नई पोस्ट करें

पंचक 2022: अगले 5 दिनों में भूलकर भी न करें ये 5 काम, होगा अशुभ

2022-10-01 05:55:46 357

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभजम्मू-कश्मीर के शॉपियन में आतंकवादियों ने 3 पुलिसकर्मियों को किडनैप करने के बाद हत्या की****** के शोपियां में दो एसपीओ और एक कांस्टेबल को किडनैप करने के बाद हत्या कर दी गई है। आशंका जताई जा रही है हिजबुल के आतंकियों ने किडनैपिंग के बाद हत्या की। सभी शहीद पुलिसकर्मियों के शव बरामद कर लिए गए हैं जबकि कुछ देर बाद ही आतंकियों ने एक पुलिसकर्मी को छोड़ दिया है। चार पुलिसकर्मियों में से सिर्फ फयाज़ अहमद भट्ट ही वापस लौटे हैं। हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर रियाज नाइकू ने 12 मिनट के एक वीडियो में कथित रूप से इस अपहरण की जिम्मेदारी ली है। उसने पुलिस हिरासत में मौजूद आतंकवादियों के रिश्तेदारों को रिहा करने के लिये तीन दिन का समय दिया है।वैश्विक तौर पर वांछित आतंकवादी और हिज्बुल मुजाहिदीन संगठन के नेता सैयद सलाहुद्दीन के दूसरे बेटे की एनआईए द्वारा गिरफ्तारी के बाद 30 अगस्त को अपहरण की इस घटना को अंजाम दिया गया। ये किडनैपिंग तब हुई है जब हिज्बुल के आतंकी रियाज़ नाइकू ने ऑडियो क्लिप जारी कर पुलिसकर्मियों को धमकी दी। इस ऑडियो क्लिप में नाइकू ने सभी पुलिसकर्मियों को चार दिन में अपनी नौकरी छोड़ देने की धमकी दे रहा है। नाइकू का कहना था कि नए कश्मीरी लड़के पुलिस ज्वाइन ना करें।इससे पहले उनके लापता होने की खबर आई थी। बताया जा रहा था कि शोपियां जिले में संदिग्ध आतंकियों ने 4 पुलिसकर्मियों को अगवा कर लिया। घटना बीती रात की बताई जा रही थी। बताया गया कि जिन पुलिसवालों का अपहरण हुआ है उनमें 3 एसपीओ यानी स्पेशल पुलिस अफसर थे। पुलिसवाले शोपियां के दो गांवों से अगवा किए गए जिसमें कापरीन और बतागुंड शामिल हैं। पुलिसवालों के गायब होने के बाद उन्हें ढूंढने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा था।बता दें कि पिछले काफी समय से आतंकी सेना के जवानों और पुलिसकर्मियों को अपना निशाना बना रहे हैं। आतंकियों ने पिछले दिनों पुलिस कर्मियों के परिजनों को भी अगवा कर लिया था। आतंकी लगातार जवानों पर नौकरी छोड़ने का दबाव बना रहे हैं।

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभजिनका दिल 20 प्रतिशत ही करता है काम, वो कोरोना वायरस के कैसे बचें? स्वामी रामदेव से जानें****** के अनुसार जिन लोगों का दिल 20 प्रतिशत से कम काम करता है, वो कोरोना के प्रकोप के काल में ज्यादा हाई रिक्स जोन में हैं। इस बीमारी कोमेडिकल भाषा में 'इंजेक्शन इंफेक्शन कम होना' कहा जाता है। यह समस्या 50 से 60 साल के बीच के लोगों को ज्यादा होतीहै।इस समस्या से ग्रसित लोग ये5 प्राणायाम करने का साथ कुछ औषधियां लेकर इस संकट के समय में भी दिल को स्वस्थ रख सकते हैं।लौकी का जूस, अर्जुन की छाल और जेमिति का सेवन करें।पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभश्रीलंका के खिलाफ बांग्लादेश ने किया टेस्ट टीम का ऐलान, इस धाकड़ खिलाड़ी को मिली जगह******श्रीलंका के खिलाफ दो टेस्ट मैचों की घरेलू सीरीज के लिए शाकिब अल हसन को बांग्लादेशी टीम में शामिल किया गया है। सीरीज की शुरुआत 15 मई से हो रहा है। सीरीज आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप 2021-23 चक्र के तहत खेली जाएगी, जहां श्रीलंका इस समय 50 प्रतिशत अंक के साथ पांचवें स्थान पर है, जबकि बांग्लादेश 16.66 प्रतिशत के साथ आठवें स्थान पर नीचे से दूसरे स्थान पर है।59 टेस्ट मैचों में 4000 से अधिक रन बनाने और 215 विकेट लेने वाले शाकिब व्यक्तिगत कारणों से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज से चूक गए। चौथी पारी के दो निराशाजनक प्रदर्शन शामिल थे, जहां वे क्रमश: 53 और 80 रन पर आउट हुए थे।शाकिब चोट के कारण दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज से भी चूक गए थे। प्रोटियाज के खिलाफ पहले टेस्ट के दौरान कंधे में चोट लगने वाले तस्कीन अहमद अनुपलब्ध हैं, क्योंकि उनका इलाज जारी है।मोमिनुल हक की अगुवाई वाली बांग्लादेश टीम के पास अनुभव और युवाओं का अच्छा मिश्रण है, जिसमें रेजौर रहमान राजा और शोहिदुल इस्लाम अपने पहले टेस्ट कैप की प्रतीक्षा कर रहे हैं।श्रीलंका आठ मई को बांग्लादेश पहुंचेगा और चटोग्राम में पहला टेस्ट शुरू होने से पहले दो दिवसीय अभ्यास मैच खेलेगा। इसके बाद दूसरा टेस्ट मैच 23 मई को ढाका के शेर-ए-बांग्ला राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में खेला जाएगा। मोमिनुल हक (कप्तान), तमीम इकबाल, महमूदुल हसन जॉय, नजमुल हुसैन शान्तो, मुशफिकुर रहीम, शाकिब अल हसन, लिटन दास, यासिर अली, तैजुल इस्लाम, मेहदी हसन मिराज, एबादोट हुसैन, खालिद अहमद, नूरुल हसन, रेजौर रहमान राजा, शोहिदुल इस्लाम, शोरफुल इस्लाम।

पंचक 2022: अगले 5 दिनों में भूलकर भी न करें ये 5 काम, होगा अशुभ

