नई पोस्ट करें

Samsung फरवरी में लॉन्‍च करेगी Galaxy S8, लीक हुए इस जबरदस्‍त स्‍मार्टफोन के फीचर्स

2022-10-01 06:32:15 569

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सBigg Boss 11 जीतने के बाद शिल्पा शिंदे ने पूछा, "कौन विकास गुप्ता", वीडियो हुआ वायरल****** छोटे पर्दे का विवादित शो का सीजन 11 खत्म हो चुका है। इस सीजन की ट्रॉफी अभिनेत्री ने अपने नाम दर्ज की। अब शो तो बेशख खत्म हो गया है, लेकिन इस घर में देखे गए सदस्य अब भी जश्न के ही मूड में नजर आ रहे हैं। घर के अंदर भले इन सभी को एक दूसरे से लड़ते झगड़ते देखा गया हो, लेकिन बाहर आने के बाद इन सभी सदस्यों के बीच काफी अच्छी दोस्ती दिखाई दे रही है। बिग बॉस के घर में नजर आ चुके सब्यासाची सत्पथी के जन्मदिन के मौके पर रविवार को सभी प्रतिभागियों के लिए एक पार्टी का आयोजन किया गया। इस मौके पर शिल्पा शिंदे, , बंदगी कालरा और पुनीश शर्मा सहित कई सेलिब्रिटी भी नजर आए।लेकिन इस दौरान शिल्पा की मुलाकात जैसे ही विकास गुप्ता से हुई उन्होंने उन्हें पहचानने से साफ इंकार कर दिया। बता दें कि बिग बॉस के घर में शुरुआत से ही ये दोनों एक दूसरे से लड़ते हुए दिखे थे। हालांकि बाद में दोनों अच्छे भी बन गए थे। लेकिन पार्टी के दौरान जब शिल्पा से विकास गुप्ता के बारे में सवाल किए गए तो उन्होंने कहा, "कौन विकास गुप्ता? कहां है विकास गुप्ता? मैं नहीं जानती?"बता दें कि शिल्पा शिंदे यहां मजाकियां अंदाज में उन्हें पहचानने से इंकार कर रही थीं। इस दौरान विकास ठीक उनके पीछे ही खड़े हुए थे और उनकी बातें सुनकर हंस पड़ते हैं। गौरतलब है कि पार्टी में आकाश ददलानी और महजबीं सिद्दीकी भी पहुंची थीं।

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सNumerology: मूलांक 1 वाले होते हैं अहंकारी, बर्थडे डेट से जानिए व्यक्ति का स्वभाव****** अंक शास्त्र यानी कि नूमरोलॉजी, ये एक ऐसा विज्ञान है जिसमें इंसाान की जिंदगी से जुड़े नंबर्स से उसका भविष्य और स्वभाव बताया जा सकता है। आपके जन्मदिन के मूलांक से आपका स्वभाव और भविष्य बताया जा सकता है, ये आपको भले ही आश्चर्य की बात लगे लेकिन ये सत्य है। आज हम आपको उन व्यक्तियों के स्वभाव के बारे में बताने वाले हैं जिनका मूलांक एक है। अगर आपका जन्म किसी भी महीने की 1, 10, 19 या 28 तारीख को हुआ है तो आपका मूलांक 1 है।मूलांक 1 वाले कभी-कभी अहंकारी, हावी और आधिकारिक हो सकते हैं।शुभ रंग- पीला, सोनाफरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सवीवो 7 अगस्‍त से शुरू करेगी इंडिपेंडेंस डे सेल, 1947 रुपए में मिलेगा वीवो वी9 और वीवो नेक्‍स स्‍मार्टफोन******vivo। इंडिपेंडेंस डे करीब है, इसे देखते हुए कंपनियों ने अपने ऑफर पेश करने शुरू कर दिए हैं। इसी क्रम में चीन की दिग्‍गज कंपनी वीवो भी इंडिपेंडेंस डे के लिए खास ऑफर लेकर आई है। इसके तहत वीवो के दो लेटेस्‍ट फोन वीवो वी9 और वीवो नेक्‍स आश्‍चर्यजनक कीमत पर उपलब्‍ध होंगे। वीवो की फ्रीडम कार्निवल नाम की यह सेल 7 अगस्‍त से शुरू हो रही है। तीन दिन चलने वाली यह सेल 9 अगस्‍त तक वीवो के ईकॉमर्स प्‍लेटफॉर्म पर चलेगी। आपको बता दें कि यह सेल सिर्फ कंपनी के इन दो फोन पर ही नहीं, बल्कि वीवो के अन्‍य हैंडसेट के अलावा वीवो के ईयरफोन और चार्जर जैसी एक्‍सेसरीज़ पर भी मिलेगा। यहां पर ग्राहकों को डिस्‍काउंट के साथ ही कूपन डील और कैशबैक भी प्रदान किया जाएगा।आइए वीवो की इस सेल के बारे में विस्‍तार से जानते हैं। 7 से 9 अगस्त तक चलने वाली इस सेल में हर रोज दोपहर 12 बजे वीवो नेक्स और वीवो वी9 की फ्लैश सेल होगी। यह सेल स्टॉक खत्म होने तक सेल जारी रहेगी। सेल में कंपनी ग्राहकों को कुछ खास स्मार्टफोन पर 4000 रुपए तक का कैशबैक भी दे रही है। साथ ही सेल में वीवो के कई फोन पर नो कॉस्‍ट ईएमआई ऑफर भी मिलता है। यानि कि आप बिना किसी अतिरिक्‍त कीमत चुकाए किश्‍तों पर यह फोन खरीद सकते हैं। कैशबैक और बिना ब्याज वाली ईएमआई के अलावा ग्राहकों को वीवो नेक्स, वीवो वी9, वीवो एक्‍स21 की खरीद पर 1200 रुपये के ब्लूटूथ ईयरफोन भी दिया जा रहा है।इस सेल के अन्‍य ऑफर्स की बात की जाए तो आपको वीवो के ईयरफोन या फिर यूएसबी केबल की खरीद पर 50 रुपए का कूपन मिलेगा। वहीं वीवो के प्रीमियम ईयरफोन की खरीद पर आपको 200 रुपए के फ्री कूपन दिए जाएंगे। इसके अलावा वीवो वी7 की खरीद पर कंपनी 7000 रुपए के कूपन दे रही है। इतना ही नहीं वीवो वी7+ की खरीद पर आपको 3000 रुपए के कूपन दिए जाएंगे। इन कूपन को चुनिंदा स्मार्टफोन और एक्सेसरीज की खरीद पर ही इस्तेमाल किए जा सकेगा। वीवो फ्रीडम कार्निवल सेल की शुरुआत 6 अगस्त की मध्यरात्रि 12 बजे से होगी। ऐसे में यदि आप अच्‍छे स्‍मार्टफोन की तलाश में हैं तो 6 अगस्‍त की रात से इसके लिए कोशिश कर सकत हैं। यदि आप इसमें सफल न भी हो सके तो भी आपको स अगस्‍त के महीने में बहुत सी अन्‍य कंपनियों की ओर से भी ऑफर मिलेगा।

Samsung फरवरी में लॉन्‍च करेगी Galaxy S8, लीक हुए इस जबरदस्‍त स्‍मार्टफोन के फीचर्स

