियों की झलक पाने के लिए फैंस भी काफी उत्साहित नजर आए। इस दौरान टीम बस में सवार स्टार बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव ने ऐसा काम किया जिसे देखकर फैंस भी झूम उठे।दरअसल भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच होने वाली तीन मैचों की टी20 सीरीज का पहला मैच तिरुवनंतपूरम में 28 सितंबर (बुधवार) को खेला जाएगा। टी20 सीरीज में यहां के लोकल ब्वॉय संजू सैमसन नहीं होंगे। ऐसे में फैंस को इस बात की निराशा भी थी, लेकिन सूर्या ने उन्हें इस बात की कमी नहीं खलने दी और टीम बस के अंदर से वहां मौजूद फैंस को अपने फोन में संजू सैमसन की फोटो दिखाकर सभी का दिल जीत लिया। सूर्या ने सबसे पहले अपने फोन में संजू की तस्वीर को फैंस को दिखाया और फिर फोटो की तरफ इशारा कर ताऱीफ भी की।सूर्या का यह वीडियो आईपीएल फ्रेंचाइजी राजस्थान रॉयल्स ने अपने ट्वीटर अकाउट पर शेयर किया, जो देखते-देखते वायरल हो गया।बता दें कि आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की कप्तानी करने वाले संजू सैमसन आगामी टी20 वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया का हिस्सा नहीं हैं। उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में भी जगह नहीं दी गई। इसे लेकर संजू के फैंस ने बीसीसीआई की जमकर आलोचना की थी और सोशल मीडिया पर भी सैमसन के समर्थन में लगातार पोस्ट किए थे। बाद में बीसीसीआई ने न्यूजीलैंड ए के खिलाफ तीन मैचों की अनाधिकारिक वनडे सीरीज के लिए संजू सैमसन को कप्तानी सौंपकर फैंस को शांत करने की कोशिश की।संजू इस वक्त चेन्नई में हैं और आज यानी मंगलवार को सीरीज का आखिरी मैच खेल रहे हैं। उन्होंने चैपॉक स्टेडियम में शानदार बल्लेबाजी करते हुए अर्धशतक भी लगाया और 54 रन के स्कोर के साथ सबसे ज्यादा रन भी बनाए। उनकी कप्तानी में टीम शुरू के दोनों मैच जीतकर सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त बनाए हुए है।तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसआयुष्मान खुराना क्यों करते हैं अलग तरह की फिल्में? अभिनेता ने बताई वजह******अभिनेता आयुष्मान खुराना का कहना है कि एक कलाकार के रूप में उनका उद्देश्य लोगों को लगातार यह बताना है कि वे खुद को या दूसरों को स्टीरियोटाइप न समझें। उन्होंने कहा कि उनकी फिल्म 'ड्रीम गर्ल' का उद्देश्य यही था। जिसकी रिलीज के आज अपने दो साल पूरे हो गए है।आयुष्मान ने कहा कि जानबूझकर या अनजाने में हम लगातार अपने आस-पास की हर चीज को स्टीरियोटाइप करने के लिए बाध्य होते हैं। कभी-कभी, हमें यह भी पता नहीं होता है कि हम या तो स्टीरियोटाइप हो रहे हैं या दूसरों को स्टीरियोटाइप कर रहे हैं।फिल्म के माध्यम से इस महत्वपूर्ण संदेश को व्यक्त करने की कोशिश करने के लिए स्टार ने अपने निर्देशक राज शांडिल्य और उनकी निमार्ता एकता कपूर को श्रेय दिया।अभिनेता ने कहा कि मुझे 'ड्रीम गर्ल' की स्क्रिप्ट पसंद आई क्योंकि इसने हमें खुद को स्टीरियोटाइप नहीं करने के लिए कहा था। इसने हमें बताया कि जब हम इस चक्र को तोड़ते हैं, तो हम समाज में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं।उन्होंने आगे कहा कि जब मैंने पूजा बनने का फैसला किया तो मेरे किरदार करमवीर ने खुद को रूढ़िबद्धता से अलग कर दिया। मेरे लिए, यह एक ताजा और विघटनकारी विचार था । मैं लगातार ऐसे विषयों की तलाश में रहता हूं, जो अलग हों, और दर्शकों को एक संदेश देते हों।आयुष्मान ने खुलासा किया कि अगर वह रूढ़ियों को तोड़ने के मिशन पर बने रहे तो एक अभिनेता के रूप में उन्हें संतुष्टि मिलेगी।आयुष्मान को फिलहाल अपनी तीन फिल्में 'अनेक', 'चंडीगढ़ करे आशिकी' और 'डॉक्टर जी' की रिलीज का इंतजार है।