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभकॉरपोरेशन बैंक को हुआ 160 करोड़ रुपए का शुद्ध मुनाफा, जस्‍ट डायल का लाभ 37% घटा****** कॉरपोरेशन बैंक का शुद्ध मुनाफा वित्‍त वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में शुद्ध मुनाफा 159.97 करोड़ रुपए रहा है। इससे पिछले वित्‍त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 510.97 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ था।स्थानीय सर्च इंजिन जस्ट डायल का शुद्ध लाभ 31 मार्च को समाप्त तिमाही में 37 प्रतिशत घटकर 25.35 करोड़ रुपए रह गया। कंपनी ने बीएसई को सूचित किया है कि गत वर्ष इसी तिमाही में उसने 40.29 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था।आलोच्य तिमाही में कंपनी की कुल परिचालन आय 194.34 करोड़ रुपए रही। यह पूर्व वर्ष की समान अवधि में 198.48 करोड़ रुपए थी।पूरे वित्त वर्ष में कंपनी का शुद्ध लाभ 121.34 करोड़ रुपए रहा, जबकि 2015-16 में उसने 142.74 करोड़ रुपए का लाभ हासिल किया था।पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभJeep ने लॉन्‍च की भारत में असेम्‍बल्‍ड SUV Wrangler, कीमत है 53.9 लाख रुपये******Jeep India drives in locally assembled Wrangler priced at Rs 53.9 lakhऑटो कंपनी जीप इंडिया (Jeep India) ने बुधवार को अपनी प्रीमियम एसयूवी रैंगलर (SUV Wrangler) का स्‍थानीय स्‍तर पर असेम्‍बल्‍ड वर्जन पेश किया है। कंपनी ने इसका इंट्रोडक्‍टरी प्राइस 53.9 लाख (एक्‍स-शोरूम) रुपये रखा है। कंपनी ने इस मॉडल का प्रोडक्‍शन पुणे के नजदीक रंजनगांव प्‍लांट में फरवरी में शुरू किया था और अब यह मॉडल पूरे देश में खुदरा बिक्री के लिए तैयार है। स्‍थानीय स्‍तर पर असेम्‍बल्‍ड दो वेरिएंट्स- अनलिमिटेड (Unlimited) और रूबीकोन (Rubicon) में उपलब्‍ध होगा और इसकी कीमत क्रमश: 53.9 लाख रुपये और 57.9 लाख रुपये होगी। दोनों वेरिएंट्स बीएस-6 अनुपालन वाले 2-लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन से लैस हैं, जो 368 हॉर्सपावर और 400एनएम टॉर्क पैदा करता है। ये मॉडल 8-स्‍पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्‍स के साथ आते हैं।जीप इंडिया ने अपनी 80वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्‍य में रैंगलर का लिमिटेड 80वां एनिवर्सरी लॉन्‍च एडिशन भी पेश किया है। जीप इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्‍टर पार्थ दत्‍ता ने कहा कि भारतीय उपभोक्‍ता हमेशा से ऐतिहासिक जीप रैंगलर के दिवाने रहे हैं और मुझे खुशी है कि आज हम उन्‍हें स्‍थानीय स्‍तर पर तैयार जीप रैंगलर पेश कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि स्‍थानीय स्‍तर पर असेम्‍बल्‍ड रैंगलर के लिए सेल और सर्विस प्‍वॉइंट्स का विस्‍तार किया गया है और देशभर में 26 टचप्‍वॉइंट्स पर सुविधा उपलब्‍ध होगी।कंपनी 120 से अधिक रैंगलर एक्‍सेसरीज और वैल्‍यू पैक्‍स की भी पेशकश कर रही है, जिन्‍हें उपभोक्‍ता डीलरशिप पर ऑर्डर कर सकते हैं। उपभोक्‍ता कंपनी की डीलरशिप पर एक्‍सप्‍लोरर पैक, नाइट अल्‍ट्रा विजन पैक, स्‍पोर्ट पैक और इसेंशियल पैक को खरीद सकते हैं।4X4 Jeep Wrangler Rubicon को इसकी ऑफ-रोड क्षमता के लिए जाना जाता है और यह 217एमएम के ग्राउंट क्लियरेंस के साथ आती है। इसकी वाटर वैडिंग क्षमता 760एमएम है और इसका अप्रोच, डिपार्चर एवं ब्रेक-ओवर एंगल्‍स क्रमश: 36 डिग्री, 31 डिग्री और 21 डिग्री है।Wrangler Unlimited और Wrangler Rubicon दोनों लेदर सीट्स, यूकनेक्‍ट इंफोटेनमेंट, एप्‍पल कारप्‍ले और एंड्रायॅड ऑटो, स्‍टीयरिंग माउंटेड कंट्रोल्‍स, क्रूज कंट्रोल, इंजन स्‍टॉप/स्‍टार्ट, डुअल-जोन एयर-कंडीशनिंग और ऑटोमैटिक हेडलैम्‍प जैसे फीचर्स से लैस हैं।पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभIND vs SA: ‘भारत की हार के लिए ओस जिम्मेदार’, कप्तान का इनकार, कोच का इकरार******HighlightsIND vs SA: भारतीय टीम टी20 इंटरनेशनल मैच में पिछले कुछ वक्त से अपने दिए लक्ष्य को बचाने में नाकाम हो रही है। एशिया कप से लेकर अब तक खेल के सबसे छोटे फॉर्मेट में टीम इंडिया टारगेट को बचाकर नहीं रख पा रही। साउथ अफ्रीका के खिलाफ बुधवार 28 सितंबर से शुरू हो रही टी20 सीरीज से पहले सबको भारत को मिली इन तमाम हारों की वजह का भी पता चल गया। साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले टी20 मैच से एक दिन पहले प्री-मैच प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारत के बैटिंग कोच मीडिया से मुखातिब हुए और टीम को मिली शिकस्तों की वजह का खुलासा भी कर दिया।बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ ने तिरुअनन्तपुरम में होने वाले मुकाबले से पहले भारत को एशिया कप से अब तक मिली तमाम हार के लिए ड्यू फैक्टर यानी ओस को जिम्मेदार ठहराया है। एशिया कप के सुपर फोर स्टेज से अब तक भारत ने छह टी20 इंटरनेशनल खेले हैं और उनमें से तीन में उसे हार और तीन में जीत मिली। भारत को पाकिस्तान, श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन हार का सामना लक्ष्य का बचाव करते हुए करना पड़ा।