नई पोस्ट करें

GST परिषद 21 जुलाई को देगी देश को खुशखबरी, कुछ वस्‍तुओं पर टैक्‍स रेट में कर सकती है कटौती

2022-10-01 05:19:23 770

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीIdea ने अपने ग्राहकों से वसूले हैं ज्यादा पैसे, TRAI ने ठोका 3 करोड़ का जुर्माना****** देश की तीसरी बड़ी टेलिकॉम कंपनी आइडिया सेल्युलर (Idea Cellular) ने ग्राहकों से ज्यादा पैसे वसूले हैं जिस वजह से टेलिकॉम रेग्युलेटर ट्राई (TRAI) ने Idea पर 2.97 करोड़ रुपए का जुर्माना ठोका है। Idea को कहा गया है कि वह इस रकम को टेलिकॉम कंज्यूमर एजुकेशन फंड में जमा कराए। एयरटेल और वोडाफोन के बाद Idea Cellular देश की तीसरी बड़ी टेलिकॉम कंपनी है।मई 2007 में टेलिकॉम विभाग ने लाइसेंस की शर्तों में कुछ बदलाव किया था जिसके बाद इन 4 राज्यों में कॉल की दरों में कमी आई थी और कॉल रेट घटकर लोकल कॉल के स्तर तक पहुंच गए थे। लेकिन ट्राई का कहना है कि कॉल रेट कम होने के बावजूद कुछ टेलिकॉम ऑपरेटर्स ने ज्यादा चार्ज वसूलना जारी रखा।फरवरी 2006 में टेलिकॉम ऑपरेटर्स को अलग-अलग कॉल रेट्स को कम करने के लिए कहा गया लेकिन ऑपरेटर्स ने इसके खिलाफ टेलिकॉम ट्रिब्यूनल में अपील कर दी, हालांकि टेलिकॉम ट्रिब्यूनल ने दिसंबर 2006 में ऑपरेटर्स की अपील ठुकरा दी थी जिसके बाद ऑपरेटर्स इस मामले को सुप्रीम कोर्ट ले गए। अब जनवरी 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने भी मामले को खत्म कर दिया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अब TRAI ने 24 अगस्त को Idea Cellular पर 2.97 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है।

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीबहुमत परीक्षण से पहले कर्नाटक सचिवालय किले में तब्दील, चप्पे-चप्पे पर चौकसी****** कर्नाटक में शनिवार को हो रहे महत्वपूर्ण बहुमत परीक्षण से पहले सचिवालय की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और यहां अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है। पुलिस महानिदेशक नीलमणि राजू ने यहां कहा, "विधानसभा में बहुमत परीक्षण की कार्यवाही सुचारु रूप से हो, इसके लिए सचिवालय और आस-पास के विधायक आवासों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।"शहर पुलिस ने यहां धारा 144 लगा दी है और पूरे दिन के लिए कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सचिवालय के एक किलोमीटर के दायरे में पांच या इससे ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी लगा दी है। की तीन सदस्यीय पीठ के आदेशानुसार अपराह्न् चार बजे बहुमत परीक्षण में भाग लेने वाले सभी विधायकों को सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।अतिरिक्त पुलिस आयुक्त बी.के.सिंह ने इससे पहले पत्रकारों से कहा, "हमने किसी भी अवांछित घटना से बचने के लिए बहुमत परीक्षण स्थल के आसपास पांच पुलिस उपायुक्तों (डीसीपी), 20 सहायक पुलिस आयुक्तों (एसीपी), 40 निरीक्षकों और 2000 सिपाहियों को तैनात कर रखा है।"पुलिस ने क्षेत्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और जनता दल (सेकुलर) के समर्थकों और कार्यकर्ताओं को जुलूस या रैली निकालने पर भी प्रतिबंध लगाया है।परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीLSG vs MI: क्यों लगातार हार रही है मुंबई इंडियंस, कप्तान रोहित शर्मा ने बताई वजह******मुंबई। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में पहली जीत का इंतजार कर रहे मुंबई इंडियन्स के कप्तान रोहित शर्मा में लखनऊ सुपर जयंट्स के खिलाफ यहां 36 रन की शिकस्त के बाद रविवार को कहा कि उनके बल्लेबाजों ने एक बार फिर निराशाजनक प्रदर्शन किया। लखनऊ ने पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट पर 168 रन बनाने के बाद मुंबई की पारी को आठ विकेट पर 132 रन पर रोक दिया।सत्र में लगातार आठवीं बार हार का सामना करने के बाद रोहित ने कहा, ‘‘हमनें अच्छी गेंदबाजी कर उन्हें कम स्कोर पर रोका था। हम हालांकि अच्छी बल्लेबाजी नहीं कर पाये। हमने साझेदारियां नहीं बनायी और खराब शॉट खेले, खराब शॉट खेलने वालो में मैं भी शामिल था। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह सिर्फ इस मैच की बात नहीं है। हमने पूरे टूर्नामेंट में खराब बल्लेबाजी की। कोई भी बल्लेबाज जिम्मेदारी लेकर आखिरी तक खेलने को तैयार नहीं दिख रहा। ’’मैच में 62 गेंद की पारी में 12 चौके और चार छक्के की मदद से नाबाद 103 रन बनाने वाले लखनऊ के कप्तान लोकेश राहुल मैन ऑफ द मैच रहे। सत्र में अपना दूसरा शतक जड़ मैन ऑफ द मैच बने राहुल ने कहा, ‘‘ मैंने परिस्थितियों के अनुसार बल्लेबाज़ी की। मुझे ख़ुशी है कि मैं आज इसमें सफल रहा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ इस पिच पर पिछले कुछ मैच मेरे लिए अच्छे नहीं गए थे, इसलिए मैंने पारी की शुरुआत में संभल कर बल्लेबाजी करते हुए स्ट्राइक बदलने पर ध्यान दिया और परिस्थितियों को समझने के बाद पारी को आगे बढ़ाया। ’’

