नई पोस्ट करें

Maharashtra Farmers Protest: कर्ज माफी की मांग लेकर आजाद मैदान की ओर बढ़ रहे 20 हजार किसान

2022-10-01 06:02:54 110

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसान‘कोरोना वायरस 70 फीसदी आबादी को अपनी चपेट में ले लेगा’******जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने विशेषज्ञों के अनुमान का हवाला देते हुए कहा है कि 70 फीसद आबादी कोरोना वायरस की चपेट में आ सकती है और उन्होंने इस बीमारी के फैलने की रफ्तार धीमी करने के उपायों की आवश्यकता पर जोर दिया। जर्मनी में बुधवार तक इस संक्रमण के करीब 1300 सत्यापित मामले आये और दो मरीजों की जान चली गयी। सरकार ने 1000 से अधिक लोगों की भागीदारी वाले सभी कार्यक्रम रद्द कर दिये हैं। ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘आपको समझना होगा कि यदि विषाणु है और लोगों में इस विषाणु को लेकर प्रतिरक्षा नहीं है, अबतक कोई टीका नहीं है, कोई उपचार नहीं है तो जैसा कि विशेषज्ञ कहते हैं कि जनसंख्या का 60-70 फीसद हिस्सा उससे संक्रमित हो जाएगा।’’उन्होंने कहा कि प्राथमिकता इस बीमारी के फैलने की रफ्तार को धीमा करना है ‘इसलिए जो उपाय हम कर रहे हैं, वे बड़े महत्व के हैं क्योंकि उससे हमें वक्त मिल रहा है, हम जो कुछ कर रहे हैं, वाकई उसके मायने हैं, वे व्यर्थ के कदम नहीं हैं।’बता दें कि WHO ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया है। इस बीमारी से निपटने के लिए भारत सरकार ने बुधवार को कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए। बुधवार को निर्माण भवन में हुई मंत्रिसमूह की बैठक में विदेश से आने वाले आम लोगों के लिए 15 अप्रैल तक पर्यटन वीजा रद्द करने का फैसला किया गया।इसके अलावा यह तय किया गया कि चीन, इटली, ईरान, रिपब्लिक ऑफ कोरिया, फ्रांस, स्पेन और जर्मनी से आने वालों लोगों को 14 दिनों की न्यूनतम अवधि के लिए पृथक रखा जाएगा। ओसीआई कार्डधारकों को प्राप्त वीजा मुक्त यात्रा की सुविधा भी 15 अप्रैल तक के लिए रोक दी गयी है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि यदि कोई विदेशी नागरिक आपात स्थिति में भारत की यात्रा करना चाहता है तो वह अपने देश में स्थित भारतीय मिशन से संपर्क कर सकता है।

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानMaharashtra Political Crisis: "1-2 विधायक और हमारे साथ आएंगे, संख्या बढ़कर 51 हो जाएगी", बोले बागी विधायक दीपक केसरकर******Highlightsमहाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे के बगावत के बाद से सियासी संकट गहराता जा रहा है। इस बीच, शिवसेना के बागी विधायक दीपक केसरकर ने कहा कि शिंदे गुट के विधायक किसी भी समय महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का सामना करने के लिए तैयार हैं, लेकिन पहली मान्यता एकनाथ शिंदे गुट को दी जानी चाहिए।उन्होंने कहा कि हम एमवीए सरकार के साथ नहीं जाएंगे। दीपक केसरकर ने कहा कि एक से दो विधायक और हमारे साथ आएंगे। उनके समर्थन और अन्य निर्दलीय उम्मीदवारों के साथ हमारी ताकत बढ़कर 51 हो जाएगी। हम 3-4 दिनों में एक निर्णय पर पहुंचेंगे और उसके बाद हम सीधे महाराष्ट्र वापस जाएंगे।सूत्रों की मानें तो गुवाहाटी में एकनाथ शिंदे खेमे की आज अहम बैठक हुई। बैठक में अगले दो दिनों में सरकार बनाने का दावा पेश करने पर चर्चा की गई। वहीं, शिवसेना नेता और मंत्री उदय सामंत भी शिंदे गुट में शामिल हो गए हैं। उदय सामंत महाराष्ट्र सरकार में उच्च शिक्षा व तकनीकी मंत्री हैं। इसके साथ ही शिवसेना कोटे के ज्यादातर मंत्री अब एकनाथ शिंदे के साथ हैं।वहीं, आज शिंदे गुट ने सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएं लगाई गई हैं। शिंदे गुट ने सभी मोर्चों पर हस्तक्षेप की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। अयोग्यता नोटिस, अविश्वास प्रस्ताव की अस्वीकृति और साथ ही विधायक दल के नेता की नियुक्ति पर याचिकाएं लगाई गई हैं। याचिका पर कल सोमवार को तत्काल सुनवाई की मांग की गई है।शिंदे गुट ने सुप्रीम कोर्ट से विधानसभा के उपसभापति को विधायकों के खिलाफ अयोग्यता की कार्रवाई पर रोक लगाने की मांग की है। वहीं, अजय चौधरी के विधायक दल का नेता बनाए जाने को भी चुनौती दी गई है। साथ ही याचिका में डिप्टी स्पीकर के खिलाफ शिंदे कैंप की ओर से भेजे गए अविश्वास प्रस्ताव को खारिज किए जाने का भी जिक्र किया गया है।कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानJanmashtami 2021 Wishes: जन्माष्टमी के पावन अवसर पर अपनों को भेजें ये बधाई संदेश, ग्रीटिंग्स और मैसेज******इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार 30 अगस्त 2021 को मनाया जाएगा। हिंदू पंचांग के अनुसार, भाद्र मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। अन्य सभी पर्वों की तरह इस खास मौके पर भी लोग अपने प्रियजनों को शुभकामना संदेश भेजकर एक-दूसरे को बधाई देते हैं। हम आपके लिए ऐसे ही कुछ संदेश लाए हैं, जिन्हें आप अपने दोस्तों और परिवार के साथ शेयर कर सकते हैं।माखन का कटोरा मिश्री का थालमिट्टी की खुशबू बारिश की फुहार,राधा की उम्मीदें कन्हैया का प्यार,मुबारक हो जन्माष्टमी का त्योहार!कृष्णा तेरी गलियों का जो आनंद हैवो दुनिया के किसी कोने में नहींजो मजा तेरी वृंदावन की रज में हैमैंने पाया किसी बिछौने में नहींमाखन चुराकर जिसने खायाबंसी बजाकर जिसने नचायाखुशी मनाओ उसके जन्मदिन कीजिसने दुनिया को प्रेम का पाठ पढ़ायामाखन चोर नन्द किशोर, बांधी जिसने प्रीत की डोर,हरे कृष्ण हरे मुरारी, पूजती जिन्हें दुनिया सारी,आओ उनके गुण गाएं, सब मिल कर जन्माष्टमी मनाएंगोकुल में जो करे निवासगोपियों संग जो रचाये रासदेवकी-यशोदा जिनकी मैयाऐसे हमारे किसन कन्हैया