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्स50 प्रतिशत ट्रेन टिकट अभी भी खरीदे जाते हैं कैश में, डिजिटल भुगतान में सुधार की है जरूरत****** भारत में आधे से अधिक ट्रेन टिकट अभी भी कैश देकर खरीदे जाते है। इसका प्रमुख कारण है डिस-इनसेंटिव ईकोसिस्‍टम, जो कैश लेनदेन को बढ़ावा देता है। देशभर में ग्राहकों और टिकट बुकिंग एजेंट्स पर किए गए एक सर्वे में यह खुलासा हुआ है। सर्वे में कहा गया है कि अधिकृत टिकट बुकिंग एजेंट्स के जरिये आरक्षित ट्रेन टिकटों की खरीदी की जाती है, जिनका कुल आरक्षित टिकटों की बिक्री में आधा हिस्‍सा है।रेलयात्री डॉट इन द्वारा किए गए इस सर्वे में पाया गया है कि भारतीयों के लिए ट्रेन टिकट खरीदने के लिए आस-पड़ोस का टिकट एजेंट अभी भी पसंदीदा विकल्प है। एक अनुमान के मुताबिक इस तरह के लगभग 65,000 लघु व्यावसाय देश भर के हर गली-नुक्कड़ पर स्थित हैं। ट्रेन टिकट की खरीदारी में कई निर्णय शामिल होते हैं और इसलिए यात्री इस काम के लिए अपने भरोसेमंद एजेंट्स के पास जाना पसंद करते हैं।रेलयात्री डॉट इन के सह-संस्‍थापक और सीईओ मनीष राठी कहते हैं कि भारत में ग्राहकों का एक बड़ा वर्ग प्रबंधित सेवाओं पर निर्भर करता है, खासतौर से तब जब वे बहुत अधिक जरूरतमंद होते हैं और आपूर्ति-मांग में भारी अंतर हो। सर्वे में यह पाया गया कि बड़ी संख्या में एजेंट्स के पास डिजिटल भुगतान स्वीकार करने का साधन मौजूद होता है, बावजूद इसके वे लगभग 100 प्रतिशत टिकटों की बुकिंग कैश में ही करते हैं।इसका कारण है पेमेंट गेटवे (पीजी) पर 0.7 प्रतिशत का शुल्क (2000 रुपए से कम कीमत की ट्रेन टिकट के लिए), जो इन एजेंट्स के लिए औसत बैंक शुल्क के अनुकूल नहीं है। दूसरा कारण यह है कि कैश लेन-देन करने में कोई परेशानी नहीं होती है। कई एजेंट्स कैश में भुगतान इसलिए लेते हैं क्योंकि इससे उन्हें वास्तविक भुगतान योग्य राशि से अधिक शुल्क वसूलने में कोई परेशानी नहीं होती है।फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्समहंगाई की मार: मदर डेयरी और अमूल ने बढ़ाए दूध के दाम, नई कीमतें आज से लागू******नए साल के पहले ही दिल्ली-एनसीआर के लोगों को महंगाई की मार झेलनी पड़ रही है। दिल्ली-एनसीआर में दूध के दाम बढ़ गए हैं। दूध की खुदरा बिक्री करने वाली कंपनी मदर डेयरी ने दिल्ली-एनसीआर में दूध की कीमतें तीन रुपए प्रति लीटर तक बढ़ाने की शनिवार को घोषणा की। कंपनी ने कहा कि बढ़ी दरेंआजयानी रविवार (15 दिसंबर) से लागू हो गई हैं।कंपनी ने कहा कि कम आपूर्ति तथा खरीद की लागत बढ़ने के कारण उसे कीमतें बढ़ानी पड़ी हैं। उसने कहा कि टोकन तथा थैली वाले दूध की कीमतें दो से तीन रुपए प्रति लीटर तक बढ़ायी गयी हैं। दिल्ली-एनसीआर में फिलहाल मदर डेयरी का एक लीटर फुल क्रीम दूध 54 रुपए का मिलता है, जो रविवार से 57 रुपए का मिल रहा है। का टोकन दूध अब दो रुपए महंगा होकर 42 रुपए प्रति लीटर होगा। फुल क्रीम की एक लीटर वाली थैली अब 55 रुपए में तथा आधे लीटर वाली थैली 28 रुपए में मिलेगी। इनकी पुरानी दरें क्रमश: 53 रुपए और 27 रुपए हैं। टोंड दूध अब 42 रुपए की जगह 45 रुपए में तथा डबल टोन्ड दूध 36 रुपए के बजाय 39 रुपए में मिलेगा। इसी तरह गाय का दूध भी तीन रुपये महंगा होकर 47 रुपए प्रति लीटर मिलेगा।कंपनी ने कहा, 'मानसून लंबा खींच जाने तथा दूध उत्पादन के अनुकूल सत्र की देर से शुरुआत समेत विपरीत मौसम परिस्थितियों के चलते विभिन्न राज्यों में दूध की उपलब्धता कम हुई है। प्रतिकूल मौसम के कारण पशुचारा की कीमतें भी बढ़ गयी हैं। इसका असर दूध उत्पादकों को किये जाने वाले भुगतान पर पड़ा है। सर्दियों में कच्चे दूध की कीमतें सामान्यत: कम हो जाती हैं, लेकिन इस बार बढ़ गयी हैं।' उसने कहा कि दूध उत्पादक किसानों को किया जाने वाला भुगतान पिछले कुछ महीने में करीब 20 प्रतिशत यानी छह रुपये प्रति लीटर तक बढ़ गया है। इस कारण उसे दाम बढ़ाने पर बाध्य होना पड़ा है। मदर डेयरी ने कहा कि वह दूध की बिक्री से होने वाली आय का करीब 80 प्रतिशत सिर्फ खरीदने में ही खर्च कर देती है।अमूल ने भी दूध की कीमतें बढ़ाने का फैसला किया है। कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 15 दिसंबर 2019 से दूध की कीमतें 2 रुपए तक बढ़ा दी हैं। अमूल ने अपने पॉलीपैक दूध की कीमतों में 2 रुपए प्रति लीटर का इजाफा किया है। अमूल ने अमूल गोल्ड और अमूल ताजा के दाम में दो रुपए प्रति लीटर तक बढ़ोतरी की है।अमूल ने दिल्ली-एनसीआर, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, मुंबई, अहमदाबाद, साणंद में 15 दिसंबर से दूध की कीमतें 2 रुपए प्रति लीटर तक दाम बढ़ाने का फैसला किया है। रविवार से आधा लीटर वाले फुल क्रीम दूध अमूल गोल्ड के दाम बढ़कर 28 रुपए हो जाएंगे। वहीं, अमूल ताजा की आधा लीटर वाली थैली के दाम 21 रुपए से बढ़कर 22 रुपए हो जाएंगे।अब अहमदाबाद में 500 मिलीलीटर का अमूल गोल्ड का पैक 27 रुपए, अमूल शक्ति 25 रुपए, अमूल ताजा 21 रुपए और अमूल डायमंड 28 रुपए का मिलेगा। हालांकि गुजरात में काउ मिल्क यानी गाय के दूध की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन के मैनेजिंग डायरेक्टर आरएस सोढ़ी ने एक बयान में यह जानकारी दी। स्टैंडर्ड मिल्क पहले 47 रुपए प्रति लीटर मिलता था, नई दरों के हिसाब से अब इसके लिए 49 रुपए खर्च करने पड़ेंगे। अमूल दूध के बढ़े हुए दाम रविवार से लागू किए जाएंगे।बता दें कि मदर डेयरी दिल्ली-एनसीआर में 30 लाख लीटर दूध की आपूर्ति करती है, इसमें से 8 लाख लीटर दूध गाय का दूध होता है।