नई पोस्ट करें

BMC Education Budget: बीएमसी ने 2945 करोड़ रुपए का शिक्षा बजट पेश किया, ​जानिए पिछली बार से यह कितना अधिक?

2022-10-01 05:35:32 892

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिक66th National Film Awards 2019: आयुष्मान खुराना को 'अंधाधुन' और विक्की कौशल को 'उरी' के लिए मिला बेस्ट एक्टर का नेशनल अवॉर्ड******इस साल अगस्त में के विजेताओं की घोषणा की गई थी। सोमवार को दिल्ली में इन्हें खिताब से नवाजा गया। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने इन विनर्स को विज्ञान भवन में अवॉर्ड देकर सम्मानित किया।बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।हालांकि, खराब सेहत के चलते वे सेरेमनी में हिस्सा नहीं ले सकें। वहीं, आयुष्मान खुराना को फिल्म 'अंधाधुन' और विक्की कौशल को 'उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक' में दमदार परफॉर्मेंस के लिए बेस्ट एक्टर, साउथ एक्ट्रेस कीर्ति सुरेश को 'महानती' (Mahanati) के लिए बेस्ट एक्ट्रेस और सुरेखा सीकरी को 'बधाई हो' के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का नेशनल अवॉर्ड दिया गया।जानकारी के अनुसार, राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में फिल्म की कैटेगरी में 31 और नॉन फीचर फिल्म की कैटेगरी में 23 अवॉर्ड दिए जाते हैं। हर साल विभिन्न भारतीय भाषाओं की फिल्मों के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार घोषित किए जाते हैं। इसके तहत बेस्ट फिल्म, बेस्ट डायरेक्शन, बेस्ट प्रोडक्शन, सामाजिक संदेश, गायक, गीत और गीतकार की श्रेणियों में नामांकन किए जाते हैं।

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकChanakya Niti: ऐसे लोगों से दुश्मनी करने से पहले सौ बार सोचें, वरना उठाना पड़ सकता है भारी नुकसान******Highlightsआचार्य चाणक्य की नीतियां एक सफल जीवन के लिए बेहद जरूरी होता है। यदि हमें जीवन में सफल होना है तो आचार्य चाणक्य की नीतियों को आत्मसात कर एक बेहतर जीवन जिया जा सकता है। आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार भले ही आपको थोड़े कठोर लगे लेकिन ये कठोरता ही जीवन की सच्चाई है। आज की चाणक्य नीति के बारे में जानेंगे कि किस तरह के लोगों से हमेशा दूर रहना चाहिए नहीं तो अपनी जिंदगी दूभर हो जाती है।्यअसल जिंदगी में कई बार आपने देखा होगा कि लोग उस व्यक्ति पर सबसे पहले हमला करते हैं जो कमजोर होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि उसे लगता है कि सामने वाला तो कमजोर है तो क्या ही उस पर हमला करेगा। लेकिन ऐसा सोचकर वो सबसे बड़ी गलती कर देते हैं। कमजोर व्यक्ति इसलिए कमजोर नहीं होता क्योंकि उसके पास पैसा या फिर सामने वाले के समान संसाधन नहीं होते। ऐसा व्यक्ति दूसरों के सामने अपनी आवाज़ उठाने से डरता है। लेकिन अगर आप बार-बार किसी को अपना निशाना बनाएंगे तो एक दिन सब्र का बांध टूटना निश्चित है।ऐसा इसलिए क्योंकि कमजोर व्यक्ति जब हमला करेगा तो वो हर उस पहलू की ओर ध्यान देगा जो शायद सामने वाले ने ना दिया हो। वो सामने वाले की कमजोरी के साथ-साथ उसके प्लस प्वाइंट को भी अपने ध्यान में रखेगा। वो उस वक्त सामने वाले पर हमला करेगा जब वो इस बात के लिए निश्चिंत हो कि उसकी जीत पक्की है। इसी वजह से आचार्य चाणक्य ने कहा है कि कमजोर व्यक्ति से दुश्मनी ज्यादा खतरनाक होती है क्योंकि वह उस समय हमला करता है जिसकी आप कल्पना ही नहीं कर सकते हैं।बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकप्रधानमंत्री ने बजट को बताया ग्रीन बजट, कहा- पर्यावरण, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और सोलर सेक्टर पर विशेष बल दिया गया******PM Narendra Modi's remarks on the Budget 2019-20वित्‍त मंत्री द्वारा शुक्रवार को पेश किए गए के बजट पर प्रधानमंत्री ने कहा कि ये देश को समृद्ध और जन-जन को समर्थ बनाने वाला बजट है। इस बजट से गरीब को बल मिलेगा और युवाओं को बेहतर कल मिलेगा। इस बजट के माध्यम से मध्यम वर्ग को प्रगति मिलेगी। विकास की रफ्तार को गति मिलेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बजट से टैक्स व्यवस्था में सरलीकरण होगा, इन्फ्रास्ट्रक्चर का आधुनिकीकरण होगा। उन्होनें कहा कि ये बजट उद्यम और उद्यमों को मजबूत बनाएगा, देशमें महिलाओं की भागीदारी को और बढ़ाएगा। प्रधानमंत्री ने इस बजट को ग्रीन बजट बताते हुए कहा कि इसमें पर्यावरण, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और सोलर सेक्टर पर विशेष बल दियागया है। पिछले 5 साल में देश निराशा के वातावरण को पीछे छोड़ चूका है।आज देश उम्मीदों और आत्मविश्वास से भरा हुआ है।पीएम मोदी ने कहा कि आज लोगों के जीवन में नई आकांक्षाएं और अपेक्षाएं हैं। ये बजट देश को विश्वास दे रहा है कि इन्हें पूरा किया जा रहा है। ये विश्वास दे रहा है कि दिशा सही है, प्रोसेस ठीक है, गति सही है इसलिए लक्ष्य तक पहुंचना तय है। इस बजट में आर्थिक जगत के रिफॉर्म भी हैं। आम नागरिक के लिए ईज ऑफ लिविंग भी है और साथ ही गांव और गरीब का कल्याण भी है।वित्त मंत्री द्वारा पेश किए बजट पर प्रधानमंत्री ने कहा कि ये बजट उद्यम और उद्यमों को मजबूत बनाएगा, देश में महिलाओं की भागीदारी को और बढ़ाएगा। इस बजट से टैक्स व्यवस्था में सरलीकरण होगा, इन्फ्रास्ट्रक्चर का आधुनिकीकरण होगा। पिछले 5 वर्षों में हमारी सरकार ने गरीब, शोषित और वंचितों को सशक्त बनाने के लिए अनेक कदम उठाये हैं। अब अगले 5 वर्षों में यही Empowerment उन्हें देश के विकास का पावर हाउस बनाएगा।पीमए ने कहा कि आज लोगों के जीवन में नई आकांक्षाएं और अपेक्षाएं हैं। ये बजट देश को विश्वास दे रहा है कि इन्हें पूरा किया जा रहा है। ये विश्वास दे रहा है कि दिशा सही है, प्रोसेस ठीक है, गति सही है इसलिए लक्ष्य तक पहुंचना तय है। इस बजट में आर्थिक जगत के रिफॉर्म भी हैं। आम नागरिक के लिए ईज ऑफ लिविंग भी है और साथ ही गांव और गरीब का कल्याण भी है। ये एक ग्रीन बजट है जिसमें पर्यावरण, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और सोलर सेक्टर पर विशेष बल दिया गया है। पिछले 5 साल में देश निराशा के वातावरण को पीछे छोड़ चूका है। आज देश उम्मीदों और आत्मविश्वास से भरा हुआ है

BMC Education Budget: बीएमसी ने 2945 करोड़ रुपए का शिक्षा बजट पेश किया, ​जानिए पिछली बार से यह कितना अधिक?