Maharashtra Farmers Protest: कर्ज माफी की मांग लेकर आजाद मैदान की ओर बढ़ रहे 20 हजार किसान

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानअगर आप अधिक मात्रा में करते है दाल का सेवन तो हो जाए सावधान, किडनी को कर सकता है डैमेज******Highlightsप्रोटीन से भरपूर दाल सेहत के लिए काफी फायदेमंद होती है। हेल्थ एक्सपर्ट की मानें तो दाल विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर से भरपूर होतीहै जो बॉडी में बैड कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने के अलावा विषाक्त तत्वों को बाहर निकाल देते हैं, जिससे दिल संबंधी बीमारियों होने काखतरा काफी कम हो जाता है। देखा जाए तो दाल सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद होते हैं।लेकिन क्या आप जानते हैं कि कई बार हेल्दी चीजों का भी अगर अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो यह सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकतीहै। दरअसल, अधिक मात्रा में दाल का सेवन करने से शरीर को नुकसान पहुंचसकता है। तो ऐसे में आइए जानते हैं अधिक मात्रा में दाल का सेवन करने से आपको किस तरह की परेशानियोंका सामना करना पड़ सकता हैं।अधिक मात्रा में दाल का सेवन करने से इसका सीधा असर आपकी किडनी पर पड़ सकता है। इससे कीडनी में स्टोन की समस्या हो सकती है। इसलिए सीमित मात्रा में ही दाल का सेवन करें।अगर आप दाल का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं तो इससे पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती है। इससे गैस की परेशानी, एसिडिटी भी होती है।दाल में अधिक मात्रा में प्रोटीन मौजूद होता है। ऐसे में अगर आप अपनी डाइट में अधिक प्रोटीन का सेवन करेंगे तो आपका वजन तेजी से बढ़ सकता है जिससे आपको कई तरह की गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं।दाल का अधिक मात्रा में सेवन करने से आंत से जुड़ी समस्याएं जैसे अपच, डिहाइड्रेशन, थकान, जी मिचलाना, चिड़िचड़ापन महसूस होना, सिरदर्द जैसी दिक्कतें हो सकती हैं।अगर आप गाउट की बीमारी से पीड़ित है तो डॉक्टर से बिना पूछे दाल का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि दाल में प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है जो शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकती है।कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानSupertech Twin Towers: 28 अगस्त को गिराया जाएगा ट्विन टावर, 6 घंटों तक बंद रहेगा नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे, ट्रैफिक को डायवर्ट किया जाएगा******Highlightsट्विन टावर की वजह से 25 और 28 अगस्त को नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे 6 घटों तक बंद रहेगा। नोएडा में ट्विन टावर को गिराने की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। 25 अगस्त को फुल रिहर्सल होगी और 28 अगस्त को अंतिम ब्लास्ट किया जाएगा। ब्लास्ट के तया समय से 3 घंटे पहले और 3 घंटे बात तक एक्सप्रेस-वे के करीब 15 किलोमीटर लंबे दायरे में गाड़ियों का आना-जाना बंद रहेगा। यही नहीं मुख्य मार्ग के अलावा एक्सप्रेस-वे के दोनों सर्विस रोड समेत उससे जुड़े सेक्टरों के अंदर और अंदरूनी सड़कों पर भी वाहन चलने पर रोक रहेगी।डायवर्जन प्लान तैयारवहीं यातायात प्रभावित ना हो उसको ध्यान में रखते हुए डायवर्जन प्लान तैयार किया गया है। इस तैयारी में ग्रेटर नोएडा की तरफ जाने वाले ट्रैफिक को महामाया फ्लाईओवर के पास सेक्टर 37, शशि चौक, सिटी सेंटर, सेक्टर 71 होकर फेस टू की तरफ से निकाला जाएगा। इसी तरह परी चौक की तरफ से आने वाले ट्रैफिक को जेपी अस्पताल से पहले लेफ्ट लेकर बांध मार्ग पर डाइवर्ट किया जाएगा।इन रूटों से कर सकेंगे यात्राइस रास्ते सेक्टर 94 तक जाया जा सकेगा। यहां से महामाया की तरफ होकर अपने गंतव्य की तरफ आगे बढ़ सकेंगे। एनएसईजेड से एल्डिफो चौक और सेक्टर 108 जाने के लिए एल्डिफो चौक से पंचशील अंडरपास की ओर जाना होगा। एनएसईजेड, सेक्टर 83 से सेक्टर 92 चौक और श्रमिक कुंज जाने के लिए एल्डिको चौक से पंचशील अंडरपास की तरफ जाना होगा। सेक्टर 93, श्रमिक कुंज चौक से सेक्टर 82 जाने के लिए श्रमिक कुंज चौक से गेझा तिराहे की ओर ट्रैफिक डायवर्ट किया जाएगा।