इस साल मई में भी मदर डेयरी ने दूध की कीमतों में प्रति लीटर 2 रुपए का इजाफा किया था। इसके अलावा, सितंबर में कंपनी ने गाय के दूध के दाम भी 2 रुपए प्रति लीटर बढ़ाया था। दोनों बड़ी कंपनी अमूल और मदर डेयरी का कहना है कि देशभर के कई राज्यो में दूध उत्पादन में कमी आई है। इसका सबसे बड़ा कारण मानसून और फ्लश सीजन के शुरू होने में देरी की वजह से हुआ है। वहीं, पर्यावरण के दुष्प्रभाव का भी इसर पड़ा है, जिसके बाद चारे के दाम में भी इजाफा हुआ है। यही कारण है कि दूध उत्पादकों के लिए मुश्किलें खड़ी हो गई है।फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सविश्व की लग्जरी दुकानों 10 शीर्ष स्थानों में चीन के चार शहर****** चीन के चार शहर, लंदन, पेरिस और न्यूयॉर्क जैसे दुनिया के 10 शीर्ष शहरों की सूची में शामिल हो गए हैं, जो विलासिता की वस्‍‍तुओं वाले रिटेल कारोबार के लिए पसंदीदा जगह हैं। यह बात सरकारी मीडिया में कही गई है। रीयल एस्टेट परामर्श कंपनी जोंस लेंग लासेले (जेएलएल) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हांगकांग, शंघाई, बीजिंग और तइपेई का नाम अब विश्व की लग्जरी दुकानों के लिहाज से मशहूर शीर्ष 10 शहरों में शामिल हो गया है।एशिया-प्रशांत क्षेत्र में चीन के चार शहरों के साथ इन 10 शीर्ष शहरों में जापान के ओसाका और नगर-राज्य सिंगापुर शामिल हैं, जहां तेजी से बढ़ते अमीर उपभोक्ताओं के लिए लग्जरी दुकानें हैं। कंपनी को उम्मीद है कि अगले 15 साल में पूरे एशिया में उच्च-आय वाले परिवारों की संख्या बढ़ेगी और इस रुझान से यह क्षेत्र वैश्विक स्तर पर विलासितापूर्ण खपत के केंद्र में होगा। लग्जरी दुकानों के लिहाज से हांगकांग, लंदन के बाद दूसरे स्थान पर है, जिसके बाद पेरिस का स्थान है। चीन से टायरों की डंपिंग की जांच कर रही है सरकार, घरेलू उद्योग को हो रहा है सस्‍ते आयात से नुकसान सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने जेएलएल की रिपोर्ट के हवाले से कहा है कि चीन की धीमी होती अर्थव्यवस्था और निरंतर भ्रष्टाचार-विरोधी अभियानों के बावजूद लग्जरी श्रृंखलाएं हांगकांग को चीन के बाजार का मुख्य द्वार मानती हैं और यह चीन की मुख्य भूमि के ज्यादा खर्चीले पर्यटकों का पसंदीदा स्थान है। शंघाई छठे स्थान पर रहा और यह एशिया में लग्जरी दुकानों के लिए नया उभरता केंद्र है। बीजिंग दुबई के बाद नौवें स्थान पर हैं और धनाढ्यों की संख्या काफी अधिक होने के कारण यहां बड़ी संभावनाएं हैं। Tax इंफॉर्मेशन पर मिलकर काम करेंगे भारत और चीन, पांच देशों के बीच हुआ अहम करार

Samsung फरवरी में लॉन्‍च करेगी Galaxy S8, लीक हुए इस जबरदस्‍त स्‍मार्टफोन के फीचर्स

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सCOVID-19: रिटेल कारोबारियों को हुआ 15.5 लाख करोड़ रुपए का नुकसान, सरकारी मदद के बिना बंद हो जाएंगी 20% दुकानें******Retail trade suffers Rs 15.5 lakh cr biz loss due to COVID-19, says CAIT खुदरा व्यापारियों के राष्‍ट्रीय संगठन कन्‍फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने रविवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी के कारण भारत के खुदरा व्यापारियों को पिछले 100 दिनों में 15.5 लाख करोड़ रुपए के कारोबार का नुकसान हुआ है। कैट ने एक बयान में कहा कि देश भर में व्यापारी उपभोक्ताओं की कमी, कर्मचारियों की गैरहाजिरी के कारण दबाव में हैं और वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं।कैट ने दावा किया कि केंद्र या राज्य सरकारों की तरफ से किसी समर्थन नीति के अभी तक नहीं होने के कारण भी व्यापारी परेशान हैं। कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि घरेलू कारोबार इस सदी के सबसे खराब दौर से गुजर रहा है और अगर तत्काल कदम नहीं उठाए गए तो भारत में लगभग 20 प्रतिशत दुकानें बंद हो जाएंगी।केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े लोगों को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने हेतु पूंजी समर्थन मुहैया कराने के लिए एक अलग नीति की जरूरत पर जोर दिया। एमएसएमई और सड़क परिवहन तथा राजमार्ग मंत्री ने एक डिजिटल सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक रूप से ऐसे पिछड़े लोगों, जिनके पास कौशल तो है, लेकिन पूंजी नहीं है, उनके लिए अलग नीति की जरूरत है।उन्होंने कहा कि जब लोग ग्रामीण भारत से शहरी भारत की ओर पलायन करते हैं, तो यह उनकी इच्छा के कारण नहीं, बल्कि मजबूरी के कारण होता है। गडकरी ने कहा कि क्योंकि उनके पास रोजगार नहीं है और गरीबी एक बड़ी समस्या है। गरीबी उन्मूलन के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इनमें से जिन लोगों के पास कुछ प्रतिभा है, जिनके पास साहस है, जिनके पास उद्यमशीलता है, हमें उन्हें वित्त देना चाहिए, हमें उनकी मदद करनी चाहिए।फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सक्या अब खत्म हो गया Islamic State? सरगना Abu Ibrahim ने बीवी-बच्चों समेत खुद को बम से उड़ाया******Highlightsसीरिया में अमेरिकी विशेष बलों द्वारा रात भर की गई छापेमारी में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के नेता की मौत हो गई। अबू इब्राहिम अल-हाशिमी अल-कुरैशी ने देश के उत्तर-पश्चिमी इदलिब प्रांत में अपने परिसर में एक बम विस्फोट करके खुद को खत्म कर लिया। अमेरिकी अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि विस्फोट में बच्चों समेत उसके परिवार के सदस्यों की भी मौत हो गई।