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसWest Bengal: कोलकाता स्थित इंडियन म्यूजियम में बढ़ाई गई सुरक्षा, हुई थी गोलीबारी******Highlights कोलकाता स्थित इंडियन म्यूजियम में तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के एक जवान द्वारा अपने दो सहकर्मियों को कथित रूप से गोली मारे जाने की घटना के बाद रविवार को संग्रहालय में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई। इस घटना में सीआईएसएफ के एक कर्मी की मौत हो गई, जबकि एक अन्य अधिकारी घायल हो गया।यह घटना कल संग्रहालय परिसर में CISF की बैरक में हुई थी। कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एक स्वचालित राइफल से गोलीबारी करने वाले हेड-कांस्टेबल ए.के.मिश्रा को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया। एसएसकेएम अस्पताल के एक अधिकारी ने कहा कि CISF के घायल सहायक कमांडेंट की स्थिति स्थिर है।अधिकारियों ने बताया कि इस घटना के मद्देनजर देश के सबसे पुराने और सबसे बड़े म्यूजियम में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। आरोपी हेड-कांस्टेबल ने आरोप लगाया है कि यूनिट में उसे परेशान किया जा रहा था। सीआईएसएफ दिसंबर, 2019 से संग्रहालय की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल रहा है।कोलकाता में स्थित इंडियन म्यूजियम में तैनात CISF के एक जवान ने रविवार की शाम कथित रूप से अपने दो सहकर्मियों को गोली मार दी। इस घटना में जवान के एक वरिष्ठ सहकर्मी की मौत हो गई जबकि एक अन्य अधिकारी घायल हो गया है। अधिकारियों ने बताया कि कथित रूप से गोली चलाने वाले हेड कांस्टेबल ए.के.मिश्रा ने AK47 राइफल से सहायक उपनिरीक्षक रंजीत सारंगी की हत्या कर दी जबकि सहायक कमांडेंट रैंक के अधिकारी सुवीर घोष हल्के जख्मी हुए हैं। आरोपी हेड कांस्टेबल का दावा है कि यूनिट में उसे परेशान किया जा रहा था। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।अर्द्धसैनिक बल के एक अधिकारी ने बताया कि CISF के महानिरीक्षक (दक्षिण पूर्व) सुधीर कुमार के मौके पर पहुंचने पर आरोपी मिश्रा ने आत्मसमर्पण कर दिया। कोलकाता पुलिस ने भी बताया कि CISF के अधिकारियों ने मिश्रा को हथियार डालने और आत्मसमर्पण करने के लिए मनाया। आरोप है कि मिश्रा ने यूनिट के हथियारखाने से जबरदस्ती हथियार लिया और पूरी मैगजीन लोगों पर खाली कर दी। गोलीबारी में घायल हुए दो लोगों को सरकारी एसएसकेएम अस्पताल ले जाया गया, जहां सारंगी की मौत हो गई। CISF ने घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश दिया है।तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसपश्चिम बंगाल में containment zones में 19 जुलाई तक lockdown बढ़ाया गया****** पश्चिम बंगाल सरकार ने मंगलवार को में लॉकडाउन की अवधि 19 जुलाई तक बढ़ा दी। गृह विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों की वजह से घोषित निषिद्ध क्षेत्र में लॉकडाउन की अवधि 15 जुलाई से बढ़कार 19 जुलाई कर दी गई है।गृह विभाग ने बताया कि ये निषिद्ध क्षेत्र कोलकाता में और उसके आसपास के इलाकों में स्थित है। इसके अलावा जलपाईगुड़ी, मालदा, कूच बिहार, रायगंज और सिलिगुड़ी में निषिद्ध क्षेत्र हैं। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर नौ जुलाई की शाम पांच बजे से निषिद्ध क्षेत्रों में पूर्ण लॉकडाउन लागू किया गया था।

तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेससाल 2014 से अब तक 96 नई सरकारी कंपनियां खुलीं, कुल 256 CPSE में से 171 फायदे में******Ministry of FinanceHighlightsकेंद्र सरकार ने 2014 से अब तक 96 नए केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (सीपीएसई) का गठन किया है। आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। नए सार्वजनिक उपक्रमों में से ज्यादातर का मुख्यालय दिल्ली में है। इस सूची में 2018 में गठित एयर इंडिया एसेट्स होल्डिंग लि.(एआईएएचएल) शामिल हैं। इस इकाई का गठन एयर इंडिया की गैर-प्रमुख संपत्तियों और देनदारियों को रखने के लिए किया गया था। इसके अलावा नए सार्वजनिक उपक्रमों में बीएसएनएल टावर कॉरपोरेशन का गठन भी 2018 में हुआ था।अन्य नए बने सार्वजनिक उपक्रमों में कॉनकोर लास्ट माइल लॉजिस्टिक्स (2020), इंडिया इंटरनेशनल कन्वेंशन एंड एक्जिबिशन सेंटर लि.(2020) शामिल हैं। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले आठ साल में एनटीपीसी रिन्यूएबल एनर्जी लि.(2020), एनएसआईसी वेंचर कैपिटल फंड लि.(2020), राजगढ़ ट्रांसमिशन लि.(2020) और सागरमाला डेवलपमेंट कंपनी लि.(2016) का भी गठन हुआ है। तीन-तीन सीपीएसई का गठन छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में हुआ है।वहीं, झारखंड में देवघर एयरपोर्ट लि.सहित चार नए सार्वजनिक उपक्रम बने हैं। कर्नाटक में पांच, केरल में तीन, महाराष्ट्र, ओडिशा और प.बंगाल में दो-दो और पंजाब और तेलंगाना में एक-एक सीपीएसई का गठन हुआ है। आंकड़ों के अनुसार, 31 मार्च, 2020 तक 256 केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम काम कर रहे थे। इनमें से 171 लाभ में और 84 घाटे में थे।तृणमूलउम्मीदवारोंकोचुनावलड़नेकेलिए10से20करोड़रुपयेदेरहीहैकांग्रेसJharkhand Crime News: रेप के आरोपी 2 युवकों को भीड़ ने जिंदा जलाया, एक की मौत, दूसरे की हालत गंभीर******Highlights झारखंड के राजधानी से लगभग 90 किलोमीटर दूर गुमला शहर से सटे वसुआ अंबाटोली गांव में एक नाबालिग किशोरी से रेप की घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपी दो युवकों को खूब पीटा और उनपर केरोसिन छिड़ककर आग लगा दी। बुरी तरह झुलसे युवकों में एक सुनील उरांव ने गुरुवार सुबह रांची के रिम्स में दम तोड़ दिया, जबकि दूसरे युवक आशीष उरांव की हालत भी गंभीर बनी हुई है। घटना बुधवार रात की है। इसे लेकर दो गांवों के बीच जबर्दस्त तनाव की स्थिति बनी हुई है। पुलिस मौके पर कैंप कर रही है।घटना के बारे में बताया गया कि गांव का एक परिवार गुमला के भंडरा में एक वैवाहिक समारोह में भाग लेने के बाद अपने गांव लौटने के लिए बस का इंतजार कर रहा था। इसी दौरान बगल के गांव वसुआ पोकटोली के दो युवक मोटरसाइकिल से वहां पहुंचे। उन्होंने बस का इंतजार कर रहे परिवार की 17 साल की किशोरी को गांव तक पहुंचाने के लिए मोटरसाइकिल पर लिफ्ट दे दी। चूंकि दोनों युवक बगल के गांव के थे और परिवार से पूर्व परिचित थे, इसलिए माता-पिता ने लड़की को उनके साथ भेज दिया।बाद में लड़की के माता-पिता घर लौटे तो बेटी घर पर नहीं मिली। तलाश शुरू हुई तो वह बगल के गांव में बदहवास हाल में मिली। उसके साथ दोनों युवकों ने किया था। इसकी खबर गांव के लोगों को हुई तो भीड़ इकट्ठा हो गई। गुस्साए लोगों ने थोड़ी देर में ही दोनों युवकों को बगल के गांव में पकड़ लिया। दोनों की पिटाई करते हुए वसुआ अंबाटोली गांव लाया गया और इसके बाद दोनों पर केरोसिन छिड़ककर आग लगा दी गई। उनकी बाइक भी आग के हवाले कर दी गई।