वहीं सेक्टर 105 हाजीपुर, सेक्टर 108 से एल्डिको टौक होकर सेक्टर 83, फेज टू, एनएसईजेड जाने वालों को सेक्टर 105 और 108 से एल्डिको चौक होकर सेक्टर 83, फेज टू, एनएसईजेड जाने वालों को सेक्टर 105 और 108 चौक से गेझा तिराहे या नोएडा एक्सप्रेस-वे की ओर भेजा जाएगा। सेक्टर 82 श्रमिक कुंज से फरीदाबाद फ्लाईओवर का उपयोग कर सेक्टर 132 जाने वाले वाहनों को शगुन चौक से सेक्टर 108 की तरफ डायवर्ट किया जाएगा।धूल छंटते ही एक्सप्रेस-वे को खोल दिया जाएगाडीसीपी (यातायात) गणेश प्रसाद साहा ने कहा कि विस्फोट में कुछ सेकेंड लगेंगे और उसके बाद लगभग 10-15 मिनट तक धूल फैले रहने की आशंका है। उन्होंने बताया कि सुरक्षा कारणों से अतिरिक्त समय रखा गया है व धूल छंटते ही एक्सप्रेस-वे को खोल दिया जाएगा।कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानकिसान आंदोलन: जानिए एमएसपी अनिवार्य करने से पैदा होने वाली मुश्किलें, किसानों की ये है मांग****** मोदी सरकार किसानों को उनकी फसलों की लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य यानि एमएसपी देने का दावा करती है। उधर, किसान सरकार द्वारा तय एमएसपी पर फसलों की गारंटी की मांग कर रहे हैं। मगर, एमएसपी की गारंटी देने पर सबसे बड़ी मुश्किल यह है कि सरकार को बजट का एक बड़ा हिस्सा एमएसपी पर ही खर्च होगा। विशेषज्ञ बताते हैं कि मौजूदा एमएसपी पर सारी फसलों की खरीद के लिए सरकार को करीब 17 लाख करोड़ रुपये की जरूरत होगी।बता दें कि, कृषि लागत और मूल्य आयोग की सिफारिश पर हर साल 22 फसलों के लिए तय करती है। इनमें से खरीफ सीजन की 14 फसलें हैं और रबी की 6 फसलें। इसके अलावा जूट और कोपरा के लिए भी एमएसपी तय की जाती है। वहीं, गन्ना के लिए फेयर एंड रिम्यूनरेटिव प्राइस यानी एफआरपी तय की जाती है। हालांकि एमएसपी पर सरकार सिर्फ धान और गेहूं की खरीद व्यापक पैमाने पर करती है, क्योंकि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के लिए इन दोनों अनाज की जरूरत होती है। हालांकि दलहनों और तिलहनों की खरीद भी प्रमुख उत्पादक राज्यों में होती है, लेकिन यह खरीद उसी सूरत में होती है, तब संबंधित राज्य फसल का बाजार भाव एमएसपी से कम होने पर इस बावत का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजता है।अधिकारी बताते हैं कि एमएसपी के निर्धारण का मतलब है यही है कि किसानों को फसलों का इतना भाव अवश्य मिलना चाहिए, इसलिए जब किसी दलहन व तिलहन फसल बाजार भाव एमएसपी से कम हो जाता है, तो वहां सरकारी एजेंसी किसानों से एमएसपी पर खरीद करती है। मगर, यह संभव नहीं है कि सरकार ही किसानों से सारी फसलें खरीदें इसलिए जब कुल उत्पादन का करीब एक तिहाई तक सरकार खरीदती है, तो स्वाभाविक है कि वहां बाजार भाव उपर आ जाता है, इसका किसानों को वाजिब दाम मिलने लगता है। कुछ राज्यों में सरकार मक्का व अन्य फसलें भी खरीदती है। एमएसपी पर खरीद अनिवार्य करने का मतलब निजी कारोबारियों भी इस पर खरीदने को बाध्य होंगे।कृषि अर्थशास्त्री विजय सरदाना कहते हैं कि अगर प्राइवेट सेक्टर के लिए एमएसपी पर खरीद अनिवार्य किया जाएगा, तो अंतर्राष्ट्रीय बाजार फसलों का भाव ज्यादा होने पर निजी कारोबारी आयात करना शुरू कर देगा। ऐसे में सरकार को सारी फसल किसानों से खरीदनी पड़ेगी, तो आज के रेट के हिसाब से इसके लिए सरकार को 17 लाख करोड़ रुपये खर्च करना होगा।सरदाना ने कहा, एमएसपी पर सारी फसलों की खरीद का कुल खर्च आज के रेट के हिसाब से करीब 17 लाख करोड़ रुपये आएगा, जोकि सरकार के बजट का एक बड़ा हिस्सा होगा। इसके बाद एक लाख करोड़ रुपये फर्टिलाइजर सब्सिडी और एक लाख करोड़ रुपये फूड सब्सिडी यानी खाद्य अनुदान पर खर्च हो जाएगा। भारत सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 में 30,42,230 करोड़ रुपये के व्यय का प्रस्ताव रखा है, जोकि 2019-20 के संशोधित अनुमान से 12.7 फीसदी अधिक है। सरकार को अगर सारी फसलें खरीदनी पड़ेगी तो उसके भंडारण को लेकर भी मुश्किलें पैदा होंगी।सरदाना ने कहा कि एमएसपी अनिवार्य करने में एक फसल की क्वालिटी को लेकर भी मुश्किलें आएंगी क्योंकि यह तय करना होगा कि किस क्वालिटी का एमएसपी होगा और उससे कमजोर क्वालिटी का क्या रेट होगा और कौन खरीदेगा। उन्होंने कहा कि एमएसपी पर सारी फसलों की खरीद पर 17 लाख करोड़ रुपये खर्च करने के लिए सरकार को सारे क्षेत्र में तीन गुना कर बढ़ाना पड़ेगा, जिसके बाद न तो निवेश आएगा और न निर्यात होगा और न ही रोजगार पैदा होगा। इसलिए एमएसपी की अनिवार्यता अव्यावहारिक मांग है। को के बाद एमएसपी पर खरीद जारी रखने को लेकर आशंका है। इस पर खाद्य सचिव सुधांशु पांडेय का कहना है कि देश में जब तक सार्वजनिक विरतण प्रणाली रहेगी तब तक सरकार को एमएसपी पर अनाज खरीदना ही पड़ेगा, इसलिए यह आशंका निराधार है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानून से एमएसपी पर खरीद में कोई फर्क नहीं पड़ेगा, क्योंकि एमएसपी खाद्य सुरक्षा से जुड़ा है।

Maharashtra Farmers Protest: कर्ज माफी की मांग लेकर आजाद मैदान की ओर बढ़ रहे 20 हजार किसान