यह पहली बार नहीं है जब अमेरिकी बलों ने आतंकवादी संगठनों के प्रमुखों को निशाना बनाया है और यह भी पहली बार नहीं है कि वह इस तरह की कार्रवाई में सफल हुए हैं। द कन्वरसेशन ने अमेरिकी सैन्य अकादमी में आतंकवाद विशेषज्ञ अमीरा जादून और जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के प्रोग्राम ऑन एक्सट्रीमिज्म के रिसर्च फेलो, हारो जे. इनग्राम और एंड्रयू माइंस से यह समझाने के लिए कहा कि यह हमला अमेरिका की आतंकवाद विरोधी रणनीति पर कैसे फिट बैठता है, और इससे इस्लामिक स्टेट को कितना नुकसान हुआ है।अबू इब्राहिम अल-हाशिमी अल-कुरैशी, अमीर मुहम्मद सईद अब्दाल-रहमान अल-मावला द्वारा अपनाया गया उपनाम है, जो 2019 में अमेरिकी छापे में अबू बक्र अल-बगदादी की मौत के बाद का नेता बना। उसका जन्म 1976 में उत्तरी इराक के मोसुल में हुआ था। लेकिन सितंबर 2020 तक अल-कुरैशी के बारे में बहुत कम जानकारी थी, जब यह पता चला कि उसे 2008 की शुरुआत में इराक में अमेरिकी सेना द्वारा हिरासत में लिया गया था और उससे पूछताछ की गई थी। उस अवधि से अवर्गीकृत सामरिक जांच रिपोर्ट बताती है कि अल-कुरैशी ने उच्च शिक्षा ग्रहण की थी और वह इस्लामिक स्टेट में एकाएक नेता के रूप में उभरा।अल-कुरैशी के दावे के मुताबिक, वह 2007 में मोसुल यूनिवर्सिटी से कुरान की पढ़ाई में मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद समूह में शामिल हुआ था। शामिल होने के तुरंत बाद, अल-कुरैशी मोसुल में समूह का शरिया सलाहकार बन गया। यह संगठन का एक प्रमुख धार्मिक पद है। बाद में 2008 की शुरुआत में पकड़े जाने से पहले वह शहर का डिप्टी ‘वली’ या शैडो गवर्नर बन चुका था। पूछताछ रिपोर्टों से पता चलता है कि अल-कुरैशी ने इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक, उस समय संगठन को इसी नाम से जाना जाता था, के कम से कम 20 कथित सदस्यों के नामों का खुलासा किया।उसका विश्वासघात ऐसे समय में आया जब समूह के सदस्यों को अमेरिकी और गठबंधन सेना द्वारा बड़ी संख्या में मारा या पकड़ा जा रहा था। अल-कुरैशी की रिहाई के बाद अगले दशक की उसकी गतिविधियों के बारे में अपेक्षाकृत कम जानकारी है। लेकिन उसने कथित तौर पर इस्लामिक स्टेट समूह के इराक के अल्पसंख्यक यज़ीदियों के नरसंहार के प्रयास की देखरेख की और कम से कम 2018 के बाद से अल-बगदादी के डिप्टी के रूप में कार्य किया। ‘खलीफा’ में उसका उदय जिहादी हलकों में विवादास्पद था, नेता बनने के बाद उसके पूछताछ रिकॉर्ड जारी होने से कुछ खास फर्क नहीं पड़ा।अल-कुरैशी के खिलाफ अभियान ऐसे समय पर आया है, जब इस्लामिक स्टेट अनिश्चितता की स्थिति से गुजर रहा है। इसका इराक पर केंद्रित समूह से मध्य पूर्व, अफ्रीका और एशिया में फैले सहयोगियों के साथ एक वैश्विक विद्रोही संगठन बनने का सफर अभी ज्यादा पुराना नहीं है। पूर्वोत्तर सीरिया में हसाका जेल और पूरे इराक में अन्य जगहों पर हाल ही में इस्लामिक स्टेट के हमलों ने संकेत दिया है कि यह समूह पारंपरिक ठिकानों पर अपनी क्षमताओं को फिर से खड़ा करने में शायद अपेक्षा से अधिक उन्नत है।लेकिन अल-कुरैशी की उसके पूर्ववर्ती की मृत्यु के ठीक 2 साल बाद हुई मौत इस बात को लेकर अनिश्चितता पैदा करती है कि उसका उत्तराधिकारी कौन होगा। यह तथ्य कि इस्लामिक स्टेट समूह अपने शीर्ष नेता की रक्षा नहीं कर सका, यह दर्शाता है कि समूह अमेरिका और सहयोगी बलों के निरंतर दबाव का सामना कर रहा है। अल-कुरैशी का इतनी जल्दी मारा जाना, उनके पूर्ववर्ती ने लगभग एक दशक तक नेतृत्व किया, आंतरिक विवादों का भी संकेत देता है। नेता के रूप में कार्यभार संभालने के बाद, अल-कुरैशी को आतंकवादी समूह के भीतर असंतुष्टों ने तो कोई महत्व ही नहीं दिया था, जबकि अन्य ने नेता के रूप में उसकी उपयुक्तता पर सवाल उठाया था, खासकर सितंबर 2020 में उसकी पूछताछ रिपोर्ट जारी होने के बाद।अब, इस्लामिक स्टेट अपने वरिष्ठ नेतृत्व पैनल शूरा परिषद के विचार-विमर्श के आधार पर अल-कुरैशी के उत्तराधिकारी की नियुक्ति कर सकता है, जैसा कि उसने पहले किया है। यदि ऐसा होता है जैसा कि पहले भी होता रहा है, तो अल-कुरैशी के उत्तराधिकारी को अगले कुछ दिनों या हफ्तों में नियुक्त किया जा सकता है। उसकी पहचान छुपाने के लिए उसे एक उपनाम दिया जाएगा। इस्लामिक स्टेट के वैश्विक सहयोगियों के समूह के सदस्यों और नेताओं को उसके प्रति निष्ठा की प्रतिज्ञा करने के लिए कहा जाएगा, लेकिन वह महीनों या वर्षों तक या शायद कभी भी सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आएगा।नेतृत्व को खत्म करना, या आतंकवादी समूहों के शीर्ष नेताओं की लक्षित हत्या, आतंकवाद और प्रतिवाद का एक प्रमुख घटक है। यह अमेरिका सहित कई देशों द्वारा व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। लेकिन आतंकवाद विशेषज्ञ इस बात से सहमत नहीं हैं कि शीर्ष नेताओं को मारना कितना प्रभावी है। कुछ लोगों ने तर्क दिया है कि एक आतंकवादी नेता को मारने से समूहों की संचालन क्षमता बाधित होती है और उनकी संगठनात्मक दिनचर्या बाधित होती है, जिससे उनके लिए हमलों को अंजाम देना कठिन हो जाता है। यह तर्क दिया गया है कि यह संगठनात्मक पतन में भी योगदान दे सकता है।