हैरानी की बात ये है कि राठौड़ के दावों के उलट दुबई में पाकिस्तान और श्रीलंका के खिलाफ हार के बाद मीडिया से बात करने वाले भारतीय टीम के किसी भी सदस्य ने इसके लिए ओस को जिम्मेदार नहीं ठहराया था।राठौड़ साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज के आगाज से पहले कहा कहा, ‘‘हम लक्ष्य का बचाव करते हुए बेहतर प्रदर्शन करने की दिशा में काम कर रहे हैं लेकिन हमारे गेंदबाजों के लिए निष्पक्ष रहूं तो टॉस ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हर बार जब हम लक्ष्य का बचाव करने में विफल रहे तो ये वे स्थान थे जहां ओस होती है जिससे लक्ष्य का पीछा करना आसान हो जाता है।’’ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मोहाली में हुए मुकाबले के संदर्भ में ये बात कुछ हद तक ठीक हो भी सकती है। हालांकि मोहाली में भारत के पास बचाने के लिए 200 से अधिक के लक्ष्य था लेकिन गेंदबाज इसकी भी रक्षा करने में नाकाम रहे। हालांकि इस मैच के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने इस हार के लिए ओस को जिम्मेदार मानने से इनकार कर दिया था पर राठौड़ को लगता है कि हार के लिए गेंदबाजों से ज्यादा ओस जिम्मेदार था।

पंचक 2022: अगले 5 दिनों में भूलकर भी न करें ये 5 काम, होगा अशुभ

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभSuper 30 Box Office Collection Day 2: दूसरे दिन भी बॉक्स ऑफिस पर हिट रही ऋतिक रोशन की फिल्म, कमाए इतने करोड़****** की फिल्म लोगों को काफी पसंद आ रही है। लगता है लोगों को ऋतिक का बिहारी लुक काफी भा गया है। गणितज्ञ आनंद कुमार के जीवन पर यह फिल्म बनाई गई है। आनंद कुमार बिना पैसे लिए बच्चों को आईआईटी की तैयारी करवाते हैं। फिल्म में ऋतिक रोशन के साथ मृणाल ठाकुर और पंकज तिवारी अहम भूमिका निभाते नजर आए हैं। फिल्मका दूसरे दिन का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन सामने आ गया है।रिपोर्ट्स के मुताबिक सुपर 30 के दूसरे दिन के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन में अच्छी बढ़ोत्तरी हुई है। सुपर 30 ने दूसरे दिन लगभग 18 करोड़ की कमाई की है।बॉलीवुड में बायोपिक का ट्रेंड शुरू हो चुका है। इसी ट्रेंड को आगे बढ़ाते हुए निर्देशक विकास बहल ने एक्टर ऋतिक रोशन और मृणाल ठुकार को लेकर फिल्म 'सुपर 30' (Super 30) बनाई है। यह कहानी ऐसे शिक्षक की है जिन्होंने गरीब बच्चों को खुली आंखों से सपना देखना सिखाया और उन्हें पूरा भी करना सिखाया। यह कहानी है बिहार के आनंद कुमार की जिन्होंने अपना करियर और प्यार को त्यागकर हर साल 30 बच्चों को आईआईटी की कोचिंग पढ़ाई जो जीनियस तो थे लेकिन उनके पास पैसे नहीं थे।पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभT20 World Cup 2021 के 10 लम्हें जो फैंस को हमेशा रहेंगे याद******विराट कोहली के बतौर टी-20 अंतरराष्ट्रीय कप्तान के आखिरी टूर्नामेंस से लेकर चार गेंदबाजों में चार विकेट गिरते देखने तक इस टी-20 विश्व कप में कई चीजें आनोखी दिखीं। टी-20 विश्व कप के सातवें संस्करण में आइए देखते हैं 10 सबसे यादगार लम्हें-1) भारतीय क्रिकेट टीम के इस टी-20 विस्व कप में अभियान के साथ-साथ विराट कोहली की टी-20 अंतरराष्ट्रीय की कप्तानी का भी अंत आ चुका है। विराट ने इस टूर्नामेंट से पहले ही घोषणा कर दी थी कि वे इस टूर्नामेंट के बाद भारत की टी-20 प्रारूप की कप्तान छोड़ देंगे।2) टी-20 विश्व कप 2021 के साथ भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री का भी कार्यकाल इस दौरे के साथ खत्म हो गया। अब टीम टीम के मुख्य कोच का पद राहुल द्रविड़ संभालेंगे।3) आयरलैंड के तेज गेंदबाज कर्टिस कैंफर ने चार गेंदों में चार विकेट लिए और नीदरलैंड्स को क्वॉलीफायर राउंड में 7 विकेट से हराने में अहम योगदान दिया। कैंफर ने पहले हैट्रिक ली और उस मैच में अपना बॉलिंग फिगर 4-26 का रखा। टी-20 अंतरराष्ट्रीय के इतिहास में कैंफर सिर्फ तीसरे गेंदबाज बने जिन्होंने चार गेंदों में चार विकेट लिए। उनसे पहले ये कारनामा अफगानिस्तान के राशिद खान और श्रीलंका के लसिथ मलिंगा कर चुके हैं।4) बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान ने अपने नाबाद अर्धशतकों की बदौलत भारत को 10 विकेट से मात दी। टी-20 विश्व कप में पाकिस्तान की ये भारत पर पहली जीत थी। 152 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए बाबर आजम (58) और रिजवान (79) ने दुबई में धुंआधार बल्लेबाजी कर मुकाबला जिताया। उस मैच में गेंदबाज शाहीन शाह अफरीदी का फिगर 3-31 था।