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकई-कॉमर्स सेक्टर ने लॉकडाउन से पहले की बिक्री का 90 फीसदी हिस्सा वापस हासिल किया: रिपोर्ट******E Commerce sales recoversनई दिल्ली। भारत के ई-कॉमर्स सेक्टर में बिक्री की मात्रा लॉकडाउन पूर्व के स्तर की तुलना में 90 प्रतिशत बहाल हो गई है। यह जानकारी सोमवार को एक रिपोर्ट में सामने आई है। भारत के एक प्रमुख ई-कॉमर्स केंद्रित आपूर्ति श्रंखला एसएएएस (सॉफ्टवेयर-ऐज-ए-सर्विस) प्लेटफॉर्म, यूनीकॉमर्स द्वारा उपभोक्ता रुझान पर किए गए विश्लेषण के अनुसार, ई-कॉमर्स सेक्टर का अनुमान है कि महीने के अंत तक लॉकडाउन पूर्व की बिक्री का स्तर बहाल हो जाएगा।यूनीकॉमर्स के सीईओ कपिल मखीजा ने एक बयान में कहा, "ई-कॉमर्स सेक्टर भारत की सकल अर्थव्यवस्था की वृद्धि का लगातार नेतृत्व करता रहेगा। उपभोक्ताओं में ऑनलाइन शॉपिंग को महत्व देने की प्रवृत्ति बढ़ रही है, जो ऑनलाइन विक्रेताओं और मार्केटप्लेस के लिए एक बड़े आश्चर्य और राहत की बात है।"उन्होंने कहा, "मौजूदा रफ्तार और रिकवरी दर को लेकर हम सकारात्मक हैं कि सेक्टर अगले दो सप्ताहों में पूरी तरह पटरी पर लौट आएगा।"सभी कैटेगरी में वृद्धि का विश्लेषण करने से पता चलता है कि इलेक्ट्रॉनिक अप्लायंसेस कैटेगरी (स्मार्टफोन को छोड़कर) में अन्य कैटेगरी की तुलना में जोरदार वृद्धि हुई है।रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सेक्टर ने न सिर्फ अपनी पुरानी जगह को हासिल किया है, बल्कि लॉकडाउन पूर्व के बिक्री स्तर से 45 प्रतिशत वृद्धि भी हासिल कर लिया है। हालांकि औसत कार्ट साइज लगभग पांच-10 प्रतिशत घटा है, क्योंकि लोग घर पर उपयोग में लाने के लिए ही आर्डर कर रहे हैं।चूंकि ज्यादातर संगठनों ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सुविधा दे रखी है, लिहाजा ऐसे उत्पादों की मांग बढ़ गई है, जो पेशेवरों को घर से काम करने में सुविधा देते हैं, जैसे यूएसबी केबल, एक्सटेंशन कॉर्ड्स, ट्रिमर्स और्र वाईफाई राउटर आदि। दूसरी ओर ऑनलाइन फैशन सेक्टर में लॉकडाउन पूर्व के स्तर की तुलना में कुल 70 प्रतिशत की रिकवरी आई है। हालांकि औसत कार्ट साइज लगभग 25 प्रतिशत घट गया है। इससे पता चलता है कि ऊंची कीमत वाले उत्पादों की मांग काफी घट गई है और लोग किफायती उत्पादों के आर्डर दे रहे हैं।इस कैटेगरी में सर्वाधिक आर्डर किए जा रहे उत्पादों में नाईटवियर्स और घर पर पहने जाने वाले आरामदायक पहनावे शामिल हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि वास्तव में फैशन में कुछ उप-कैटेगरी जैसे बच्चों के कपड़े में लॉकडाउन पूर्व के स्तर की तुलना में पिछले 15 दिनों में 100 प्रतिशत से अधिक वृद्धि हासिल हो चुकी है।बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकमध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के 9 नए मामले आए, इंदौर ने पार किया महामारी के खिलाफ अहम पड़ाव******मध्य प्रदेश में शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण के नौ नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 7,92,007 तक पहुंच गयी। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में किसी भी व्यक्ति की कोरोना से मौत नहीं हुई है और राज्य में इस महामारी से मरने वालों की संख्या 10,514 है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में 103 मरीज उपचाराधीन हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 7,92,007 संक्रमितों में से अब तक 7,81,390 मरीज स्वस्थ हो गये हैं। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में शुक्रवार को 58,520 लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाए गये। इसी के साथ प्रदेश में अब तक 3,68,57,234 लोगों को कोरोना वैक्सीन लग चुके हैं।इस बीच राज्य में से सबसे ज्यादा प्रभावित इंदौर ने महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन का अहम पड़ाव शुक्रवार को पार कर लिया। अधिकारियों के मुताबिक सात महीनों के अभियान के बाद शहर में सभी लक्षित लोगों को कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक दे दी गई है।इंदौर नगर निगम की आयुक्त प्रतिभा पाल ने बताया, "हमने शहरी क्षेत्र के 18.81 लाख पात्र लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का लक्ष्य तय किया था। अब तक हम शहर के 18.82 लाख नागरिकों को वैक्सीन की पहली खुराक दे चुके हैं।" पाल ने कोविड-19 के खिलाफ इस उपलब्धि का श्रेय इंदौर के नागरिकों की जागरूकता को देते हुए उनसे अपील की कि वे तय समय पर वैक्सीन की दूसरी खुराक भी लगवाएं।अधिकारियों ने बताया कि इंदौर में कोविड-19 के खिलाफ वैक्सीनेशन की शुरुआत 16 जनवरी से हुई थी और पहले दौर में स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन की खुराक दी गई थी। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक करीब 35 लाख की आबादी वाले इंदौर जिले में अब तक कोविड-19 के कुल 1,53,021 मरीज मिले हैं। इनमें से 1,391 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है। हालांकि, महामारी की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने पर इन दिनों जिले में रोजाना मिलने वाले नये संक्रमितों की तादाद इकाई अंक पर सिमट गई है।बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकबिहार: महागठबंधन में मांझी ने रखी बड़ी मांग, कहा- नहीं मानी बात तो 20 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव****** में विपक्षी दलों के की तस्वीर अभी तक साफ नहीं हो पाई है, जबकि अगले कुछ महीनों के बाद हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बिहार में विपक्षी दलों के गठबंधन 'महागठबंधन' में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) के प्रमुख ने यहां गुरुवार को एक बार फिर सम्मानजनक सीट की मांग को दोहराते हुए कहा कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो पार्टी राज्य की 20 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। हम पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने जिलाध्यक्षों के साथ गुरुवार को पटना बैठक की।बैठक के बाद उन्होंने कहा कि बैठक में फैसला हुआ कि किसी भी परिस्थिति में राष्ट्रीय जनता दल को छोड़कर महागठबंधन के अन्य सहयोगियों से कम सीटों पर नहीं लड़ेंगे। मांझी ने कहा, ‘कांग्रेस, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP), विकासशील इंसान पार्टी और शरद यादव की पार्टी से अधिक सीट चाहिए नहीं तो 20 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेंगे। 18 फरवरी को पार्टी इस पर फैसला लेगी।’ उन्होंने कहा कि भले ही उनकी पार्टी राष्ट्रीय नहीं है परंतु बिहार में उनका जनाधार राष्ट्रीय पार्टी से कम नहीं है।उल्लेखनीय है कि हम पहले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में शामिल था परंतु पिछले वर्ष वह राजद नीत महागठबंधन में शामिल हो गया है। मांझी ने हालांकि यह भी कहा कि महागठबंधन में अभी सीट बंटवारा तय नहीं हुआ है परंतु आ रही मीडिया खबरों के मुताबिक हम को एक सीट दिए जाने की बात सामने आ रही है, जो कहीं से भी उचित नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि सीट बंटवारे को लेकर वे जल्द ही राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद से मिलने रांची जाएंगे।

BMC Education Budget: बीएमसी ने 2945 करोड़ रुपए का शिक्षा बजट पेश किया, ​जानिए पिछली बार से यह कितना अधिक?

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकमानसून ने पकड़ी रफ्तार, अगले 2-3 दिन में पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में देगा दस्तक****** पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के लोगों को जल्द भीषण गर्मी से राहत मिल सकती है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के मुताबिक अगले 2-3 दिन में दक्षिण पश्चिम मानसून दिल्ली पहुंच जाएगा। आईएमडी ने कहा कि मानसून ने रफ्तार पकड़ लिया है और उत्तर-पश्चिम भारत में तेजी से बढ़ रहा है।आईएमडी के डायरेक्टर जनरल लक्ष्मण सिंह राठौर ने कहा, गुजरात तट पर अरब सागर में डीप डिप्रेशन के कारण मानसून की रफ्तार धीमी पड़ गई थी। लेकिन इसका लंबे समय तक नहीं रहता है। यही कारण है कि गुजरात में अब अच्छी बारिश हो रही है। अगले 2-3 दिनों में मानसून के फिर से उत्तर-पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में फैल जाएगा। इसमें हरियाणा, पंजाब, दिल्ली और राजस्थान के बड़े हिस्से शामिल हैं। ऐसे में अगले 2-3 दिनों में मानसून दिल्ली में दस्तक देगा। आमतौर पर मानसून दिल्ली 29 जून को पहुंचता है।मौसम विभाग ने कहा कि मानसून की उत्तरी सीमा फिलहाल द्वारका, वल्लभ विद्यानगर, सवाई माधोपुर, ग्वालियर, लखनऊ, पंतनगर, देहरादून, ऊना और जम्मू गुजर रहा है। वहीं, अब तक देशभर में सामान्य के मुकाबले 13 फीसदी कं बारिश हुई है। पूर्व और उत्तर-पश्चिम भारत की बात करें तो क्रमश: 26 और 23 फीसदी कम बारिश रिकॉर्ड की गई। हालांकि, बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने से पूर्वी तट पर अच्छी बारिश होने की उम्मीद है। इसके अलावा आईएमडी ने देश के कई भागों में भारी और बहुत भारी बारिश होने का अनुमान जारी किया है।आईएमडी ने ट्वीट कर कहा कि मध्य प्रदेश, ओडिशा, तेलंगाना, उत्तर और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक तथा अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह में अगले 24 घंटे के दौरान अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश होने का अनुमान है। वहीं, अगले 24 घंटे के दौरान विदर्भ, छत्तीसगढ़, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक तथा केरल में कई जगहों पर भारी बारिश हो सकती है।बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकSpaceX ने स्थापित किया नया कीर्तिमान, एक साथ लांच की 64 सैटेलाइट******वॉशिंगटन: ने फाल्कन 9 की मदद से एक साथ 64 प्रक्षेपित किए हैं। के लिए ये एक नया रिकॉर्ड है। अमेरिकी अरबपति की कंपनी ने उपग्रहों के प्रक्षेपण में सोमवार को नया कीर्तिमान स्थापित करते हुए तीसरी बार पुन:चक्रित (रीसाइकिल्ड) बूस्टर का इस्तेमाल कर रॉकेट प्रक्षेपित किया।मस्क की कंपनी प्रक्षेपण के लिए एक ही रॉकेट का बार-बार इस्तेमाल करने की दिशा में काम कर रही है। कैलिफोर्निया की कंपनी स्पेसएक्स ने ऐसे 30 से ज्यादा बूस्टर धरती पर वापस बुलाए हैं और अब उनका पुन:प्रयोग कर रही है। अतीत में कंपनियां लाखों/करोड़ों डॉलर की लागत से बने रॉकेट के कल-पुर्जों को यूं ही समुद्र में कचरे की तरह बेकार हो जाने देती थीं।

BMC Education Budget: बीएमसी ने 2945 करोड़ रुपए का शिक्षा बजट पेश किया, ​जानिए पिछली बार से यह कितना अधिक?