घटनास्थल गुमला जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर है। पुलिस को घटना की जानकारी मिली तो बुरी तरह झुलसे दोनों युवकों को पहले गुमला सदर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उन्हें रिम्स रांची रेफर कर दिया गया। रिम्स में गुरुवार लगभग 11 बजे एक युवक सुनील उरांव की मौत हो गई। दूसरा आरोपी आशीष उरांव भी बुरी तरह जख्मी है और जीवन एवं मौत के बीच झूल रहा है।इस घटना के बाद बसुआ अंबाटोली और बसुआ पोकटोली गांव के लोगों के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। गुरुवार सुबह युवकों के गांव के लोगों ने लाठी-डंडों के साथ लड़की के गांव की ओर बढ़ने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। पुलिस ने कहा कि जिन ग्रामीणों ने आरोपी युवकों के साथ मारपीट की और उन्हें जलाने का प्रयास किया है, उनके विरुद्ध भी मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी, क्योंकि किसी भी व्यक्ति को क़ानून अपने हाथ में लेने का कोई अधिकार नहीं है । उन्होंने बताया कि इस घटना के बाद पुलिस गांव में कैंप कर रही है और ग्रामीणों के साथ बातचीत कर उत्पन्न तनाव को समाप्त करने का प्रयास कर रही है।एसडीपीओ मनीष चंद्र लाल ने बताया कि मामले की जांच चल रही है। पीड़िता और प्रत्यक्षदर्शियों का बयान दर्ज करने के बाद ही आगे कुछ कहा जा सकता है।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 05:31
उद्धरण 1 इमारत
मैन्‍युफैक्‍चरिंग PMI में सितंबर के दौरान लगातार दूसरे महीने दर्ज हुई वृद्धि, GST के अवरोध से उबर रही हैं कंपनियां****** देश में सितंबर में लगातार दूसरे माह मैन्‍युफैक्‍चरिंग PMI में तेजी का रुख रहा। नए ऑर्डर आने और उत्पादन बढ़ने से सितंबर में विनिर्माण गतिविधियां बेहतर रहीं, हालांकि उनकी वृद्धि की रफ्तार एतिहासिक रूझानों को देखते हुए कुछ धीमी रही। एक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष सामने आया है। निक्केई इंडिया मैन्युफैक्चरिंग पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) सितंबर माह में 51.2 अंक रहा। अगस्त के आंकड़े के मुकाबले इसमें मामूली बदलाव दिखा। इससे GST व्यवस्था लागू होने के बाद व्यावसायिक गतिविधियों में सुधार जारी रहने का संकेत मिलता है। हालांकि यह आंकड़ा 54.1 के दीर्घकालिक रूझान से नीचे रहा।ई-कॉमर्स पोर्टल FDI नीति का कर रहे हैं खुलेआम उल्‍लंघन, इनके खिलाफ कार्रवाई न होने पर अदालत जाएंगे व्यापारीPMI में 50 से कम अंक गिरावट को दर्शाता है जबकि इससे ऊपर का आंकड़ा व्यावसाय में वृद्धि का रुझान दिखाता है। PMI रिपोर्ट की लेखक और आईएचएस मार्किट की अर्थशास्त्री आश्ना डोधिया ने कहा कि सितंबर के आंकड़े उत्साहवर्धक तस्वीर दिखाते हैं। इन आंकड़ों से यह आभास मिलता है कि GST व्यवस्था लागू होने से जो व्यवधान पैदा हुआ था उससे कारोबारी गतिविधियां उबरने लगीं हैं और यह क्रम जारी है।डोधिया ने कहा, विनिर्माताओं के बीच कारोबारी विास भी बढ़ा है। उन्हें लगता है कि सरकार की हाल की नीतियों से उन्हें लंबी अवधि में फायदा होगा। इस दौरान विनिर्माण क्षेत्र में बेहतर रोजगार का अनुभव प्राप्त हुआ है जिससे कारोबारी विास की पुष्टि होती है। नए कारोबारी ऑर्डर मिलने से भारतीय मैन्‍युफैक्‍चरिंग ने अपने कर्मचारियों की संख्या बढ़ाई है और इसकी गति अक्‍टूबर 2012 के बाद सबसे ज्यादा तेज देखी गई है।प्रधानमंत्री के खादी फॉर फैशन कहने के बाद, रोजगार के लिए पांच करोड़ महिलाओं को दिए जाएंगे चरखे मूल्य के मोर्चे पर सर्वेक्षण में कहा गया है कि हालांकि सितंबर में लागत का दबाव बढ़ा है लेकिन मुद्रास्फीति दीर्घकालिक रुझान के मुकाबले लगातार कमजोर बनी रही। डोधिया ने कहा कि हाल के आर्थिक झाटकों का आर्थिक वृद्धि दर पर असर बना रहेगा। आईएचएस मार्किट ने इसी के चलते 2017-18 की आर्थिक वृद्धि अनुमान को कम कर 6.8 प्रतिशत किया है। हालांकि, डोधिया का कहना है कि यह देखना होगा कि प्रधानमंत्री की नई आर्थिक सलाहकार परिषद इस मामले में क्या कदम उठाती है।