5) क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका ने सुपर 12 ग्रुप 1 के वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 विश्व कप के मैच से पहले ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ अभियान के समर्थन में खिलाड़ियों को हर मैच से पहले घुटने के बल बैठने का निर्देश दिया था। इस निर्देश के बाद टीम में विवाद हो गया था और क्विंटन डि कॉक ने इसे मानने से इंकार करते हुए गत चैम्पियन वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच नहीं खेलने का फैसला किया था। डि कॉक ने हालांकि टी20 विश्व कप के बाकी बचे मैचों के लिये स्वयं को उपलब्ध रखते हुए कहा कि यदि उनके घुटने के बल बैठने से दूसरों को शिक्षित करने में मदद मिलती है तो उन्हें इसमें दिक्कत नहीं है।6) भारत को पाकिस्तान से मिली 10 विकेट से करारी हार के बाद सोशल मीडिया पर धर्म के अधार पर कुछ लोगों ने मोहम्मद शमी को जमकर ट्रोल किया था। ट्रोल करने वाले लोगों को भारतीय कप्तान विराट कोहली ने जवाब दिया था। कोहली ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मुकाबले से पहले कहा था कि धर्म को लेकर किसी पर हमला करना दयनीय बात है।विराट कोहली ने कहा, "मैदान पर हमारे खेलने की एक अच्छी वजह है। सोशल मीडिया पर लिखने वाले वे रीढहीन लोग नहीं जिनमें किसी व्यक्ति से आमने सामने बात करने का साहस नहीं है। यह इंसानियत का सबसे निचला स्तर है। किसी पर धर्म के आधार पर हमला करने से ज्यादा निराशाजनक कुछ नहीं हो सकता। कभी धर्म के आधार पर पक्षपात के बारे में नहीं सोचा। धर्म बहुत पवित्र चीज है। हमारे भाइचारे और दोस्ती को हिलाया नहीं जा सकता और इन चीजों से फर्क नहीं पड़ता। जो लोग हमें समझते हैं, मैं उन्हें श्रेय देता हूं।"7) जोस बटलर ने श्रीलंका के खिलाफ आईसीसी टी20 विश्व कप मुकाबले में मुश्किल परिस्थितियों में नाबाद शतक लगाकर अपनी टीम को जीत दिलाई थी। ये इंग्लैंड के लिए उनकी सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक थी। बटलर ने इस मैच में 67 गेंद की नाबाद पारी में 101 रन बनाये, जो इस प्रारूप में उनका पहला अंतरराष्ट्रीय शतक था।8) श्रीलंका क्रिकेट टीम भले ही सुपर 12 स्टेज से ही नॉकआउट हो गई हो, लेकिन श्रीलंका के कुछ युवा खिलाड़ी ने अपना दबदबा बना लिया है। लेग स्पिनर वनिंदु हसरंगा 10 से कम की एवरेज के साथ 16 विकेट ले चुके थे। 24 वर्षीय इस गेंदबाज ने साल 2021 में 36 विकेट लिए। मिकी आर्थर ने उनके लिए कहा था, "हसरंगा एक खास क्रिकेटर है।"9) वेस्टइंडीज के कप्तान कायरन पोलार्ड ने ड्वेन ब्रावो के रिटायरमेंट को 'एक दौर का अंत' बनाया। ब्रावो के साथ क्रिस गेल का भी ये आखिरी विश्व कप बताया जा रहा है। ब्रावो ने संन्यास की घोषणा की थी लेकिन गेल फिलहाल संन्यास की घोषणा नहीं की है। गत चैंपियन विंडीज को ऑस्ट्रेलिया ने 8 विकेट से हराया था। उन्होंने सुपर 12 स्टेज में पांच में से चार मुकाबले गंवाए थे।38 वर्षीय ब्रावो और 2 वर्षीय गेल 2012 और 2016 टी-20 चैंपियन टीम का हिस्सा थे। उनको ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया था।10) साउथ अफ्रीका सुपर 12 में ग्रुप 1 का हिस्सा था। उन्होंने पांच मुकाबले खेले जिसमें उन्होंने चार मैच जीते और एक गंवाया। सेमीफाइनल में जाने वाली टीम इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया ने भी पांच में से चार मैच ही जीते थे। प्रोटीज का नेट रन रेट भी पॉजिटिव में था लेकिन उनकी किस्मत ने फिर उनका साथ नहीं दिया और वे सेमीफाइनल में जाने से चूक गए।

पंचक 2022: अगले 5 दिनों में भूलकर भी न करें ये 5 काम, होगा अशुभ

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभट्रंप का एक और भारत विरोधी फैसला, हो सकते हैं 7 हजार भारतीय प्रभावित****** अमेरिकी राष्ट्रपति ने उस व्यवस्था को खत्म करने का फैसला किया है जो बच्चों के रूप में अवैध रूप से अमेरिका पहुंचे आव्रजकों को वर्क परमिट जारी करने की अनुमति देती है। इस कदम से सात हजार से अधिक भारतीय-अमेरिकी प्रभावित हो सकते हैं। यह जानकारी आज एक मीडिया रिपोर्ट में दी गई। डेफर्ड एक्शन फॉर चिल्ड्रन एराइवल डीएसीए नामक कार्यक्रम पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा किया गया एक महत्वपूर्ण आव्रजन सुधार था। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव साराह सैंडर्स ने शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा था कि ट्रंप मुद्दे पर कल फैसला करेंगे। हालांकि पॉलिटिको ने अपनी खास रिपोर्ट में कहा कि ट्रंप पहले ही इस कार्यक्रम को खत्म करने का फैसला कर चुके हैं और वरिष्ठ अधिकारी अब उनके फैसले को लागू करने पर चर्चा कर रहे हैं जो इस सप्ताह के अंत में आ सकता है। पॉलिटिको ने कहा कि हालांकि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा है कि जब तक औपचारिक घोषणा नहीं होती तब तक ट्रंप के फैसले में बदलाव भी हो सकते हैं।यह फैसला ट्रंप के चुनाव पूर्व वायदों में से एक है। इस फैसले की व्यापाक आलोचना हो सकती है। यहां तक कि ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के लोग भी इसकी आलोचना कर सकते हैं। इस कदम से बिना दस्तावेज वाले लगभग साढ़े सात लाख से अधिक कर्मियों पर असर पड़ सकता है जिनमें सात हजार से अधिक हैं। अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष पॉल रेयान ने एक रेडियो साक्षात्कार में कहा कि ट्रंप को डीएसीए को खत्म नहीं करना चाहिए क्योंकि ये बच्चे अमेरिका के अलावा किसी और देश को नहीं जानते। यूएस सिटिजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्वसिेज के 31 मार्च 2017 तक के आंकड़ों के अनुसार डीएसीए छात्रों के मामले से संबंधित मूल देशों में भारत ग्यारहवें स्थान पर है।