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिककेंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने कहा, उत्तर प्रदेश में क्षत्रियों को मिले 15 प्रतिशत आरक्षण******केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास आठवले ने उत्तर प्रदेश में क्षत्रियों को 15 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग की है। महाराष्ट्र में दलितों के बड़े नेता आठवले शनिवार को लखनऊ में थे। उन्होंने कहा, ‘किसी भी बिरादरी के लोग जो गरीबी रेखा के नीचे जीवन गुजारा करते हैं उन्हें आरक्षण मिलना चाहिए।’ उन्होंने क्षत्रिय समाज के लिए 15 फीसदी आरक्षण की मांग की। उन्होंने किसान आंदोलन के बारे में कहा कि हमारी सरकार किसानों के खिलाफ नहीं है, हम लोग उनका समर्थन करते हैं। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों की वापसी की मांग ठीक नहीं है क्योंकि अगर एक कानून वापस लिया गया तो आगे इसी तरह और भी मांगें होती रहेंगी।आठवले ने किसान नेताओं को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि किसान नेता किसानों को तकलीफ दे रहे हैं। जातीय जनगणना की पैरवी करने के साथ ही आठवले ने कहा कि महाराष्ट्र में मराठा, राजस्थान में जाट और उत्तर प्रदेश में आरक्षण मांग रहे हैं। सरकार से वह मांग कर रहे हैं कि इन सभी को 10-15 फीसदीआरक्षण मिलना चाहिए। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामदास आठवले ने कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के शनिवार के वाराणसी दौरे पर तीखी चुटकी ली। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा मंदिर या कहीं भी जाएं, में के रहते उस पार्टी का भला नहीं हो सकता।उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी से RPI को यूपी में 5 से 6 सीटें देने की अपील की है। वहीं, उन्होंने जातिगत जनगणना करने की मांग करते हुए कहा कि इससे जातिवाद नहीं बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि हाल ही में पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इस दौरान उनकी पार्टी सभी राज्यों में चुनाव लड़ेगी। एनडीए सरकार में सहयोगी आरपीआई के अध्यक्ष ने कहा कि सभी जगह भारतीय जनता पार्टी से सीटों को लेकर बात चल रही है। जहां भी सीटों पर समझौता नहीं हो पाएगा, वहां हम एनडीए को समर्थन देंगे। उनका कहना था कि चार राज्यों में भाजपा की जीत लगभग तय है, केरल में भी भाजपा जीत सकती है। ने में भीम आर्मी प्रमुख की सक्रियता के सवाल पर कहा कि वह कोई खास प्रभाव डालने वाले नहीं हैं। वह चाहें तो आरपीआई में आ जाएं। साथ ही बसपा प्रमुख मायावती भी अगर आरपीआई में आ जाएं तो उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष बना देंगे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वह आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मिलने जा रहे हैं। बढ़ती महंगाई के सवाल पर रामदास आठवले ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों को कुछ टैक्स कम करने चाहिए।

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकIND vs ZIM : ऐसी हो सकती है टीम इंडिया की संभावित प्लेइंग इलेवन******Highlightsभारत और जिम्बाब्वे के बीच होनेे वाली वन डे सीरीज में अब बस कुछ ही दिन शेष हैं। तीन वन डे मैचों की सीरीज का पहला मैच 18 अगस्त को खेला जाएगा। टीम की कमान एक बार फिर से केएल राहुल को दे दी गई है। वहीं पहले कप्तान बनाए गए शिखर धवन अब टीम के उपकप्तान होंगे। इसके अलावा टीम में एक और बदलाव किया गया है। चोटिल वॉशिंगटन सुंदर टीम से बाहर हो गए हैं, वहीं उनकी जगह शाहबाज अहमद को टीम में शामिल किया गया है। लेकिन सवाल ये है कि रोहित शर्मा, विराट कोहली और जसप्रीत बुमराह की गैरहाजिरी में टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन क्या होगी। यानी टीम के कौन कौन से खिलाड़ी पहले मैच में खेलते हुए नजर आ सकते हैं।केएल राहुल और शिखर धवन की मौजूदगी में ये तो करीब करीब पक्का है कि टीम इंडिया की ओपनिंग जोड़ी तो करीब करीब तय है। यानी शुभमन गिल, रुतुराज गायकवाड़ और बाकी ओपनर्स के लिए टीम में जगह बनाना काफी मुश्किल होगा। शुभमन गिल ने वेस्टइंडीज के खिलाफ वन डे सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया था, ऐसे में उन्हें भी कप्तान केएल राहुल टीम में लेना चाहेंगे। ऐसे में हो सकता है कि वे नंबर तीन पर खेलते हुए नजर आएं। साथ ही ये भी संभव है कि चुंकि केएल राहुल करीब नौ महीने बाद टीम इंडिया में वापसी कर रहे हैं, इसलिए शिखर धवन और शुभमन गिल ओपनिंग के लिए उतरें और राहुल नंबर तीन पर खेलते हुए दिखें। इसके अलावा संजू सैमसन, ईशान किशन और राहुल त्रिपाठी में से किसे मौका मिलेगा, ये भी देखना दिलचस्प होगा। ईशान किशन का तो मिडल आर्डर में खेलना मुश्किल है, ऐसे में संजू सैमसन बाजी मार सकते हैं। वहीं युवा खिलाड़ी राहुल त्रिपाठी भी अपने डेब्यू का इंतजार कर रहे हैं, हो सकता है कि टीम इंडिया के लिए खेलने का सपना राहुल त्रिपाठी का 18 अगस्त को ही पूरा हो जाए।