GST परिषद 21 जुलाई को देगी देश को खुशखबरी, कुछ वस्‍तुओं पर टैक्‍स रेट में कर सकती है कटौती

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीगाजियाबाद में अब 5 जुलाई को खुलेंगे स्कूल, गर्मी को देखते हुए डीएम ने बढ़ाई छुट्टियां****** गाजियाबाद जिला प्रशासन ने भीषण गर्मी को देखते हुए स्कूलों की गर्मी की छुट्टियां 2 दिन और बढ़ा दी हैं। अब स्कूल 5 जुलाई को खुलेंगे। इससे पहले भी गाजियाबाद जिला प्रशासन ने स्कूलों की छुट्टी 2 दिन बढ़ा दी थी और 3 जुलाई को स्कूल खोलने के निर्देश दिए थे, लेकिन गर्मी से राहत न मिलती देख अब छुट्टियां दो दिन और बढ़ा दी गई हैं। अब कक्षा आठ तक सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल 5 जुलाई को खुलेंगे।गाजियाबाद से पहले हरियाणा और दिल्ली सरकार भी भीषण गर्मी को देखते हुए स्कूलों की छुट्टियां बढ़ा चुकीं हैं। हरियाणा सरकार ने जहां सूबे मे सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को 7 जुलाई तक बंद रखने के निर्देश दिए हैं, वहीं दिल्ली सरकार ने शहर के विद्यालयों में आठवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए गर्मी की छुट्टी की अवधि एक सप्ताह बढ़ाने का रविवार को फैसला किया।दिल्ली में अब आठवीं कक्षा तक के विद्यालय आठ जुलाई को खुलेंगे।परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीउधमपुर में लैंडस्लाइड, जम्मू कश्मीर राजमार्ग पर ट्रैफिक जाम******जम्मू कश्मीर के उधमपुर जिले में बुधवार रात भूस्खलन हो जाने के चलते 270 किमी लंबे जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर यातयात अवरूद्ध हो गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उधमपुर के समरोली खंड में देवाल ब्रिज के नजदीक राजमार्ग पर एक बड़ा चट्टान पहाड़ी से गिर गया। अधिकारियों ने बताया कि मार्ग को यातायात के लिए खोलने का कार्य शुरू कर दिया है और कार्य प्रगति पर है। रामबन जिला प्रशासन ने बताया कि राजमार्ग पर वाहनों की आवाजाही ठप है। अधिकारियों ने बताया कि बड़ी संख्या में वाहन राजमार्ग पर फंसे हुए हैं। ट्रैफिक विभाग ने लोगों से कहा है कि वे जब तक हाईवे पर मलवे को हटाने का काम पूरा नहीं हो जाता, तब तक वे हाईवे पर यात्रा न करें।आपको बता दें कि गत शनिवार को महज आठ घंटों तक खुला रहने के बाद जम्मू श्रीनगर हाईवे मगरकोट में भूस्खलन के कारण फिर से बंद हो गया था। मलबा हटाने के बाद इसे दस घंटों के बाद खोल दिया गया। मगर देर रात समरोली के देवाल इलाके में एक बार फिर हाईवे पर भूस्खलन होने की वजह से मलवा सड़क पर आ गया जिसकी वजह से एक बार फिर हाईवे पर वाहनों की आवाजाही बंद हो गई। मलवा हटाने का काम युद्धस्तर पर जारी है।इससे पहले शनिवार को भी कैफेटेरिया मोड़ सहित कई जगहों पर बंद हाईवे पर गिरे मलबे को हटा कर शनिवार शाम को छह बजे हाईवे खोला गया था। मगर आठ घंटों तक ही हाईवे पर यातायात चला पाया था। इसी बीच शनिवार और रविवार की रात दो बजे मगरकोट में सड़क पर काफी मलबा आ गिरा था। जिससे हाईवे बंद हो गया। जिस समय मलबा गिरा उस समय हाईवे पर दोनों तरफ से फंसे हुए वाहनों को निकाला जा रहा था। ऐसे में एक बार फिर से मलबा गिरने से बंद हाईवे के कारण दोनों तरफ फिर से काफी वाहन फंस गए।इसके बाद मलबे को हटाने का काम शुरू कर दिया गया। तकरीबन दस घंटों की मशक्कत के बाद हाईवे पर गिरे मलबे को साफ कर रविवार दोपहर 12 बजे हाईवे को फिर से खोल यातायात बहाल कर दिया गया। मगर हाईवे पर यातायात की रफ्तार बेहद मंद गति से चल रही थी।डीएसपी रामबन पारुल भारद्वाज ने बताया कि खराब मौसम के कारण हाईवे ठीक से नहीं चल पाया और दोनों तरफ काफी वाहन फंस गए। उन्होंने बताया कि समरोली में एक बार फिर भूस्खलन होने से हाईवे बंद हो गया है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे ट्रैफिक कंट्रोल रूम से हाईवे की जानकारी हासिल करने के बाद ही हाईवे पर उतरें। फिलहाल श्रीनगर जाने वाले वालों को ऊधमपुर व जम्मू में रोक दिया गया है।परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीगोल्ड ETF में मई में 815 करोड़ रुपये का निवेश, कोरोना संकट का असर******Gold ETFनई दिल्ली। कोरोना वायरस संकट के चलते शेयर बाजार की उतार-चढ़ाव के बीच मई के दौरान गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) में 815 करोड़ रुपये का निवेश आया। इसकी वजह यह है कि महामारी की वजह से निवेशक अब निवेश के सुरक्षित विकल्पों की ओर रुख कर रहे हैं। अगस्त 2019 से गोल्ड ईटीएफ में अब तक कुल 3,299 करोड़ रुपये का निवेश आया है।एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के ताजा आंकड़ों के अनुसार मई गोल्ड ईटीएफ में शुद्ध निवेश 815 करोड़ रुपये रहा। अप्रैल में इसमें 731 करोड़ रुपये का निवेश आया था। हालांकि, मार्च में इससे 195 करोड़ रुपये की निकासी हुई थी। इससे पहले फरवरी में इसमें 1,483 करोड़ रुपये और जनवरी में 202 करोड़ रुपये का निवेश आया था। पिछले साल दिसंबर में इसमें 27 करोड़ रुपये और नवंबर में 7.68 करोड़ रुपये का निवेश आया था। अक्टूबर में निवेशकों ने इस श्रेणी से 31.45 करोड़ रुपये की निकासी की थी।ग्रो के सह-संस्थापक और मुख्य परिचालन अधिकारी हर्ष जैन ने कहा, ‘‘महामारी से पहले के महीनों की तुलना में स्वर्ण ईटीएफ में निवेश ऊंचा बना हुआ है। कई निवेशक बाजार में उतार-चढ़ाव को देखते हुए सोने में निवेश को तरजीह दे रहे हैं।’’ मोर्निंग स्टार इनवेस्टमेंट एडवाइजर इंडिया के वरिष्ठ शोध विश्लेषक हिमांशु श्रीवास्तव ने भी कहा, ‘‘कोरोना वायरस महामारी से दुनिया भर के बाजारों के प्रभावित होने और बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में मंदी के बीच सोना बेहतर प्रदर्शन वाले संपत्ति वर्ग और तरजीही निवेश साधन के के रूप में उभरा है।’’

GST परिषद 21 जुलाई को देगी देश को खुशखबरी, कुछ वस्‍तुओं पर टैक्‍स रेट में कर सकती है कटौती

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीPM मोदी के नए मंत्रिमंडल में 27 OBC, 12 दलित और 3 अनुसूचित जनजाति के मंत्री होंगे: सूत्र******नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल का विस्तार आज होने जा रहा है और इस विस्तार के बाद प्रधानमंत्री मोदी का मंत्रिमंडल कैसा होगा इसकी एक्सक्लूसिव जानकारी इंडिया टीवी को मिली है। मिली जानकारी के अनुसार मंत्रिमंडल में युवा और अनुभवी चेहरों का संगम होगा। इसके अलावा देश के अधिकतर राज्यों और अधिकतर वर्गों को प्रतिनिधित्व मिलने जा रहा है। इंडिया टीवी को मिली जानकारी के अनुसार पीएम मोदी के नए मंत्रिमंडल में वकील, डॉक्टर, इंजीनियर और मैनेजमेंट ग्रेजुएट की संख्या बढ़ जाएगी।इंडिया टीवी को मिली जानकारी के अनुसार आज होने वाले कैबिनेट विस्तार के बाद प्रधानमंत्री मोदी का जो नया मंत्रिमंडल होगा उसमें 68 से ज्यादा मंत्री होंगे और उनमें 27 लोग ऐसे हैं जो अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) से संबंध रखते हैं, 12 मंत्री ऐसे होंगे जो दलित समुदाय से संबंध रखते हैं और 3 मंत्री ऐसे होंगे जो अनुसूचित जनजाति से संबंध रखते हैं। मिली जानकारी के अनुसार नए मंत्रिमंडल में देश के 25 राज्यों का प्रतिनिधित्व होगा और बड़े राज्यों के अलग अलग क्षेत्रों से अलग अलग मंत्री होंगे यानि उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य से ज्यादा मंत्री मोदी कैबिनेट में शामिल हो सकते हैं। मंत्रिमंडल में 11 महिलाएं और 5 अल्पसंख्य चेहरे भी होंगे।इंडिया टीवी को मिली जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी के नए मंत्रिमंडल में युवा और अनुभवी मंत्रियों का संगम होगा और मंत्रिमंडल की औसत आयु घटकर 58 वर्ष हो जाएगी। मंत्रिमंडल में अलग अलग क्षेत्रों के प्रोफेशनल होंगे जिनमें 13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजीनियर, 7 सिविल सर्वेंट, 7 पीएचडी होल्डर और 3 MBA शामिल होंगे। सभी मंत्रियों में 68 मंत्री कम से कम ग्रेजुएट हैं, यानि यह तय है कि मंत्रिमंडल का नया आकार 68 से ज्यादा होगा जो अभी तक 53 था।मंत्रिमंडल में अनुभव को रखने के लिए 4 ऐसे लोग भी होंगे जो पूर्व में अलग अलग राज्यों के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, इसके अलावा 18 लोग ऐसे होंगे जिनके पास सरकार में काम करने का पुराना अनुभव है, 23 लोग ऐसे होंगे जो कम से 3 बार पहले सांसद रह चुके हैं तथा 14 मंत्री ऐसे होंगे जिनकी आयु 50 वर्ष से नीचे है और उनमें 6 लोग कैबिनेट रैंक के मंत्री होंगे।परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीNational Herald Case: सोनिया गांधी पर आज ED फिर करेगी सवालों की बौछार, संसद के भीतर-बाहर कांग्रेस की विरोध की तैयारी******Highlightsकांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से आज मंगलवार को ‘नेशनल हेराल्ड’ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) अगले दौर की पूछताछ करेगी। सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ के मद्देनजर कांग्रेस संसद के भीतर और बाहर विरोध करने की तैयारी में है। इसको लेकर पार्टी मुख्यालय में सोमवार शाम कांग्रेस महासचिवों, पार्टी के प्रदेश प्रभारियों और सांसदों की बैठक हुई, जिसमें आगे की रणनीति पर चर्चा की गई।कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस राजघाट पर 'सत्याग्रह' करना चाहती थी, लेकिन दिल्ली पुलिस से अनुमति नहीं मिली और वहां धारा 144 लगा दी गई। उन्होंने कहा, "मोदी सरकार हमें नहीं झुका सकती।" उन्होंने कहा कि पार्टी के सांसद इस मुद्दे पर संसद के भीतर विरोध जताएंगे। कांग्रेस मुख्यालय पर पार्टी के नेता और कार्यकर्ता सोनिया गांधी के प्रति एकजुटता प्रकट करते हुए प्रदर्शन करेंगे। सोनिया मंगलवार को अगले दौर की पूछताछ के लिए ईडी के सामने पेश होंगी।