शोध से पता चलता है कि सही परिस्थितियों में, शीर्ष नेताओं को निशाना बनाने से उग्रवादी समूह के हमलों की धार कुंद पड़ जाती है और उसकी गतिविधियों पर काबू पाने की संभावना बढ़ सकती है। हालांकि अन्य आतंकवाद विरोधी विशेषज्ञ लक्षित हत्याओं से जुड़ी समस्याओं को उजागर करते हैं। उनका तर्क है कि वे समूह के विकेंद्रीकरण और लक्षित समूहों द्वारा अंधाधुंध हिंसा को बढ़ा सकते हैं। इस रणनीति को आम तौर पर इस्लामिक स्टेट और अल-कायदा जैसे समूहों के खिलाफ कम प्रभावी माना जाता है जिनके पास अच्छी तरह से प्रबंधित नेतृत्व संरचनाएं और उत्तराधिकार प्रोटोकॉल हैं।इस्लामिक स्टेट समूह अपने नेतृत्व के भीतर उत्तराधिकार के लिए नौकरशाही दृष्टिकोण के कारण कई मौतों के बावजूद अपना वजूद कायम रखने में कामयाब रहा है, और इसके अलावा उसे अभी भी मजबूत स्थानीय समर्थन प्राप्त है अल-कुरैशी की मौत से इस्लामिक स्टेट समूह को कुछ समय के लिए धक्का लगा लेकिन ऐसा होने की संभावना नहीं है कि इससे संगठन खत्म हो जाएगा। अल-कुरैशी की मौत संगठन के सदस्यों को वैश्विक जिहादी परिदृश्य में प्रासंगिक बने रहने के लिए प्रतिशोध के हमलों को भी बढ़ा सकती है।

Samsung फरवरी में लॉन्‍च करेगी Galaxy S8, लीक हुए इस जबरदस्‍त स्‍मार्टफोन के फीचर्स

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सविक्रांत मैसी और कृति खरबंदा की फिल्म '14 फेरे' का ट्रेलर हुआ रिलीज******फिल्म '14 फेरे' का ट्रेलर रिलीज़ कर दिया गया है, यह कॉलेज रोमांस पर बेस्ड फिल्म है जो शुरू तो कॉलेज के साथ होती है मगर फिर उनकी जिंदगी एक अलग मोड़ लेती है, क्योंकि लीड एक्टर्स संजय (विक्रांत मैसी) और अदिति (कृति खरबंदा) का जीवन फैमिली ड्रामा में उलझ जाता है। '14 फेरे' में सॉन्ग, डांस, इमोशन्स और ड्रामा, कॉमेडी और विचित्रता के साथ एक संपूर्ण पारिवारिक मनोरंजन आपको मिलेगा। तो, हंसने और फिल्म के प्यार में पड़ने के लिए तैयार हो जाइए।सबसे पहले देखिए मजेदार ट्रेलर-निर्देशक देवांशु सिंह कहते हैं- "यह एक मज़ेदार पारिवारिक फ़िल्म है जहाँ आप देखेंगे कि बॉन्डिंग और भावनात्मक मूल्य बहुत महत्वपूर्ण हैं। यह फिल्म परिवार और विवाह की इंस्टिट्यूशन का जश्न मनाती है लेकिन कुछ बुनियादी खामियों पर उचित तरीके से सवाल उठाती है। हम परंपराओं और रीति-रिवाजों का मजाक बनाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं; वास्तव में, आप इस फिल्म को अपने पूरे परिवार के साथ देख सकते हैं और मुझे यकीन है कि आप एक अच्छा समय बिताएंगे। ट्रेलर सिर्फ शुरुआत है, फिल्म देखने के बाद ही आप अप्रत्याशित ट्विस्ट और टर्न देख पाएंगे। ज़ी5 पर 23 जुलाई की अपनी डेट ब्लॉक कर दो!"कृति खरबंदा कहती हैं- “स्क्रिप्ट पढ़ने के दौरान मैंने कई तरह की भावनाओं को महसूस किया। मैं अदिति और संजय में इतना गुम था और यह जानने के लिए इंतजार नहीं कर सकता था कि आगे क्या हो सकता है। मैंने जो साज़िश महसूस की, उसने मुझे आश्वस्त किया कि यह एक जबरदस्त स्क्रिप्ट थी जो एक सुपर मनोरंजक फिल्म का रूप लेगी! यह निश्चित रूप सिर्फ एक और शादी की फिल्म नहीं है और मैं दर्शकों को 14 फेरे के जादू को देखने का इंतजार नहीं कर सकता! यह परफेक्ट नाच, गाना और 2x ड्रामा का प्रतीक होगा! 23 जुलाई ज़ी5 पर, आप आमंत्रित हैं!"विक्रांत मैसी ने कहा “यह फिल्म एक संपूर्ण पारिवारिक मनोरंजन है! इसमें एक भारतीय 'शादी' के सभी तत्व हैं - सॉन्ग, डांस, इमोशन्स और ड्रामा, कॉमेडी, पारिवारिक मूल्य और उससे भी ऊपर प्यार में पागल एक जोड़ा! मुझे स्क्रिप्ट से तुरंत प्यार हो गया और मैं इसे सभी को ज़ी55 पर दिखाने का इंतजार नहीं कर सकता! ट्रेलर पागलपन को सिर्फ एक झलक है!"देवांशु सिंह द्वारा निर्देशित '14 फेरे' को मनोज कलवानी ने लिखा है, जिसमें विक्रांत मैसी, कृति खरबंदा, गौहर खान सहित अन्य कलाकार होंगे और ज़ी स्टूडियो द्वारा निर्मित है। 14 फेरे का प्रीमियर 23 जुलाई को ज़ी5 पर होगा।

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सआज से शुरू होगा दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का तीसरा चरण, नितिन गडकरी करेंगे उद्घाटन******का तीसरा खंड आज से आम जनता के लिए खुल जाएगा। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री इसे राष्ट्र को समर्पित करेंगे। 22 किमी. लंबा यह खंड डासना से हापुड़ के बीच तैयार किया गया है। बता दें कि 82 किलोमीटर लंबे इस एक्सप्रेस-वे का दिल्ली से उत्तर प्रदेश बॉर्डर तक का पहला खंड पहले ही जनता के लिए खोला जा चुका है। इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 मई 2018 को इसे राष्ट्र को समर्पित किया था। इस पूरी परियोजना पर 8,346 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है।सड़क परिवहन मंत्रालय ने बताया कि गडकरी और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्यमंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) डॉक्टर वी. के. सिंह की मौजूदगी में इस परियोजना के तीसरे खंड को जनता के लिए खोल दिया जाएगा। तीसरा खंड गाजियाबाद के डासना से हापुड़ को जोड़ेगा। 22 किलोमीटर लंबे इस खंड की लागत 1989 करोड़ रुपये है। इसमें छह लेन के एक्सप्रेसवे पर दोनों तरफ दो-दो लेन की सर्विस सड़क हैं। इसमें पिलखुवा पर छह लेन की 4.68 किलोमीटर लंबी ऊपरगामी सड़क भी है।