वहीं अगर गेंदबाजी की बात की जाए तो जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार की गैरमौजूदगी में तेज गेंदबाजी का जिम्मा दीपक चाहर पर ही रहने वाला है। वे करीब पांच महीने बाद टीम इंडिया में वापसी कर रहे हैं। उनका साथ देने के लिए मोहम्मद सिराज और प्रसिद्ध भी टीम की प्लेइंग इलेवन में शमिल हो सकते हैं। वहीं स्पिनर्स के तौर पर कुलदीप यादव स्पेशलिस्ट स्पिनर की भूमिक में नजर आने वाले हैं, उनक साथ ऑलराउंडर अक्षर पटेल देते हुए दिख सकते हैं।केएल राहुल, शिखर धवन, शुभमन गिल, राहुल त्रिपाठी, संजू सैमसन, ईशान किशन, दीपक हुड्डा, अक्षर पटेल, दीपक चाहर, कुलदीप यादव, प्रसिद्ध कृष्ण, मोहम्मद सिराजबीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकMI vs GT: अर्जुन तेंदुलकर को मिलेगा मौका! क्या होगी मुंबई और गुजरात की Playing XI******Highlightsआईपीएल 2022 में आज एक और अहम मुकाबला खेला जाएगा। हार्दिक पांड्या की कप्तानी वाली गुजरात टाइटंस की भिड़ंत रोहित शर्मा की कप्तानी वाली मुंबई इंडियंस सेहोगी। हार्दिक पांड्या पहले मुं​बई इंडियंस से ही खेल रहे थे, लेकिन अब वे अपनी ही पुरानी टीम के खिलाफ मैदान में आज उतरेंगे। आज का मैच ब्रेबोर्न स्टेडियम में खेला जाएगा। ये मैच शाम साढ़े सात बजे से शुरू होगा और इससे आधे घंटे पहले सात बजे टॉस होगा।गुजरा टाइटंस इस वक्त आईपीएल 2022 की प्वाइंट्स टेबल में नंबर एक पर काबिज है और प्लेऑफ में जाने की सबसे बड़ी दावेदार भी है। वहीं मुंबई इंडियंस के लिए ये आईपीएल करीब करीब खत्म हो चुका है। टीम अब केवल सम्मान के लिए खेल रही है और ये टीम प्लेऑफ से बाहर होने वाली पहली टीम है। गुजरात टाइटंस जहां एक ओर सबसे सुरक्षित स्थिति में है, वहीं मुंबई इंडियंस अब बस खेलने के लिए खेल रही है। ऐसे में आज के मैच में दोनों टीमों की ओर से कुछ बदलाव प्लेइंग इलेवन में देखने के लिए मिल सकते हैं। इस बीच सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या मुंबई इंडियंस की टीम आज अर्जुन तेंदुलकर को खेलने का मौका देगी। अर्जुन तेंदुलकर लगातार मुंबई इंडियंस के साथ जुड़े हुए हैं। वे आईपीएल 2021 में भी मुंबई इंडियंस के साथ थे, वहीं इस बार भी मुंबई इंडियंस ने उन्हें नीलामी में 30 लाख रुपये में खरीदा था। लेकिन अभी तक उन्हें आईपीएल में डब्यू करने का मौका नहीं मिला है।हार्दिक पांड्या (कप्तान), राशिद खान, शुभमन गिल, मोहम्मद शमी, लॉकी फर्ग्यूसन, अभिनव मनोहर, राहुल तेवतिया, नूर अहमद, साई किशोर, विजय शंकर, जयंत यादव, डोमिनिक ड्रेक्स, दर्शन नालकांडे, यश दयाल, अल्जारी जोसेफ, प्रदीप सांगवान, डेविड मिलर, रिद्धिमान साहा, मैथ्यू वेड, वरुण आरोन, साई सुदर्शन। रोहित शर्मा (कप्तान), ईशान किशन (विकेटकीपर), कीरोन पोलार्ड, सूर्यकुमार यादव, जसप्रीत बुमराह, टिम डेविड, जयदेव उनादकट, टायमल मिल्स, जोफ्रा आर्चर (अनुपलब्ध और घायल), रिले मेरेडिथ, डेनियल सैम्स, फैबियन एलन, मयंक मारकंडे, मुरुगन अश्विन, बासिल थंपी, अनमोलप्रीत सिंह, डेवाल्ड ब्रेविस, तिलक वर्मा, आर्यन जुयाल (विकेटकीपर), अर्जुन तेंदुलकर, रमनदीप सिंह, राहुल बुद्धि, ऋतिक शौकीन, संजय यादव, अरशद खान। शुभमन गिल, रिद्धिमान साहा (विकेटकीपर), साई सुदर्शन, हार्दिक पांड्या (कप्तान), डेविड मिलर, राहुल तेवतिया, राशिद खान, अल्जारी जोसेफ, मोहम्मद शमी, लॉकी फर्ग्यूसन, प्रदीप सांगवान। रोहित शर्मा (कप्तान), ईशान किशन (विकेटकीपर), टिम डेविड, सूर्यकुमार यादव, तिलक वर्मा, कीरोन पोलार्ड, अर्जुन तेंदुलकर, डेनियल सैम्स, कुमार कार्तिकेय, रिले मेरेडिथ, जसप्रीत बुमराह।

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकTeacher Recruitment Scam: टीचर भर्ती घोटाले में ईडी ने ममता के मंत्री पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी को किया गिरफ्तार******Highlights टीचर भर्ती घोटाले में ईडी नेममता के मंत्री पार्थ चटर्जी को गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारीकोलकाता से हुई है। उनकामेडिकल चेकअप भी कराया गया है।वहीं पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी को भी पहले हिरासत में लिया गया, और फिर गिरफ्तार करलिया गया। अर्पिता मुखर्जी के घर से 21करोड़ रुपए कैश बरामद हुए। अर्पिता के घर जब ED ने छापा मारा था तो 500 और 2000 के इतने नोट मिले कि 4-5 फीट ऊंचा ढेर लग गया था। नोटों की गिनती के लिए मशीन मंगवाए गए थे। ईडी नेये छापेमारी एसएससी भर्ती घोटाले में की है। आरोप है कि पार्थ चटर्जी जब शिक्षा मंत्री थे तब उनके कार्यकाल में शिक्षकों की भर्ती में घोटाला हुआ था।कोलकाता हाईकोर्ट के आदेश पर इन मामलों की जांच सीबीआई कर रही है। CBI के मुकदमा दर्ज करने के बाद ED ने कार्रवाई की है और एक साथ 13 ठिकानों पर छापेमारी की थी। ED की टीम ने जिन 13 ठिकानों पर छापेमारी की है,उसमें मंत्री पार्थ चटर्जी और पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के अलावा ममता सरकार के पूर्व मंत्री परेश अधिकारीऔर विधायकमानिक भट्टाचार्य भी शामिल हैं।