गौरतलब है कि ईडी ने ‘नेशनल हेराल्ड’ अखबार से जुड़े धनशोधन मामले में गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष से दो घंटे तक पूछताछ की थी। वहीं, इसके विरोध में पूरे देश में कांग्रेस ने शक्ति प्रदर्शन किया और पार्टी के नेताओं ने गिरफ्तारियां दी थीं। बता दें कि शुरुआत में एजेंसी ने उन्हें सोमवार को तलब किया था, लेकिन बाद में तारीख एक दिन के लिये बढ़ा दी गई थी। सोनिया से 21 जुलाई को मामले में पहले दिन दो घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की गई थी, जहां उन्होंने एजेंसी के 28 सवालों के जवाब दिए।ईडी कांग्रेस द्वारा प्रवर्तित अखबार ‘नेशनल हेराल्ड’ का मालिकाना हक रखने वाली यंग इंडियन प्राइवेट लिमिटेड में कथित वित्तीय अनियमितताओं की जांच कर रही है। सोनिया के साथ प्रियंका गांधी वाद्रा और राहुल गांधी के ईडी कार्यालय में जाने की संभावना है, जैसा कि उन्होंने पिछले सप्ताह किया था।

GST परिषद 21 जुलाई को देगी देश को खुशखबरी, कुछ वस्‍तुओं पर टैक्‍स रेट में कर सकती है कटौती

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीMaharashtra Politics: शरद पवार के गढ़ बारामती में BJP की चुनौती, NCP ने किया पलटवार******केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के मुंबई दौरे के एक दिन बाद, महाराष्ट्र भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार और उनके परिवार के गढ़ को झटका देने के लिए पुणे में आज मंगलवार को 'मिशन बारामती-2024' की शुरुआत की। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के 22 सितंबर से तीन दिवसीय बारामती दौरे की तैयारी के लिए बारामती में एक दिन बिताया।पार्टी कार्यकतार्ओं की एक बैठक में, बावनकुले ने कहा कि बीजेपी अब बारामती पर कब्जा करने का लक्ष्य रखेगी, जो राज्य के 16 लोकसभा क्षेत्रों में से एक है, जिसके लिए पार्टी खास ध्यान देगी। बावनकुले ने कहा, "हम चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन बीजेपी अपने घरेलू मैदान बारामती में एनसीपी को कभी भी कड़ी टक्कर नहीं दे सकी। इस बार, हम एक मजबूत चुनौती देने और सीट पर कब्जा करने के लिए खुद को मजबूत करने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे।"बता दें कि बारामती पिछले 55 वर्षों से 82 वर्षीय शरद पवार का गढ़ है और उनकी बेटी सुप्रिया सुले लोकसभा में इसका प्रतिनिधित्व कर रही हैं। बीजेपी के बयान पर एनसीपी के मुख्य प्रवक्ता महेश तापसे ने कहा कि बीजेपी नेता मीडिया का ध्यान खींचने के लिए लंबे बयान देने के लिए जाने जाते हैं और इसलिए इसे गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए। तापसे ने कहा, "सुप्रिया सुले निर्वाचन क्षेत्र में प्रसिद्ध हैं, बारामती में उनके काम की पूरे देश में पहचान है। उन्हें सात बार प्रतिष्ठित 'संसद रत्न पुरस्कार' मिला है।"गौरतलब है कि 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पार्टी मुख्यालय में केंद्रीय मंत्रियों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ बड़ी समीक्षा बैठक कर रहे हैं। पार्टी मुख्यालय में हो रही इस बैठक में खासतौर से लोकसभा की उन हारी हुई 144 सीटों पर पार्टी की वर्तमान स्थिति और तैयारियों की समीक्षा की जानी है, जिस पर 2019 के चुनाव में बीजेपी उमीदवार को हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन उसके उम्मीदवार नंबर दो या नंबर तीन पर आए थे। लोक सभा की इन 144 सीटों की इस लिस्ट में वो सीटें भी शामिल हैं, जिस पर बीजेपी को पहले के चुनावों में एक-दो बार जीत तो हासिल हुई थी, लेकिन 2019 में पार्टी को इन सीटों पर हार का सामना करना पड़ा था।

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीAaj Ka Panchang 26 August 2022: जानिए शुक्रवार का पंचांग, राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय******आज भाद्रपद कृष्ण पक्ष की चतुर्दर्शी तिथि और शुक्रवार का दिन है। चतुर्दर्शी तिथि आज दोपहर 12 बजकर 23 मिनट तक रहेगी। उसके बाद अमावस्या तिथि लग जायेगी। आज का पूरा दिन पार कर के देर रात 2 बजकर 12 मिनट तक परिघ योग रहेगा। साथ ही आज शाम 6 बजकर 33 मिनट तक आश्लेषा नक्षत्र रहेगा। उसके बाद मघा नक्षत्र लग जायेगा। आचार्य इंदु प्रकाश से जानिए शुक्रवार का पंचांग,राहुकाल, शुभ मुहूर्त और सूर्योदय-सूर्यास्त का समय।परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीMercury transit 2022: बुध का वृषभ राशि में गोचर, शुभ फल पाने के लिए अपनाएं ये खास उपाय******Highlights24 अप्रैल की रात 12 बजकर 15 मिनट पर बुध वृष राशि में प्रवेश करेंगे और 2 जुलाई की सुबह 9 बजकर 44 मिनट तक वृष राशि में ही गोचर करते रहेंगे। उसके बाद मिथुन राशि में प्रवेश कर जायेंगे। इस गोचर का असर कई राशियों पर देखने को मिलेगा क्योंकि बुध शुक्र की अपनी राशि वृष राशि में गोचर कर रहा है इसलिए इसका हर राशि पर कुछ न कुछ प्रभाव जरूर ही पड़ेगा। लेकिन अगर बुध को खुश को करने के लिए कुछ उपाय किए जाएं तो जिन लोगों की राशि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने वाला है वे परेशानी से बच सकते हैं।मिथुन और कन्या राशि का स्वामी बुध ग्रह है। जिन लोगों की कुंडली में बुध मजबूत होता है वे व्यवसाय, शिक्षा और करियर के क्षेत्र में नाम कमाते हैं। वहीं अगर कुंडली में बुध कमजोर है तो आपको कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में आप अशुभ फलों से बचने के लिए विशेष उपाय अपना सकते हैं। आइए जानते हैं।