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभIndian Railways: बारिश की वजह से रेलवे सेवाएं प्रभावित, 100 से ज्यादा ट्रेनें कैंसिल, ऐसे चेक करें लिस्ट******Highlightsदेश के कई राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है। सोमवार को हुई इस बारिश की वजह से रेल यातायात पर असर पड़ा है और देशभर में 138 ट्रेनों को कैंसिल किया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक,103 ट्रेनें पूरी तरह कैंसिल की गई हैं और 35 ट्रेनों को आंशिक तौर पर रद्द किया गया है। इस दौरान 6 ट्रेनों को रिशेड्यूल किया गया है और 23 रेलगाड़ियों को डायवर्ट किया गया है। जिन ट्रेनों को कैंसिल किया गया है कि उनमें पैसेंजर, मेल और एक्‍सप्रेस ट्रेनें हैं और इनका असर उत्तर प्रदेश, दिल्ली, मध्य प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, ओडिशा और बिहार पर पड़ेगा। यानी इन जगहों पर अगर आपने यात्रा का प्लान बनाया है तो जाने से पहले एक बार कैंसिल हुई ट्रेनों की सूची जरूर पढ़ लें।यात्रा करने से पहले करें ये कामअगर आप रेलयात्रा करने वाले हैं तो घर से निकलने से पहले ये जरूर पता कर लें कि जिस ट्रेन में बैठकर आपको जाना है, वो चल भी रही है या नहीं। कैंसिल हुई ट्रेनों की सूची को भारतीय रेलवे और IRCTC की वेबसाइट पर देखा जा सकता है। इसके अलावा आप NTES App के जरिए भी ये जानकारी पा सकते हैं।कैसे चेक करें कैंसिल हुई ट्रेन की लिस्टट्रेन कैंसिल होने पर मिल जाएगा रिफंडजिस ट्रेन से आपको यात्रा करनी थी और अगर वह कैंसिल हो गई है तो चिंता ना करें। आपके टिकट का पैसा रिफंड हो जाएगा। इसके लिए यात्री को कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। ट्रेन कैंसिल होने पर ग्राहक के बैंक खाते/क्रेडिट कार्ड/ई-वॉलेट में रिफंड आएगा। यानी जिस माध्यम से आपने भुगतान किया होगा, उसी जगह रिफंड का पैसा आएगा।वहीं अगर आपने रिजर्वेशन काउंटर से टिकट लिया है तो इसे रिजर्वेशन काउंटर पर ट्रेन के शेड्यूल डिपार्चर के बाद 72 घंटे बाद तक कैंसि‍ल किया जा सकता है। वहीं पैसेंजर अगर अपने आप टिकट कैंसि‍ल करता है तो उसके रिफंड में कुछ कैंसलेशन चार्ज कटेगा।पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभकिडनी को डैमेज होने से बचाना है तो इन खाद्य पदार्थों से बना लीजिए दूरी******किडनी हमारे शरीर का अहम हिस्सा है। शरीर में किडनी रक्त को फिल्टर करने के साथ साथ टॉक्सिक पदार्थोंको बाहर निकालने, मिनरल्सको बैलेंस करने और फ्लूड को मेंटेन रखने का काम करती है। अगर आपकी किडनी स्वस्थ हैतो आप कई बीमारियों से दूर रह सकते हैं। तनाव, अनियंत्रित ब्लड प्रेशर, डायबिटीज के चलते अक्सर लोगों की किडनी डैमेज हो जाती हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने खानपान का विशेष ध्यान रखें, जिससेआपको लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियों का सामना ना करना पड़े।स्वामी रामदेव से जानते हैं कि को स्वस्थ रखने के लिए किन चीजों का सेवन कम कर देना चाहिए।अत्यधिक नमक का सेवनआपकी किडनी के लिए खतरनाक हो सकता है, इसलिए रोजाना 3 ग्राम से ज्यादा नमक नहीं लेना चाहिए। वहीं आपको अगर किडनी संबंधी कोई बीमारी है तो नमक का काफी सीमित सेवन करें, डॉक्टर से पूछकर आप नमक से संबंधित परहेज कर सकते हैं।किडनी को लंबे समय तक स्वस्थ रखना चाहते हैं तो चीनी युक्त चीजों का सेवन सीमित मात्रा में करें तो बेहतर होगा। दरअसल चीनी का अधिक सेवन करने से आपका ब्लड शुगर बढ़ सकता है जिसके कारण किडनी पर अधिक दवाब पड़ता है।धूम्रपान करने से फेफड़ों के साथ-साथ किडनी पर अधिक दवाब पड़ता है। दरअसल धूम्रपान करने से शरीर के ब्लड वेन्स अधिक प्रभावित होती हैं, जिससे ब्लड का फ्लो धीमा हो जाता है और किडनी अधिक तनाव महसूस करती है। इसी तरह अल्कोहाल के सेवन से भी बचना चाहिए।शरीर के लिए प्रोटीन जरूरी है। अगर शरीर में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा हो जाती है तो किडनी पर अधिक बोझ पड़ताहै। इस वजह सेयूरिक एसिड की समस्या भी हो सकती है, इसलिए एक सीमित मात्रा में ही प्रोटीन का सेवन करना चाहिए। प्रोटीन मुख्य रूप से दाल, दूध, दही, राजमा, पनीर आदि में पाया जाता है।टमाटर में पोटैशियम और ऑक्सालेट नामक एंटीऑक्सीडेट पाया जाता है जो किडनी पर अधिक दबाव डालता है,इसलिए अगर आप पहले से ही किडनी के मरीज हैं तो इसका सेवन न ही करें तो बेहतर है।

