नई पोस्ट करें

Olympics में गोल्ड मिलने की खुशी में भारत सरकार दे रही 2399 रुपए वाला 12 महीने का Recharge फ्री? जानिए सच्चाई

2022-10-01 05:13:42 611

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईUP Board Results 2019: जानिए कब आएगा 10वीं और 12वीं का रिजल्ट, पढ़िए पूरी जानकारी****** उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् (UPMSP) इस बार दसवीं और बारहवीं कक्षा के परिणाम समय से पहले जारी करेगा। बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि 10वीं और 12वीं का रिजल्ट तैयार हो रहा है। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड परिषद (UPMSP) की सचिव नीना श्रीवास्तव ने कहा कि अप्रैल के आखिर तक रिजल्ट जारी कर दिया जाएगा।हालांकि, उन्होंने परिणाम जारी होने की तारीख का खुलासा नहीं किया। लेकिन, कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक माना जा रहा है कि UP Board की 10वीं और 12वीं कक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया जाएगा। बता दें कि UPMSP ने पिछले साल यानि 2018 में 10वीं और 12वीं का रिजल्ट 29 अप्रैल 2018 को जारी किया था। इसलिए ऐसी उम्मीद की जा रही है कि बोर्ड इस बार भी 10वीं का रिजल्ट जल्द जारी करेगा।UPMSP के मुताबिक 10वीं की परीक्षा में इस बार कुल 58,06,922 छात्र-छात्राएं शामिल हुए थें। 10वीं की परीक्षा 7 फरवरी से 28 फरवरी के बीच 8,354 सेंटरों पर आयोजित की गई थी। यूपी बोर्ड प्रशासन की सख्ती की वजह से लगभग लाखों की संख्या में छात्र-छात्राओं ने 10वीं की परीक्षा छोड़ दी थी।यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में नकल न होने पाए इसके लिए प्रशासन ने लगभग सभी सेंटरों पर सीसीटीवी कैमरों और वॉयस रिकॉर्डर इंस्टॉल किया था। इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद वीडियो क्रॉफ्रेंसिंग के जरिए एग्जाम सेंटरों की जानकारी ले रहे थे। बता दें कि UP बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षा में शामिल छात्र अपना रिजल्ट घोषित होने के बाद बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकते हैं।

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईNCC सर्टिफिकेट वालों को सेना में अधिकारी बनने का मौका, आर्मी ने निकाली वेकेंसी******भारतीय सेना ने एनसीसी स्पेशल एंट्री स्कीम 49वीं कोर्स (अप्रैल 2021) शॉर्ट सर्विस कमीशन (एनटी) के लिए भर्ती अधिसूचना जारी की है। इन पदों के लिए महिलाएं और पुरुष आवेदन कर सकते हैं। उम्मीदवार का अविवाहित होना आवश्यक है। इच्छुक उम्मीदवार भारत सेना एनसीसी भर्ती 2021 के लिए joinindianarmy.nic.in पर 30 दिसंबर 2021 से 28 जनवरी 2021 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।कुल 55 रिक्तियां उपलब्ध हैं, जिनमें से 50 एनसीसी पुरुषों के लिए और 5 एनसीसी महिलाओं के लिए हैं।कुल पद - 55 50 पद (सामान्य वर्ग के लिए 45 और वार्ड ऑफ़ बैटल कैजुअल्टीज़ ऑफ़ आर्मी के जवानों के लिए केवल 05) 5 पद (सामान्य वर्ग के लिए 04 और सेना के जवानों के युद्ध हताहतों के लिए 01 पद)ऑफिसर 6 महीने की अवधि के लिए ब्रोबेशन पर होगा, जब तक कि वह अपना कमीशन प्राप्त नहीं कर लेता है.किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से भी वर्षों के अंकों को ध्यान में रखते हुए न्यूनतम 50% अंकों के साथ डिग्री. अंतिम वर्ष में अध्ययन करने वालों को भी आवेदन करने की अनुमति है बशर्ते कि उन्होंने पहले दो / तीन वर्षों में क्रमशः तीन / चार साल के डिग्री कोर्स में न्यूनतम 50% कुल अंक प्राप्त किए हों.NCC के सीनियर डिवीजन / विंग में न्यूनतम तीन साल (22 फरवरी 2013 से अब तक) या दो साल (23 मई 2008 से 21 फरवरी 2013 तक) के लिए काम करना चाहिए था.:एनसीसी के सर्टिफिकेट ‘सी ’प्रमाणपत्र परीक्षा में न्यूनतम‘ बी ’ग्रेड प्राप्त करना चाहिए. आवेदक, जिनके पास आवेदन की तिथि तक एनसीसी, सी ’प्रमाणपत्र नहीं हैं, पाठ्यक्रम के लिए आवेदन करने के लिए पात्र नहीं हैं.किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से न्यूनतम 50% के कुल के साथ डिग्री या समकक्ष. युद्ध के हताहतों के वार्ड के लिए एनसीसी 'सी' प्रमाणपत्र की आवश्यकता नहीं है.उम्मीदवार इस बात का ध्यान रखें कि आवेदन केवल ऑनलाइन ही स्वीकार किए जाएंगे. इसके लिए पर जाएं. इस वेबसाइट पर जाकर ‘officer entry appln/Login’ पर क्लिक करें और उसके बाद ‘Registrations’ पर जाएं. अगर पहले ही रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं तो दोबारा करवाने की आवश्यकता नहीं होगी. ये याद रहे कि रजिस्ट्रेशन भी ऊपर बतायी वेबसाइट पर भी होगा. बाकी किसी भी विषय में विस्तार से जानकारी हासिल करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं.मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईपश्चिम बंगाल गैंगरेप मामले में तीन और आरोपी गिरफ्तार, TMC नेता का बेटा है मुख्य आरोपी******Highlightsसीबीआई ने पश्चिम बंगाल के नादिया जिले के हंसखली में 14 वर्षीय लड़की के कथित सामूहिक दुष्कर्म और मौत मामले में रविवार को तीन लोगों को गिरफ्तार किया। सीबीआई के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। सीबीआई अधिकारी ने कहा कि जांच के दौरान घटना में उनकी संलिप्तता स्पष्ट होने पर तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। सीबीआई ने इस मामले में पहले एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था, जबकि कलकत्ता उच्च न्यायालय के निर्देश पर जांच अपने हाथ में लेने के बाद राज्य पुलिस ने दो और लोगों को हिरासत में लिया था। चार अप्रैल को तृणमूल कांग्रेस के एक स्थानीय नेता के घर में जन्मदिन की पार्टी में कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म के बाद कक्षा नौ की छात्रा की मौत हो गई थी। इस मामले का मुख्य आरोपी तृणमूल के एक स्थानीय नेता का बेटा है।