पिलखुवा पर बने इस पुल को निर्माण प्रौद्योगिकी में इनोवेशन के लिए स्वर्ण पदक दिया गया है। वहीं पिलखुवा वायाडक्ट को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के असाधारण कंक्रीट ढांचे के पुरस्कार से नवाजा गया है। परियोजना के दो अन्य खंड उत्तर प्रदेश बॉर्डर से डासना पर 60 प्रतिशत और हापुड़ से मेरठ पर 57 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है।फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सओडिशा में कोरोना वायरस संक्रमण के 3,319 नए मामले, 43 और मरीजों की मौत******ओडिशा में कोरोना वायरस से कम से कम 3,319 और लोग संक्रमित से पाए गए हैं जिसके बाद कुल मामले बढ़कर 9,03,789 हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि महामारी से 43 और मरीजों की मौत हो गई जिससे मृतकों की संख्या 3,930 पर पहुंच गई। ओडिशा में अभी कोविड-19 के 32,404 मरीज उपचाराधीन हैं और अब तक 8,67,402 लोग ठीक हो चुके हैं। राज्य में रविवार को 66,109 नमूनों की कोविड-19 जांच की गई। अब तक कुल 1.36 करोड़ से अधिक नमूनों की जांच की जा चुकी है।वहीं कोरोना वायरस के का एक मामला सामने आने के एक दिन बाद ओडिशा सरकार ने महामारी विशेषज्ञों के एक दल को देवगढ़ जिले में भेजा। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी।स्वास्थ्य सेवा निदेशक (डीएचएस) डॉ बिजय महापात्र ने कहा कि जिस रोगी में सार्स-सीओवी-2 के डेल्टा प्लस स्वरूप का पता चला है उसकी हालत स्थिर है और उसे सेहत संबंधी कोई जटिलता नहीं है। छह सप्ताह की अस्वस्थता के बाद विज्ञानियों का दल मरीज की सेहत संबंधी स्थिति का अध्ययन करेगा।उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए लोगों का पता लगाया है और उनके टीकाकरण के स्तर का भी सत्यापन किया जाएगा। डीएचएस ने कहा कि देवगढ़ में डेल्टा प्लस वायरस से संक्रमित मिले व्यक्ति ने 30 मार्च को टीके की पहली खुराक ली थी। वह अप्रैल में संक्रमित हुआ था।

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सभारत में होने वाले विश्व कप 2023 को लेकर जसप्रीत बुमराह ने कही ये बात******भारत में अगले साल यानि की 2023 में वनडे वर्ल्ड कप खेला जाना है। टीम इंडिया के उप-कप्तान जसप्रीत बुमराह का कहना है कि इस मेगा टूर्नामेंट के लिए टीम को विजन बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण होगा। साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत को 19 जनवरी से तीन मैच की वनडे सीरीज खेलनी है और माना जा रहा है कि टीम इंडिया इसी सीरीज से वनडे वर्ल्ड कप की तैयारी में जुटेगी।बुमराह ने सोमवार को वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "2023 विश्व कप से पहले हमें किस दिशा में जाना है, यह जानने के लिए हमें एक विजन रखना होगा, जिसकी तैयारी पहले से शुरू करनी होगी। हम सभी को समान अवसर देने की कोशिश करेंगे। इसलिए, मुझे लगता है कि एक विजन बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण होगा।"बुमराह ने कहा, "प्रत्येक श्रृंखला को महत्व देना और और यह देखने की कोशिश करना कि उस स्थिति में क्या सकते हैं इस बात को महत्व दिया जाएगा। लेकिन एक विजन रखना वास्तव में महत्वपूर्ण है और हम इसे स्थापित करने का प्रयास करेंगे।"टेस्ट सीरीज खेलने के बाद 50 ओवर के मैचों के लिए अपने दृष्टिकोण के बारे में बात करते हुए बुमराह ने टिप्पणी की, "आपको आगे बढ़ना होगा। यह खेल का एक अलग प्रारूप है। खेल की गति बदलती है और शरीर पर भार भी कम होता है। हमें उन चीजों पर ध्यान देना होगा जो हमें करनी हैं।"उन्होंने आगे कहा, "एक गेंदबाज के रूप में आपको टीम के लिए जल्दी से आकलन करना होगा और विविधता के साथ खेलना होगा। यही वह बदलाव है जिसे मैं करने की उम्मीद कर रहा हूं। एक नई मानसिकता के साथ जा रहा हूं और इसमें योगदान करने के लिए तत्पर हूं।"बुमराह ने महसूस किया कि टीम में किसी को भी अपने खेल के स्वरूप में बदलाव नहीं करना पड़ रहा है। विराट कोहली की जगह रोहित शर्मा को सफेद गेंद का कप्तान बनाया गया है, लेकिन चोट के कारण उनके अनुपलब्ध होने के कारण केएल राहुल को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है।तेज गेंदबाज ने कहा, "मैं हर किसी के लिए नहीं बोल सकता। लेकिन अपने कह सकता हूं कि इससे वास्तव में फर्क नहीं पड़ता है। हम सभी यहां एक-दूसरे की मदद करने के लिए हैं और मुझे लगता है कि सभी खिलाड़ी यही सोच रहे हैं।"उन्होंने कहा, "हर कोई टीम में हो रहे बदलाव को समझता है और यह समझने के लिए पर्याप्त क्रिकेट खेला है कि इस तरह से बदलाव होता है और इसी तरह आपको आगे बढ़ना है। टीम में हर कोई काफी सकारात्मक है और योगदान देने के लिए काफी उत्सुक है।"28 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज, जिन्हें दूसरे टेस्ट में चोट लगी थी, उन्हें वनडे सीरीज के लिए फिट और ठीक होना चाहिए।उन्होंने आगे कहा, "मुझे लगता है कि वह ठीक है। वह हमारे साथ अभ्यास कर रहे हैं। इसलिए, मुझे कोई परेशानी नहीं दिख रही है। उम्मीद है कि सब कुछ वैसा ही रहेगा, जैसा मुझे लग रहा है।"