नई पोस्ट करें

West Bengal News: बीजेपी के 'नबान्न चलो' मार्च से पहले हंगामा, शुभेंदु अधिकारी समेत कई बीजेपी नेता हिरासत में लिए गए

2022-10-01 05:57:27 541

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएDoctors day 2018: क्यों मनाया जाता है ये दिन, इससे जुड़ी ऐसी बातें जो आपको पता होनी चाहिए******कहते हैं भगवान का रूप होते हैं और भगवान के इसी अवतार के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए लोग धरती पर डॉक्टर्स डे मनाते हैं। भारत में डॉक्टर्स डे जुलाई महीने की हर पहली तारीक को मनाया जाता है। आइए जानते हैं इस दिन से जुड़ी ऐसी पांच बातें जो बहुत कम लोग ही जानते होंगे।भारत के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. विधान चन्द्र रॉय को श्रद्धांजलि और सम्मान देने के लिए हर एक जुलाई को चिकित्सक दिवस मनाया जाता है।1991 में भारतीय सरकार द्वारा डॉक्टर दिवस की स्थापना हुई थी।4 फरवरी 1961 में डॉ. विधान चन्द्र रॉय भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजे गए। उनका जन्म 1 जुलाई 1882 को बिहार के पटना में हुआ था।महान फिजिशियन डॉक्टर बिधान चंद्र रॉय पं. बगाल के दूसरे मुख्यमंत्री थे। खास बात यह है कि उन्हें उनकी दूरदर्शी नेतृत्व के लिए पं. बंगाल राज्य का आर्किटेक्ट भी कहा जाता था। रॉय साहब ने अपनी डॉक्टरी की डिग्री कलकत्ता से पूरी की और 1911 में भारत लौटने के बाद अपनी एमआरसीपी और एफआरसीएस की डिग्री लंदन से पूरी की और उसी वर्ष से भारत में एक चिकित्सक के रुप में अपने चिकित्सा जीवन की शुरुआत की।दुनिया के दूसरे देशों में डॉक्टर्स डे अलग- अलग दिन मनाया जाता है। जैसे अमेरिका में 30 मार्च को मनाया जाता है जो कि इससे पहले 9 मई को मनाया जाता था। ठीक इसी तरह क्यूबा, ईरान में भी यह दिन अलग-अलग तारीक को मनाया जाता है।इस दिन देशभर में लोग एक दूसरे को ग्रीटिंग, संदेश और मैसेज भेजकर डॉक्टर्स का अभिवादन करते हैं। इतना ही नहीं मेडिकल स्टूडेंट्स को बढ़ावा देने के लिए स्कूल औक कॉलेज में कई तरह के मेडिकल प्रोग्राम भी रखे जाते हैं।

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएWeather Forecast: अगले 2 दिनों में यहां होगी बारिश, शीतलहर से बढ़ेगी गलन, जानिए मौसम का ताजा अपडेट******Highlights दिल्ली-NCR समेत उत्तर भारत के कई इलाकों में बारिश होने और पहाड़ों में बर्फबारी की वजह से मैदानी इलाकों में ठंड और गलन बढ़ गई है। फिलहाल लोगों को ठंड और ठिठुरन से राहत नहीं मिलेगी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने अगले 48 से 72 घंटों तक शीत लहर से राहत नहीं मिलने का अनुमान जताया है। मौसम विभाग के अनुसार नॉर्थ-वेस्ट इंडिया में अगले 3 दिनों तक शीत लहर जारी रहेगी। इस दौरान 15 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से हवा चल सकती है। यानी, अभी अगले कुछ दिन बहुत संभल कर रहना होगा।मौसम विज्ञानियों ने दिल्ली के लिए रविवार को आसमान में बादल छाए रहने एवं हल्की वर्षा होने का अनुमान जताया है। साथ ही IMD ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ के चलते पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान के कुछ हिस्सों में 23 जनवरी तक व्यापक वर्षा होने का अनुमान है। IMD ने बताया कि अगले 24 घंटों के दौरान जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बारिश और बर्फबारी की संभावना है।दिल्ली में शनिवार को बारिश होने से अधिकतम तापमान सामान्य से सात डिग्री गिरकर 14.4 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया, जो इस मौसम का अबतक का सबसे कम अधिकतम तापमान है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि दिल्ली में 22 जनवरी तक 68 मिमी बारिश हो चुकी है, जो 1995 के बाद से सर्वाधिक है। वर्ष 1995 में 69.8 मिमी बारिश हुई थी।सफदरजंग वेधशाला ने शनिवार को सुबह आठ बजे तक पांच मिमी बारिश दर्ज की। वहीं केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार, शनिवार को दिल्ली की वायु गुणवत्ता ''बेहद खराब'' श्रेणी में दर्ज की गई।IMD के मुताबिक, 22 से 24 जनवरी के दौरान बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और सिक्किम में बारिश के आसार हैं। अगले 2 दिनों के दौरान पूर्वोत्तर भारत में बारिश होने का अनुमान है। आईएमडी ने मध्य प्रदेश के 19 जिलों में गरज के साथ बिजली गिरने, ओला गिरने और बारिश होने के पूर्वानुमान के बीच ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया है। वहीं झारखंड में 25 जनवरी तक अलग-अलग हिस्से में बारिश के आसार नजर आ रहे हैं।