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभLeo Weekly Horoscope सिंह राशि का साप्ताहिक राशिफल 15 से 21 अगस्त : आर्थिक तंगी से मिलेगा छुटकारा******पिछले सप्ताह में आपको बेहतर स्वस्थ्य के लिए जितनी मेहनत करनी पड़ रही थी, इस सप्ताह आपको उससे कम प्रयासों के बाद भी सेहतमंद जीवन की प्राप्ति हो सकेगी क्योंकि खासतौर से सप्ताह के मध्य में चन्द्रमा के नवम भाव में गोचर करने से सेहत की दृष्टि से आपको भाग्य का भरपूर साथ मिलेगा। इस सप्ताह कई जातकों को अपनी पूर्व की आर्थिक तंगी से आखिरकार छुटकारा मिलता दिखाई देगा। इस दौरान आपको एहसास होगा कि जिन घरवालों और अपने साथी को लेकर आप गलत थे, उन्होंने ही आपके मुश्किल समय में आपको भरपूर सहयोग दिया है।इस कारण आप उनके ऊपर भी अपना कुछ धन ख़र्च करते हुए, उन्हें धन्यवाद दे सकते हैं। हर किसी के लिए उसकी समस्याएं ही हमेशा बड़ी होती है और इस सप्ताह मुमकिन है कि आपकी परेशानी भी आपके लिए ख़ासी बड़ी हो, लेकिन आपको इस बात को भी समझना होगा कि आस-पास के लोग आपके दर्द को नहीं समझेंगे। ऐसे में उनसे अधिक अपेक्षा रखना आपको आहत कर सकता है। इसलिए दूसरों से अधिक की उम्मीद इस सप्ताह करने से बचें।आपकी राशि के लिए यदि करियर राशिफल की बात की जाए तो, सप्ताह के अंतिम भाग में जब चन्द्रमा दशम भाव में गोचर करेंगे, तब कार्यक्षेत्र से जुड़े जातकों के लिए वो अवधि काफी शुभ साबित होगी क्योंकि इस दौरान आप हर कार्यों को नयी ऊर्जा और शक्ति के साथ करने में कामयाब रहेंगे। इस सप्ताह शुरुआत में बुध आपके प्रथम भाव में होंगे और फिर 21 अगस्त को आपके द्वितीय भाव में गोचर कर जाएंगे। ऐसे में आप यदि कोई परीक्षा देने वाले हैं तो आपको हर प्रकार की गैर-कानूनी गतिविधियों जैसे नकल आदि से बचना होगा। अन्यथा आप अपने साथ-साथ अपने भविष्य को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभदिल्ली में स्कूलों के लिए ये होंगे कोरोना के नए नियम, जानिए क्या है नई गाइडलाइंस******दिल्ली सरकार ने स्कूलों में कोरोना से निपटने के लिए शुक्रवार को गाइडलाइंस जारी की हैं। इसमें कहा गया है कि स्टूडेंट्स और कर्मचारियों को बिना थर्मल स्कैनिंग के स्कूल परिसर में प्रवेश न दिया जाए। एंट्री और एग्जिट के समय भीड न होने पाए। बच्चे में अगर कोरोना के लक्षण हैं तो उसे स्कूल न भेजें। टीचर भी रोज छात्रों से पूछेंगे कि उनमें या उनके परिवार के किसी सदस्य में कोरोना के लक्षण तो नहीं हैं। छात्रों से कहा गया है कि वे खाना, किताबें या स्टेशनरी का सामान साझा न करें।शुक्रवार को जारी गाइडलाइंस के मुताबिक स्कूलों में भी क्वारंटीन रूम बनाए जाएंगे, जिससे कि कोरोना का लक्षण मिलने पर स्टूडेंट को दूसरों से अलग किया जा सके। प्रिंसिपल इसकी जानकारी तुरंत जोनल अफसरों को देंगे। अगर कोविड का कोई मामला मिलता है तो स्कूल के उस विंग को अस्थायी तौर पर बंद किया जाएगा, जहां कोविड पीड़ित था। उस एरिया में किसी को जाने की अनुमति नहीं होगी। स्कूल में सभी उचित तरीके से मास्क पहनें। वॉश बेसिन और पानी का पर्याप्त इंतजाम हो। कॉमन एरिया और क्लासरूम जैसी जगहें बार-बार सैनिटाइज हों।दिल्ली में शुक्रवार को 1042 नए कोरोना केस आए हैं, 10 फरवरी के बाद से सबसे ज्यादा मामले राजधानी में मिले हैं। इससे पहले 10 फरवरी 2022 को 1104 केस सामने आए थे। दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 4.64 फीसदी पर पहुंच गई है। दिल्ली में कोरोना के मामले बीते करीब ढाई महीने में सबसे ज्यादा हो गए हैं।अस्पताल में भर्ती रेट 2% से कमदिल्ली में केस जरूर बढ़ रहे हैं, लेकिन अस्पताल में भर्ती होने की दर घटी है। 10 अप्रैल को 608 केस थे और 17 मरीज अस्पताल में भर्ती हुए। एडमिशन रेट 2.80% था। गुरुवार को 965 केस आए, लेकिन भर्ती रेट 1.91% रहा।देश में 24 घंटों में 3% बढ़े केसदेश में शुक्रवार को कोरोना के 2,451 केस आए। चौबीस घंटों में मरीज 3% बढ़े हैं। इस दौरान 54 मरीजों की जान गई। नोएडा में 107 केस आए, जिनमें 16 बच्चे हैं। वहीं, गाजियाबाद में मिले 36 मरीजों में 6 बच्चे हैं।

पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभमहाराष्ट्र में मस्जिदों के लाउडस्पीकर को लेकर पुलिस ने धर्मगुरुओं के साथ की गुप्त बैठक******Highlightsमहाराष्ट्र में मस्जिदों के लाउडस्पीकर को लेकर राजनीति गरमा गई है। राज ठाकरे ने मस्जिदों के लाउडस्पीकर हटाने के लिए 3 मई की डेडलाइन दी है। इसी बीच मुंबई में कई मस्जिदों में अब बेहद कम और धीमे आवाज में अजान हो रही है। दरअसल, मुंबई पुलिस ने सभी धर्मों के धर्मगुरुओं और प्रमुख नेताओं की एक गुप्त बैठक ली जिंसमे सभी को कानून व्यवस्था न बिगड़े इसके लिए कानून का पालन करने और अमन शांति की अपील की है।मुंबई पुलिस की इस अपील के बाद मुस्लिम धर्मगुरुओं ने मस्जिदों से अपील की कि कम आवाज में अजान हो ताकि किसी को तकलीफ न हो और अमन कायम रहे। मुंबई के कई इलाकों में अब कई मस्जिदों में कम आवाज में अजान हो रही है। लो डेसिबल-लो वॉल्यूम में अजान पर मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा कि मुंबई पुलिस कमिश्नर ने धर्मगुरुओं के साथ बैठक की। तमाम मुस्लिम धर्मगुरुओं ने इसके बाद न सिर्फ मस्जिदों में कम आवाज में अजान देना शुरू किया बल्कि कई इलाकों में जहां अस्पताल हैं उस दिशा के लाउडस्पीकर भी हटाये।