बता दें, नाबालिग के परिजनों ने घटना के चार दिन बाद हांसखाली पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी। परिजनों ने पुलिस को बताया कि उनकी बेटी आरोपी के बर्थडे पार्टी में शामिल होने गई थी, लेकिन जब घर लौटी तो उसकी हालत ठीक नहीं थी। घर लौटने के कुछ देर बाद ही लड़की की मौत हो गई।बिना पोस्टमॉर्टम के ही हुआ अंतिम संस्कारपरिजनों ने बताया कि पार्टी से जब उनकी बेटी घर आई उस वक्त उसकी हालत बहुत खराब थी। बहुत सारा खून बह रहा था। अस्पताल ले जाने से पहले ही उसकी मौत हो गई। परिजनों का कहना था कि पार्टी में मौजूद लोगों से उन्होंने बात कि जिसके मुताबिक टीएमसी नेता के बेटे ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर उनकी बेटी के साथ गैंगरेप किया। मृतक के माता-पिता का कहना था कि राजनीतिक दबाव में पुलिस उनकी बेटी का शव जबरन ले गई और बिना पोस्टमॉर्टम कराया ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Olympics में गोल्ड मिलने की खुशी में भारत सरकार दे रही 2399 रुपए वाला 12 महीने का Recharge फ्री? जानिए सच्चाई

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईChhattisgarh Assembly Elections 2018: किंग या फिर किंगमेकर भी भूमिका में हैं ये पांच दिग्‍गज****** सर पर हैं। सत्‍ता हासिल करने के लिए पार्टियों के बीच सियासी जंग शुरू हो गई है। अभी तक हुए तीनों चुनावों में राज्‍य ने और के बीच सीधी टक्‍कर देखी है। पिछली बार कांग्रेस और बीजेपी के बीच जीत हार का अंतर मात्र 1 फीसदी का था। इस बार कांग्रेस छोड़ मायावती के साथ मैदान में उतरे अजीत जोगी ने इस बार चुनावी गणित बिगाड़ दिया है। ऐसे में सभी पार्टियां अपनी दावेदारी पुख्‍ता करने के लिए अपने कद्दावर नेता पर दांव लगा रही है। आइए जानते हैं उन पांच चेहरों के बारे में जो इस चुनाव में या तो किंग या फिर किंग मेकर की भूमिका निभाएंगे।छत्‍तीसगढ़ में चाउर वाले बाबा (चावल वाले बाबा) के रूप में प्रसिद्ध रमन सिंह इस साल चौथी बार मुख्‍यमंत्री बनने की तैयारी में हैं। राज्‍य में बृजमोहन अग्रवाल जैसे जमीनी नेताओं के बावजूद एक मुख्‍यमंत्री के रूप में भाजपा के एक मात्र विकल्‍प हैं। अपनी साफ छवि और जनउपकारी नीतियों के कारण नक्‍सल क्षेत्रों में भी रमन की अच्‍छी पकड़ है। इंडिया टीवी और सीएनएक्‍स के सर्वे में भी रमन सिंह को 40 फीसदी लोगों ने अपना पहला विकल्‍प माना है।छत्‍तीसगढ़ में कांग्रेस के अध्‍यक्ष भूपेश बघेल को अपनी जमीनी पकड़ के चलते काफी पहचान मिली है। वे 2014 से छत्‍तीगसढ़ कांग्रेस के अध्‍यक्ष हैं और पाटन विधानसभा से विधायक हैं। राहुल की रैलियों से लेकर पार्टी के प्रत्‍याशियों तक उनका हर जगह दखल है। हालांकि उनके कार्यकाल में अजीत जोगी जैसे दिग्‍गज का अलग हो जाना उनकी नाकामियां भी दर्शाता है। लेकिन पिछले दिनों चर्चित सीडी कांड में जेल जाने के बाद से उनकी लोकप्रियता का ग्राफ तेजी से चढ़ा है।अजीत जोगी छत्‍तीगसढ़ का सबसे चर्चित चेहरा है जिसे गांधी परिवार से नज़दीकी के चलते दिल्‍ली में भी अच्‍छी पहचान हासिल है। जोगी छत्‍तीसगढ़ के पहले मुख्‍यमंत्री हैं लेकिन न तो वे और न ही कांग्रेस को कभी भी छत्‍तीसगढ़ में जीत नसीब हुई है। अजीत जोगी ने अपने करियर की शुरुआत बतौर कलेक्टर की थी।1986 में उन्‍होंने कांग्रेस ज्वाइन की। 2016 में कांग्रेससे बगावत कर जोगी ने अपनी अलग पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ बनाई।मनमोहन सरकार में कृषि राज्‍य मंत्री रहे चरणदास महंत भी इस बार राज्‍य की राजनीति में दांव आजमा रहे हैं। अपने बयानों के लिए चर्चा में रहे महंत राज्‍य के जांजगीर चांपा क्षेत्र से आते हैं। इस बार पार्टी ने उन्‍हें सक्ति विधानसभा सीट से खड़ा किया है। महंत 1998 में पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए थे। उसके बाद से वे 3 बार सांसद रहे। इस बार के चुनावों में पार्टी स्‍तर पर उन्‍हें कई महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारियां दी गई हैं।छत्‍तीसगढ़ की मौजूदा रमन सरकार में नंबर 2 का ओहदा रखने वाले बृजमोहन अग्रवाल खांटी जमीनी नेता हैं। अग्रवाल समाज से आने के चलते व्‍यापारी समुदाय में उनका काफी दबदबा है। मध्‍य प्रदेश के समय से विधानसभा सदस्‍य रहे अग्रवाल की भाजपा संगठन में भी अच्‍छी पकड़ है। उन्‍हें पक्ष-विपक्ष से लेकर बूथ मैनेजमेंट में भी महाराथ हासिल है।छत्‍तीसगढ़ मेंचुनावकेदोनोंचरण 20नवंबरतक खत्म हो जाएंगे।लेकिनमतगणनाके लिएयहांकेलोगोंकोकरीबतीन हफ्तेइंतजारकरनाहोगा। शेष चार राज्‍यों मेंमतदानप्रक्रिया समाप्‍तहोनेके बाद 11दिसंबरकोमतोंकीगणनाकी जाएगी।चुनावआयोगने 5 राज्योंयानिमध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़,तेलंगानाऔरमिजोरममेंचुनावकीतारीखोंकाऐलानकरदियाहै। 5 राज्यों केविधानसभाचुनावोंको 2019 केलोकसभाचुनावोंके लिएकाफीमहत्वपूर्णमानाजा रहा है। 5 राज्यों में 12नवंबरसेलेकर7दिसंबरकेदौरानमतदानहोगाऔरवोटोंकीगिनती11दिसंबरको होगी। इन 5 राज्यों में सेफिलहाल3 राज्योंयानिमध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान मेंभारतीयजनतापार्टी कीसरकारहैजबकितेलंगानामेंटीआरएसऔरमिजोरममें कांग्रेस कीसरकारहै।मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईकोरोना के साइड इफेक्ट्स नहीं हो रहे हैं खत्म? स्वामी रामदेव से जानिए कैसे करें रिकवरी******Highlightsएम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया के मुताबिक देश में कोरोना की तीसरी लहर आने के चांसेस ना के बराबर हैं। डॉ. गुलेरिया के मुताबिक हर बीतते दिन के साथ वायरस के तीसरे अटैक की संभावना खत्म होती जा रही है। हालांकि रशिया और बेलारूस जैसे देशों में वायरस लगातार तबाही मचा रहा है। ऑस्ट्रिया में कोरोना को रोकने के लिए फिर से लॉकडाउन लगा दिया गया है।भारत में कोरोना के कम होते केस राहत की बात है, लेकिन राहत उनको अभी भी नहीं मिली है, जो कोरोना से जंग लड़ चुके हैं। दरअसल, कोरोना की सेकंड वेव को खत्म हुए भले ही 5 महीने बीत चुके हैं, लेकिन महीनों बाद भी लोगों को खांसी, सांस लेने में तकलीफ और सीने में भारीपन बना हुआ है।कोरोना के बाद बिना किसी लक्षण या वॉर्निंग के हार्ट अटैक के मामले देश में बढ़ते जा रहे हैं। BHU की स्टडी की मानें तो देश में हार्ट प्रॉब्ल्म्स लेकर आने वाले नए मरीज़ों की तादात बढ़ी है और ऐसे मरीज़ों में ज्यादातर की कोविड हिस्ट्री रही है।कोविड के बाद आई बीमारियों की लिस्ट यहीं खत्म नहीं होती। नर्व्स से जुड़ी परेशानियां, शुगर लेवल बढ़ना और याददाश्त कमजोर होने के मामले हर दिन रिपोर्ट हो रहे हैं। तो ऐसे में क्या करें कि कोरोना के साइड इफेक्ट तो खत्म हो ही, जो नुकसान सेहत को पहुंचा है, उसकी भी रिकवरी हो सके। इसका जवाब है योग। स्वामी रामदेव से जानिए योगाभ्यासों, आयुर्वेदिक उपायों के बारे में।हरी सब्जियां खाएंआंवला-एलोवेरा का जूस पीएंटमाटर का सूप पीएंहीमोग्लोबिन बढ़ेगाथकान दूर होगीखजूर खाएंअंजीर-मुन्नका रोज़ खाएंदूध के साथ केले खाएंदही के साथ दोपहर में केले खाएंरोज़ करें प्राणायामगर्म पानी पीएंतुलसी उबालकर पीएंश्वासारि-गिलोय पीएंठंडा पानी ना लेंदही-छाछ ना खाएंतले-भुने खाने से बचें15 मिनट सूक्ष्म व्यायाम करेंरोज सुबह लौकी का जूस पीएंतले-भुने खाने से बचेंस्मोकिंग बिल्कुल ना करेंअर्जुन की छाल का काढ़ा पीएंखीरा-करेला-टमाटर का जूस लेंगिलोय का काढ़ा पीएंमंडूकासन- शशकासन फायदेमंद15 मिनट कपालभाति करेंनीम के पत्तों का रस 1 चम्मच पीएंपीपल के पत्तों का रस 1 चम्मच लेंडाइट में प्रोटीन कम करेंनमक कम खाएंकुलथ की दाल खाएंपत्थर चट्टा के 3-4 पत्ते खाएंसिर्फ गर्म पानी पीएंसुबह खाली पेट नींबू-पानी लेंलौकी का सूप-जूस,लौकी की सब्जी खाएंअनाज और चावल कम कर देंसलाद खाएंखाने के 1 घंटे बाद पानी पीएंआंवला, एलोवेरा, व्हीटग्रास का जूस लेंबालों में एलोवेरा लगाएंनारियल तेल में करी पत्ता पकाकर लगाएंबालों की जड़ों में प्याज का रस लगाएंशीर्षासन जरूर करेंबॉडी में एनर्जी आती हैवजन कम करने में मददगारशरीर मजबूत बनता हैबॉडी फ्लेक्सिबल बनती हैहाथ-पैर मजबूत होते हैंकिडनी को स्वस्थ बनाता हैमोटापा दूर करने में सहायकशरीर का पोश्चर सुधरता हैपाचन प्रणाली को ठीक होती हैटखने के दर्द को दूर भगाता हैकिडनी को स्वस्थ बनाता हैलिवर से जुड़ी दिक्कत दूर होती हैतनाव, चिंता, डिप्रेशन दूर करता हैकमर का निचला हिस्सा मजबूत होता हैफेफड़ों, कंधों, सीने को स्ट्रेच करता हैरीढ़ की हड्डी मजबूत होती हैछाती चौड़ी होती हैफेफड़ों की कार्यक्षमता बढ़ती हैपीठ, बांहों को मजबूत बनाता हैरीढ़ की हड्डी मजबूत होती हैशरीर को लचकदार बनाता हैसीने को चौड़ा करने में सहायकशरीर के पॉश्चर को सुधारता हैडायबिटीज को दूर करता हैपेट और दिल के लिए भी लाभकारीपाचन तंत्र सही होता हैलिवर और किडनी को स्वस्थ रखता हैकब्ज की समस्या दूर होती हैगैस से छुटकारा मिलता हैपाचन की परेशानी दूर होती हैछोटी-बड़ी आंते सक्रिय होती हैंपेट पर पड़ने वाला दबाव फायदेमंदकैंसर की रोकथाम में कारगरपेट की कई समस्याओं में राहतपाचन क्रिया ठीक रहती हैकब्ज ठीक होती हैफेफड़े स्वस्थ और मजबूत रहते हैंअस्थमा, साइनस में लाभकारीकिडनी को स्वस्थ रखता हैबीपी कंट्रोल करता हैपेट की चर्बी को दूर करता हैमोटापा कम करने में मददगारदिल को सेहतमंद रखता हैपैरों के दर्द में आराम मिलता हैपैरों में सूजन दूर होती हैशुगर के मरीजों के लिए फायदेमंदतनाव और चिंता से मुक्ति मिलती हैदिल तक शुद्ध रक्त पहुंचता हैएकाग्रता बढ़ाने में मदद मिलती हैयाद की हुई चीजें भूलते नहींशीर्षासन से डिप्रेशन दूर होता हैचेहरे में चमक आती है, सुंदरता बढ़ती हैत्वचा मुलायम और खूबसूरत बनती हैमानसिक शांति और स्मरण शक्ति बढ़ती हैदिमाग में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाता हैआंखों की रोशनी बढ़ाने में कारगरनाक और सीने की समस्या दूर होती हैतनाव और चिंता दूर होती हैवजन घटाने के लिए बहुत कारगरदिल को स्वस्थ रखने में सहायकअस्थमा के रोग को दूर करता हैबंद नाक खुल जाती हैफेफड़ों को अधिक ऑक्सीजन मिलती हैएलर्जी से हो रहा स्ट्रेस खत्म करता हैदिन में दो बार 7-8 मिनट अभ्यास करेंसांस को नाक पर प्रेशर डालते हुए छोड़ा जाता हैबंद सांस नली कपालभाति से खुल जाती हैसांस का लेना आसान हो जाता हैनर्व मजबूत, शरीर के ब्लड फ्लो में सुधारदिमाग को शांत करता हैशरीर में गर्माहट आती हैध्यान लगाने की क्षमता बढ़ती हैहृदय के रोगों में फायदेमंदतनाव और चिंता दूर होती हैवजन घटाने में मदद करता हैनर्वस सिस्टम को ठीक रखता हैमेमोरी पावर बढ़ाने में सहायकमेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईतबलीगी जमात पर कार्रवाही के बाद लगे अल्पसंख्यक विरोधी आरोपों का योगी आदित्यनाथ ने दिया जवाब******लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इंडिया टीवी से खास बातचीत मेंतबलीगी जमात पर कार्रवाई करने पर उनके उपर लगे अल्पसंख्यक विरोधी होने के आरोपों पर कहा कि मैं राजनीति भी करूं और लोगों के कहने पर बुरा भी मानूं तो विरोधाभास होगा, अगर मैं राजनीति में हूं तो मुझे आरोप प्रत्यारोप झेलने की सामर्थ्य भी रखनी पड़ेगी। लेकिन काम वही करना है जो नियम कहेगा। अगर डिजास्टर मैनेजमेंट कुछ एडवायजरी जारी की है तो उसका पालन कराना मेरा कर्तव्य है। तब्लीगी जमात ने जो किया वह अक्षम्य अपराथ है, अगर तबलीगी जमात और मरकज से जुड़े लोगो शुरू में गलती न करते तो आज देश की इतनी स्थिति न होती, संक्रमण न्यूनतम स्तर पर होता।