2022-10-01 05:21
उद्धरण 2 इमारत
एसबीआई का तीसरी तिमाही में शुद्ध लाभ 41% बढ़कर 6,797.25 करोड़ रुपए पहुंचा, एनपीए घटा******SBI profit jumps 41per cent to Rs 6,797 crore in Q3 on lower provisioning देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का शुद्ध लाभ वर्ष 2019 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में एक साल पहले की इसी अवधि से 41 प्रतिशत बढ़कर 6,797.25 करोड़ रुपएहो गया। इसकी बड़ी वजह बैंक के फंसे कर्जों के लिए नुकसान का प्रावधान का होना है। एक साल पहले इसी अवधि में उसे 4,823.29 करोड़ रुपए का एकीकृत शुद्ध लाभ हुआ था। ने शेयर बाजारों को बताया कि तीसरी तिमाही में उसकी एकीकृत आय बढ़कर 95,384.28 करोड़ रुपए रही, जो 2018-19 की इसी तिमाही में 84,390.14 करोड़ रुपए थी। बैंक का प्रदर्शन परिसंपत्तियों के मोर्चे पर सुधरा है। 31 दिसंबर 2019 तक बैंक की सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) गिरकर 6.94 प्रतिशत रही। एक साल पहले इसी अवधि में यह आंकड़ा 8.71 प्रतिशत पर था।इस दौरान, शुद्ध भी 3.95 प्रतिशत से गिरकर 2.65 प्रतिशत पर आ गया। एकल आधार पर, बैंक का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 41.2 प्रतिशत बढ़कर 5,583.36 करोड़ रुपये हो गया। 2018-19 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में उसे 3,954.81 करोड़ रुपए का एकल शुद्ध लाभ हुआ था। स्टेट बैंक ने कहा, 'किसी भी तिमाही में यह उसका अब तक का सबसे अधिक शुद्ध लाभ है।'2019-20 की तीसरी तिमाही में बैंक की एकल आय बढ़कर 76,797.91 करोड़ रुपये रही, जो 2018-19 की इसी तिमाही में 70,311.84 करोड़ रुपए थी। एकल आधार पर, बैंक का फंसे कर्ज के लिए प्रावधान कम होकर 8,193.06 करोड़ रुपये रह गया। 2018-19 की तीसरी तिमाही के दौरान उसने 13,970.82 करोड़ रुपए का प्रावधान किया था।
2022-10-01 03:25
उद्धरण 3 इमारत
राजा छोड़ गए 20 हजार करोड़ की संपत्ति, 30 साल तक बेटियों ने लड़ी कानूनी लड़ाई, अब सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया अहम फैसला******Highlightsसुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक अहम फैसला सुनाते हुए 30 साल पुराने संपत्ति विवाद को खत्म कर दिया है। ये मामला फरीदकोट के महाराज की करीब 20 करोड़ की संपत्ति का है, जिसके हक के लिए उनकी बेटियां 30 साल से कानूनी लड़ाई लड़ रही थीं। संपत्ति में हीरे जवाहरात, किला, राजमहल और कई अन्य जगहों पर स्थित इमारतें शामिल हैं। मामले में दो बहनों को जीत मिली है और उन्हें संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा दिए जाने का फैसला बरकरार रखा गया है। सीजेआई यूयू ललित, जस्टिस एस रविंदर भट और जस्टिस सुधांशु धूलिया की पीठ ने कुछ सुधार के साथ हाई कोर्ट द्वारा सुनाए गए फैसले को बरकरार रखा है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले को 28 अगस्त को सुरक्षित रख लिया था।