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानमध्य प्रदेश में भीषण सड़क हादसा, महाराष्ट्र के हिंदू संत और शिष्य की मौत, अन्य घायल******मध्य प्रदेश के जिले में धनगवां गांव के पास शुक्रवार सुबह सड़क हादसे में महाराष्ट्र के नांदेड़ के एक हिन्दू संत और उनके शिष्य की मौत हो गई, जबकि एक अन्य घायल हो गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। सिहोरा पुलिस थाना प्रभारी गिरीश धुर्वे ने बताया कि महाराष्ट्र के के संत त्यागी महाराज (45) और बलराम पाटिल (35) की कार हादसे में सुबह करीब साढ़े पांच बजे मौत हो गई।उन्होंने कहा कि संत की कार जबलपुर जिला मुख्यालय से लगभग 45 किलोमीटर दूर धनगवां गांव के पास राष्ट्रीय राजमार्ग-30 पर ओवरटेक करते समय वहां खड़े ट्रक से टकरा गई, जिससे यह हादसा हुआ। हादसे के वक्त इलाके में घना कोहरा छाया हुआ था।धुर्वे ने बताया कि हादसे में एक व्यक्ति घायल भी हुआ है, जिसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्होंने कहा कि हादसे के वक्त त्यागी महाराज और उनके अनुयायी कार से छत्तीसगढ़ से महाराष्ट्र के नांदेड़ जा रहे थे।कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानRBI Policy : फिर बढ़ेंगी होम और कार लोन की EMI? जानिए रिजर्व बैंक इस महीने कितनी बढ़ाएगा ब्याज दरें******आप यदि अगस्त के महंगाई के आंकड़ों को पढ़कर भुला चुके हैं, तो इन्हें एक बार फिर से देख लीजिए। क्योंकि अगस्त की यह महंगाई आपके होम और कार लोन की ईएमआई में बढ़ोत्तरी की तैयारी कर चुकी है। अगस्त में ऊंची महंगाई दर के कारण माना जा रहा है कि सितंबर में भी महंगाई दर अधिक रहेगी। ऐसे में विश्लेषकों का मानना है कि भारतीय रिजर्व बैंक इस महीने नीतिगत दरों (रेपो रेट) में 0.35 प्रतिशत की और वृद्धि कर सकता है। रिजर्व बैंक इस बार 30 सितंबर को ब्याज दरों की घोषणा करेगा।दरअसल खुदरा महंगाई दर अगस्त महीने में बढ़कर सात प्रतिशत पर पहुंच गयी है। एक महीने पहले जुलाई में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति 6.71 प्रतिशत और पिछले साल अगस्त में 5.3 प्रतिशत थी। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति लगातार आठवें महीने केंद्रीय बैंक के संतोषजनक स्तर से ऊपर बनी हुई है।महंगाई पर काबू पाने के लिए आरबीआई ने इस साल प्रमुख ब्याज दर को तीन बार बढ़ाकर 5.40 प्रतिशत कर दिया है। इसके बावजूद मुद्रास्फीति छह प्रतिशत से ऊपर बनी हुई है। थोक महंगाई की दर पिछले 17 महीने से दहाई के अंक में रही हैं। वहीं रिटेल महंगाई भी बीत 8 महीनों से रिजर्व बैंक की सहनय सीमा से अधिक है।स्विट्जरलैंड की ब्रोकरेज कंपनी यूबीएस सिक्योरिटीज में भारत के लिए मुख्य अर्थशास्त्री तन्वी गुप्ता जैन ने कहा कि सितंबर में भी मुद्रास्फीति के अगस्त महीने के स्तर पर कायम रहने की संभावना है। हालांकि, अक्टूबर से इसमें कमी आ सकती है। ऐसे में आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति 30 सितंबर की नीतिगत समीक्षा में रेपो दर में 0.35 प्रतिशत की वृद्धि का फैसला ले सकती है।बार्कलेज सिक्योरिटीज इंडिया में मुख्य अर्थशास्त्री राहुल बजोरिया ने कहा कि थोक और खुदरा दोनों मुद्रास्फीति ऊंचे स्तर पर बनी हुई है और ऐसा अनुमान है कि आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति बदलते मूल्य रूझानों पर गौर करेगी। उन्होंने कहा कि समिति समय रहते 30 सितंबर तक दरें बढ़ा सकती है और यह वृद्धि 0.50 प्रतिशत की हो सकती है।मॉर्गन स्टेनली ने कहा कि वित्त वर्ष 2023-24 में भी थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति 5.3 प्रतिशत के आसपास रहने का अनुमान है और आगामी मौद्रिक नीति समीक्षा में रिजर्व बैंक रेपो दरों में 0.35 प्रतिशत की वृद्धि कर सकता है।

Maharashtra Farmers Protest: कर्ज माफी की मांग लेकर आजाद मैदान की ओर बढ़ रहे 20 हजार किसान

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानOm: ॐ का जाप करने के हैं कई चमत्कारिक फ़ायदे, बस इन बातों का रखें ध्यान****** ॐ (Om) को हमारे हिन्दू धर्म में पवित्र मंत्र माना गया है। ऐसा माना जाता है कि संपूर्ण संसार का वास इस जाप में है और यही कारण है कि इसे रोज जपना ईश्वर को प्रसन्न करने का सीधा और सरल तरीका माना जाता है। लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि ये मंत्र केवल ईश्वर ही नहीं आपके हेल्थ के लिए भी बहुत मायने रखता है। इस मंत्र के जाप से मेंटल और फिज़िकल हेल्थ बेनिफिट्स होते हैं।जब हम किसी मंत्रोच्चारण से पहले ॐ शब्द को बोलते हैं तो मंत्र का प्रभाव कई गुना बढ़ जाता हैं। ॐ के जाप से शरीर मे सकारात्मक ऊर्जा बढ़ने लगती हैं। ॐ बोलते समय हमारे शरीर के अलग-अलग हिस्सों में इसका पॉजिटिव असर होने लगता है। जिससे थायरॅायड की समस्या दूर होती है। अच्छी नींद आती है। बीपी कंट्रोल होता है। पेट ठीक रहता है, ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है, डाइजेशन की समस्याएं ठीक होने लगती हैं और तनाव जैसी समस्याएं नियंत्रित हो जाती हैं।ॐ शब्द का जाप करने से गुस्से पर भी धीरे-धीरे नियंत्रण किया जा सकता हैं। इस शब्द का प्रभाव तनाव कम करने और मन को शांत करने के लिए लाभदायक है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार ॐ शब्द दुनिया भर के लोगों को प्रकृति और ब्रह्मांड से जोड़ता हैं।शांत जगह पर बैठेंमन शांत रखेंपद्मासन में जाप करेंप्रतिदिन जाप करेंभगवान का नाम लेने से केवल आपके कर्म ही नहीं सुधरते बल्‍क‍ि आपका स्‍वास्‍थ्‍य भी बेहतर होता है।ॐ का जाप करते वक्त रखें इन बातों का ध्यानआंखों को बंद कर लें और एक गहरी साँस लेंअब सांस छोड़ते हुए ॐ का जाप करें।नाभि क्षेत्र में ॐ आवाज़ से होने वाली कंपन को महसूस करें।