योगी आदित्यानाथ ने कहा कि इन्होंने इंफेक्शन छुपाया और उसको फैलाने का काम किया। ये अपराध है और लगातार शरारत करते रहे कोई थूकता रहा कोई बदत्मीजी करता रहा कोई मारपीट करता रहा को ई पुलिस पर हमला करता रहा, यह स्वीकार्य नहीं हो सकता। इसलिए भारत सरकार ने भी महामारी एक्ट में बदलाव किए और हर कोरोना वारियर को सुरक्षा दी।मुख्यमंत्री ने कहा कि मानवता की रक्षा के लिए यह कदम उठाए गए हैं। अगर कोई कहता है कि हम मजहब विरोधी हैं मत विरोधी हैं तो हमारा काम इस प्रकार की चीजों को सुनने का नहीं है, हमारा काम कानून के मुताबिक काम करना है और जो नियम हैं उसके तहत काम करना है। जब भी मानवता के हित में कोई कदम उठाने होंगे तो उनको उठाने में हम हिचकेंगे नहीं।

Olympics में गोल्ड मिलने की खुशी में भारत सरकार दे रही 2399 रुपए वाला 12 महीने का Recharge फ्री? जानिए सच्चाई

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईMaharashtra News: डिप्टी सीएम बनकर असहज थे फड़णवीस, सीएम शिंदे ने बताया कैसे बनी बात******Highlights महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में बीजेपी और शिंदे गुट की शिवसेना सरकार चला रही है। अब इस मामले पर सीएम एकनाथ शिंदे ने खुलकर बात की है। उन्होंने शिवसेना पर कब्जे को लेकर चल रही खींचतान के बारे में बताया। साथ ही यह भी बताया कि कैसे ​देवेंद्र फड़णवीस डिप्टी सीएम बनने को लेकर असहज हो रहे थे और बाद में कैसे बात बनी थी।चुनाव चिह्न को लेकर ठाकरे और शिंदे में मची हुई है खींचतानमहाराष्ट्र में शिंदे सरकार को बने दो माह के करीब हो चुके हैं। इस दौरान देर से ही सही, लेकिन मंत्रीमंडल का विस्तार भी हो गया है। अब शिवसेना के चुनाव चिह्न को लेकर लड़ाई चल रही है। इसी बीच महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने शिवसेना से बगावत का बचाव किया है। उन्होंने साफ कहा कि महाराष्ट्र की जनता की ओर से बीजेपी शिवसेना गठबंधन को वोट मिला था, इसलिए जनादेश का सम्मान जरूरी था।फड़णवीस का डिप्टी सीएम बनना थी महाराष्ट्र की सियासत की अहम घटनामहाराष्ट्र की सियासत में आए तूफान का सबसे नाटकीय घटनाक्रम था ​देवेंद्र फड़णवीस का सीएम बनना। ये निर्णया वाकई चौंकाने वाला था। एकनाथ शिंदे सीएम बन गए और डिप्टी सीएम देवेंद्र फड़णवीस, जिन्होंने महाराष्ट्र की सत्ता 5 साल तक चलाई। एकनाथ शिंदे का इस बारे में कहना है कि मैं खुद पहले हैरान रह गया था कि देवेंद्र फड़णवीस को डिप्टी सीएम और मुझे सीएम बनाया गया है। जब फड़णवीस ने सीएम पद के लिए मेरे नाम की घोषणा की तो वे खुश नजर आ रहे थे। लेकिन जब पार्टी ने उन्हें डिप्टी सीएम बनने को कहा तो वे शुरू में असहज दिखाई दिए। शिंदे ने कहा कि तब मैंने खुद उनसे इस असहजता को लेकर बात की थी। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि पार्टी का हाईकमान से आदेश है, उसे स्वीकार करना होगा।महाविकास अघाड़ी की सरकार में नहीं मिला सम्मान: शिंदेदेवेंद्र के अलावा महाविकास अघाड़ी यानी एमवीए की सरकार में शिवसेना के विधायकों का कोई सम्मान नहीं था। वे कहते हैं कि उस सरकार में कुछ भी सही नहीं हो रहा था। हमारे विधायकों को काम करने के लिए फंड भी नहीं मिल रहा था। कहने को हमारी पार्टी का सीएम, लेकिन सम्मान नहीं मिलता था। मैंने खुद ठाकरेजी से कहा था कि हमें उस पार्टी से हाथ मिलाना चाहिए, जिससे विचारधारा मिलती है। पर बात नहीं बन पाई।कांग्रेस से कभी गठबंधन नहीं करेंगे: सीएम एकनाथ शिंदेएकनाथ शिंदे ने कहा कि वे कभी भी भविष्य में कांग्रेस और एनसीपी से हाथ नहीं मिलाएंगे। वे बताते हैं कि बालासाहेब ने भी कहा था कि वे कांग्रेस से गठबंधन करने की बजाय अपनी दुकान बंद करना बेहतर विकल्प समझेंगे। शिंदे की मानें तो उन्होंने सिर्फ बालासाहेब की विचारधारा को ही आगे बढ़ाने का काम किया है। सीएम शिंदे ने कहा कि वे जल्दी ही सभी विधायकों के साथ अयोध्या जाएंगे। ये कोई राजनीतिक दौरा नहीं होगा। आस्था के कारण दर्शन के लिए वे अयोध्या जाएंगे।मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईMizoram news: मिज़ोरम में म्यांमार के 30 हज़ार से ज्यादा रिफ्यूजी, जारी किए गए पहचान पत्र******Highlights पिछले साल फरवरी में पड़ोसी देश म्यांमार में सेना द्वारा सत्ता हथियाए जाने के बाद से अब तक 11,798 बच्चे और 10,047 महिलाओं सहित म्यांमार के 30,316 नागरिकों ने मिज़ोरम के विभिन्न हिस्सों में शरण ली है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को इसकी जानकारी दी। राज्य के गृह विभाग द्वारा महीने की शुरुआत में इकट्ठा किए गए आंकड़ों का हवाला देते हुए अधिकारी ने कहा कि संकटग्रस्त देश छोड़कर मिज़ोरम आने वालों में 14 विधायक भी शामिल हैं।उन्होंने आगे बताया कि 30,316 लोगों में से 30,299 लोगों की प्रोफाइलिंग पूरी हो चुकी है। साथ ही होल्डर को रिफ्यूजी के रूप में प्रमाणित करने वाले पहचान पत्र 30 हज़ार से ज्यादा लोगों को जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि रिफ्यूजी कार्ड राज्य सरकार द्वारा जारी किया जा रहा है। इसे केवल मिज़ोरम में पहचान के उद्देश्य के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है और सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए यह वैध दस्तावेज़ नहीं होगा। एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर पीटीआई को बताया कि ''म्यांमार के नागरिकों का लेखा जोखा रखने के लिए पहचान पत्र जारी किए जा रहे हैं। यह उन व्यक्तियों को उनसे दूर रखेगा जो निहित राजनीतिक हितों के लिए उन्हें भारत की नागरिकता देना चाहते हैं।'' प्रत्येक पहचान पत्र में कहा गया है कि वाहक म्यांमार का नागरिक है और मिज़ोरम में रह रहा है।