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीUP Election 2022: बीजेपी के लिए टेंशन की बात? किसान नेताओं ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, जानें क्या कहा******Highlightsसंयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने मंगलवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बावजूद केंद्र सरकार ने किसानों से किए गए वादों को पूरा करने के लिए काम नहीं किया और उसने उत्तर प्रदेश के लोगों से इसके लिए ‘BJP को दंडित करने’ की अपील की। लखीमपुर खीरी में किसान नेता शिवकुमार शर्मा ‘काकाजी’ ने कहा कि सरकार ने किसानों के प्रदर्शन के मद्देनजर फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) सहित कई आश्वासन दिए थे, लेकिन वह इन्हें पूरा करने में विफल रही है।शर्मा ने कहा, ‘जो वादे किए गए थे उनमें प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज सभी मामले वापस लिया जाना, आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों के परिवारों को मुआवजा देना, किसानों को बिजली संबंधी विधेयकों के दायरे से बाहर रखना शामिल है।’ उनके साथ भारतीय किसान यूनियन के नेता भी थे। उन्होंने कहा, ‘पराली जलाने पर सजा और जुर्माने का भी प्रावधान है लेकिन सजा के प्रावधान को हटाने का आश्वासन दिया गया था और सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा MSP की गारंटी देने के लिए कानून बनाने का था लेकिन उसके लिए भी अबतक कोई समिति नहीं बनाई गई है।’शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 19 नवंबर 2021 को घोषणा की थी कि एमएसपी के लिए एक समिति बनाई जाएगी, लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि हालांकि कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने पिछले सत्र में संसद में बयान दिया था कि सरकार चुनाव आयोग से इसके लिए अनुमति मांग रही है। शर्मा ने दावा किया, ‘प्रधानमंत्री की घोषणा के आधार पर समिति बनाई जा सकती थी और चुनाव आयोग पर इसका कोई असर नहीं होता।’शर्मा ने कहा कि इसी तरह सभी 5 बिंदुओं पर सरकार द्वारा काम किया जाना था, लेकिन ऐसा नहीं किया गया, जिसके कारण ने 31 जनवरी को पूरे देश में 'विश्वासघात दिवस' मनाया और उसके बाद उसने अपने ‘मिशन यूपी’ के तहत पूरे उत्तर प्रदेश में जाने का फैसला किया जहां हो रहे हैं। शर्मा ने कहा, ‘हम किसी से यह नहीं कहते कि किसे वोट देना है लेकिन को दंडित करना है। किसान जानता है कि किसे वोट देना है। कौन सरकार बनाएगा यह तय करना हमारा काम नहीं है।’ शर्मा ने कहा, ‘हम सरकार को उसी अनुपात में समर्थन देंगे जिस अनुपात में सरकार हमारा समर्थन करती है।’ SKM की लखीमपुर खीरी में प्रेस वार्ता ऐसे समय में हो रही है जब हाई कोर्ट ने केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष मिश्रा को जमानत दे दी है। आशीष अक्टूबर 2021 में तिकुनिया में हुई हिंसा मामले में आरोपी है जिसमें 8 लोगों की मौत हुई थी।परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीसुजुकी ने लॉन्च की Suzuki Gixxer 250, जानिए कीमत और फीचर के बारे में सबकुछ******suzuki gixxer 250 launched in india know price, features specification प्राइवेट लि. (एसएमआईपीएल) ने अपनी नई गिक्सर 250 (Gixxer 250) बाइक पेश की है। बेहद आकर्षक लुक और दमदार इंजन क्षमता वाली इस बाइक की कीमत 1,59,800 रुपये (एक्स-शोरूप, दिल्ली) है। एसएमआईपीएल ने बयान में कहा कि गिक्सर पोर्टफोलियो के ताजा संस्करण में चार स्ट्रोक का 249 सीसी का इंजन है। साथ ही यह सिक्स स्पीड गियरबॉक्स और ड्यूल चैनल एंटी लॉक ब्रेक प्रणाली (एबीएस) से लैस है। एसएमआईपीएल के कंपनी प्रमुख कोइचिरो हिराओ ने कहा कि यह बाइक सुजुकी की अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी और बेहतरीन गुणवत्ता के साथ उच्च प्रदर्शन वाले उत्पाद पेश करने की परंपरा को दर्शाता है।भारतीय दोपहिया वाहन बाजार में ये बाइक मुख्य रूप से Yamaha FZ25 और KTM 250 को टक्कर देगी।आपको बता दें कि ये नई Suzuki Gixxer 250 कंपनी की हाल ही में पेश की गई Gixxer SF 250 का नेक्ड वर्जन है। इसकी कीमत फुली फेयर्ड वर्जन से पूरे 11,000 रुपये सस्ती है। इसमें कंपनी ने मसक्यूलर फ्यूल टैंक दिया है, इसके अलावा इसमें प्रयोग किया गया LED हेडलाइट इसके बिलकुल नया लुक प्रदान करता है।