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानYasin Malik: कौन है यासीन मलिक? जिसने आतंकियों को दी पनाह, जवानों को मारने से लेकर गृहमंत्री की बेटी के अपहरण करने तक का है आरोप******Highlightsटेरर फंडिंग मामले में दोषी आतंकी यासीन मलिक की सजा पर आज बुधवार को एनआईए कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई है। अदालत इस मामले में आज सजा सुना देगी। बता दें कि एनआईए ने कोर्ट से यासीन मलिक को फांसी की सजा दिए जाने की मांग की है, लेकिन यहां आपको बता दें कि कश्मीर की आजादी की मांग करने वाला आतंक का सरगना यासीन मलिक कौन है?यासीन मलिक 56 वर्ष का है। उसका जन्म 3 अप्रैल 1966 को श्रीनगर के मैसुमा में हुआ था। यासीन के पिता गुलाम कादिर मलिक एक सरकारी बस ड्राइवर थे। यासीन की पढ़ाई श्रीनगर में ही हुई है। उसने श्री प्रताप कॉलेज से स्नातक की डिग्री ली है।यासीन मलिक ने एक इंटरव्यू में एक आम छात्र से लेकर प्रतिबंधित संगठन जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (Jammu Kashmir Liberation Front) का मुखिया बनने तक की अपनी कहानी सुनाई थी। यासीन मलिक का कहना था कि उसने कश्मीर में सेना का जुल्म देखा था और उसी नफरत में उसने हथियार उठाने का फैसला किया। उसने 80 के दशक में 'ताला पार्टी ' का गठन किया था, जिसके चलते उसने घाटी में कई बार नफरत की आग सुलगाई और आतंकी घटनाओं को अंजाम दिया।एक वाक्या 13 अक्टूबर 1983 का है। कश्मीर के शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में भारत और वेस्ट इंडीज का क्रिकेट मैच चल रहा था। लंच ब्रेक में अचानक 10-12 युवा लड़के बीच मैदान में पहुंचेऔर पिच खराब करने लगे। इस वारदात को ताला पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ही अंजाम दिया था।वहीं, 13 जुलाई 1985 को कश्मीर के ख्वाजा बाजार में नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) की रैली हो रही थी। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में लोग जुटे थे। इस बीच, रैली के दौरान 60-70 लड़के पहुंचे और भीड़ में ही पटाखा फोड़ दिया। उस वक्त सबको लगा कि बमबारी शुरू हो गई और चारों तरफ अफरा-तफरी का माहौल बन गया, तब पहली बार यासीन मलिक पकड़ा गया था।यासीन मलिक ने साल 1986 में 'ताल पार्टी' का नाम बदलकर इस्लामिक स्टूडेंट्स लीग यानी आईएसएल कर दिया, जिसमें सिर्फ कश्मीर के युवाओं को शामिल किया गया, जिसका मकसद कश्मीर को भारत से अलग करना था। इस पार्टी में अशफाक मजीद वानी, जावेद मीर और अब्दुल हमीद शेख जैसे आतंकी शामिल थे, जिन्होंने कश्मीर को आजाद कराने के नाम पर घाटी में सिर्फ हिंसा फैलाने का काम किया।साल 1987 में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले यासीन मलिक के नेतृत्व में इस्लामिक स्टूडेंट्स लीग, मुस्लिम यूनाइटेड फ्रंट में शामिल हो गई थी। हालांकि, संविधान पर भरोसा नहीं रखने के चलते आईएसएल ने किसी भी सीट पर चुनाव नहीं लड़ा, लेकिन उसने श्रीनगर के सभी निर्वाचन क्षेत्रों में एमयूएफ के लिए प्रचार करने की जिम्मेदारी उठाई। इसके बाद साल 1988 में यासीन मलिक जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) का एरिया कमांडर बन गया।1988 में जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट यानी जेकेएलएफ से जुड़ने के कुछ दिनों बाद ही यासीन मलिक पाकिस्तान चला गया। यहां ट्रेनिंग लेने के बाद 1989 में वह वापस भारत आया। इसके बाद उसने गैर-मुसलमानों को मारना शुरू कर दिया। 8 दिसंबर 1989 को देश के तत्कालीन गृहमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी रूबिया सईद का अपहरण हो गया। उस वक्त मुफ्ती मोहम्मद सईद दिल्ली में अधिकारियों के साथ मीटिंग कर रहे थे। इस अपहरण कांड का मास्टरमाइंड अशफाक वानी था। कहा जाता था कि ये यासीन मलिक के इशारे पर ही हुआ। इसमें शामिल सारे आतंकवादी जेकेएलएफ से ही जुड़े थे।यासीन मलिक पर भारतीय वायुसेना कर्मियों पर आतंकवादी हमले करने का आरोप है, जिसमें स्क्वाड्रन लीडर रवि खन्ना सहित चार वायुसेना कर्मी मारे गए थे। वहीं, मलिक ने 1990 में कश्मीरी पंडितों को कश्मीर से बेदखल करने में भी अहम भूमिक निभाई थी।मलिक कई कट्टर पाकिस्तानी आतंकियों के कॉन्टैक्ट में रहते हुए भारत विरोधी गतिविधियों में शामलि रहा। बाद में वो जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट का प्रमुख बन गया और साल 1994 में इसने JKLF को एक राजनीतिक दल के तौर पर पेश करने की कोशिश की। मलिक जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के प्रमुख मकबूल भट्ट को अपना आदर्श मानता आया है।बता दें कि अलगाववादी नेता मकबूल भट्ट को 11 फरवरी 1984 में फांसी पर चढ़ा दिया गया था। तब यासीन मलिक और उसकी ताला पार्टी ने इसका जमकर विरोध किया था। जगह-जगह मकबूल भट्ट के समर्थन में पोस्टर लगाए थे। इसे लेकर यासीन मलिक को पुलिस ने गिरफ्तार किया था और वह चार महीने तक जेल में रहा।