ईडी सूत्रों के हवाले से पता चला है कि अर्पिता ने अपने बयानों में बड़ा खुलासा किया है। बरामद पैसों के बारे में बड़ा खुलासा हुआ है। माना जा रहा है कि रिश्वत की रकम नीचे से ऊपर तक जाती थी। कुछ और घोटालों का हो सकता है पर्दाफाश। आरंभिक बयानों की सत्यता की जांच जारी है। इस मामले में अब शांतिनिकेतन की मोनालिसा दास का नाम भी सामने आया है। उनके 10 फ्लैटों का भी पता चला है। आपको बता दें मोनालिसा की नियुक्ति को लेकर पहले से विवाद था। माना जा रहा था कि मोनालिसा की नियुक्ति में पार्थ चटर्जी का हाथ है। शाम को ईडी ने अर्पिता को भी गिरफ्तार कर लिया।शिक्षक भर्ती घोटाले से संबंधित छापेमारी के दौरान ईडी ने करीब 20 करोड़ रुपये की बड़ी रकम बरामद की थी। इस दौरान बंगाल सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर से 20 करोड़ रुपये कैश मिला था। माना जा रहा है कि ये कैश एसएससी घोटाले हुई कमाई से जुड़ा हो सकता है। इतनी भारी मात्रा में कैश मिलने के बाद कैश काउंट करने के लिए सर्च टीम बैंक अधिकारियों की मदद तक ली गई थी। ईडी ने अर्पिता मुखर्जी के परिसरों से 20 से ज्यादा मोबाइल फोन भी बरामद किए गए हैं, जिसके उद्देश्य और उपयोग का पता लगाया जा रहा है। इसके अलावा, घोटाले से जुड़े दूसरे आरोपियों के परिसरों से कई अन्य दस्तावेज, रिकॉर्ड, संदिग्ध कंपनियों का विवरण, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, विदेशी मुद्रा और सोना भी बरामद किया गया है।अभी उद्योग और वाणिज्य मंत्री पद पर काबिज पार्थ चटर्जी उस समय शिक्षा मंत्री थे, जब कथित घोटाला हुआ था। सीबीआई दो बार उनसे पूछताछ कर चुकी है। पहली बार पूछताछ 25 अप्रैल, जबकि दूसरी बार 18 मई को की गई थी। सीबीआई पश्चिम बंगाल के शिक्षा राज्य मंत्री अधिकारी से भी पूछताछ कर चुकी है। गौरतलब है कि केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) हाईकोर्ट के निर्देश पर पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग की सिफारिशों पर सरकार द्वारा प्रायोजित और सहायता प्राप्त स्कूलों में समूह 'सी' और 'डी' के कर्मचारियों और शिक्षकों की भर्ती में हुई कथित अनियमितताओं की जांच कर रहा है।बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकगूगल 1 करोड़ से अधिक बच्चों को सिखाएगा फ्री में कंप्यूटर साइंस, नए जॉब लेने में होगी आसानी******Highlightsअल्फाबेट और के सीईओ सुंदर पिचाई (Sundar Pichai) ने 1.1 करोड़ छात्रों को कंप्यूटर विज्ञान (Computer Science) की शिक्षा प्रदान करने के लिए 2 करोड़ डॉलर के अनुदान की घोषणा की है। पिचाई ने गुरुवार देर रात एक बयान में कहा, "हम राष्ट्रीय और स्थानीय संगठनों का समर्थन करने पर ध्यान केंद्रित करेंगे, जो प्रमुख शहरी केंद्रों और ग्रामीण समुदायों में वंचित छात्रों तक पहुंचते हैं और जो सरकारों और शिक्षकों को सीएस शिक्षा योजनाओं को लागू करने में मदद करते हैं।" यह घोषणा 'ग्रो विद गूगल' पहल का हिस्सा है और इसमें गूगल डॉट ओआरजी से फंडिंग भी शामिल है। इस साल की शुरुआत में, गूगल ने 2000 शिक्षकों को डिजिटल कौशल पर प्रशिक्षित करने के लिए अमेरिकन फॉर्म ब्यूरो फाउंडेशन फॉर एग्रीकल्चर के साथ भागीदारी की, जिससे वे 2023 स्कूल वर्ष के अंत तक 200,000 ग्रामीण छात्रों तक पहुंच सकें।पिचाई ने कहा, "इस गर्मी में मैं कंप्यूटर विज्ञान को हर स्टूडेंट्स तक एक बुनियादी हिस्सा बनाने के समर्थन में एक संदेश भेजने के लिए अन्य सीईओ के साथ शामिल हुआ था।" ग्रो विद गूगल के जरिए अमेरिका में 90 लाख से अधिक लोग पहले ही नए कौशल सीख चुके हैं, जिसमें गूगल करियर सर्टिफिकेट भी शामिल है, यह लोगों को बढ़ते क्षेत्रों में नौकरियों के लिए तैयार करता है।पिचाई ने जोर देते हुए कहा कि हम मानते हैं कि गूगल और अन्य कंपनियों की जिम्मेदारी है कि वे लोगों को एक अच्छी नौकरी पाने के लिए आवश्यक कौशल प्राप्त करने में मदद करें, एक नया व्यवसाय शुरू करें और अपने परिवारों के लिए एक ठोस आधार प्रदान करें, चाहे उनकी उम्र कोई भी हो या वे कहीं भी रहते हों।प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज गूगल ने भारत में नई ऑनलाइन सुरक्षा पहल की घोषणा की। इस पहल में लगभग एक लाख डेवलपर्स को कौशल प्रदान करने के लिए कई शहरों में साइबर सुरक्षा रोड-शो और सामुदायिक संगठनों को गूगलडॉटओआरजी से 20 लाख डॉलर का डिजिटल सुरक्षा केंद्रित अनुदान शामिल है। गूगल ने कहा कि इन सभी प्रयासों का उद्देश्य साइबर खतरों के खिलाफ देश की बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था की सामूहिक क्षमता को मजबूत करना है। इन उपायों का उद्देश्य साइबर सुरक्षा कौशल, उपयोगकर्ता जागरूकता और अधिक जोखिम वाले समुदायों के लिए समर्थन को प्राथमिकता देना है।एक कार्यक्रम में इन पहल की घोषणा करते हुए गूगल इंडिया के उपाध्यक्ष और भारत में प्रमुख संजय गुप्ता ने कहा कि वह देशभर में लगभग एक लाख डेवलपर्स, सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) और स्टार्टअप पेशेवरों को बढ़ाने के लिए कई शहरों में साइबर सुरक्षा रोड-शो आयोजित करेगी। कंपनी ने आईटी मंत्रालय और डिजिटल इंडिया कॉरपोरेशन के समर्थन से कई भाषाओं में उपयोगकर्ता जागरूकता अभियान चलाने की भी घोषणा की है।

बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकमनरेगा में फर्जी नाम पर पैसा निकालने लेने वाले हो जाएं सावधान! सरकार ने यह निर्णय लिया******manregaHighlights केंद्र सरकार महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून (मनरेगा) को सख्त बनाने की तैयारी कर रही है, क्योंकि पिछले दो वर्षों के दौरान इस योजना के तहत ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम में काफी गड़बड़ियां या धांधली देखने को मिला है। एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी। केंद्र ने 2022-23 के लिए मनरेगा के तहत 73,000 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं, जो चालू वित्त वर्ष के संशोधित अनुमान (आरई) में दिए गए 98,000 करोड़ रुपये से 25 प्रतिशत कम है। अगले वित्त वर्ष के लिए आवंटन, चालू वित्त वर्ष के लिए बजट अनुमान (बीई) के बराबर है।अधिकारी ने कहा कि पिछले दो वर्षों में बीई के मुकाबले आवंटन काफी अधिक रहा है और यह पाया गया कि इसमें जबर्दस्त ‘फर्जीवाड़ा’ हो रहा है तथा बिचौलिए योजना के तहत लाभार्थियों के नाम दर्ज करने के लिए पैसे ले रहे हैं। अधिकारी ने बताया, प्रत्यक्ष लाभ अंतरण सीधे व्यक्ति तक धन पहुंचाने में सफल रहा है, लेकिन फिर भी ऐसे बिचौलिए हैं, जो लोगों से कह रहे हैं कि मैं आपका नाम मनरेगा सूची में डाल दूंगा, लेकिन आपको नकद हस्तांतरण के बाद वह राशि मुझे वापस देनी होगी। यह बड़े पैमाने पर हो रहा है।उन्होंने कहा कि ग्रामीण विकास मंत्रालय इस पर सख्ती करेगा। अधिकारी ने कहा कि लाभार्थी और बिचौलियों के बीच यह साठगांठ है कि चूंकि लाभार्थी बिचौलिए को कुछ हिस्सा दे रहा है, इसलिए वह काम पर भी नहीं जाएगा और इसलिए कोई काम नहीं हो रहा है। अधिकारी ने कहा, सरकार पिछले दो वर्षों में मनरेगा कोष आवंटित करने में बहुत उदार रही है। हमने 2020-21 में 1.11 लाख करोड़ रुपये जारी किए, जबकि 2014-15 में यह आंकड़ा 35,000 करोड़ रुपये था।2020 में लॉकडाउन के दौरान, इस योजना को गति दी गई थी और इसमें अब तक का सबसे अधिक 1.11 लाख करोड़ रुपये का बजट दिया गया था, जो कि 61,500 करोड़ रुपये के बजट अनुमान से अधिक था। मनरेगा का उद्देश्य देश के ग्रामीण क्षेत्रों में परिवारों की आजीविका सुरक्षा को बढ़ाने के लिए एक वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों की गारंटी मजदूरी रोजगार प्रदान करना है, जिसके वयस्क सदस्य अकुशल शारीरिक कार्य करने के लिए स्वेच्छा से काम करते हैं।बीएमसीने2945करोड़रुपएकाशिक्षाबजटपेशकिया​जानिएपिछलीबारसेयहकितनाअधिकअधूरे पड़े मकानों को पूरा करने के लिए है 90,000 करोड़ रुपए की आवश्‍यकता, प्रॉप इक्विटी ने जारी की रिपोर्ट******Prop Equity says funds worth Rs 90,000 cr required for stressed housing units देशभर में विभिन्न प्रकार के दबाव में फंसे कुल 7.4 लाख आवासीय मकानों को पूरा करने के लिए करीब 90,000 करोड़ रुपए की जरूरत होगी। रीयल एस्टेट से जुड़े ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म ने यह बात कही। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को घोषणा की है कि किफायती और मध्यम आय श्रेणी में निर्माण के आखिरी चरण में पहुंच चुकी बिना विवाद वाली आवासीय परियोजनाओं को पूरा कराने में वित्तीय मदद के लिए कोष बनाया जाएगा। योजना का लाभ उन्हीं परियोजनाओं को मिलेगा जो एनपीए घोषित नहीं हैं और न ही उनको ऋण समाधान के लिए एनसीएलटी के सुपुर्द किया गया है।इसमें करीब 10 हजार करोड़ रुपए सरकार मुहैया कराएगी तथा इतनी ही राशि अन्य स्रोतों से जुटाई जाएगी। कुल मिलाकर 20,000 करोड़ रुपए का कोष उपलब्ध कराया जाएगा। प्रॉपइक्विटी के संस्थापक और प्रबंध निदेशक समीर जसुजा ने कहा कि सरकार का यह कदम निश्चित तौर पर सकारात्मक है और कंपनी को उम्मीद है कि सरकार मुश्किल में फंसे उद्योग की मदद करने के लिए भविष्य में और कदम उठाएगी।उन्होंने कहा कि मौजूदा आवंटित पूंजी का यदि पूरी तरह से इस्तेमाल होता है तो करीब 1.6 लाख इकाइयों को पूरा करने में मदद मिलेगी। प्रॉपइक्विटी ने कहा कि विभिन्न चरणों में अटकी पड़ी कुल 7.4 लाख इकाइयों को पूरा करने के लिए 90,000 करोड़ रुपए की जरूरत होगी।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 05:22
उद्धरण 1 इमारत
Lohri 2022: जानें लोहड़ी के त्योहार में अग्नि में क्यों डाला जाता है अन्न? क्या है इसका महत्व******Highlightsसाल का पहले त्योहार लोहड़ी, मकर संक्रांति से ठीक एक दिन पहले आता है। इसे लोग पूरे धूमधाम के साथ मानते हैं। मुख्य रूप से पंजाब और हरियाणा में बड़े पैमाने पर मनाए जाने वाले इस त्योहार में लोगों में एकजुटता देखने को मिलती है। आइए जानते हैं लोहड़ी के त्योहार से जुड़ी क्या-क्या मान्यताएं हैं और ये त्यौहार लोगों के बीच खास महत्व क्यों रखता है।लोहड़ी के त्योहार को वसंत ऋतु के आगमन के तौर पर भी मनाया जाता है। इसलिए रवि की फसलों से उपजे अन्न को अग्नि में समर्पित करते हैं, नई फसलों का भोग लगाकर देवताओं से धन और संपन्नता की कामना करते हैं।लोहड़ी का त्योहार शरद ऋतु के अंत में मनाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि लोहड़ी के दिन साल की सबसे लंबी रात होती है और अगले दिन से धीरे धीरे दिन बढ़ने लगता है। लोहड़ी का त्योहार किसानों को समर्पित है। इस समय रबी की फसल कटकर आती है और नई फसल की बुवाई की तैयारी शुरू करने से पहले लोहड़ी का जश्न मनाया जाता है। इस दिन किसान प्रार्थना करते हैं कि उनकी आने वाली फसल अच्छी हो।लोहड़ी का त्यौहार शाम के समय मनाया जाता है। इस पर्व पर मूंगफली, गुड़, तिल और गजक खाया जाता है। शाम के समय घर के सभी लोग घर के बाहर लोहड़ी जलाते हैं। इसी लोहड़ी में मूंगफली, गजक, तिल और मक्का डालकर उसकी परिक्रमा करते हैं और आने वाले सुखद भविष्य की प्रार्थना करते हैं। इसके साथ ही परिवार के लोग लोहड़ी के चारों तरफ परिक्रमा करते हुए लोकगीत गाते हैं। यह त्योहार नए शादीशुदा जोड़ों के लिए भी बहुत खास होता है। नए शादीशुदा जोड़े लोहड़ी की अग्नि में आहुति देकर अपनी खुशहाल जीवन की कामना करते हैं।