इस बाइक की खास बात ये है कि कंपनी ने इसमें अपना पारंपरिक सुजुकी आयल कूलिंग सिस्टम (SOCS) तकनीक का भी प्रयोग किया है। कंपनी का दावा है कि ये तकनीक इंजन के तापमान को कम करता है इसके अलावा इससे बाइक की परफॉर्मेंस भी बेहतर होती है। इसके फ्रंट में टेलेस्कोपिक फॉर्क और पिछले हिस्से में मोनो शॉक सस्पेंशन का प्रयोग किया गया है, जो कि लांग ड्राइव पर भी आपको आरामदेह सफर प्रदान करते हैं।इसमें डुअल चैनल एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम का भी प्रयोग किया गया है। इसका कुल वजन 156 किलोग्राम है जो कि इसके फुली फेयर्ड वर्जन से तकरीबन 5 किलोग्राम हल्की है। Suzuki Gixxer 250 दो रंगों में उपलब्ध है जिसें मैटेलिक प्लेटिनम सिल्वर/ मैटेलिक मैटे ब्लैक और मैटेलिक मैटे ब्लैक शामिल है। इसमें स्कीड प्लेट, डीसी चार्जिंग सॉकेट, सैडल बैग, टैंक पैड, नी ग्रिप और बम्पर सॉकेट दिया गया है।

परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीMaharashtra Corona Lockdown: नौकरी गई तो इंजीनियर बन गए मांस व्यापारी, दो साल बाद करोड़ों में बेची कंपनी******Highlightsकोरोना वायरस जैसी महामारी फैलने के बाद देश भर में लॉकडाउन लगा दिया गया था। इस दौरान दो पुराने दोस्तों आकाश म्हास्के और आदित्य कीर्तने का करियर भी संकट में पड़ गया था। आकाश और आदित्य इंजीनियर के तौर पर एक कंपनी में काम कर रहे थे कि कोविड महामारी ने उनके जीवन की दिशा ही बदल दी। लॉकडाउन का पहला महीना तो उन्होंने फिल्में देखकर गुजार ली, लेकिन बंदी की स्थिति जारी रहने पर उनकी नौकरी ही चली गई।महाराष्ट्र के औरंगाबाद के आसपास अनेक औद्योगिक इकाइयां हैं और दोनों किसी अन्य कंपनी में अपनी किस्मत आजमा सकते थे, लेकिन उन्होंने नौकरियों के लिए आवेदन करने के बजाय खुद का काम शुरू करने का फैसला किया। उन्होंने सफल कारोबारी बनने के गुर बताने वाली कुछ किताबें पढ़ने के बाद इस दिशा में अपना इरादा पक्का कर लिया, लेकिन वे यह नहीं सोच पा रहे थे कि काम क्या करें। शुरुआत एक स्थानीय विश्वविद्यालय में मांस और पॉल्ट्री प्रसंस्करण पर व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम से हुई। इसके साथ उन्होंने मांस के असंगठित बाजार में घुसने का मन बनाया।दोनों को शुरू में उनके परिवारों से पूरा समर्थन भी नहीं मिला। आदित्य ने बताया, "हमारे परिवारों को शुरू में लगा कि हम जिस तरह का काम कर रहे हैं उसमें कोई अपनी लड़की की शादी नहीं करना चाहेगा, लेकिन बाद में हमारे परिवार के लोग साथ में खड़े रहे।" उन्होंने 100 वर्गफुट क्षेत्र में अपने दोस्तों की मदद से जमा किए गए 25,000 रुपये के फंड से 'एपेटाइटी' नामक कंपनी शुरू की, जिसका एक महीने का कारोबार अब चार लाख रुपये महीने से ज्यादा हो चुका है। दोनों का कारोबार धीरे-धीरे बढ़ने लगा था।इसी दौरान शहर की ही एक कंपनी फैबी कॉर्पोरेशन की नजर उन पर पड़ गई। फैबी ने हाल ही में एपेटाइटी की बहुलांश हिस्सेदारी 10 करोड़ रुपये में खरीद ली है। हालांकि आदित्य और आकाश कुछ हिस्सेदारी के साथ अब भी इसके साथ जुड़े रहेंगे। फैबी के निदेशक फहाद सैयद ने कहा कि सौदे के बाद 'एपेटाइटी' ब्रांड बरकार रहेगा और इसके बैनर तले ही नए उत्पाद पेश किए जाएंगे।परिषद21जुलाईकोदेगीदेशकोखुशखबरीकुछवस्‍तुओंपरटैक्‍सरेटमेंकरसकतीहैकटौतीड्राइविंग लाइसेंस और RC को लेकर हुई बड़ी घोषणा, अब आपकी टेंशन खत्म, नहीं कटेगा चालान******DLऔर RC को लेकर हुई बड़ी घोषणा, अब आपकी टेंशन खत्म, नहीं कटेगा चालानकेंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH) ने डीएल, आरसी की वैधता को 31 मार्च 2021 तक बढ़ा दिया है। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH) ने कोरोन वायरस के प्रसार को रोकने की आवश्यकता के मद्देनजर वाहनों के दस्तावेजों की वैधता जैसे DL, RC, परमिट आदि को 31 मार्च 2021 तक बढ़ा दिया है। मंत्रालय ने आज राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के संबंध में एक निर्देश भी जारी कर दिए है।इस आदेश के बाद अगर ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल), रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी), फिटनेस सर्टिफिकेट की वैधता 31 दिसंबर के बाद भी मान्य रहेगी। इससे पहले परिवहन मंत्रालय ने दस्तावेजों को अपडेट कराने की तारीख को 30 मार्च, 2020, 9 जून, 2020 और 24 अगस्त 2020 को भी एडवाइजरी जारी कर आगे बढ़ा दिया था। यह सलाह दी गई थी किफिटनेस, परमिट की वैधता (सभी प्रकार), लाइसेंस, पंजीकरण या किसी अन्य संबंधित दस्तावेज को 31 दिसंबर 2020 तक वैध माना जाएगा।नए एडवाइजरी में कहा गया है, "COVID-19 के प्रसार को रोकने की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, यह सलाह दी जाती है कि उपरोक्त सभी दस्तावेजों की वैधता को 31 मार्च 2021 तक वैध माना जा सकता है।एडवाइजरी में कहा गया है कि इससे नागरिकों को सामाजिक सुरक्षा को बनाए रखते हुए परिवहन संबंधी सेवाओं का लाभ उठाने में मदद मिलेगी। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को इस एडवाइजरी को लागू करने का अनुरोध किया गया है ताकि नागरिकों, ट्रांसपोर्टरों और विभिन्न अन्य संगठनों जो कोरोना वायरस महामारी के दौरान इस कठिन समय में काम करने के दौरान उन्हें परेशान नहीं किया जा सके या कठिनाइयों का सामना न करना पड़े।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 05:23