यासीन मलिक ने 22 फरवरी 2009 को एक पाकिस्तानी चित्रकार मुशाल हुसैन मलिक से शादी की थी, जिससे उसे एक बेटी भी है, जिसका नाम रजिया सुल्तान है।1980 के दशक से ही कश्मीर में हिंदुओं पर हमले होने लगे थे। इसमें यासीन मलिक और उसके साथियों का नाम आता था। बढ़ती हिंसात्मक घटनाओं को देखते हुए 7 मार्च 1986 को तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने जम्मू-कश्मीर की गुलाम मोहम्मद शेख सरकार को बर्खास्त कर दिया था। राज्य में राज्यपाल शासन लागू कर दिया गया।कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानGanesh Chaturthi 2018: गणपति बप्पा के स्वागत में कुछ इस खास अंदाज में तैयार हुए बॉलीवुड सेलेब्स****** गणेश चतुर्थी मुंबई और उसके आसपास के जगहों में काफी धूमधाम से मनाया जाता है। मुंबई का सबसे बड़ा फेस्टिवल हो और उसमें बॉलीवुड के ग्लैमर का तड़का न लगे हो ही नहीं सकता। गणेश चतुर्थी के इस उत्सव को बॉलीवुड सेलेब्स ने भी अपने घर में कुछ इस अंदाज में मनाया। बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी से लेकर सलमान खान, सुनील शेट्टी, श्रद्धा कपूर, संजय दत्त ने इस खास अंदाज में गणपति को अपने घर मेंस्वागत किया। हम शुरुआतकरेंगेसंजयदत्त से,संजय दत्त ने भी हर साल की तरह इस साल भी गणपति को स्थापित किया। संजू ने पत्नी मान्यता के साथ एक तस्वीर शेयर की जिसमें वे गणेश जी की आरती करते नजर आ रहे हैं।सोनाली बेंद्रे ने भी सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर की है जिसमें उनके बेटे रणवीर गणेश जी की आरती करते नजर आ रहे हैं।शिल्पा शेट्टी ने अपने पति और बेटे के साथ मनाई गणेश चतुर्थी साथ ही भगवान गणेश की खूबसूरत तस्वीरें और वीडियो शेयर किए।()श्रद्धा कपूरने अपनेघर में गणेशचतुर्थी मनाई, ब्लू कलर के कुर्ती में श्रद्धा बहुतही खूबसूरतनजर आ रहीं थी।(बॉलीवुड एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित ने भी भगवान गणेशके साथ अपनीफोटो शेयर की।

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानकर्नाटक के नए मुख्यमंत्री की 1-2 दिन में घोषणा संभव, धर्मेंद्र प्रधान को ऑब्जर्वर बनाकर भेजेगी पार्टी: सूत्र******कर्नाटक में मुख्यमंत्री पद से बीएस येदियुरप्पा के त्यागपत्र के बाद अब नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर कयास लगना शुरू हो गए हैं। हालांकि सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भारतीय जनता पार्टी अगले 1-2 दिन में कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री का ऐलान कर सकती है और इसके लिए केंद्रीय मंत्री को ऑब्जर्वर के तौर पर कर्नाटक भेजा जाएगा।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कर्नाटक के घटनाक्रम को लेकर आज भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गृह मंत्री अमित शाह के साथ संसत भवन में स्थित उनके कमरे में मुलाकात की है।गौरतलब है कि अपनी सरकार के 2 साल का कार्यकाल पूरा होने के मौके पर येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र देने का ऐलान किया है। बीएस येदियुरप्पा ने त्यागपत्र देते समय भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का धन्यवाद किया और कहा कि 75 वर्ष की उम्र की लिमिट पूरी होने के बावजूद केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें 2 साल अतिरिक्त मुख्यमंत्री पद पर बनाए रखा। त्यागपत्र देते समय बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि वे केंद्र में भारतीय जनता पार्टी को फिर से जीत दिलाने में पूरा योगदान देंगे।मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र देते समय बीएस येदियुरप्पा भावुक नजर आए और उन्होंने अपने राजनीतिक सफर का जिक्र करते हुए कहा कि राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रचार और जिला अध्यक्ष के रूप में उनके ऊपर जानलेवा हमला हुआ था और उसके बाद उन्होंने राजनीति में उतरकर जनता की सेवा करने का मन बनाया था। येदियुरप्पा ने कहा कि उन्होंने कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी के एकमात्र विधायक से विधानसभा में जनता की लड़ाई शुरू की थी और बाद में पूरे राज्य ने उनका साथ दिया।कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानबुर्किना फासो में जिहादियों ने 14 लोगों को मारा, जवाब में सेना ने ढेर किए 146 आतंकी****** अफ्रीकी देश में जिहादियों को आम लोगों पर किए की बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है। के हमले में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गई थी, जिसके जवाब में सेना ने बड़े स्तर पर कार्रवाई की और 146 आतंकियों को मार गिराया। सेना द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, माली सीमा के पास उत्तरी बुर्किना फासो में हुए जिहादी हमले में 14 लोगों की मौत हो गई थी। यह आतंकी हमला रविवार देर रात हुआ था।