आईएमडी ने यूपी के कुछ हिस्सों में अगले दो-तीन दिनों के लिए ठंड का रेड-अलर्ट जारी किया है। मौसम व‍िभाग के अनुसार लखनऊ समेत आस-पास के कई जिलों में ओले भी पड़ सकते हैं। इससे आने वाले दिनों में गलन और बढ़ सकती है। राजधानी लखनऊ समेत यूपी के कुछ हिस्सों में 23 जनवरी को बारिश होने की संभावना है। बता दें कि, मैदानी और पहाड़ी इलाकों के लिए कोल्ड वेव के पैमाने अलग-अलग हैं।23 जनवरी को पूर्वी उत्तर प्रदेश में 20-30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की बहुत संभावना है। 23 से 26 जनवरी के दौरान उत्तरी राजस्थान और उत्तरी मध्य प्रदेश में घने कोहरे की संभावना है।अगले 48 घंटे में बिहार के कैमूर, रोहतास, औरंगाबाद, गया, पटना, नालंदा, बेगूसराय, लखीसराय, शेखपुरा, जहानाबाद, बक्सर, भोजपुर की एक-दो जगहों पर बारिश के साथ ही ओले भी पड़ने की आशंका है।बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएकांग्रेस ने बताया बीजेपी के घोषणापत्र को 'झांसा पत्र', केजरीवाल ने कहा जुमलों का नया संस्‍करण******भारतीय जनता पार्टी द्वारा आज जारी संकल्‍प पत्र पर प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने तीखी प्रतिकिा दी है। कांग्रेस ने इसे झांसा पत्र बताते हुए कहा है कि बीजेपी को संकल्‍प पत्र की जगह माफी नामा पेश करना चाहिए था। वहीं आम आदमी पार्टी के समन्‍वयक और दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसे जुमलों का नया संस्‍करण करार दिया है।भारतीय जनता पार्टी द्वारा घोषणापत्र जारी करने के तुरंत बाद कांग्रेस ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस आयोजित कर बीजेपी पर जबर्दस्‍त हमला बोला। अहमद पटेल ने कहा कि इनको माफीनामा जारी करना चाहिए। कांग्रेस/ बीजेपी के घोषणापत्र दोनो को देखिए। कांग्रेस घोषणपत्र में जनता है,बीजेपी में सिर्फ मैं है। झूठ का गुब्बारा है, मेनिफेस्टो की जगह माफीनामा जारी करते तो अच्छा होता।वहीं कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाषणों में नौकरी और रोजगार का जिक्र तक नहीं है, नोटबन्दी, GST की चर्चा नहीं, काला धन की चर्चा है।1. 2014 में 10 करोड़ रोजगार का वादा किया था, 4 करोड़ नौकरियां चली गई. बेरोजगारी की दर 45 सालों मन सबसे अधिक है2. किसान को 50% मुनाफा का वादा किया था, अब आय दुगना करने की बात कर रहे हैं जबकि कृषि विकास दर 2% है..3. 100 दिन में काला धन लाने का वादा था, लेकिन जनता का पैसा ही लूट लिया और बैंको का हजारों करोड़ लूट कर भगोड़े देश छोड़ कर भाग गए4. देश को कर्ज में डूबा दिया. 2014 में देश पर 54 लाख 90 हजार करोड़ का कर्ज था. पांच सालों में 27 लाख करोड़ कर्ज बढ़ गया.5. दलितों को अधिकारों से वंचित कर दिया, उन पर अपराध के मामले बढ़े6. बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ बीजेपी से बेटी बचाओ हो गया..7. पेट्रोल डीजल पर कई गुना एक्साइज टैक्स बढ़ा दिया8. एक भी स्मार्ट सिटी नहीं बनी9. सेना के शौर्य का राजनीतिक इस्तेमाल तो किया लेकिन सेना को कमजोर किया. वर्दी और राशन के बजट में कटौती की. OROP को 1 रैंक 5 पेंशन बना दिया10. डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर हुआ .. और 1 डॉलर 70 रुपए पर पहुंच गया11. नमामि गंगे का 80% पैसा खर्च नहीं हुआ.. गंगा और दूषित हो गई

West Bengal News: बीजेपी के 'नबान्न चलो' मार्च से पहले हंगामा, शुभेंदु अधिकारी समेत कई बीजेपी नेता हिरासत में लिए गए

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएKarwa Chauth 2020: मैरिड लाइफ में हमेशा बनी रहें खुशियां तो करवा चौथ पर जरूर करें ये खास उपाय******कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को महिलाओं द्वारा अपने पति की लंबी उम्र के लिये का व्रत किया जाता है और चांद देखकर व्रत का पारण किया जाता है। करवा चौथ के दिन चन्द्रोदय शाम 7 बजकर 57 मिनट पर होगा। बता दें कि करवाचौथ के इस व्रत को 'करक चतुर्थी' या 'दशरथ चतुर्थी' के नाम से भी जाना जाता है।इस दिन शिव जी, गणेश जी और स्कन्द, यानी कार्तिकेय के साथ बनी गौरी के चित्र की सभी उपचारों के साथ पूजा की जाती है और चन्द्रोदय होने के बाद चन्द्रमा को अर्घ्य देकर व्रत का पारण किया जाता है । आज व्रत करने से जीवन में पति का साथ हमेशा बना रहता है, सौभाग्य की प्राप्ति होती है और जीवन में सुख-शांति बनी रहती है। जानिए आचार्य इंदु प्रकाश से करवा चौथ के दिन कौन से उपाय करना होगा शुभ।बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएमहिला हॉकी: स्पेन के हाथों भारत को मिली करारी हार, 5 मैचों की सीरीज में 0-1 से पीछे भारत******भारत और स्पेन के बीच खेले गए मुकाबले में टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा है। भारतीय महिला टीम ने सीरीज की शुरुआत निराशाजनक तौर पर की और उसे स्पेन के खिलाफ पांच मैचों की सीरीज के पहले मैच में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा। दोनों टीमों के बीच ये बराबरी का मुकाबला था लेकिन स्पेन ने गोल करने के मौकों को अच्छी तरह से भुनाया। उसकी तरफ से लोला रियरा (48वें और 52वें मिनट) और बर्टा बोनास्त्रे (छठे मिनट) ने गोल किए।