उद्धरण 1 इमारत
IND vs WI ODI Series : विराट कोहली ने 8 रन बनाकर भी रचा कीर्तिमान, जानिए कैसे******Highlightsभारत और वेस्टइंडीज के बीच तीन वन डे मैचों की सीरीज शुरू हो चुकी है। टीम इंडिया ने सीरीज के पहले ही मैच में शानदार प्रदर्शन करते हुए वेस्टइंडीज को6विकेट से हरा दिया। खास तौर पर मैच में जिस तरह से गेंदबाजों ने प्रदर्शन किया, वो काबिलेतारीफ रहा। वेस्टइंडीज जैसी टीम को छोटे स्कोर पर रोक दिया और उसके बाद4विकेट खोकर दिए गए टारगेट को हासिल भी कर लिया। रोहित शर्मा ने बतौर कप्तान अपनी नई शुरुआत की और पहले ही मैं ताबड़तोड़ अर्धशतक लगातार अपनी फार्म के बारे में बता दिया। हालांकि इस बीच विराट कोहली एक बार फिर छोटी पारी खेलकर आउट हो गए। लेकिन इसके बाद भी उन्होंने एक नया कीर्तिमान रच दिया है, जो हर किसी के बस की बात नहीं।पहले वन डे मैच में रोहित शर्मा के आउट होने के बाद विराट कोहली बल्लेबाजी के लिए मैदान में उतरे, उम्मीद थी कि वे बड़ी पारी खेलेंगे और टीम को आसानी से जीत दिला देंगे, लेकिन वे बड़ी पारी नहीं खेल सके। विराट कोहली ने चार गेंद पर आठ रन बनाए, इसमें दो चौके शामिल थे और उसके बाद आउट होकर चलते बने। लेकिन इन आठ रन की बदौलत उन्होंने अपने घर यानी भारत में पांच हजार रन पूरे कर लिए। वे भारत के दूसरे और दुनिया के चौथे ही बल्लेबाज हैं, जिन्होंने अपने घर पर पांच हजार रन बनाए हों।विराट कोहली रविवार को अपने घर पर 96वें मैच में खेलने के लिए उतरे और पांच हजार रन पूरे कर लिए। इससे पहले सचिन तेंदुलकर ने 121 पारियों में ये काम किया था। वहीं अगर भारत के अलावा बाकी खिलाड़ियों की बात करें तो दक्षिण अफ्रीका के जैका कैलिस ने 130 मैचों में ये काम किया था और की​वी बल्लेबाज रिकी पोंटिंग ने 138 मैचों में ये कारनामा किया था। यानी आंकड़ों से ही साफ है कि विराट कोहली दुनिया के अकेले ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने 100 से कम पारियों में ये काम किया है, बाकी सभी ने इससे ज्यादा मैच खेले हैं। अभी सीरीज के दो मैच और बचे हुए हैं, अगर इसमें विराट कोहली 176 रन और बना लेते हैं तो वे जैस कैलिस को भी पीछे छोड़ देंगे। जैक कैलिस ने 5178 रन बनाए हैं, सचिन तेंदुलकर ने 6976 रन बनाए हैं, वहीं रिकी पोंटिंग ने 5046 रन बनाए हैं।
2022-10-01 05:16
उद्धरण 2 इमारत
Rajat Sharma’s Blog: क्या विपक्ष कभी नीतीश को अपना पीएम उम्मीदवार स्वीकार करेगा?******बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को ऐलान किया कि उनका नया मंत्रिमंडल 15 अगस्त के बाद शपथ लेगा, और 24 एवं 25 अगस्त को राज्य विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाएगा। नई महागठबंधन सरकार विधानसभा में अपना बहुमत साबित करेगी और एक नये विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस भेजा जा चुका है। नए मंत्रियों को दिए जाने वाले विभागों के बारे में गठबंधन सहयोगियों के बीच एक व्यापक समझ बन गई है।इस बीच, इस बात के साफ संकेत हैं कि नीतीश कुमार दिल्ली पर नजरें गड़ाए हुए हैं और राष्ट्रीय राजनीति में कदम रख सकते हैं। बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी, जिन्होंने 10 साल तक नीतीश कुमार की सरपरस्ती में उपमुख्यमंत्री के रूप में काम किया, ने खुलासा किया कि नीतीश ने बीजेपी का साथ छोड़ने का फैसला इसलिए किया क्योंकि बीजेपी हाईकमान ने उपराष्ट्रपति बनाए जाने के उनके अनुरोध को नहीं माना था। सुशील मोदी ने कहा कि जेडीयू के नेताओं ने इस बारे में बीजेपी नेतृत्व से मुलाकात भी की थी, लेकिन ये बात नहीं मानी गयी। सुशील मोदी ने कहा, 'अगर बीजेपी ने नीतीश को उपराष्ट्रपति बना दिया होता, तो वह एनडीए नहीं छोड़ते और बीजेपी का गुणगान कर रहे होते।' नीतीश कुमार ने इन आरोपों को 'बेकार की बातें' करार दिया।सुशील मोदी की इस बात में दम है कि नीतीश कुमार अब दिल्ली की राजनीति करना चाहते हैं। जगदीप धनखड़ के उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेने के साथ ही यह मुद्दा अब खत्म हो गया है। नीतीश कुमार की नजर पीएम पद पर है, और वह बीजेपी विरोधी ताकतों को लामबंद करने की योजना बना रहे हैं। नीतीश कुमार का दिल्ली की तरफ कूच करने का इरादा तेजस्वी यादव को भी सूट करता है। बिहार का मुख्यमंत्री बनने का उनका सपना ऐसे ही पूरा हो सकता है।