नई पोस्ट करें

North Korea Missile Test: नहीं मान रहे किम जोंग, अमेरिकी चेतावनी को नजरअंदाज कर उत्तर कोरिया ने फिर किया मिसाइल परीक्षण

2022-10-01 06:31:40 985

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणबिहार: सेना भर्ती के दौरान मची भगदड़ में 1 की मौत, 5 घायल****** के रोहतास जिले में डेहरी क्षेत्र में स्थित बीएमपी मैदान में बुधवार की सुबह सेना भर्ती के दौरान मची भगदड़ में एक अभ्यर्थी की मौत हो गई जबकि अन्य पांच अभ्यर्थी घायल हो गए। पुलिस के अनुसार, बीएमपी मैदान में पिछले पांच दिनों से चल रही सेना भर्ती के दौरान बुधवार की अहले सुबह करीब 3 बजे दौड़ के लिए अभ्यर्थियों को खड़ा किया जा रहा था, इसी दौरान भगदड़ मच गई। इस भगदड़ में एक अभ्यर्थी की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पांच गंभीर रूप से घायल हो गए।घायलों का डेहरी में प्राथमिक उपचार के बाद सासाराम सदर अस्पताल भेज दिया गया है। मृतक की पहचान नहीं हो गई है। बुधवार को गया जिले के अभ्यर्थियों की शारीरिक जांच (शारीरिक टेस्ट) की जा रही थी।प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, अभ्यर्थी मंगलवार रात से ही यहां आकर रुके हुए थे। रात दो बजे के करीब भारी कोहरे और कड़कड़ाती ठंड में भी सभी युवक दौड़ के लिए पंक्ति में लगने के लिए प्रयास करने लगे।अभ्यर्थियों द्वारा किसी बात पर हंगामा किए जाने के बाद पुलिस ने कथित तौर पर लाठीचार्ज कर दिया। इससे वहां भगदड़ मच गई।

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणHaryana News: सरपंच से मारपीट करने और धमकी देने के आरोप में 14 गिरफ्तार, भेजे गए जेल****** हरियाणा के जींद जिले की जुलाना थाना पुलिस ने लिजवाना कलां गांव के निवर्तमान सरपंच एवं अन्य लोगों के साथ मारपीट करने, असलहा दिखाकर धमकी देने और जमीन पर कब्जे की कोशिश करने पर 14 लोगों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। पुलिस ने इसकी जानकारी दी।पुलिस ने बताया कि लिजवाना कलां गांव के निवर्तमान सरपंच रामफल ने गत 17 सितंबर को पुलिस को दी शिकायत में बताया था कि गांव में बने कुआं और धर्मशाला की दीवार को तोड़कर कुछ लोगों ने जमीन पर कब्जा करने की कोशिश की थी। उन्होंने बताया कि इस पर पंचायत ने पुलिस की सहायता से रुकवा दिया था।उन्होंने बताया कि इस पर दूसरे पक्ष के लोगों ने रामफल के साथ असलहा दिखाकर धमकी दी और उनके साथ मारपीट की। पुलिस ने बताया कि रामफल की शिकायत पर रामसिंह, अमित, संदीप तथा संजय को नामजद कर 20 अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की। उन्होंने बताया कि पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 14 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि उन लोगों को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।एक अन्य खबर के मुताबिक, हरियाणा के नूंह जिले के फलेंदी गांव के पास एक मुठभेड़ के बाद एक अंतरराज्यीय एटीएम लुटेरे गिरोह के सरगना को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि आरोपी हरियाणा सहित चार राज्यों में वांछित था। उन्होंने बताया कि रविवार को हुई मुठभेड़ में शकील उर्फ शक्की को पैर में गोली लगी और वह घायल हो गया, जिसके बाद उसे मंधी खेरा में अल-आफिया अस्पताल में भर्ती किया गया है।पुलिस ने कहा कि मुठभेड़ के दौरान पुलिस दल के प्रमुख बाल-बाल बचे, क्योंकि उन्होंने बुलेट प्रूफ जैकेट पहना था। पुलिस ने दो देसी पिस्तौल, एक कारतूस और दो खोखे बरामद किए। पिनांगावा पुलिस थाने में आरोपी के विरुद्ध एक प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस के अनुसार आरोपी शक्की सलाका गांव का रहने वाला है और हरियाणा व राजस्थान समेत चार राज्यों में वांछित है। उस पर काफी समय से हथियार कानून के तहत लूट, हत्या का प्रयास और एटीएम लूटने के करीब दर्जनभर मामले दर्ज हैं। पुलिस ने बताया कि आरोपी एटीएम मशीनों को तोड़ने में माहिर है।नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणउत्तर प्रदेश में PFI से जुड़े 25 लोग गिरफ्तार: यूपी पुलिस******लखनऊ। उत्तर प्रदेश आईजी लॉ एंड ऑर्डर प्रवीण कुमार ने बुधवार को जानकारी दी कि प्रदेश में PFI से जुड़े 25 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। ये गिरफ्तारियों इन लोगों के विभिन्न अपराधिक गतिविधियों में जुड़े होने की वजह से की गईं।इस बीच यूपी सरकार में मंत्री मोहसीन रजा का भी बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि जो लोग भारतीय इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) से जुड़े थे, उसके प्रतिबंध के बाद एक नया संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) बना। वे युवाओं को कट्टरपंथी बनाना चाहते हैं और उन्हें आतंकवाद की ओर धकेलना चाहते हैं।