स्पेन ने पहले क्वार्टर में दबदबा बनाया तथा 26 वर्षीय बोनास्त्रे ने छठे मिनट में ही गोल करके अपनी टीम को बढ़त दिला दी। स्पेन ने इसके बाद दूसरा गोल करने के लिये भी अच्छे प्रयास किये लेकिन भारतीय रक्षापंक्ति ने उन्हें नाकाम कर दिया। भारत के पास भी गोल करने के मौके थे लेकिन वह उन्हें नहीं भुना पाया। कप्तान रानी रामपाल के पास 14वें मिनट में बहुत अच्छा मौका था लेकिन उनका शाट बाहर चला गया। भारत ने दूसरे क्वार्टर की शुरुआत अच्छी की। अनुपा बार्ला का 19वें मिनट में गोल पर जमाया गया शाट गोलकीपर मारिया रूइज ने बचा दिया। अगले मिनट में ही रानी को मौका मिला लेकिन वो फिर से चूक गईं।भारत को 24वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन शॉट बाहर चला गया। इसके दो मिनट बाद स्पेन ने जवाबी हमला किया लेकिन गोलकीपर सविता ने यह संकट टाल दिया। तीसरे क्वार्टर के शुरू में भी उन्होंने पेनल्टी कार्नर पर गोल होने से बचाया। दूसरी तरफ रानी के शॉट का मारिया रूइज ने अच्छा बचाव किया। अंतिम क्वार्टर में भारतीय टीम बराबरी का गोल करने के लिये बेताब दिखी। उसने आक्रामक तेवर अपनाये लेकिन तभी सुनीता लाकड़ा के सिर पर गेंद लगी और रेफरी ने स्पेन को पेनल्टी स्ट्रोक दे दिया। रियरा ने 48वें मिनट में इसे गोल में बदला। इसके चार मिनट बाद रियरा ने पेनल्टी कॉर्नर पर ड्रैग फ्लिक से गोल किया। इसके बाद स्पेनिश टीम ने सारी ताकत गोल बचाने में लगायी और अच्छे अंतर से जीत दर्ज की।बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएArvind Kejriwal in Gujarat: तुम मुझे वोट दो मैं तुम्हारे बच्चों का भविष्य बना दूंगा... केजरीवाल ने गुजरात में दिया नारा******Highlights दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया इस वक्त गुजरात दौरे पर हैं। गुजरात में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं। अपने दौरे के दौरान आज अरविंद केजरीवाल ने हूंकार भरी और गुजरात की जनता को नया नारा दे दिया। केजरीवाल ने कहा, "तुम मुझे वोट दो मैं तुम्हारे बच्चों का भविष्य बना दूंगा। दिल्ली के सीएम ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए पूछा कि सरकारी स्कूल में किस-किस के बच्चे पढ़ते हैं, आप लोग बताओ स्कूलों में पढ़ाई कैसी है?अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि ऐसा लग रहा है कि गुजरात मे क्रांति आ रही है, इसलिए मनीष के घर CBI के छापे पड़ रहे हैं। ये घर्म युद्ध है। उनके पास कृष्ण की सेना है, और हमारे पास भगवान कृष्ण हैं। केजरीवाल ने कहा, "आप लोग दिल्ली जाकर देखो, बड़े-बड़े अमीर लोग सरकारी हॉस्पिटल में इलाज कराते हैं, बड़े-बड़े प्राइवेट स्कूल के बच्चे अब सरकारी स्कूल में आ रहे हैं। अगर दिल्ली की तरह आप भी चाहते हो तो हमें एक मौका दो। केजरीवाल ने आगे कहा कि बीजेपी के लोगों ने इसलिए 2 महीने पहले सतेंद्र जैन को गिरफ्तार किया और अब मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार करने चाहते हैं। इन लोगों ने कोई भ्रष्टाचार नहीं किया।

West Bengal News: बीजेपी के 'नबान्न चलो' मार्च से पहले हंगामा, शुभेंदु अधिकारी समेत कई बीजेपी नेता हिरासत में लिए गए

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएदेश की बुनियाद मजबूत, पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए किए जा रहे हैं हर संभव प्रयास******Fundamentals strong, efforts being made to make India USD 5 trn economyराष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को कहा कि भारत की आर्थिक बुनियाद मजबूत है और देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि देश का विदेशी मुद्रा भंडार इस समय रिकॉर्ड स्तर पर है और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) भी बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। इस लक्ष्य को पाने के लिए सरकार सभी अंशधारकों के साथ विचार-विमर्श कर के हर स्तर पर प्रयास कर रही है।कोविंद ने कहा कि वैश्विक चुनौतियों के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत है। हमारा विदेशी मुद्रा भंडार 450 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि देश में एफडीआई भी बढ़ रहा है। चालू वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर के दौरान देश में पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में तीन अरब डॉलर अधिक विदेशी निवेश आया है।बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएVrishabha Weekly Horoscope 19-25 September 2022: वृषभ राशि वालों को इस हफ्ते रहना होगा सावधान, वरना..******इस राशि के उम्रदराज जातकों को इस पूरे सप्ताह अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। इसके लिए सुबह-शाम पार्क में जाकर करीब 30 मिनट तक टहलें और जितना मुमकिन हो धूल भरी जगहों पर जाने से बचें। ये देखा गया है कि आप अपने धन के संचय को लेकर अक्सर थोड़ा लापरवाह हो जाते हैं जिसका नकारात्मक असर आपके जीवन में आर्थिक तंगी को उत्पन्न कर सकता है। चूंकि चंद्रमा इस हफ्ते आपके दूसरे भाव में गोचर करेगा, ऐसे में आपके लिए यही बेहतर होगा कि अपने परिवार के सदस्यों से धन की बचत को लेकर बात करते हुए उनसे सलाह अवश्य लें, क्योंकि इस दौरान आपके बड़े-बुजुगों की सलाह और उनका अनुभव ही आपकी आर्थिक स्थिति को सुधारने में भविष्य के लिए मददगार सिद्ध होगा।यदि आप फैमिली बिज़नेस करते हैं तो, उसमें आपको इस सप्ताह मनचाहे परिणाम मिल सकते हैं क्योंकि चंद्रमा चौथे भाव में स्थित होगा। इसके अलावा यदि आपने हाल ही में परिवार के साथ मिलकर कोई बिज़नेस स्टार्ट किया है तो, आपको एक बार में सारा निवेश करने से बचना चाहिए और धीरे-धीरे करके सोच-समझ से ही निवेश करने की जरूरत होगी क्योंकि इससे ही आपको अपने घर के लोगों के साथ अपने संबंध बेहतर करने और उनकी मदद से सही निर्णय लेने में सफलता मिल सकेगी। इस सप्ताह कार्यक्षेत्र पर आप पाएंगे कि आपकी सभी उपलब्धियों की वाह-वही कोई अन्य सहकर्मी ले रहा है इसलिए जो काम आपने किया है उसका श्रेय किसी और को न ले जाने दें, अन्यथा इसका नुकसान आपको अपने करियर में नकारात्मक रूप से उठाना पड़ सकता है।इस हफ़्ते अगर आपके करियर का चुनाव आपके द्वारा ही किया जाना है तो, आपको किसी भी तरह के दबाव में आकर उससे जुड़ा कोई भी फैसला लेने से बचना होगा क्योंकि पांचवें भाव यानी कि शिक्षा के भाव में सूर्य, बुध और शुक्र की युति हो रही है। इसलिए ऐसा कोई भी फैसला न लें, जिसको लेकर आपका दिमाग और आपका दिल सहमति न दे रहे हो।

West Bengal News: बीजेपी के 'नबान्न चलो' मार्च से पहले हंगामा, शुभेंदु अधिकारी समेत कई बीजेपी नेता हिरासत में लिए गए

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएनई सैंट्रो 2018 में होगी लॉन्च, कीमत 4 लाख रुपए के आसपास रहने की संभावना****** भारतीय बाजार में हुंडई की सबसे लोकप्रिय और सफल हैचबैक कार सैंट्रो एक बार फिर चर्चा में है। अटकलें हैं कि कंपनी इसे एक बार फिर से लॉन्च कर सकती है। नई सैंट्रो के साल 2018 की शुरुआत में आने की चर्चा है। नई सैंट्रो की कीमत 4 लाख रूपए के आसपास रहने की संभावना है। लॉन्च के बाद नई सैंट्रो, आई-10 की जगह लेगी।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हुंडई अगले 12-15 महीने के दौरान नई सैंट्रो को लॉन्च करने की तैयारी में है। नई सैंट्रो पर कार्य दक्षिण कोरिया में पूरे जोरों पर है और यह 2018 की शुरुआत में भारत में आएगी। इतना ही नहीं नई सैंट्रो के लॉन्च होते ही कंपनी आई 10 को बंद कर देगी।redigo kwid alto eon ऑटोमैटिक Hyundai elite i20 का मुकाबला बलेनो, जैज़ और पोलो से, जानिए कौन है बेहतर

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएBihar Political Crisis: जानें JDU ने क्यों तोड़ा BJP से नाता? नीतीश कुमार की नाराजगी की ये है बड़ी वजह******Highlights जनता दल (यूनाइटेड) (JDU) के विधायकों और सांसदों ने मंगलवार को यहां एक बैठक में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के खिलाफ पीठ में छुरा घोंपने के चौंकाने वाले आरोप लगाए। इस बैठक के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गठबंधन से नाता तोड़ लिया। जदयू सूत्र जो अपना नाम उजागर नहीं चाहते, के अनुसार कॉल विवरण सहित जानकारी साझा की गई थी, जिसमें सुझाव दिया गया था कि पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने भाजपा के इशारे पर पार्टी को विभाजित करने के इरादे से लगभग एक दर्जन विधायकों और एक मंत्री से संपर्क किया था। सिंह ने पिछले हफ्ते पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।जदयू के सांसदों जिन्होंने सर्वसम्मति से कुमार के भाजपा को छोड़ने के फैसले का समर्थन किया। सांसदों का विचार था कि 2019 के लोकसभा चुनावों तक चीजें ठीक रहीं। 2019 का लोकसभा चुनाव दोनों दलों ने दिवंगत केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के साथ मिलकर जीत लिया था और राज्य की 40 सीटों में से एक को छोड़कर सभी पर जीत हासिल की। हालांकि, 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव के करीब आते ही भाजपा ने अपने रंग बदल लिए। वह स्पष्ट रूप से चिराग पासवान के विद्रोह के पीछे थी, जिन्होंने खुले तौर पर नीतीश कुमार को स्वीकार्य करने से इनकार कर दिया था।