पहचान पत्र में लिखा है, ''यह सिर्फ पहचान के लिए है और ऑफिशियल या किसी अन्य उद्देश्य की पूर्ति के लिए इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा। साथ ही यह ट्रांसफरेबल नहीं है।'' अधिकारी के मुताबिक, राज्य के विभिन्न हिस्सों में सरकारी, गैर-सरकारी संगठनों, गांव के अधिकारियों और म्यांमार के नागरिकों द्वारा कम से कम 156 अस्थायी राहत शिविर स्थापित किए गए हैं, जिसमें सियाहा जिले में अधिकतम 41 शिविर हैं, इसके बाद लॉंगतलाई में 36 और चम्फाई में 33 शिविर हैं। उन्होंने कहा कि राज्य ने अब तक 80 लाख रुपये की राहत राशि स्वीकृत की है।

Olympics में गोल्ड मिलने की खुशी में भारत सरकार दे रही 2399 रुपए वाला 12 महीने का Recharge फ्री? जानिए सच्चाई

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईभाजपा गोवा में सरकार बनाने का दावा पेश करने के संबंध में शुक्रवार को फैसला करेगी******Highlightsगोवा में सत्ता बरकरार रखने में सफल रहने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह शुक्रवार को अपने नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक के बाद राज्य में अगली सरकार बनाने का दावा पेश करने पर फैसला करेगी। इससे पूर्व दिन में पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा था कि 40 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 20 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है और पार्टी गुरुवार की शाम राज्यपाल पी.एस. श्रीधरन पिल्लई से मुलाकात करेगी और सरकार बनाने का दावा पेश करेगी। ने कहा है कि उसे महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (दो सीट) और तीन निर्दलीय विधायकों से समर्थन के पत्र मिले हैं, जिससे सत्तारूढ़ दल 21 के बहुमत के आंकड़े को पार करने में सक्षम है। भाजपा के गोवा के लिए चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि सरकार बनाने का दावा पेश करने पर फैसला शुक्रवार को पार्टी विधायक दल की बैठक के बाद लिया जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, भाजपा की गोवा इकाई के अध्यक्ष सदानंद तनवड़े, केन्द्रीय मंत्री श्रीपद नाइक और पार्टी के अन्य नेताओं की उपस्थिति में संवाददाता सम्मेलन में यह टिप्पणी की।फडणवीस ने कहा कि एमजीपी ने औपचारिक रूप से भाजपा को सरकार गठन में पार्टी को समर्थन देने के लिए एक पत्र दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘एमजीपी के दोनों विजयी उम्मीदवार तीन निर्दलीय विधायकों के साथ भाजपा का समर्थन करेंगे।’’ उन्होंने कहा कि पार्टी का केंद्रीय संसदीय बोर्ड उन सभी राज्यों के परिणामों पर चर्चा करने के लिए गुरुवार की देर रात नई दिल्ली में बैठक करेगा, जहां फरवरी-मार्च में चुनाव हुए थे।उन्होंने कहा, ‘‘समिति गोवा के लिए एक पर्यवेक्षक नामित करेगी, जो विधायक दल की बैठक में भाग लेने के लिए कल यहां पहुंचेंगे।’’ महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि बैठक के बाद, पार्टी राज्यपाल से मिलने और सरकार गठन के लिए दावा पेश करने की तारीख तय करेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व सभी चार राज्यों में अगली सरकार के शपथ ग्रहण समारोहों में शामिल होगा। के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत राज्य के विधानसभा चुनाव में खंडित जनादेश की आशंका को धत्ता बताते हुए पार्टी को विजय दिलाने में सफल रहे। सावंत के नेतृत्व में भाजपा ने 40 सदस्यीय विधानसभा की 20 सीटों पर विजय प्राप्त की, जो पिछले चुनाव की तुलना में अधिक हैं। माना जा रहा है कि सावंत मुख्यमंत्री के पद पर बने रहेंगे। सावंत (48) उत्तर गोवा जिले की सांखली सीट से तीसरी बार विधायक चुने गए हैं।भाजपा ने साल 2017 में जब मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में राज्य में सरकार बनाई थी तब सावंत को विधानसभा का अध्यक्ष बनाया गया था। लेकिन मार्च 2019 में पर्रिकर के निधन के बाद उन्हें मुख्यमंत्री बना दिया गया। आयुर्वेद चिकित्सक सावंत ने अपनी यात्रा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का सदस्य बनकर आरंभ की और वह मुख्यमंत्री रहते हुए भी संघ के वार्षिक संचालन कार्यक्रम में भाग लेते रहे हैं।

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईग्वारसीड की खेती 17% पिछड़ी, पैदावार हो सकती है प्रभावित******Guarseed sowing lagging behind 17 percent in Rajasthan Haryana and Gujaratदेश के तीन बड़े उत्पादक राज्यों में इस साल ग्वार की खेती पिछले साल के मुकाबले पिछड़ी हुई है जिस वजह से इस साल ग्वार की पैदावार प्रभावित होने की आशंका जताई जा रही है। देश में ग्वारसीड का ज्यादातर उत्पादन , हरियाणा और गुजरात में होता है और इस साल इन तीनो ही राज्यों में ग्वार की खेती पिछले साल के मुकाबले पिछड़ी हुई है। तीनों राज्यों में 16 जुलाई तक कुल मिलाकर 16.50 लाख हेक्टेयर में खेती दर्ज की गई है जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 17 प्रतिशत कम है, पिछले साल इस दौरान करीब 20 लाख हेक्टेयर में ग्वार की फसल लग चुकी थी।