North Korea Missile Test: नहीं मान रहे किम जोंग, अमेरिकी चेतावनी को नजरअंदाज कर उत्तर कोरिया ने फिर किया मिसाइल परीक्षण

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणAsia Cup 2022: इन दो भारतीय खिलाड़ियों ने साल 2022 में बनाए सबसे ज्यादा T20I रन, दोनों ही एशिया कप की टीम से बाहर******Highlightsएशिया कप 2022 की शुरुआत 27 अगस्त से यूएई में होगी। इस टूर्नामेंट के लिए 8 अगस्त सोमवार को भारतीय टीम का ऐलान कर दिया गया था। इस टीम में विराट कोहली और केएल राहुल की वापसी हुई थी। तो वहीं कुछ अच्छे खिलाड़ियों को टीम में मौका नहीं मिल पाया था। खासतौर से वह दो खिलाड़ी जिन्होंने भारत के लिए साल 2022 में अभी तक टी20 क्रिकेट खेलते हुए सबसे ज्यादा रन बनाए हैं। हम बात कर रहे हैं श्रेयस अय्यर और ईशान किशन की। अय्यर स्टैंडबाय खिलाड़ियों की सूची में हैं, वहीं ईशान को किसी भी सूची में शामिल नहीं किया गया है।अगर इन दोनों खिलाड़ियों के प्रदर्शन की बात करें तो साल 2022 में टी20 इंटरनेशनल में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज श्रेयस अय्यर हैं। उन्होंने 14 मैचों की 14 पारियों में 44.90 की औसत और 142.99 के स्ट्राइक रेट से 449 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 4 अर्धशतक जड़े हैं। विराट कोहली की गैरमौजूदगी में वह नंबर-3 पर खेलते रहे हैं। वेस्टइंडीज के खिलाफ आखिरी टी20 में उन्होंने ओपनिंग करते हुए भी पचासा लगाया था। लेकिन एशिया कप के लिए टीम चुनी गई तो दीपक हुड्डा को तवज्जो दी गई। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज स्टैंडबाय सूची में रखा गया।अगर ईशान किशन के प्रदर्शन पर नजर डालें तो उन्होंने भी इस साल 14 टी-20 मैचों में 30.71 की औसत और 130.30 के स्ट्राइक रेट से 430 रन बनाए हैं। उन्हें एशिया कप के लिए टीम में ही नहीं चुना गया। स्टैंडबाय प्लेयर्स की सूची में भी उनका नाम नहीं है। केएल राहुल की वापसी हुई है और बतौर विकेटकीपर ऋषभ पंत व दिनेश कार्तिक की मौजूदगी ने ईशान की राह में मुश्किलें खड़ी कर दीं। गौरतलब है कि उनका चयन पिछले टी-20 वर्ल्ड कप में हुआ था और वह न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले भी थे।इन दोनों खिलाड़ियों के अलावा संजू सैमसन और मोहम्मद शमी को भी टीम में जगह नहीं मिलने पर काफी सवाल उठ रहे हैं। संजू ने भी पिछले दिनों में जब भी मौका मिला है शानदार प्रदर्शन किया है। आयरलैंड में दीपक हुड्डा की उस शतक वाली पारी में शानदार अर्धशतीय पारी खेलते हुए सैमसन ने ही साथ निभाया था। वहीं पिछले टी20 वर्ल्ड कप के बाद से टी20 इंटरनेशनल में नहीं खेले मोहम्मद शमी को भी शामिल नहीं करने पर काफी चर्चा हो रही है। जसप्रीत बुमराह चोट के चलते बाहर हैं तो हर कोई चाह रहा था कि सीनियर गेंदबाज शमी को मौका मिले।नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणजियो की वजह से 76% घट गया एयरटेल का मुनाफा, 3 महीने में जुड़े सिर्फ 14 लाख नए ग्राहक****** रिलायंस जियो की वजह से देश में सबसे ज्यादा मार देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी भारती एयरटेल पर पड़ी है, एयरटेल की तरफ से जारी किए गए तिमाही नतीजों के मुताबिक सितंबर तिमाही के दौरान उसके शुद्ध लाभ में 76 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज की गई है और इस दौरान उसके साथ सिर्फ 14 लाख नए ग्राहक जुड़ पाए हैं।भारती एयरटेल के मुताबिक सितंबर तिमाही में उसको सिर्फ 343 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ हुआ है जबकि वित्तवर्ष 2016-17 में इस दौरान कंपनी ने 1,461 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। कंपनी के ऑरेटिंग फ्री कैश फ्लो में भी 87 फीसदी की भारी कमी देखने को मिली है, इस बार सितंबर तिमाही में ऑपरेटिंग कैश फ्लो सिर्फ 520 करोड़ रुपए दर्ज किया गया है जबकि पिछले साल यह 4,179 करोड़ रुपए था।रिलायंस जियो की वजह से एयरटेल को नए ग्राहक बनाने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, रिलायंस ने जियो को पिछल साल सितंबर में ही लॉन्च किया था और इस साल सितंबर तक उसके ग्राहकों की संख्या 13 करोड़ को पार कर चुकी है। वहीं एयरटेल के आंकड़ों के देखें तो 1 साल में कंपनी अपने साथ सिर्प 2.21 करोड़ ग्राहक ही जोड़ पाई है। पिछले साल सितंबर अंत में देश में एयरटेल के मोबाइल सेवा के साथ 25.99 करोड़ ग्राहक थे और अब यह बढ़कर 28.20 करोड़ तक पहुंच पाए हैं।एयरटेल के साथ नए ग्राहक जुड़ने के मामले में सितंबर तिमाही और भी खराब रही है। जुलाई से सितंबर के दौरान एयरटेल के साथ सिर्फ 14 लाख नए ग्राहक जुड़ पाए हैं।नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षण25 साल का हो गया SMS, 1992 में भेजा गया था पहला संदेश****** SMS को व्हाट्सएप से मिली टक्कर की वजह से इसका इस्तेमाल जरूर कम हुआ होगा लेकिन इसकी विश्वश्नीयता कम नहीं हुई है, SMS (शॉर्ट मैसेज सर्विस) सेवा को शुरू हुए पूरे 25 साल का समय बीत गया है लेकिन व्हाट्सएप के इस दौरा में आज भी इसे ज्यादा सुरक्षित और विश्वशनीय माना जाता है। 2 दिसंबर 1992 को दुनिया में पहला SMS जारी हुआ था। पेशे से इंजीनियर नील पापवर्थ ने 2 दिसंबर 1992 को पहला SMS सेंदेश जारी किया था। पापवर्थ ने उस समय टेलिकॉम कंपनी वोडाफोन के निदेशक रिचर्ड जेविश को क्रिसमस से पहले वार्म क्रिसमस (Warm Christmas) का संदेश भेजा था। SMS के आने से टेलिकॉम जगत में नई क्रांति की शुरुआत हुई थी, SMS के बाद दुनियाभर से पेजर का दौर खत्म होने लगा था। शुरुआत में SMS में सिर्फ 160 कैरेक्टर की लिमिट होती थी और उस समय कैरेक्टर लिमिट को बढ़ाने का कोई तरीका नहीं था। हालांकि बाद में तकनीक बदलने से यह लिमिट भी खत्म हो गई।वोडाफोन ने पहली SMS सेवा की शुरुआत 1994 में कर दी थी, हालांकि यह सेवा सिर्फ कंपनी के नेटवर्क तक ही सीमित थी, वोडाफोन के नेटवर्क के बाहर SMS न तो भेजे जा सकते थे और न ही प्राप्त किए जा सकते थे। वर्ष 1999 में एक नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क पर SMS भेजा जाना संभव हो सका।करीब 20 साल तक दुनियाभर में लोकप्रिय रहने के बाद अब दुनियाभर में SMS का इस्तेमाल कम हो गया है। हालांकि इसकी विश्वश्नियता को देखते हुए जरूरी संदेश अब भी इसी माध्यम से भेजे जाते हैं।