चिराग ने उन सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी जिनमें से कई भाजपा के तथाकथित बागी शामिल थे, उनको मैदान में उतारा था जहां जदयू ने अपने उम्मीदवार खड़े किए थे। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उस समय राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) रहे आरसीपी ने जदयू के कई उम्मीदवारों की हार सुनिश्चित करने की कोशिश की, जिन्हें वह पसंद नहीं करते थे। पासवान के विरोध और आरसीपी सिंह की कथित भूमिका वास्तव में जदयू के लिए बहुत महंगी साबित हुई क्योंकि 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी ने राजद और कांग्रेस के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था जो 71 से गिरकर 43 तक आ सिमटा था।नीतीश के एक और कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री के रूप में लौटने के कुछ महीने बाद आरसीपी ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह बनाई। हालांकि सिंह के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने को पार्टी के वास्तविक नेता नीतीश की स्वीकृति नहीं थी और उन्हें एक और राज्यसभा कार्यकाल से वंचित कर दिया गया, जिसके कारण उन्हें मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। जदयू के नेताओं ने भाजपा से संबंधित मंत्रियों द्वारा ‘‘असहयोग’’ की भी शिकायत की थी।बैठक में नीतीश ने कहा, 'बीजेपी ने पार्टी को तोड़ने की कोशिश की, हमें धोखा दिया। बीजेपी ने हमेशा जेडीयू को अपमानित किया।'भाजपा की विधानसभा में संख्यात्मक ताकत जदयू की तुलना में ज्यादा थी। कहा जाता है कि भाजपा के कई नेताओं ने नीतीश के नेतृत्व को लेकर सवाल उठाए थे और भाजपा नेताओं के इस तरह के असंतोषजनक बयानों पर मुख्यमंत्री ने अपनी ओर से भी नाराजगी जतायी थी। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह राज्य मंत्रिमंडल में शामिल रहने के समय से ही कुमार के एक आलोचक के रूप में जाने जाते हैं। सिंह ने कुमार के इस कदम के तुरंत बाद मीडिया से कहा, ‘‘यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि नीतीश ने हमें धोखा देने के लिए मुहर्रम को चुना है। अपने सिद्धांतों और वादों की कुर्बानी के लिए इससे बेहतर अवसर और क्या हो सकता है।’’बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएIPL 2020 : राजस्थान की हार का विलेन बनने से बचे राहुल तेवतिया, आखिर में बने जीत का हीरो******इंडियन प्रीमियर लीग 2020 के 9वें मैच में राजस्थान रॉयल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 4 विकेट से हरा दिया। राजस्थान की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले ऑलराउंडर राहुल तेवतिया इसके बाद काफी खुश नजर आए। हालांकि जब वह मैदान पर बल्लेबाजी करने आए थे तो वह काफी दवाब में थे और ऐसा लग रहा था कि राजस्थान के हाथ से यह मैच निकल जाएगा।मुकाबले के बाद तेवतिया ने कहा, ''मैं अब अच्छा महसूस कर रहा हूं। अबतक मैंने जितनी भी क्रिकेट खेली है उसमें आज के मैच में शुरुआत के 20 गेंद मेरे लिए सबसे मुश्किल भरा था। मैं नेट्स में प्रैक्टिस के दौरान अच्छा बड़ा शॉट लगा रहा था लेकिन आज के मैच में जब मैं बल्लेबाजी करने आया तो गेंद मेरे बैट पर नहीं आ रही थी।''उन्होंने कहा, ''शुरुआत में जब मैं गेंद को हिट नहीं कर पा रहा था मैं काफी दवाब में आ गया था लेकिन मैंने हार नहीं मानी। डग आउट में बैठे सभी लोगों को उम्मीद थी कि मैं रन बनाउंगा क्योंकि मैं लंबा हिट लगा सकता हूं। इसके बाद मैंने सोचा कि मुझे खुद पर भरोसा रखना चाहिए।''तेवतिया ने कहा, ''यह सिर्फ एक बड़े शॉट की बात थी, इसके बाद मैं दवाब से बाहर आ गया। एक ओवर में 5 छक्के लगाना बेहतरीन था। हालांकि कोच ने मुझे लेग स्पिनर पर छक्के मारने के लिए भेजा था लेकिन उसकी जगह किसी और गेंदबाज को मैंने छक्का लगाया।''आपको बता दें कि पंजाब के खिलाफ इस मुकाबले में तेवतिया एक समय 23 गेंद खेलकर 17 रन बनाए थे लेकिन अगली 8 गेंद पर 36 रन बनाकर उन्होंने पंजाब के मुंह से जीत को छीन लिया।''राहुल ने इस मैच में 31 गेंद में 53 रन बनाए। उनके अलावा टीम के लिए कप्तान स्टीव स्मिथ ने 50 और संजू सैमसन ने 85 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली।