मुस्लिम धर्मगुरुओं का कहना है कि वे सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे, मुंबई पुलिस के आदेश का पालन करेंगे ताकि मुंबई महाराष्ट्र और देश में शांति कायम रहे। कुछ लोग दंगा फसाद करना चाहते हैं, उनके मनसूबे सफल नहीं होने देंगे।मस्जिदों में लो वॉल्यूम में अजान पर राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस ने कहा कि मस्जिदों में कम आवाज में अजान होना ये एमएनएस का श्रेय है। एमएनएस के उपाद्यक्ष और प्रवक्ता यशवंत किल्लेदार ने कहा कि मुंबई और महाराष्ट्र पुलिस सुप्रीम कोर्ट के आदेश का ऐसे ही पालन करवाएं। अगर एमएमएस की मांग पर अमल होगा तो उसका स्वागत ही होगा।वहीं शिवसेना ने कहा कि एमएनएस की राजनीति बीजेपी के इशारे पर हो रही है। शिवसेना के प्रवक्ता और सांसद अरविंद सावंत ने कहा कि जहां तक अजान का सवाल है तो केंद्र सरकार पूरे देश के लिए कानून बनाए, गाइडलाइंस जारी करे। राज्यों-राज्यों में झगड़े न लगाएं। मस्जिदों में लाउडस्पीकर के डेसिबल कब तक गिनते बैठेंगे। ऐसे में केंद्र इस मामले में देशभर के लिए कानून बनाए।बहरहाल, मुस्लिम समुदाय ने पुलिस की अपील पर अच्छी पहल की है। राज्य सरकार भी धार्मिक स्थलों में लाउडस्पीकर बजाने पर जल्द ही नई गाइडलाइंस जारी करने वाली है।पंचक2022अगले5दिनोंमेंभूलकरभीनकरेंये5कामहोगाअशुभCorona के कारण EPFO इस साल दो किस्‍तों में करेगा ब्‍याज का भुगतान, जानिए किस दर पर और कब मिलेगा आपको पैसा******EPFO decides to credit part of 8.5 pc interest for FY20 भविष्य निधि कोष का प्रबंधन करने वाले कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने बुधवार को अपने छह करोड़ के करीब अंशधारकों को वित्त वर्ष 2019- 20 के लिए भविष्य निधि पर तय 8.50 प्रतिशत ब्याज का भुगतान दो किस्‍तों में करेगा। संगठन ने अंशधारकों के खातों में आंशिक भुगतान जारी करने का निर्णय लिया है। शेष भुगतान साल के अंत तक किया जाएगा। कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) पर 8.50 प्रतिशत की तय दर में से फिलहाल 8.15 प्रतिशत ब्याज ही ईपीएफ खातों में डाला जाएगा। यह निर्णय ईपीएफओ ट्रस्टी की बुधवार को हुई बैठक में लिया गया। शेष 0.35 प्रतिशत ब्याज का भुगतान इस साल दिसंबर तक अंशधारकों के ईपीएफ खातों में किया जाएगा।ने इससे पहले एक्सचेंज ट्रेडेड फंड में किए गए अपने कुछ निवेश को बाजार में बेचने की योजना बनाई थी। ईपीएफ अंशधारकों को 8.5 प्रतिशत की दर से ब्याज का पूरा भुगतान करने के लिए यह निर्णय लिया गया था लेकिन कोविड-19 के कारण बाजार में भारी उठापटक के चलते ऐसा नहीं किया जा सका। ईपीएफओ का केंद्रीय ट्रस्टी बोर्ड, संगठन की निर्णय लेने वाली शीर्ष संस्था है।दिसंबर 2020 में इसकी पुन: बैठक होगी जिसमें भविष्य निधि अंशधारकों के खातों में 0.35 प्रतिशत की दर से ब्याज की बकाया राशि जारी किये जाने पर गौर किया जाएगा। ब्याज भुगतान का यह मुद्दा ट्रस्टी बोर्ड की बैठक में सूचीबद्ध नहीं था लेकिन कुछ ट्रस्टियों ने पीएफ खातों में ब्याज अदायगी में देरी का मुद्दा उठाया। श्रम मंत्री संतोष गंगवार ट्रस्टी बोर्ड के अध्यक्ष हैं। बोर्ड ने इस साल मार्च में हुई बैठक में पीएफ पर 2019- 20 के लिए 8.5 प्रतिशत की दर से ब्याज देने का फैसला किया है।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 04:57
उद्धरण 1 इमारत
दिल्ली में छापेमारी में बड़ा खुलासा, लॉकर से सोने के बिस्किट और 61 करोड़ रुपये बरामद****** के खिलाफ इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। इनकम टैक्स अधिकारियों ने दिल्ली में 61 करोड़ के खजाने का खुलासा किया है। ये खजाना दिल्ली के U&I Vaults Limited के लॉकर में था। बताया जा रहा है कि ये काला धन किसी गुटखा कारोबारी और बिल्डर का है। गुप्त सूचना पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने निजी लॉकर कंपनी पर छापा मारा और उसके बोल्ट से करीब साढ़े दस करोड़ कैश और साढ़े नौ करोड़ के सोने और हीरे के गहने बरामद किए हैं। आयकर विभाग के सूत्रों के हवाले से ये खबर आ रही है कि कंपनी के बोल्ट से अब तक कुल 61 करोड़ रुपये बरामद हो चुके हैं।आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि ना तो ये किसी धन कुबेर का खजाना है और ना ही किसी शरीफ और ईमानदार शख्स की कमाई है। ये खजाना दरअसल काली कमाई का है जिसे प्राइवेट लॉकर में छिपाकर रखा गया था। इनकम टैक्स सूत्रों के मुताबिक एक गुटखा करारोबारी और बिल्डर ने अपनी काली कमाई दिल्ली में नामी कंपनी U&I Vaults Limited के लॉकर में छिपाकर रखी थी। इनकम टैक्स अधिकारियों ने जब इस कंपनी पर छापा मारा तो लॉकर से साढ़े दस करोड़़ कैश और करीब साढ़े नौ करोड़ के सोने और हीरे के गहने जब्त किए गए। इसकी कुल कीमत 20 करोड़ रुपये से ज्यादा बताई जा रही है।