ये लड़ाई महारावल खेवाजी ट्रस्ट और महाराज की बेटियों के बीच लड़ी गई है। कोर्ट ने महाराज की वसीयत को खत्म करते हुए महारावल खेवाजी ट्रस्ट को 33 साल बाद भंग करने का फैसला सुनाया। ट्रस्ट के सीईओ जागीर सिंह का कहना है, हमें सुप्रीम कोर्ट के मौखिक फैसले के बारे में अभी तक पता नहीं चला है और न ही कोई लिखित आदेश मिला है। इससे पहले जुलाई 2020 में ट्रस्ट ने हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिसके बाद साल 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने यथास्थिति बनाए रखने को कहा और ट्रस्ट को देखरेख करने की मंजूरी दी। साल 2013 में चंडीगढ़ की जिला अदालत ने महाराज की दोनों बेटियों अमृत कौर और दीपिंदर कौर के हक में फैसला सुनाया था। जिसके बाद मामला पहले हाई कोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कहा है कि ऐसा लगता है कि ट्रस्ट के लोग संपत्ति हथियाने के लिए साजिश रच रहे हैं और झूठी बातें बता रहे हैं।ये कहानी साल 1918 से शुरू होती है। जब हरिंदर सिंह बरार को अपने पिता की मौत के बाद महज 3 साल की उम्र में महाराजा बनाया गया था। वह सियासत के आखिरी महाराज थे। बरार की शादी नरिंदर कौर से हुई, जिनसे उन्हें तीन बेटियां और एक बेटा हुआ। बेटियों के नाम अमृत कौर, दीपिंदर कौर और महीपिंदर कौर हैं। जबकि बेटे का नाम टिक्का हरमोहिंदर सिंह था। महाराज के बेटे की साल 1981 में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। जिसके बाद वह डिप्रेशन में चले गए। इसके सात से आठ महीने बाद उनकी वसीयत को तैयार किया गया।महाराज की संपत्ति की देखरेख करने के लिए एक ट्रस्ट बना। जिसकी जानकारी उनकी पत्नी और मां तक को नहीं थी। दीपिंदर कौर और महीपिंदर कौर को ट्रस्ट का चेयरपर्सन और वाइस चेयरपर्सन बनाया गया। वहीं वसीयत में लिखा है कि चूंकी महाराज की सबसे बड़ी बेटी अमृत कौर ने उनकी मर्जी के खिलाफ शादी की है, इसी वजह से उन्हें संपत्ति से बेदखल किया जाता है। वसीयत उस समय सामने आई, जब साल 1989 में महाराज की मौत हो गई थी।महाराज की बेटी महीपिंदर कौर की संदिग्ध परिस्थितियों में शिमला में मौत हो गई थी। वहीं अमृत कौर ने साल 1992 में स्थानीय अदालत में मामला दर्ज कराया। उन्होंने कहा कि हिंदू जॉइंट फैमिली होने के कारण संपत्ति पर उनका भी अधिकार है। जबकि उनके पिता ने अपनी वसीयत में पूरी संपत्ति ट्रस्ट को दे दी थी। अमृत कौर ने वसीयत पर सवाल खड़े किए थे।देश के आजाद होने के बाद महाराज को 20 हजार करोड़ रुपये की कीमत की संपत्ति दी गई, जिसमें चल और अचल संपत्ति शामिल है। इनके भवन और जमीनें पंजाब, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा और चंडीगढ़ में हैं। वहीं फरीदकोट में एक राजमहल है, जो 14 एकड़ में फैला हुआ है। इसे साल 1885 में बनवाया गया था। इसके एक हिस्से में अब 150 बेड का चैरिटेबल अस्पताल चल रहा है। इसके अलावा फरीदकोट में किला मुबारक है, जो 1775 में बना था। इसे राजा हमीर सिंह ने बनवाया था, जो 10 एकड़ में फैला हुआ है। वहीं अभी बची इमारत को साल 1890 में बनवाया गया था।महाराज की संपत्ति में नई दिल्ली का फरीदकोट हाउस है। यहां कॉपरनिकस मार्ग पर स्थित जमीन का बड़ा टुकड़ा केंद्र सरकार ने किराए पर लिया हुआ है। जिसका हर महीने का किराया 17 लाख रुपये है। वहीं इसकी कीमत की बात करें, तो वह 9 साल पहले करीब 1200 करोड़ रुपये थी। इसके साथ ही इनका चंडीगढ़ में मणीमाजरा किला और शिमला में फरीदकोट हाउस है। संपत्ति में 1920 मॉडल की रोल्स रॉयस, 1929 मॉडल की ग्राहम, 1940 मॉडल की बेंडली, जैगुआर, डामलर, पैकार्ड शामिल हैं, जो अभी चलने की स्थिति में हैं। महाराज की संपत्ति में एक हजार करोड़ रुपये के हीरे जवाहरात भी हैं, जिन्हें मुंबई के स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के पास सुरक्षित रखा गया है।
वापसी