(With IANS Inputs)फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्ससनी देओल ने लोकसभा चुनाव में तय सीमा से ज्यादा रकम खर्च की: रिपोर्ट******पंजाब के गुरदासपुर से सांसद एवं बॉलीवुड अभिनेता ने लोकसभा चुनाव में 70 लाख रुपये की तय सीमा से ज्यादा रकम खर्च की। यह बात शनिवार को एक निर्वाचन अधिकारी ने कही। अधिकारी ने कहा, "गुरदासपुर के जिला निर्वाचन अधिकारी ने भारत निर्वाचन आयोग को चुनाव खर्च पर अंतिम रिपोर्ट भेजी है।"रिपोर्ट के अनुसार देओल का चुनाव खर्च 78,51,592 रुपये पाया गया, जो लोकसभा चुनाव के लिए तय खर्च सीमा 70 लाख रुपये से 8.51 लाख रुपये अधिक है। अधिकारी ने कहा देओल से चुनाव में पराजित हुए कांग्रेस उम्मीदवार सुनील जाखड़ ने तय खर्च सीमा के भीतर 61,36,058 रुपये खर्च किए।अधिकारियों ने कहा कि देओल जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा भेजी गई चुनाव खर्च रिपोर्ट को चुनौती दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि देओल अब तक इकलौते उम्मीदवार हैं जिनका चुनाव खर्च तय सीमा से ज्यादा पाया गया है। गुरदासपुर जिला निर्वाचन अधिकारी-सह-उपायुक्त ने पिछले महीने देओल को नोटिस भेजकर उनसे चुनाव खर्च पर जवाब मांगा था। देओल ने सुनील जाखड़ को 82,459 मतों के अंतर से शिकस्त दी थी।

फरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सHighlights, CSK vs RCB: आरसीबी ने चेन्नई को 13 रनों से हरा टॉप-4 में बनाई जगह, हर्षल ने झटके 3 विकेट******इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2022 के 49वें मैच में चेन्नई सुपर किंग्स को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 13 रनों से हरा दिया। पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में चेन्नई ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया है। आरसीबी ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट खोकर 173 रनों का स्कोर खड़ा किया। इसके जवाब में चेन्नई की टीम 20 ओवर में 8 विकेट पर 160 रन ही बना सकी। फाफ डु प्लेसिस (C), विराट कोहली, रजत पाटीदार, ग्लेन मैक्सवेल, शाहबाज अहमद, दिनेश कार्तिक (Wk), महिपाल लोमरोर, वनिन्दु हसरंगा, हर्षल पटेल, मोहम्मद सिराज, जोश हेजलवुड।रुतुराज गायकवाड़, डेवोन कॉनवे, मोइन अली, रॉबिन उथप्पा, अंबाती रायुडू, एमएस धोनी (w/c), रवींद्र जडेजा, ड्वेन प्रिटोरियस, सिमरजीत सिंह, मुकेश चौधरी, महेश थीक्षानाफरवरीमेंलॉन्‍चकरेगीGalaxyS8लीकहुएइसजबरदस्‍तस्‍मार्टफोनकेफीचर्सHimachal Pradesh Board 2021: 10वीं, 12वीं परीक्षा डेट शीट जारी, 4 मई से होगी एचपी बोर्ड परीक्षा******हिमाचल प्रदेश बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (HPBOSE) की कक्षा 10 और 12 की परीक्षाओं की तारीखें HPBOSE 2021 बोर्ड ने घोषित कर दी हैं। HPBOSE 2021 परीक्षा की तारीखों के अनुसार, हिमाचल प्रदेश बोर्ड 5 मई से 20 मई तक कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षाएं और HPBOSE कक्षा 12 की परीक्षाएं 4 मई से 29 मई के बीच आयोजित करेगा। HPBOSE 2021 परीक्षा के लिए उपस्थित होने वाले छात्र से डेटशीट डाउनलोड कर सकते हैं।HPBOSE कक्षा 10 और HPBOSE कक्षा 12 की डेट शीट में विषयवार परीक्षा की तारीखें, परीक्षाओं के समय और परीक्षा से संबंधित जानकारी शामिल हैं। राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि HPBOSE 2021 परीक्षा आयोजित करते समय कोविद -19 प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा।केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल द्वारा 31 दिसंबर, 2020 को आयोजित एक लाइव सत्र के दौरान सीबीएसई बोर्ड परीक्षा की तारीखों की घोषणा करने के तुरंत बाद, असम सहित कई राज्य बोर्डों ने अपनी आगामी बोर्ड परीक्षा तिथियां घोषित कर दी हैं।सीबीएसई 2021 बोर्ड परीक्षा की तारीखों के अनुसार, सीबीएसई कक्षा 10 और 12 बोर्ड परीक्षा 4 मई, 2021 और 10 जून, 2021 के बीच आयोजित की जाएगी। व्यावहारिक परीक्षाएं 1 मार्च, 2021 से शुरू होंगी।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 06:26
उद्धरण 1 इमारत
अब तक इन सेलेब्स को अपनी गिरफ्त में ले चुका है कोरोना वायरस, देखें लिस्ट में कौन-कौन शामिल******Highlightsइन दिनोंसंक्रमण देश में तेजी से अपने पैर पसार रहा है। बॉलीवुड स्टार्स भी इससे अछूते नहीं हैं। कई सेलेब्स इसकी चपेट में आ चुके हैं। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि किन- किन स्टार्स को कोरोना वायरस अपनी चपेट में ले चुका है-मशहूर एक्ट्रेस नोरा फतेही की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है। नोरा ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट करके इस बात की जानकारी दी है।मोहित मारवाह और उनकी पत्नी अंतरा मारवाह की कोविड रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।बॉलीवुड एक्टर अर्जुन कपूर हाल ही में कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।अर्जुन होम क्वारंटीन हैं। रिपोर्ट की मानें तो अर्जुन का घर बीएमसी ने सील कर दिया है। ये दूसरी बार है कि अर्जुन कपूर संक्रमित हुए हैं। पिछले साल 2020 में अर्जुन पॉजिटिव पाए गए थे। खबरों की मानें तो हाल ही में अर्जुन को मलाइका के साथ करिश्मा कपूर के क्रिसमस पार्टी में देखा गया था।अर्जुन कपूर के साथ रिया कपूर भी संक्रमित पाई गई हैं। वे भी होम क्वारंटीन हैं। इस बात की जानकारी रिया ने सोशल मीडिया के माध्यम से फैंस को दी है। वे डॉक्टर की सलाह के साथ इलाज करवा रही हैं। कोरोना का कहर इस बार कपूर परिवार पर टूट रहा है क्योंकि कुछ दिनों पहले महीप कपूर और शनाया कपूर भी कोरोना पॉजीटिव पाई गई थीं।