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएचैम्पियंस लीग के इतिहास में लगातार 16 सीजन गोल दागने वाले पहले खिलाड़ी बने मेसी******बार्सिलोना| महान फुटबाल खिलाड़ी लियोनेल मेसी ने चैम्पियंस लीग में कैम्प नाउ में फेरेनसवारोस के खिलाफ बार्सिलोना की 5-1 से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई। इस मैच में किए गए गोल के बाद मेसी चैम्पियंस लीग में 36 अलग-अलग टीमों के खिलाफ गोल करने वाले खिलाड़ी बन गए हैं।अर्जेंटीना के इस स्टार ने चैम्पियंस लीग में 41 टीमों के खिलाफ मैच खेले हैं, लेकिन रुबीन कजान, एटलेटिको मेड्रिड, बेनफिका, उडनीस और इंटर मिलान के खिलाफ गोल नहीं किए हैं। स्पेनिश क्लब बार्सिलोना की वेबसाइट के मुताबिक, इस गोल के बाद वह क्रिस्ट्रियानो रोनाल्डो और राउल गोंजालेज से तीन गोल आगे हो गए हैं।मेसी ने 27वें मिनट में पेनाल्टी को गोल में तब्दील किया और इसी के साथ वह चैम्पियंस लीग के इतिहास में लगातार 16 सीजनों में गोल करने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं। हंगरी के क्लब के खिलाफ गोल करने के बाद मेसी 16 देशों की टीमों के खिलाफ गोल करने वाले खिलाड़ी भी बन गए हैं। उन्होंने सबसे ज्यादा गोल इंग्लैंड के क्लबों के खिलाफ किए हैं। यह संख्या 26 है। उन्होंने आर्सेनल के खिलाफ सबसे ज्यादा नौ गोल किए हैं। उसके बाद एसी मिलान और सेल्टिक हैं। दोनों के खिलाफ मेसी ने आठ-आठ गोल किए हैं।बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएSensex Today: लाल निशान में खुले शेयर बाजार, डॉलर के मुकाबले रुपए का है ये हाल******stock market update sensex nifty bse and nse update on 20 june 2019कारोबारी सप्ताह के चौथे दिन गुरुवार को शेयर बाजार गिरावट के साथ खुला। ​गुरुवार को में बिकवाली है।प्रमुख सूचकांक सुबह 69.78 अंकों की गिरावट के साथ 39,042.96 पर जबकि निफ्टी 37.8 अंकों की कमजोरी के साथ 11,653.65 पर खुला। शुरुआती कारोबार में बंबई स्टॉक एक्सचेंज () का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 10.01 बजे 96.02 अंकों की बढ़त के साथ 39,208.76 पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी भी लगभग इसी समय 19.75 अंकों की मजबूती के साथ 11,711.20 पर कारोबार करते देखे गए।आईटी शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट देखी जा रही है। गुुरुवार को रुपए में शानदार रिकवरी है। रुपया करीब 20 पैसे मजबूत होकर 69.48 प्रति डॉलर के भाव पर ट्रेड कर रहा है। इसके पहले बुधवार को रुपया 2 पैसे मजबूत होकर 69.68 के भाव पर बंद हुआ था। हालांकि रुपये की शुरूआत बुधवार को 69.56 के स्तर पर हुई थी। एक्सपर्ट के मुताबिक डॉलर की डिमांड कमजोर पड़ने से रुपये को सपोर्ट मिला।

बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएअगले 15 महीने तक मिलती रहेगी होम लोन पर ब्‍याज सब्सिडी, सरकार ने योजना की अवधि बढ़ाई****** केंद्र सरकार ने घोषणा की है कि प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत मध्यम आय वर्ग (एमआईजी) के लाभार्थियों को होम लोन पर लगभग 2.60 लाख रुपए की ब्‍याज सब्सिडी योजना की अवधि 15 महीने बढ़ाकर मार्च 2019 तक कर दी गई है।आधिकारिक बयान के अनुसार केंद्रीय आवास व शहरी मामलों के सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने यहां यह घोषणा की। वे नरेडको द्वारा आयोजित अचल संपत्ति एवं बुनियादी ढांचा निवेशक शिखर सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत ब्याज सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए एमआईजी लाभार्थियों को कुछ और समय देने का निर्णय किया है।उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 31 दिसंबर को प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत लोन संबद्ध सब्सिडी योजना (सीएलएसएस) को इस साल के आखिर तक एमआईजी के लिए मान्य कर दिया था। सीएलएसएस के तहत 6.00 लाख रुपए से ज्यादा और 12 लाख रुपए तक की वार्षिक आय वाले एमआईजी लाभार्थियों को 9 लाख रुपए के 20 वर्षीय लोन पर 4 प्रतिशत ब्याज सब्सिडी मिलती है। वहीं, 12 लाख रुपए से ज्यादा और 18 लाख रुपए तक की वार्षिक आय वाले लाभार्थियों को 3 फीसदी ब्याज सब्सिडी मिलती है।वर्ष 2022 तक शहरी क्षेत्रों में सभी के लिए आवास लक्ष्य के लिए सरकार की प्रतिबद्धता का फिर उल्लेख करते हुए मिश्र ने निजी निवेशकों से किफायती आवास में निवेश करने का अनुरोध किया, जिसे सरकार तरह-तरह के प्रोत्साहनों एवं रियायतों के साथ बड़े पैमाने पर प्रवर्तित कर रही है।बीजेपीकेनबान्नचलोमार्चसेपहलेहंगामाशुभेंदुअधिकारीसमेतकईबीजेपीनेताहिरासतमेंलिएगएIPL 2020 : राजस्थान के खिलाफ मैच में धोनी समेत ये खिलाड़ी लगा सकते हैं रिकॉर्ड्स की झड़ी******इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में आज यानी 22 सिंतबर को राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच मुकाबला खेला जाना है। ये मैच UAE के मशहूर स्टेडियम शारजाह में खेला जाएगा जिसमें धोनी और स्मिथ जैसे कप्तानों के बीच जोरदार टक्कर देखने को मिलेगी। यही नहीं, इस मैच में कई बड़े और दिलचस्प रिकॉर्ड भी दांव पर लगे होंगें। आइए जानते हैं इन रिकॉर्ड्स के बारे में......