2022-10-01 05:08
उद्धरण 2 इमारत
सरकार ने ट्विटर को चुनाव आयोग के साथ मिलकर काम करने का दिया निर्देश, 6 मार्च को फेसबुक, व्‍हाट्सएप और इंस्‍टाग्राम के अधिकारियों को बुलाया******twitter संसदीय समिति ने सोमवार को आम चुनावों से पहले को चुनाव आयोग के साथ मिलकर काम करने और इस दौरान सामने आने वाले मुद्दों का उसी समय निपटान करने के लिए कहा है। इसके अलावा समिति ने फेसबुक, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम के अधिकारियों को छह मार्च को उसके समक्ष पेश होने को कहा है। सूचना प्रौद्योगिकी पर संसद की स्थायी समिति के चेयरमैन अनुराग ठाकुर ने ट्विटर की लोक नीति वैश्विक उपाध्यक्ष कॉलिन क्रोवेल एवं कंपनी के अन्य अधिकारियों के साथ बैठक के बाद यह जानकारी दी। यह बैठक करीब साढ़े तीन घंटे चली।उन्होंने कहा कि ट्विटर अधिकारियों से चुनाव आयोग के साथ बेहतर तालमेल से काम करने और मुद्दों का निपटान वास्तविक समय में ही करने के लिए कहा गया है।ट्विटर अधिकारियों से कहा गया है कि वह सुनिश्चित करें कि लोकसभा चुनावों में किसी भी प्रकार का अंतरराष्ट्रीय हस्तक्षेप न हो।सूत्रों ने बताया कि कंपनी से विशेषतौर पर कहा गया है कि वह आने वाले चुनावों में सुनिश्चित करे कि उसमें किसी भी तरह से विदेशी हस्तक्षेप न हो।उन्होंने बताया कि अमेरिकी चुनावों में कई सोशल मीडिया मंचों द्वारा चुनावों में हस्तक्षेप की बातें सामने आई थीं। इसलिए सोशल मीडिया कंपनियों को यह निर्देश दिए गए हैं।ठाकुर ने कहा कि ट्विटर अधिकारियों ने अधिकतर सवालों के जवाब दे दिए हैं। बाकीबचे सवालों का जवाब उन्हें 10 दिन के भीतर लिखित में देना है।उन्होंने कहा कि समिति ने सोशल/ऑनलाइन खबर मीडिया मंचों पर नागरिक अधिकारों की सुरक्षा विषय पर ट्विटर प्रतिनिधियों की बातचीत सुनी। साथ ही फेसबुक, व्हाट्सएप और अन्य मंचों के लोक नीति प्रमुखों को भी समन किया है।सूत्रों ने बताया कि बैठक के दौरान ठाकुर ने कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक डोरसे द्वारा भेजे गए पत्र को भी पढ़ा।
2022-10-01 05:01
उद्धरण 3 इमारत
National Herald Case: सोनिया-राहुल ने पूछताछ में जिसपर फोड़ा ठीकरा, कागजों में उसका ना कहीं नाम, ना ही दस्तख़त******Highlightsनेशनल हेराल्ड मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। जांच में ऐसा खुलासा हुआ है जिससे सोनिया गांधी और राहुल गांधी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। अभी तक की जांच में ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं कि मोतीलाल वोरा AJL और यंग इंडिया की किसी मीटिंग का हिस्सा रहे हों। जबकि ईडी की पूछताछ में सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने पूरा ठीकरा मोतीलाल वोरा के सिर पर ही फोड़ा था। बता दें कि मोतीलाल वोरा कांग्रेस के लम्बे वक़्त तक कोषाध्यक्ष रहे हैं।प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सूत्रों की मानें तो मोतीलाल वोरा, जो कांग्रेस के लम्बे वक़्त तक कोषाध्यक्ष रहे हैं, इसके बावजूद उनका यंग इंडिया के किसी कागज पर ना तो नाम है और ना ही दस्तखत। ईडी के सूत्रों ने कहा कि इससे साफ होता है कि यंग इंडिया बनाते वक्त शेयर ट्रांसफर के दौरान उनका कोई लेना देना नहीं था। जबकि पूछताछ में सोनिया और राहुल ने पूरा ठीकरा मोतीलाल वोरा के सिर फोड़ा था। सूत्रों ने बताया कि मोतीलाल वोरा का AJL और यंग इंडिया दोनों के ही किसी कागजात पर नाम तक नहीं है, यानी किसी भी निर्णय और मीटिंग से उनका कोई लेना-देना नहीं पाया गया।मोती लाल वोरा जो कांग्रेस पार्टी के सबसे लंबे समय तक कोषाध्यक्ष रहे, उनका साल 2020 में निधन हो गया था। राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने नेशनल हेराल्ड केस से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी से पूछताछ के दौरान कहा था कि AJL और यंग इंडिया लिमिटेड से जुड़े सभी वित्तीय लेन-देन मोती लाल वोरा ही देखा करते थे। ईडी के सामने राहुल और सोनिया के अलावा कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और पवन कुमार बंसल ने भी यही नाम लिया था। लेकिन, ये सभी नेता बैठक से संबंधित कोई दस्तावेज जिससे वोरा की उपस्थित साफ हो सके, पेश करने में विफल रहे। सूत्रों ने यह भी कहा कि ईडी के पास खड़गे को बुलाने के अलावा कोई विकल्प नहीं था जब संसद सत्र चल रहा था क्योंकि वह यंग इंडिया के एकमात्र कर्मचारी हैं।
वापसी