ग्वारसीड की सबसे ज्यादा उपज देने वाले राज्य राजस्थान की बात करें तो इस साल वहां रकबा करीब 14 प्रतिशत पिछड़ा हुआ है, 16 जुलाई तक राजस्थान में 14.55 लाख हेक्टेयर में ग्वारसीड की खेती दर्ज की गई है जबकि पिछले साल इस दौरान 16.88 लाख हेक्टेयर में फसल लग चुकी थी। पिछले साल पूरे सीजन में लगभग 34.22 लाख हेक्टेयर में ग्वार की खेती हुई थी और इस साल रकबा पिछले साल के मुकाबले कम होने की आशंका बढ़ गई है।कुछ ऐसा ही हाल और गुजरातका भी है, हरियाणा में 16 जुलाई तक 1.81 लाख हेक्टेयर में फसल दर्ज की गई है जबकि पिछले साल इस दौरान 2.29 लाख हेक्टेयर में खेती हो चुकी थी। गुजरात में भी खेती पिछड़ चुकी है, 16 जुलाई तक वहां सिर्फ 14269 हेक्टेयर में खेती दर्ज की गई है जबकि पिछले साल इस दौरान 83100 हेक्टेयर में खेती हो चुकी थी।देश में पैदा होने वाले कुल ग्वारसीड का 70-80 प्रतिशत हिस्सा अकेले राजस्थान से आता है और पिछले 5 साल के दौरान राजस्थान में इसके उत्पादन में लगातार गिरावट देखी जा रही है। राजस्थान कृषि विभाग के मुताबिक 2013-14 के दौरान वहां उत्पादन 28.61 लाख टन था जो पिछले साल घटकर सिर्फ 12.44 लाख टन दर्ज किया गया। इस साल राजस्थान में फिर से रकबा घटा है जिससे ग्वारसीड की पैदावार में इस साल भी गिरावट आने की आशंका बढ़ गई है। वहीं दूसरी तरफ ग्वारसीड से तैयार होने वाले ग्वारगम की निर्यात मांग की बात करें तो निर्यात लगातार बढ़ता जा रहा है। वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान ग्वारगम निर्यात में 17 प्रतिशत का उछाल आया है जबकि चालू वित्त वर्ष 2018-19 के शुरुआती 2 महीने के दौरान 95000 टन से ज्यादा ग्वारगम एक्सपोर्ट हो चुका है।मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाई9 दिन के लोन मेला कार्यक्रम में बैंकों ने बांटा 81,700 करोड़ रुपए का कर्ज, दिवाली से पहले मिलेगा MSME को बकाया******उद्यमियों, किसानों और दूसरे जरूरतमंदों को कर्ज उपलब्ध कराने के लिए शामियाना लगाकर खुले में आयोजित ऋण मेले में बैंकों ने नौ दिन में कुल मिलाकर 81,781 करोड़ रुपए का वितरित किया। बैंकों की ओर से यह आयोजन एक अक्टूबर से शुरू किया गया था। वित्त सचिव राजीव कुमार ने सोमवार को कहा कि उद्यमियों और जरूरतमंदों तक सीधे पहुंच बनाने के इस कार्यक्रम के दौरान कुल 81,781 करोड़ रुपए का कर्ज दिया गया। इसमें 34,342 करोड़ रुपए का नया ऋण शामिल है।वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि बैंकों के पास पर्याप्त नकदी है और यह सुनिश्चित किए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं कि बड़ी कंपनियों की तरफ से सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) को उनका बकाया जल्द से जल्द जारी कर दिया जाए।सीतारमण ने कहा कि छोटे कारोबारियों को जरूरत के समय नकदी उपलब्ध कराने के लिए बैंकों से कहा गया है कि वे एमएसएमई क्षेत्र को बिल डिस्काउंटिंग सुविधा के तहत नकदी उपलब्ध कराएं। एमएसएमई का बड़ी कंपनियों पर जो बकाया है उनके बिलों के एवज में बैंकों से लघु इकाइयों को नकदी उपलब्ध कराई जा सकती है।बड़ी कंपनियों से कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय में दर्ज कराई गई रिटर्न के अनुसार एमएसएमई क्षेत्र का बड़ी कंपनियों पर 40,000 करोड़ रुपए से अधिक का बकाया है। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं कि एमएसएमई क्षेत्र को उनका बकाया दिवाली से पहले मिल सके। दिवाली 27 अक्टूबर को है।

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईKerala Rain Live Updates: केरल में भारी बारिश और भूस्खलन से अबतक 21 की मौत, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी******केरल में बाढ़ से हालात बदतर हो चुके हैं। बारिश ने ऐसी तबाही मचाई कि लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ चुकी है। नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। दो दिनों की ने हालात खराब कर दिए हैं। केरल के अलग-अलग जिलों से आई तस्वीरें वहां की बर्बादी का मंजर दिखा रही हैं। कोट्टायम और इडुक्की जिलों में लैंडस्लाइड की भी खबर है। इस लैंडस्लाइड से करीब 22 लोगों के लापता होने की जानकारी मिली है।बिगड़े हालात को देखते हुए राज्य सरकार डिफेंस फोर्स की मदद से राहत और बचाव कार्य चला रही है। निचले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर भेजा जा रहा है।मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईदिल्ली: कट गया है Challan तो ऐसे करवा सकते हैं माफ! 12 मार्च को लगेगी Lok Adalat******Delhi Traffic Police ChallanHighlightsदिल्ली पुलिस ने अगर आपकी गाड़ी का E-Challan या अन्य कोई चालान काटा है और आपने नहीं भरा है तो इसे आप कम भी करवा सकते हैं। दिल्ली राज्य विधिक सेवा आयोग की तरफ से 12 मार्च को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। यहां आप अपनी गाड़ी का चालान लेकर जा सकते हैं और कुछ राशि को भी माफ करवा सकते हैं।8 मार्च सुबह 10 बजे से दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की वेबसाइट () या दिल्ली राज्य विधिक सेवा आयोग (डीएसएलएसए) की वेबसाइट से 1.20 लाख चालान डाउनलोड किए जा सकेंगे। जहां अपने मन मुताबिक कोर्ट परिसर और कोर्ट नंबर का चुनाव कर सकते हैं।चालान डाउनलोड करने के बाद खुद कोर्ट परिसर में जाना होगा। प्रत्यक्ष रूप से जाकर आप अपने चालान का भुगतान कर सकते हैं। लेकिन उससे पहले चालान की पर्चियों को डाउनलोड करना भी बहुत जरूरी है। किसी प्रकार की परेशानी होने पर डीएसएलएसए के टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1516 है। ईमेल और वेबसाइट पर जाकर भी जानकारी ली जा सकती है। चालान की पर्ची पर कोर्ट परिसर, कोर्ट रूम नंबर और लोक अदालत का जिक्र करना भी जरूरी होगा।दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने अपने विज्ञापन में बताया कि वर्चुअल ट्रैफिक कोर्ट में पिछले एक साल (1/1/2021 से 1/12/2021) के लंबित कंपाउंडेबल चालान और दिल्ली ट्रैफिक पुलिस पोर्टल पर मौजूद 1 दिसंबर 2021 तक के कंपाउंडेबल नोटिस इस लोक अदालत में लिए जाएंगे। दिल्ली के अलग-अलग जिलों में मौजूद पटियाला हाउस कोर्ट, तीस हजारी कोर्ट, साकेत कोर्ट, द्वारका कोर्ट, रोहिणी कोर्ट कड़कड़डूमा कोर्ट में चालान का भुगतान किया जा सकेगा। ये सिर्फ नोटिस, चालान के लिए ही होगा। अन्य किसी चालान का निपटारा यहां नहीं किया जाएगा।

मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईएक आम की कीमत तुम क्या जानो! 'नूरजहां' मुटियाई का 1 आम खरीदने के लिए होने चाहिए इतने हजार रुपए******rare variety noorjahan single mango costs upto 1200 rupee know what is special एक आम की कीमत तुम क्या जानो!, क्या आपने कभी 1200 रुपये में केवल एक खरीदा है? जी हां, आम की एक खास किस्म के केवल एक फल की कीमत इस बार 1200 रुपये तक जा पहुंची है। '' के रूप में मशहूर किस्म '' के फलों का औसत वजन इस बार मौसम की मेहरबानी से बढ़कर 2.75 किलोग्राम पर पहुंच गया है। यही वजह है कि आम की इस दुर्लभ किस्म के मुरीद इसके केवल एक फल के लिये 1,200 रुपये तक चुका रहे हैं। अफगानिस्तानी मूल की मानी जाने वाली आम प्रजाति नूरजहां के गिने-चुने पेड़ मध्यप्रदेश के अलीराजपुर जिले के कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में ही पाये जाते हैं। यह इलाका गुजरात से सटा है।इंदौर से करीब 250 किलोमीटर दूर कट्ठीवाड़ा में इस प्रजाति की खेती के विशेषज्ञ इशाक मंसूरी ने रविवार को बताया कि इस बार अनुकूल मौसमी हालात के चलते नूरजहां के पेड़ों पर खूब बौर (आम के फूल) आये और फसल भी अच्छी हुई। उन्होंने बताया कि मौजूदा सत्र में नूरजहां के फलों का वजन औसतन 2.75 किलोग्राम के आस-पास रहा, जबकि गुजरे तीन सालों में इनका औसत वजन तकरीबन 2.5 किलोग्राम रहा था।मंसूरी ने बताया कि पिछले साल इल्लियों के भीषण प्रकोप के चलते नूरजहां की फसल लगभग बर्बाद हो जाने से इसके मुरीदों को मायूस रहना पड़ा था। बहरहाल, इस बार अच्छी फसल के चलते जहां नूरजहां के स्वाद के शौकीन खुश हैं, वहीं इसके विक्रेताओं की भी पौ बारह हो गयी है।मंसूरी ने बताया कि इन दिनों नूरजहां का केवल एक फल 700 से 800 रुपये में बिक रहा है। ज्यादा वजन वाले फल के लिये 1,200 रुपये तक भी चुकाये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि पड़ोसी गुजरात के अहमदाबाद, वापी, नवसारी और बड़ौदा के कुछ शौकीनों ने नूरजहां के फलों की सीमित संख्या के कारण इनकी अग्रिम बुकिंग तब ही करा ली, जब ये फल छोटे थे और डाल पर लटककर पक रहे थे।मंसूरी ने बताया कि कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में कई लोगों को आमों के बाग में नूरजहां के भारी-भरकम फलों से लदे पेड़ के साथ फोटो और सेल्फी खींचते भी देखा जा सकता है। नूरजहां के पेड़ों पर जनवरी से बौर आने शुरू होते हैं और इसके फल जून के आखिर तक पककर तैयार होते हैं। नूरजहां के फल तकरीबन एक फुट तक लम्बे हो सकते हैं। इनकी गुठली का वजन 150 से 200 ग्राम के बीच होता है।बहरहाल, यह बात चौंकाने वाली है कि किसी जमाने में नूरजहां के फल का औसत वजन 3.5 से 3.75 किलोग्राम के बीच होता था। जानकारों के मुताबिक, पिछले एक दशक के दौरान मॉनसूनी बारिश में देरी, अल्पवर्षा, अतिवर्षा और आबो-हवा के अन्य उतार-चढ़ावों के कारण नूरजहां के फलों का वजन पहले के मुकाबले घट गया है। जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के कारण आम की इस दुर्लभ किस्म के वजूद पर संकट भी मंडरा रहा है।मेंगोल्डमिलनेकीखुशीमेंभारतसरकारदेरही2399रुपएवाला12महीनेकाRechargeफ्रीजानिएसच्चाईमिजो नेशनल फ्रंट के नेता ने कहा- भगवान नहीं हैं अमित शाह, 50 साल शासन करने की बात अतिश्योक्ति******के नेतृत्व वाली नॉर्थ-ईस्ट डेमोक्रेटिक एलायंस के घटक मिजो नेशनल फ्रंट ने अध्यक्ष के इस बयान को खारिज किया है कि उनकी पार्टी 2019 का चुनाव जीती तो 50 साल तक देश पर शासन करेगी। में मुख्य विपक्षी दल को हालांकि विश्वास है कि आम चुनाव में कांग्रेस या यूपीए जीत हासिल नहीं कर पाएगी। पूर्व मुख्यमंत्री और मिजो नेशनल फ्रंट प्रमुख जोरमथंगा ने कहा कि भाजपा की हिंदुत्व की राजनीति के चलते उनकी पार्टी कभी राज्य में उससे गठबंधन नहीं कर सकती। उन्होंने कहा, ‘मुझे संदेह है, वह (शाह) भगवान नहीं हैं। वह राजनीति में कोई भविष्यवाणी नहीं कर सकते।’जोरमथंगा ने कहा, ‘अमित शाह यह भविष्यवाणी कर सकते हैं कि कांग्रेस सत्ता में नहीं आएगी, लेकिन 50 या 100 साल की भविष्यवाणी करना अतिशयोक्ति है।’ गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सितंबर में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कड़ी मेहनत की वजह से पार्टी 2019 का चुनाव जीतेगी और उसके बाद भाजपा को 50 साल तक सत्ता से कोई नहीं हटा सकता। मिजो नेशनल फ्रंट के भाजपा से रिश्तों के बारे में पूछे जाने पर दो बार मुख्यमंत्री रह चुके जोरमथंगा ने कहा कि विचारधारा और अन्य बातों को लेकर वह भाजपा के पूरी तरह खिलाफ हैं।उन्होंने कहा, ‘क्योंकि हम ईसाई हैं। वे हिंदुत्व का प्रचार करना चाहते हैं। जहां तक इन चीजों की बात है तो हम साथ नहीं आ सकते। हमारी विचारधारा अलग है। जहां तक देश की बात है तो एनडीए यूपीए से बेहतर है, इसीलिए हम केंद्र में उसके साथ आए। लेकिन विचारधारा के मामले में हम बिल्कुल अलग हैं। भाजपा भी इस बात को अच्छी तरह जानती है।’ मिजोरम में 28 नवंबर को हुए में मिजो नेशनल फ्रंट ने कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ अकेले चुनाव लड़ा है। MNF और कांग्रेस ने 40-40 जबकि भाजपा ने 39 सीटों पर अपनी किस्मत आजमाई है। मिजोरम में वर्ष 2008 से कांग्रेस की सरकार है। 11 दिसंबर को मिजोरम चुनाव के नतीजे घोषित किये जाएंगे।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 04:38