जब इनकम टैक्स अधिकारियों ने लॉकर को खोला तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं क्योंकि वहां इतना बड़ा खजाना था जिसकी उम्मीद किसी को नहीं थी। सूत्रों के मुताबिक इनकम टैक्स अधिकारियों को पूरे लॉकर को खंगालने और हिसाब-किताब लगाने में करीब दो से तीन दिन लग गए। बताया जा रहा है कि कुल मिलाकर 61 करोड़ की काली कमाई का खुलासा हुआ है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट अब इस काले खजाने के कुबेर तक पहुंचने की तैयारी कर रही है।फिलहाल कंपनी को सील कर दिया गया है। 8 नवंबर 2016 को 500 और 1000 रुपयों की नोटबंदी के बाद कालेधन के लिए कई जगह छापेमारी की गई, करोड़ों रुपये जब्त किए गए लेकिन साल 2018 में यह पहली छापेमारी है, जिसमें इतनी बड़ी रकम हाथ लगी है।
2022-10-01 04:25
उद्धरण 2 इमारत
उत्‍तर प्रदेश में बनाई गईं 34 अस्‍थाई जेल, 156 विदेशी सहित 288 लोग हैं कैद******उत्‍तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश में 34 अस्‍थाई जेलों की स्‍थापना की है, जिनमें 156 विदेशी नागरिकों सहित कुल 288 लोगों को कैद कर रखा गया है। इन अस्‍थाई जेलों में कैद वे विदेशी नागरिक हैं, जो टूरिस्‍ट वीजा पर भारत में आए थे लेकिन तबलीगी जमात में शामिल होकर धर्म प्रचार का काम कर रहे थे। इसके अलावा ऐसे लोगों को भी यहां रखा गया है, जो तबलीगी जमात से जुड़े हैं और इन्‍होंने इन विदेशियों को छुपने में मदद की है।इसके अलावा हॉटस्‍पॉट वाले क्षेत्रों में लॉकडाउन को तोड़ने वालों, स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों व पुलिस के साथ दुर्व्‍यवहार करने वाले आरोपियों को भी इन अस्‍थाई जेल में रखा गया है। में बंद विदेशियों में फ्रांस, मोरक्‍को, मलेशिया, थाईलैंड, किर्गिस्‍तान, कजाकिस्‍तान, बांग्‍लादेश, सूडान, फ‍िलिस्‍तीन, सीरिया और माली के नागरिक शामिल हैं।अधिकारियों ने बताया कि इन अस्‍थाई जेलों में कुल 156 विदेशी नागरिकों के अलावा 132 भारतीय नागरिक भी कैद हैं। लखनऊ में कश्‍मीरी मोहल्‍ला म्‍यूनिसीपल गर्ल्‍स इंटर कॉलेज को अस्‍थाई जेल बनाया गया है। इसी प्रकार विभिन्‍न जनपदों में स्‍कूल व कॉलेज परिसरों को अस्‍थाई जेल में तब्‍दील किया गया है। लखनऊ की अस्‍थाई जेल में 19 पुरुष और 4 महिला विदेशी नागरिक कैद हैं।अस्‍थाई जेलों में कैद विदेशियों में मलेशिया के 2, किर्गिस्‍तान के 23, कजाकिस्‍तान के 2, बांग्‍लादेश के 54, इंडोनेशिया के 41, सूडान के 4 और थाईलैंड के 13 नागरिक शामिल हैं। लखनऊ और बुलंदशहर की अस्‍थाई जेल में 4-4 विदेशी महिला नागरिक भी कैद हैं।राज्‍य सरकार ने लखनऊ, बिजनौर, जौनपुर, सुलतानपुर, सहारनपुर, ज्ञानपुर भदोही, बुलन्‍दशहर, प्रयागराज, सीतापुर, मुरादाबाद, वाराणसी, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, कानपुर नगर, मिर्जापुर, आगरा, मथुरा, सोनभद्र, उन्‍नाव, खीरी, हरदोई, फतेहपुर, प्रतापगढ़, हमीरपुर, शाहजहांपुर, बदायूँ, रामपुर, बहराइच, बाराबंकी, मेरठ, बागपत, पीलीभीत, कन्‍नौज, बॉंदा में अस्‍थाई जेलों की स्‍थापना की है।
2022-10-01 03:53
उद्धरण 3 इमारत
कर्ज उठाने में सुस्त जेनरेशन Z, 18 से 24 साल के युवाओं में सिर्फ 6% क्रेडिट एक्टिव******Credit Active Surveyनई दिल्ली । देश की जेनरेशन Z कर्ज उठाने में अन्य विकासशील देशों के मुकाबले काफी सुस्त है। ये बात सामने आई है क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनी ट्रांसयूनियन सिबिल के एक सर्वे में।जेनरेशन Z में 24 साल से कम उम्र के युवा शामिल हैं। रिपोर्ट के मुताबिक भारत में कर्ज उठाने के योग्य 24 साल तक के युवाओं में से सिर्फ 6% ही कर्ज उठाकर खऱीदारी कर रहे हैं। कोलंबिया और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में ये आंकड़ा 19 फीसदी या उससे ज्यादा का है। विकसित देशों में ये आंकड़ा 60 फीसदी से ज्यादा का है।खास बात ये है कि इस पीढ़ी की कर्ज चुकाने की क्षमता बाकीलोगों से बेहतर है। इस पीढ़ी के आधे से ज्यादा युवाओं का क्रेडिट स्कोर प्राइम या उससे ज्यादा कैटेगरी में है। वहीं 22 फीसदी युवा क्रेडिट स्कोर में सबसे नीचे यानि सबप्राइम कैटेगरी में हैं। दूसरी तरफ देश के कुल क्रेडिट एक्टिव लोगों में से 25 फीसदी सबप्राइमकैटेगरी में आते हैं।रिपोर्ट के मुताबिक नई पीढ़ी सबसे ज्यादा कर्ज दोपहिया वाहन खरीदने के लिए लेती है। 21 फीसदी युवा कर्ज लेकर दो पहिया वाहन खरीद रहे हैं, वहीं 13 फीसदी युवाओं ने कर्ज की मदद से कंज्यूमर ड्यूरेबल सेग्मेंट में खऱीदारी की। 8 फीसदी युवाओं ने पढ़ाई के लिए कर्ज लिया है, वहीं 6% युवाओं ने पर्सनल लोन लिया है।जेनरेशन Z में 24 साल से कम उम्र के युवा और बच्चे शामिल हैं। इस पीढ़ी में 18 साल से 24 साल के बीच कर्ज के लिए योग्य युवाओं की कुल संख्या 14 करोड़ 70 लाख के करीब है। रिपोर्ट के मुताबिक इसमें से सिर्फ 90 लाख युवा क्रेडिट एक्टिव हैं।
वापसी