रिपोर्ट्स के मुताबिक, सेना ने जवाबी कार्रवाई में तीन उत्तरी प्रांतों में छापेमारी की और 146 आतंकवादियों को ढेर कर दिया। जिहादियों ने माली सीमा के पास येटेंटा प्रांत के केन शहर में हमला किया था। सेना के प्रवक्ता कर्नल लामौसा फोफाना ने एक बयान में कहा, ‘केन में रविवार 3 फरवरी की रात से सोमवार 4 फरवरी को हुए जिहादी हमले में 14 लोग मारे गए। जवाबी कार्रवाई में राष्ट्रीय रक्षा और सुरक्षा बलों ने केन, बानह और बोम्बोरो में अभियान चलाए। इन 3 इलाकों में हवाई और जमीनी अभियान में 146 आतंकवादी ढेर किए गए।’अभी तक मिले आंकड़ों के मुताबिक, बुर्किना फासो में 2015 से जिहादी हमलों में मारे गए लोगों की संख्या 300 हो गई है। यह हमला मंगलवार को ‘जी5 साहेल शिखर सम्मेलन’ की पूर्व संध्या पर यह हुआ था। इस आतंकी हमले को देश के सबसे बड़े आतंकी हमलों में गिना गया, हालांकि सेना की कार्रवाई में 146 आतंकियों की मौत ने आम लोगों के दर्द को जरूर कुछ कम किया होगा।

कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानDaler Mehndi Arrested: मशहूर पंजाबी सिंगर दलेर मेहंदी गिरफ्तार, कबूतरबाजी केस में 2 साल कैद की सजा बरकरार******Highlightsमशहूर पंजाबी सिंगर को पंजाब पुलिस ने मानव तस्करी मामले में अरेस्ट किया है। हाल ही में कोर्ट ने 15 साल पुराने मानव तस्करी केस में मेहंदी को दो साल कैद की सजा सुनाई गई थी। आज सुनवाई हुई जिसके बाद पटियाला कोर्ट ने 2 साल की सजा को बरकरार रखा है। बता दें कि मामले में सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दलेर मेहंदी को दोषी करार दिया और कुछ देर बाद सजा सुना दी। यह 2003 कबूतरबाजी का मामला है और केस का फैसला 15 साल बाद हुआ।कोर्ट ने तुरंत दलेर मेहंदी को हिरासत में लेने को कहा था जिसके कुछ ही देर में उनकी गिरफ्तारी हो गई। दलेर को अब सजा काटने के लिए पटियाला सेंट्रल जेल भेजा जाएगा। पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिद्धू भी इसी जेल में बंद हैं।बता दें कि दलेर मेहंदी के खिलाफ 2003 में केस दर्ज हुआ था। करीब 15 साल की सुनवाई के बाद 2018 में पटियाला की ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट कोर्ट ने उन्हें 2 साल कैद और 2 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई थी। 3 साल से कम सजा होने की वजह से दलेर को उसी समय जमानत मिल गई थी। दलेर मेहंदी ने ट्रायल कोर्ट की सजा के फैसले को पटियाला सेशन कोर्ट में चुनौती दी थी। इसकी सुनवाई के दौरान गुरुवार को एडिशनल सेशन जज एचएस ग्रेवाल ने दिलेर की याचिका को खारिज कर दिया। इसके बाद दलेर को अरेस्ट कर लिया गया।दलेर मेहंदी पर आरोप है कि शो के लिए जाते वक्त वह 1998-99 में वह अवैध तरीके से 10 लोगों को अपने साथ अमेरिका ले गए। उन्होंने इन लोगों को अपनी टीम का हिस्सा बताया था। उन्हें विदेश ले जाने के बदले पैसे लिए गए। इसके बाद पहले दलेर के भाई शमशेर पर 19 सितंबर, 2003 को मानव तस्करी का केस दर्ज हुआ। पूछताछ के बाद पुलिस ने इसमें दिलेर को भी नामजद कर लिया।कर्जमाफीकीमांगलेकरआजादमैदानकीओरबढ़रहे20हजारकिसानUP Assembly Election: कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची जारी, गुलाम नबी आजाद का नाम शामिल******UP Assembly Election: यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने शनिवार को स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में कांग्रेस के असंतुष्ट खेमे जी-23 के सदस्य माने जाने वाले गुलाज नबी आजाद का नाम शामिल है, लेकिन कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी का नाम नदारद है। कांग्रेस पार्टी द्वारा जारी स्टार प्रचारकों की सूची के नेता तीसरे चरण में पार्टी के उम्मीदवारों के लिए प्रचार करेंगे। इस लिस्ट राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, अशोक गहलोत, सचिन पायलट, मोहम्मद अजहरुद्दीन के नामों के अलावा G-23 के सदस्य माने जाने वाले गुलाम नबी आजाद का नाम शामिल है। हैरान करने वाली बात ये है कि पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी और राज बब्बर का नाम इस सूची में शामिल नहीं है। वहीं मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ भी स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल हैं। कांग्रेस नेता ट्वीट संदेश में परोक्ष रूप से अपनी ही पार्टी पर निशाना साध चुके हैं।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 05:28
उद्धरण 1 इमारत
दिल्ली में PM मोदी ने देश-दुनिया के छात्रों से की ‘परीक्षा पे चर्चा’, दिए ये 'मंत्र'****** प्रधानमंत्री ने'परीक्षा पे चर्चा 2.0' के तहत में बैठने की तैयारीकर रहे छात्रों, उनके अभिभावकों और शिक्षकों को संबोधित किया। नई दिल्ली के तालकटोरास्टेडियम मेंछात्रों एवं अन्य को संबोधितकरते हुए प्रधानमंत्री ने सबसेपहलेपूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिज को याद किया। फर्नांडिज काआज सुबहदिल्ली मेंनिधन हो गया था। इसकेबाद प्रधानमंत्री ने स्टूडेंट्स से मुखातिब होकरकहा, 'मैं किसी को उपदेश देने नहीं आया हूं। मैं यहां आपके जैसा, आपकी स्थिति वाला पल जीना चाहता हूं।' इस दौरानप्रधानमंत्री ने छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकोंके कई सवालोंके जवाबदिए।