उद्धरण 1 इमारत
नफ्ताली बेनेट बने इजराइल के नए PM, नेतन्याहू के 12 साल के शासन का अंत******दक्षिणपंथी यामिना (यूनाइटेड राइट) पार्टी के नेता नफ्ताली बेनेट ने रविवार रात को इजरायल के नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। इसी के साथ का बीते 12 साल से चला आ रहा शासन समाप्त हो गया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, नई गठबंधन सरकार, जिसका नेतृत्व बेनेट और मध्यमार्गी येश अतीद (फ्यूचर) पार्टी के नेता यायर लैपिड कर रहे हैं को संसद या केसेट द्वारा विश्वास मत में अनुमोदित किया गया था।इससे पहले संसद में हुए विश्वास मत में 120 सदस्यीय सदन के 60 सांसदों ने नई सरकार के पक्ष में मतदान किया जबकि 59 ने इसके खिलाफ मतदान किया। संसद सत्र के टीवी फुटेज में बेनेट और लैपिड को संसद में गठबंधन सीटों पर अपनी नई सीटें लेते हुए दिखाया गया जबकि इजरायल में सबसे लंबे समय तक काम करने वाले पीएम नेतन्याहू विपक्ष की पिछली सीटों पर चले गए।नई सरकार के तहत 27 नए मंत्रियों को भी शपथ दिलाई गई। बेनेट और लैपिड दो साल के अंतराल पर प्रधानमंत्री बनेंगे। बेनेट पहले प्रधानमंत्री बने हैं और इस आधार पर 2023 में लैपिड पीएम बनेंगे। अभी फिलबाल लैपिड इजरायल के वैकल्पिक प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री के रूप में काम करेंगे।
2022-10-01 04:30
उद्धरण 2 इमारत
Praveen Nettaru Murder: प्रवीण नेत्तारू हत्याकांड में सिद्धारमैया ने कहा, 'बिना पक्षपात के कार्रवाई करे पुलिस'******Highlightsभारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के एक सदस्य की हत्या की निंदा करते हुए कर्नाटक में विपक्ष के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने बुधवार को पुलिस से कहा कि वह बिना किसी पक्षपात के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करे। भाजपा युवा मोर्चा की जिला सचिव प्रवीण नेत्तारू की बाइक सवार हमलावरों ने मंगलवार की रात दक्षिण कर्नाटक जिले के बेल्लारी में हत्या कर दी थी।सिद्धारमैया ने ट्वीट किया, ‘‘मैं बजरंग दल के नेता प्रवीण नेत्तारू की दक्षिण कन्नड़ में हुई हत्या की निंदा करता हूं। पुलिस को तत्काल हत्यारों को गिरफ्तार करना चाहिए और क्षेत्र को अशांति से बचाना चाहिए। पुलिस को बिना किसी पक्षपात के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।’’वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री और जनता दल सेक्युलर के नेता एच.डी.कुमारस्वामी ने सवाल किया कि हत्याओं का यह सिलसिला कब रूकेगा। उन्होंने फरवरी में शिवमोगा में हुई बजरंग दल के कार्यकर्ता हर्ष की हत्या पर कोई कार्रवाई नहीं किए जाने को लेकर भी भारतीय जनता पार्टी सरकार से सवाल किया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘भाजपा सरकार ऐसी हत्याओं को रोकने के लिए प्रयास क्यों नहीं कर रही है, वह ऐसी घटनाएं होने के बाद सक्रिय क्यों हो रही है?’’ कुमारस्वामी ने यह भी कहा कि चुनाव नजदीक आते ही ऐसे खूनी खेल शुरू हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि हमेशा गरीब घरों के बच्चे ही ऐसी हत्याओं के शिकार होते हैं।बीजेपी युवा मोर्चा के जिला सचिव प्रवीण नेत्तारू (Praveen Nettaru) की मंगलवार देर शाम को बेरहमी से हत्या कर दी गई। प्रवीण बेल्लारे क्षेत्र के पास एक पोल्ट्री की दुकान चलाते थे। दिनभर काम करने के बाद प्रवीण दुकान बंद कर जब घर लौट रहे थे, तभी रात करीब 9 बजे बाइक सवार बदमाशों ने धारदार हथियार से उन पर हमला कर दिया। गंभीर रूप से घायल होने के चलते प्रवीण ने दम तोड़ दिया।प्रवीण ने 29 जून को कन्हैयालाल की हत्या (Kanhaiyalal Murder) के विरोध में जो फेसबुक पोस्ट शेयर की थी, उसमें उन्होंने टेलर कन्हैयालाल के दो चित्र को दिखाया है। एक में कन्हैयालाल को हाथ जोड़े हुए और दूसरे चित्र में सिर तन से अगल है। इसके साथ उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा है, सिर्फ राष्ट्रवादी विचारधारा का समर्थन करने के लिए एक टेलर की गला काटकर हत्या कर दी गई और इसका वीडियो भी बनाया गया।
2022-10-01 03:27
उद्धरण 3 इमारत
झारखंड में गोमिया एवं सिल्ली विधानसभा सीटों पर झामुमो जीती****** की गोमिया तथा सिल्ली विधानसभा सीटों से उपचुनाव का परिणाम राज्य में मुख्य विपक्षी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के पक्ष में आया है। पहले भी दोनो सीटें झामुमो के पास थीं। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एल ख्यांगते ने बताया कि अभी मतों का पूर्ण विवरण आने में समय लगेगा लेकिन दोनों सीटों पर मतगणना का काम पूरा हो गयाहै और झामुमो प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है।गोमिया में झामुमो की बबिता देवी ने आजसू के लंबोदर महतो को पराजित किया और भाजपा के माधवलाल सिंह तीसरे स्थान पर पिछड़ गये। सिल्ली में झामुमो की उम्मीदवार सीमा महतो ने आजसू के अध्यक्ष सुदेश महतो को पराजित कर यह सीट झामुमो के पास बरकरार रखी।झारखंड मुक्ति मोर्चा के दो विधायकों को अलग अलग आपराधिक मामलों में दोषी करार दिये जाने और दो वर्ष की जेल की सजा सुनाये जाने के कारण यह दोनो सीटें रिक्त हो गयी थीं।
वापसी