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 06:22
उद्धरण 1 इमारत
नीति आयोग के पैनल का सुझाव, इनोवेटिव आइडिया के लिए 30 करोड़ का पुरस्कार दे सरकार******नीति आयोग के एक पैनेल ने नए आइडिया देने वाले उद्यमियों को 30 करोड़ रुपए तक नकद पुरस्कार देने का सुझाव दिया है। इसके अलावा कंपनियों के मुनाफे का 1 फीसदी अलग रखने को भी कहा है। नीति आयोग ने इनोवेशन और एम्प्लॉयमेंट ग्रोथ की गति बढ़ाने के लिए प्रसिद्ध शिक्षाविद् तरूण खन्ना की अध्यक्षता में पैनेल बनाया था। इस पैनेल को आंत्रप्रन्योर फ्रेंडली वातारण तैयार करने के बारे में सुझाव देने का काम सौपा गया है।मामले से जुड़े एक सूत्र ने कहा, पैनेल अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप दे रही है और जल्दी ही इसे सौंपेगी। इसमें इनोवेशन और आंत्रप्रन्योरशिप को बढ़ावा देने, अटल नवोन्मेष मिशन (एआईएम) और सेल्फ-इंप्लायड एंड टैलेंट यूटिलाइजेशन (सेतु) की रूपरेखा के बारे में सिफारिशें होंगी।पैनेल ने एमआईएम और सेतु के ढांचे के बारे में विस्तृत सुझाव दिए हैं।पैनेल के अनुसार एआईएम विग्यान एवं प्रौद्योगिकी समेत संबद्ध मंत्रालयों से पुरस्कार के संचालन के बारे में जरूरी राय लेगा।प्रत्येक पुरस्कार में समयबद्ध तरीके से विशिष्ट लक्ष्य हासिल करने को लेकर प्रत्येक चुनौती (पुरस्कार) 10 से 30 करोड़ रुपए की होगा।इसमें यह भी सुझाव दिया गया है कि एआईएम को पुरस्कार का एक हिस्सा विजेताओं के उत्पादों एवं सेवाओं के आर्डर के लिये रखा जाना चाहिए। इससे संबंधित उत्पादों का बाजार तैयार करने तथा अनुसंधान को गति देने में मिलेगी।पैनेल ने रिसर्च और डेवलपमेंट को बढ़ावा देने और उसके फाइनेंसिंग के लिए कंपनी कोष के गठन का सुझाव दिया है।पैनेल के अनुसार अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए कंपनियों के मुनाफे का एक फीसदी विश्वविद्यालयों या उद्योग-विश्वविद्यालय के सहयोग से होने वाले रिसर्च के लिए दिया जाना चाहिए।कंपनियों द्वारा इस प्रकार के निवेश को बढ़ावा देने के लिए टैक्स छूट देने की सिफारिश करते हुए पैनेल मानती है कि यह एक ऐसा रास्ता हो सकता है जिससे विश्वविद्यालय नई टेक्नोलॉजी और विचारों के लिए मुख्य केंद्र बन सकते हैं।
2022-10-01 04:06
उद्धरण 2 इमारत
12 साल पहले आज के ही दिन युवराज सिंह ने मारे थे 6 गेंदों में 6 छक्के, देखें वीडियो******भारतीय वनडे टीम में नंबर चार पर अब तक के सबसे सफल बल्लेबाज युवराज सिंह रहे हैं। जिन्होंने अपनी तेज तर्रार बल्लेबाजी से विश्व के हर कोने में रन मारे हैं। युवराज सिंह ( युवी ) ने अपने 18 साल के करियर में कई ऐसी पारियां खेली जिसे फैंस कभी नहीं भुला सकते हैं। इनमे से एक ख़ास है युवराज सिंह के 6 गेंदों में मारे गये 6 छक्के। जिसे फैंस जितना देखे उतना कम है।ऐसे में आप सोच रहे होंगे अचानक युवी के इन गगनचुम्बी छक्कों के बारें में क्यों बात कर रहे हैं। आपको बता दें कि युवी ने अपने बल्ले से ये कारनामा आज के ही दिन 12 साल पहले 2007 टी20 वर्ल्डकप में इंग्लैंड के खिलाफ किया था। जिसमें उनका शिकार उस समय युवा गेंदबाज रहे स्टुअर्ट ब्रॉड बने थे।जी हाँ, वर्ल्ड टी20 2007 उस यादगार मैच में युवराज सिंह ने स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में छह छक्के लगाए थे और मैच ठीक 12 साल पहले, यानी 19 सितंबर 2007 को खेला गया था।भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे मैच में मैदान पर खिलाड़ियों के बीच काफी तनातनी देखने को मिल रही थी। इसी बीच इंग्लैंड टीम के हरफनमौला खिलाड़ी एंड्रू फ़्लिंटॉफ़ और युवराज सिंह के बीच जमकर बहस हो गई। जिसके बाद गुस्साए युवराज सिंह ने तांव में आकर ब्रॉड की गेंदबाजी के परखच्चे उड़ा दिए।युवराज ने 19 ओवर में सभी दिशाओं में 6 छक्के मारते हुए कुल 36 रन बटोरे थे। इस मैच में उन्होंने टी20 इंटरनैशनल में 12 गेंदों पर हाफ सेंचुरी भी लगाई थी जो कि टी20 इंटरनैशनल का विश्व रिकॉर्ड है। यह टी20 इंटरनैशनल में पहला और क्रिकेट में चौथा मौका था जब किसी बल्लेबाज ने एक ओवर की छह गेंदों पर लगातार छह छक्के लगाए हों।भारत ने इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए तेज शुरुआत की थी। वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर ने क्रमश: 68 और 58 रन बनाते हुए पहले 14 ओवर में साझेदारी कर 136 रन कीशानदार शुरुआत दिलाई थी।ओपनर्स की तेज शुरुआत के बाद भारत का लक्ष्य बड़ा स्कोर चाहिए था। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और युवराज सिंह ने आखिरी चंद ओवरों में इंग्लैंड के खिलाफ जमकर हमला बोला।युवराज ने स्टुअर्ट ब्रॉड की पहली गेंद पर मिडविकेट पर छक्का लगाकर अपने अभियान की शुरुआत की। अगले गेंद को स्केअर लेग के ऊपर से फ्लिक किया। ब्रॉड की तीसरी गेंद ऑफ-साइड पर थी युवराज ने एक और छक्का जड़ा। चौथी गेंद कमर तक फुल टॉस थी जिसे युवराज से आसानी से सीमा रेखा के पार भेजा। पांचवीं गेंद पर ब्रॉड ने ओवर द विकेट आकर गेंद की दिशा और लेंथ बदलने की कोशिश की लेकिन इस बार भी नतीजा नहीं बदला। छठी गेंद पर भी छक्का लगाकर युवराज ने अपना नाम रेकॉर्ड बुक में दर्ज कर लिया।