सुशील मोदी ने एक और दिलचस्प खुलासा किया। उन्होंने कहा कि जब गृह मंत्री अमित शाह ने नीतीश कुमार को दो दिन पहले फोन किया था और उनसे पूछा था कि उनकी पार्टी के नेता ललन सिंह बीजेपी विरोधी बयान क्यों दे रहे हैं, तो नीतीश कुमार ने जवाब दिया था कि ‘हमारे ललन सिंह आपके गिरिराज जैसे हैं। उनके बयान को ज्यादा महत्व मत दीजिए, चिंता मत कीजिए।’ नीतीश कुमार ने अमित शाह को झांसे में रखा और अगले ही दिन गठबंधन को तोड़ दिया।बीजेपी नेतृत्व को पूरा भरोसा है कि नीतीश कुमार राष्ट्रीय राजनीति में नाकाम साबित होंगे। बीजेपी नेताओं का कहना है कि नीतीश कुमार, जो 2014 में बिहार से अपनी पार्टी के लिए 40 में से सिर्फ 2 लोकसभा सीटें जीत पाए थे, उन्हें अन्य विपक्षी दल कभी भी गंभीरता से नहीं लेंगे। हालांकि इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि नीतीश कुमार के अचानक विपक्षी खेमे में घुसने से बीजेपी नेताओं को गहरी चोट लगी है, और इसका दर्द उनके बयानों में दिखाई भी दे रहा है। बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बुधवार को कहा कि ‘विपक्ष नीतीश कुमार को चने के झाड़ पर चढ़ा रहा है।’राष्ट्रीय फलक पर इस समय विपक्षी खेमे में क्षेत्रीय दलों का वर्चस्व है, और यह खेमा नीतीश कुमार के हर कदम को गौर से देख रहा है। एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने कहा, नीतीश कुमार ने बीजेपी की चाल को समझकर वक्त रहते जो फैसला किया, उसकी तारीफ की जानी चाहिए। पवार ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने इससे पहले भी अकाली दल और शिवसेना जैसे अपने पूर्व सहयोगियों को कमजोर किया, लेकिन नीतीश कुमार ने जैसे को तैसा जबाव दिया। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने भी नीतीश कुमार के इस कदम का स्वागत किया। शिवसेना नेता अरविंद सावंत ने आरोप लगाया कि बीजेपी क्षेत्रीय दलों को कभी पनपने नहीं देना चाहती।इसी तरह की प्रतिक्रियाएं ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस और के. चंद्रशेखर राव की तेलंगाना राष्ट्र समिति की ओर से आईं। केसीआर की बेटी के. कविता ने कहा, 'बिहार में हुआ सियासी घटनाक्रम पूरे देश के लिए एक शुभ संकेत है और नीतीश कुमार के इस कदम की तारीफ होनी चाहिए।’ AAP सुप्रीमो और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से जब पूछा गया कि क्या उनकी पार्टी पीएम पद के लिए नीतीश कुमार का समर्थन करेगी, तो उन्होंने कहा: ‘लोकसभा चुनाव में अभी वक्त है। तब की तब देखी जाएगी।’जितनी पार्टियों ने बिहार में हुए बदलाव को ‘देश में बदलाव की शुरूआत’ बताया, ‘बीजेपी की उल्टी गिनती की शुरूआत’ बताया, वे सभी पार्टियां पूरी ताकत के साथ नरेन्द्र मोदी का विरोध करती हैं। शरद पवार, ममता बनर्जी, उद्धव ठाकरे, के. चन्द्रशेखर राव और अरविन्द केजरीवाल जैसे नेता मोदी के खिलाफ बोलने का कोई मौका नहीं छोड़ते।चूंकि ने को झटका दिया है इसलिए अब सभी नीतीश की तारीफ कर रहे हैं, उन्हें देश को दिशा दिखाने वाला बता रहे हैं। नीतीश भी विरोधी दलों की एकता की बात कर रहे हैं। लेकिन जैसे ही यह सवाल पूछा जाएगा कि क्या ये सारे नेता नीतीश को नेता मानने को तैयार हैं, क्या नीतीश को मोदी के मुकाबले प्रधानमंत्री पद के दावेदार के तौर पर पेश करने के लिए तैयार हैं, इस सवाल का जबाव मिलने से पहले ही विपक्षी एकता टूट जाएगी। यही आज विपक्ष की हकीकत है।
2022-10-01 03:58
उद्धरण 3 इमारत
SBI ने अपने ग्राहकों को दिया झटका, 1 अप्रैल से बढ़ा दिए BPLR और बेस रेट****** नए वित्‍त वर्ष के शुरुआती दिन यानी को ने अपने होम और कार लोन ग्राहकों को बड़ा झटका दिया है। SBI ने 1 अप्रैल से अपने और बढ़ा दिए हैं। हालांकि, जिन ग्राहकों ने मार्जिनल कॉस्‍ट लेंडिंग रेट के आधार पर होम लोन लिया हुआ है उनके लिए राहत भरी खबर यह है कि बैंक ने इसे अ‍परिवर्तित रखा है। आपको बता दें कि SBI ने अपने BPLR को 13.40 फीसदी से बढ़ा कर 13.45 फीसदी कर दिया है। वहीं, बेस रेट को भी 8.65 फीसदी से बढ़ाकर 8.70 फीसदी कर दिया है। 1 अप्रैल से SBI ने बैंक खाते में मंथली मिनिमम बैलेंस न होने पर लगने वाला चार्ज कम कर दिया है। 1 अप्रैल से मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर अब आपको शहरों में 50 रुपए की जगह 15 रुपए, अर्धशहरी क्षेत्र में 40 रुपए की जगह 12 रुपए और गांवों में 40 के बजाए 10 रुपए लगेगा।SBI ने बार-बार अपने ग्राहकों को सूचित किया था कि जिन बैंकों का विलय भारतीय स्‍टेट बैंक में हुआ है उनके चेक 31 मार्च के बाद मान्‍य नहीं होंगे। अगर आप भी स्‍टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर और भारतीय महिला बैंक के ग्राहक थे तो SBI से अपना नया चेक मंगवा लीजिए। पुराने बैंकों के चेकबुक 1 अप्रैल से मान्‍य नहीं रह गए हैं।
वापसी