इस मौके पर प्रधानमंत्री ने छात्रों को सलाह देते हुए कहा, 'आप अपनी तुलना अपने पुराने रिकॉर्ड से कीजिए, आप कॉम्पिटिशन अपने रिकॉर्ड से कीजिए, आप अपने रिकॉर्ड ब्रेक कीजिए, आप अगर खुद के रिकॉर्ड ब्रेक करेंगे तो आपको कभी भी निराशा के गर्त में डूबने का मौका नहीं आयेगा।' वहीं, अपनी एनर्जी के बारे में बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, 'मेरे लिए सवा सौ देशवासी मेरा परिवार है। जब सवा सौ करोड़ देशवासी मेरा परिवार है तो मैं थकान महसूस नहीं करता हूं। हर पल मैं सोचता हूं, रात को जब सोने जाता हूं तो सुबह का सोच कर जाता हूं, और नई उमंग, नई ऊर्जा के साथ आता हूं।'आपकोबता दें कि PMमोदीनेसोमवारको कहा था कि वह 29जनवरीकोसुबह‘’ कार्यक्रम में देश भर के विद्यार्थियों, शिक्षकों एवंअभिभावकोंसेतनाव-रहितपरीक्षा एवंसंबंधितपहलुओंपर चर्चा करेंगे। छात्रों, अभिभावकों एवं शिक्षकों से इसमें शामिल होने की अपील करते हुए उन्होंने कहा था कि यह प्रौद्योगिकी की ताकत का परिणाम है कि परीक्षा पे चर्चा को देशभर में स्कूलों एवं कालेजों में देखा जा सकेगा। उन्होंने कहा कि यह परीक्षा के लिये कठिन परिश्रम कर रहे छात्रों के साथ एकजुटता प्रदर्शित करने का शानदार मौका है। इस बार विद्यार्थियों के साथ-साथ अभिभावक और शिक्षक भी इस कार्यक्रम का हिस्सा बनने वाले हैं। इस बार अन्य देशों के छात्रों ने भी कार्यक्रम में भाग लियाहै।आपको बता दें कि इस आयोजन के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा विशेष तैयारियां की गईं। प्रधानमंत्री मोदी का परीक्षा से पहले यह आयोजन देशभर में चर्चा का विषय बना। आपको बता दें किवह पहले भी इसी तरह छात्रों को परीक्षा की तैयारियों के टिप्स दे चुके हैं। प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम को लेकर छात्रों और अभिभावकों में खासा उत्साह देखने को मिलाहै।
2022-10-01 04:37
उद्धरण 2 इमारत
Viral Video : सोनू सूद का ये वीडियो दिखा रहा है इंसानियत अभी जिंदा है, सोशल मीडिया कर रहा सलाम******Highlightsफिल्म एक्टर सोनू सूद अक्सर अच्छे कामों के चलते चर्चा में बने रहते हैं। फिल्म अभिनेता सोनू सूद ने एक बार फिर रियल लाइफ के हीरो के तौर पर मिसाल पेश की है। सोनू सूद ने इस बार हादसे में एक घायल युवक की जान बचाई।दरअसल, पंजाब के मोगा जिले के शहर के कोटकपूरा बाईपास के पास एक सड़क हादसा हो गया था। दो गाड़ियों के बीच हुए टक्कर में एक शख्स घायल हो गया था, जिसको खुद सोनू सूद ने अपनी गोद में उठाकर अस्पताल में भर्ती कराकर उस शख्स की जान बचाई।घटना मंगलवार देर रात की है।जानकारी के मुताबिक, मोगा के कोटकपूरा बाईपास पर दो गाड़ियों का एक्सीडेंट हुआ था। जैसे ही सोनू सूद वहां से गुजरे, तो वे खुद रोक नहीं पाए। उन्होंने अपनी गाड़ी रोककर कार में पड़े घायल शख्स को अपने टीम के लोगों की सहायता से गाड़ी से बाहर निकाला। उसे अपनी गोद में उठाकर अपनी में बैठाकर हॉस्पिटल ले जाकर उसका इलाज भी करवाया। जानकारी के मुताबिक, घायल व्यक्ति की हालत अब खतरे से बाहर है। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि गाड़ी का सेंटर लॉक लग गया।इस वजह से गाड़ी के अंदर दो युवक फंस गए।सोशल मीडिया पर के इस कदम की जमकर तारीफ हो रही है। ये पहली बार नहीं है जब सोनू सूद ने किसी की मदद की हो इससे पहले भी बॉलीवुड एक्टर ने कोरोना काल में हजारों लाखों लोगों की मदद की थी। पैदल अपने घरों की तरफ लौट रहे श्रमिक मजदूरों को न सिर्फ बसों से उनके घरों तक पहुंचाया था, बल्कि लोगों की रोजमर्रा की जरूरतों को भी पूरा करने का काम किया था।
2022-10-01 03:54
उद्धरण 3 इमारत
नवी मुंबई स्थित APMC मार्केट 11 से 17 मई तक बंद, कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद फैसला******corona crisisनई दिल्ली। मुंबई में तेजी से बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए नवी मुंबई एग्रीकल्चर प्रोड्यूसमार्केट कमेटी यानी APMC ने अपने सभी 5 थोक बाजारों को बंद रखने का निर्णय लिया है। ये बाजार 11 से 17 मई तक बंद रहेंगे। कमेटी ने थोक कारोबारी और मध्यस्थों को सलाह दी है कि वो किसानों द्वारा खरीदी गई उपज औऱ जरूरी सामान को मंडी न लाकर सीधे ग्राहकों तक पहुंचाएं जिससे खाने पीने के सामान कीसप्लाई बनी रहे। इन 5 थोक बाजार में अनाज, मसाले, सब्जी, फल औरप्याज-आलू का कारोबार होता है।कमेटी ने जानकारी दी है कि बंदी के दौरान पूरी बाजार को सेनेटाइज किया जाएगा वहीं थोक कारोबारी और काम करने वाले मजदूरों का पूरा चेकअप किया जाएगा। उनके मुताबिक कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए कारोबारी और कर्मचारी के बीच संक्रमण का प्रसार होने का खतरा बढ़ गया था जिसे देखते हुए बाजार बंद करने का फैसला लिया गया है। APMC मार्केट मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन (MMR) में अनाज, सब्जियां फल, मसाले पहुंचाने वाला सबसे अहम बाजार है। ये अपनी तरह की देश की सबसे बड़ी फैसिलिटी है।
वापसी
नई पोस्ट करें
665809
विषयों की संख्या
5200
पदों की संख्या
68464
उपयोगकर्ता संख्या
665809
ऑनलाइन
44