इस तरह युवराज अभी तक टी20 विश्वकप में 6 गेंदों में 6 छक्के और 12 गेंदों में 50 रन का रिकॉर्ड बनाने वाले एकलौते बल्लेबाज हैं। हालांकि 6 गेंदों में 6 छक्के क्रिकेट जगत में कई बल्लेबाजों ने मारे हैं। जिसमें सबसे पहले 6 गेंदों में 6 छक्के मारने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज रवि शास्त्री थे। जिन्होंने 1985 में मुम्बई की तरफ से खेलते हुए बडौदा के गेंदबाज तिलक राज के खिलाफ 6 गेंदों में 6 छक्के मारकर ये कारनामा अपने नाम किया था।इस लिस्ट में सबसे पहले 6 गेंदों में 6 छक्के 1968 में प्रथम श्रेणी मैच में वेस्टइंडीज के सर गैरी सोबर्स ने मारे थे उसके बाद रवि शास्त्री, हर्शल गिब्स और युवराज सिंह का नाम आता है। हालांकि पिछले 12 सालों में इस कारनामें को अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में अभी तक कोई भी बल्लेबाज नहीं दोहरा पाया है।
2022-10-01 04:05
उद्धरण 3 इमारत
Bihar Political Crisis: जानें JDU ने क्यों तोड़ा BJP से नाता? नीतीश कुमार की नाराजगी की ये है बड़ी वजह******Highlights जनता दल (यूनाइटेड) (JDU) के विधायकों और सांसदों ने मंगलवार को यहां एक बैठक में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के खिलाफ पीठ में छुरा घोंपने के चौंकाने वाले आरोप लगाए। इस बैठक के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गठबंधन से नाता तोड़ लिया। जदयू सूत्र जो अपना नाम उजागर नहीं चाहते, के अनुसार कॉल विवरण सहित जानकारी साझा की गई थी, जिसमें सुझाव दिया गया था कि पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने भाजपा के इशारे पर पार्टी को विभाजित करने के इरादे से लगभग एक दर्जन विधायकों और एक मंत्री से संपर्क किया था। सिंह ने पिछले हफ्ते पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।जदयू के सांसदों जिन्होंने सर्वसम्मति से कुमार के भाजपा को छोड़ने के फैसले का समर्थन किया। सांसदों का विचार था कि 2019 के लोकसभा चुनावों तक चीजें ठीक रहीं। 2019 का लोकसभा चुनाव दोनों दलों ने दिवंगत केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के साथ मिलकर जीत लिया था और राज्य की 40 सीटों में से एक को छोड़कर सभी पर जीत हासिल की। हालांकि, 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव के करीब आते ही भाजपा ने अपने रंग बदल लिए। वह स्पष्ट रूप से चिराग पासवान के विद्रोह के पीछे थी, जिन्होंने खुले तौर पर नीतीश कुमार को स्वीकार्य करने से इनकार कर दिया था।चिराग ने उन सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी जिनमें से कई भाजपा के तथाकथित बागी शामिल थे, उनको मैदान में उतारा था जहां जदयू ने अपने उम्मीदवार खड़े किए थे। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उस समय राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) रहे आरसीपी ने जदयू के कई उम्मीदवारों की हार सुनिश्चित करने की कोशिश की, जिन्हें वह पसंद नहीं करते थे। पासवान के विरोध और आरसीपी सिंह की कथित भूमिका वास्तव में जदयू के लिए बहुत महंगी साबित हुई क्योंकि 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी ने राजद और कांग्रेस के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था जो 71 से गिरकर 43 तक आ सिमटा था।नीतीश के एक और कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री के रूप में लौटने के कुछ महीने बाद आरसीपी ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह बनाई। हालांकि सिंह के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने को पार्टी के वास्तविक नेता नीतीश की स्वीकृति नहीं थी और उन्हें एक और राज्यसभा कार्यकाल से वंचित कर दिया गया, जिसके कारण उन्हें मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। जदयू के नेताओं ने भाजपा से संबंधित मंत्रियों द्वारा ‘‘असहयोग’’ की भी शिकायत की थी।बैठक में नीतीश ने कहा, 'बीजेपी ने पार्टी को तोड़ने की कोशिश की, हमें धोखा दिया। बीजेपी ने हमेशा जेडीयू को अपमानित किया।'भाजपा की विधानसभा में संख्यात्मक ताकत जदयू की तुलना में ज्यादा थी। कहा जाता है कि भाजपा के कई नेताओं ने नीतीश के नेतृत्व को लेकर सवाल उठाए थे और भाजपा नेताओं के इस तरह के असंतोषजनक बयानों पर मुख्यमंत्री ने अपनी ओर से भी नाराजगी जतायी थी। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह राज्य मंत्रिमंडल में शामिल रहने के समय से ही कुमार के एक आलोचक के रूप में जाने जाते हैं। सिंह ने कुमार के इस कदम के तुरंत बाद मीडिया से कहा, ‘‘यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि नीतीश ने हमें धोखा देने के लिए मुहर्रम को चुना है। अपने सिद्धांतों और वादों की कुर्बानी के लिए इससे बेहतर अवसर और क्या हो सकता है।’’
वापसी