2022-10-01 05:42
उद्धरण 2 इमारत
नोटबंदी के बाद रिटर्न दाखिल नहीं करने वाले 80,000 लोगों पर है आयकर विभाग की नजर, जल्‍द होगी कार्रवाई******demonetisation नोटबंदी के बाद सालाना आयकर रिटर्न न भरने वाले 80,000 लोगों पर आयकर विभाग की कड़ी नजर है। हालांकि, आयकर विभाग द्वारा इन लोगों को रिटर्न दाखिल करने के लिए नोटिस भेजा जा चुका है, लेकिन अभी तक इन लोगों ने ऐसा नहीं किया है। (सीबीडीटी) के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने स्‍वयं यह जानकारी दी। प्रगति मैदान में व्यापार मेले में आयकर विभाग के स्टॉल का उद्घाटन करने के बाद चंद्रा ने कहा कि विभाग ने 80 लाख ऐसे लोगों की पहचान की है, जिन्होंने पिछले तीन साल के दौरान अपना रिटर्न दाखिल किया है, लेकिन इस बार अभी तक रिटर्न दाखिल नहीं किया है।चंद्रा ने कहा कि नवंबर, 2016 में नोटबंदी के बाद वास्तव में देश में कर आधार बढ़ाने में मदद मिली है। इसके अलावा इससे प्रत्यक्ष करों से देश का शुद्ध राजस्व बढ़ा है।उन्होंने कहा कि पिछले साल प्रत्यक्ष करों का योगदान 52 प्रतिशत तथा अप्रत्यक्ष करों का 48 प्रतिशत था। कई साल बाद ऐसा हुआ है, जबकि प्रत्यक्ष करों का योगदान अप्रत्यक्ष करों से अधिक रहा है। चंद्रा ने कहा कि आपके इस सवाल कि नोटबंदी से क्या मदद मिली, मैं कहूंगा कि पैसा बैंक खातों में आ गया। ऐसे में हमारे लिए यह पता लगाना आसान हो गया कि कितने लोगों ने नकदी जमा कराई, जबकि उसके बारे में रिटर्न जमा नहीं कराया।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नोटबंदी की घोषणा के बाद विभाग द्वारा की गई प्रवर्तन कार्रवाई के बारे में सीबीडीटी प्रमुख ने कहा कि उन्होंने बड़ी संख्या में लोगों को ईमेल और एसएमएस भेजे। इन लोगों ने उसके बाद रिटर्न दाखिल किए।चंद्रा ने कहा कि नोटबंदी के बाद रिटर्न दाखिल नहीं करने वाले तीन लाख लोगों को नोटिस भेजे गए। ये सांविधिक नोटिस थे। उसके बाद 2.25 लाख लोगों ने रिटर्न जमा कराया। 80,000 मामलों में रिटर्न जमा नहीं हुआ। विभाग ऐसे ही मामलों के पीछे लगा है।
2022-10-01 04:48
उद्धरण 3 इमारत
निलंबित सांसदों ने खत्म कर दिया है धरना, विपक्षी सांसदों ने राष्ट्रपति से मांगा समय: गुलाम नबी आजाद****** राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष ने कहा है कि सदन से निलंबित सांसदों ने अपना धरना समाप्त कर दिया है। गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि जब विपक्ष सदन का बहिष्कार ही कर रहा है तो ऐसे में धरना कैसे जारी रह सकता है। उन्होंने यह भी कहा है कि विपक्ष के नेताओं ने राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा है और राष्ट्रपति से अगर उन्हें इस पूरे घटनाक्रम को लेकर संतोषजनक जवाब नहीं मिलता है तो विपक्ष इस लड़ाई को सड़कों पर लड़ेगा।वहीं, राज्यसभा में मंगलवार को कांग्रेस के नेतृत्व में कई विपक्षी दलों ने आठ सदस्यों का निलंबन रद्द करने की मांग करते हुए कार्यवाही का बहिष्कार किया। सबसे पहले कांग्रेस ने कार्यवाही का बहिष्कार किया। इसके बाद आप, तृणमूल कांग्रेस और वाम दलों के सदस्यों ने भी कार्यवाही का बहिष्कार किया। बाद में राकांपा, सपा और राजद के सदस्य भी सदन से बाहर चले गए। सभापति ने विपक्षी दलों के सदस्यों से सदन की कार्यवाही के बहिष्कार के अपने फैसले पर पुनर्विचार करने और चर्चा में भाग लेने की अपील की।नायडू ने सदन में कहा, "मैं सभी सदस्यों से अपील करता हूं कि वे बहिष्कार के अपने फैसले पर फिर से विचार करें और चर्चा में भाग लें।’’ संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा कि सरकार निलंबित सांसदों को सदन से बाहर रखने को लेकर जिद पर नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर वे सदस्य खेद व्यक्त करते हैं तो सरकार इस पर गौर करेगी। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने कहा कि सदन की कार्यवाही चलाने के लिए सरकार और विपक्ष को एक साथ बैठ कर फैसला करना चाहिए।इससे पहले विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा था कि विपक्ष आठ सदस्यों का निलंबन रद्द होने तक सदन की कार्यवाही का बहिष्कार करेगा। शून्यकाल के बाद आजाद ने यह भी मांग की कि सरकार को ऐसा विधेयक लाना चाहिए जो यह सुनिश्चित करे कि निजी कंपनियां सरकार द्वारा तय न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से कम दाम में किसानों का अनाज न खरीदें। आजाद ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार के अंदर तालमेल का अभाव है। एक दिन पहले ही कृषि विधेयकों पर पूरी चर्चा एमएसपी पर केंद्रित रही और उसके एक दिन बाद ही सरकार ने कई फसलों के लिए एमएसपी की घोषणा कर दी।उल्लेखनीय है कि रविवार को सदन में अमर्यादित आचरण करने को लेकर तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और आप के संजय सिंह सहित विपक्ष के आठ सदस्यों को सोमवार को मानसून सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित कर दिया गया।
वापसी