North Korea Missile Test: नहीं मान रहे किम जोंग, अमेरिकी चेतावनी को नजरअंदाज कर उत्तर कोरिया ने फिर किया मिसाइल परीक्षण

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणऑनलाइन पेमेंट करने पर मिलेगा 5 लाख रुपए का इनाम, हरियाणा डिस्कॉम ने किया घोषणा******Highlightsदक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम ने उस ग्राम पंचायत को पांच लाख रुपये का इनाम देने का फैसला किया है, जहां 95 प्रतिशत बिजली उपभोक्ता डिजिटल माध्यम से अपने बिलों का भुगतान करेंगे। इसी तरह, जिस पंचायत में 90 से 95 प्रतिशत लोग ऑनलाइन भुगतान करते हैं, उस पंचायत को दो लाख रुपए दिए जाएंगे। इसके अनुसार उस पंचायत को एक लाख रुपए दिए जाएंगे जहां 80 प्रतिशत उपभोक्ता डिजिटल माध्यम से अपने बिल का भुगतान कर रहे हैं। हरियाणा में डिजिटलीकरण को बढ़ावा देने का काम किया जा रहा है। इसके लिए सरकार अलग-अलग तरह की योजनाओं पर काम कर रही है। हाल ही में डिस्कॉम के जरिए सरकार ने एक शानदार पहल को शुरू किया है। सरकार का उद्देश्य इस योजना से डिजिटलीकरण को बढ़ावा देने का है।ऑनलाइन भुगतान के लिए कर रहे प्रोत्साहितडिस्कॉम के प्रबंध निदेशक पी.सी. मीणा ने कहा कि लोगों को डिजिटल तरीके से भुगतान करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए ऐसा किया गया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण उपभोक्ताओं को ऑनलाइन भुगतान करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए 2100 रुपये के पुरस्कार भी दिए जाएंगे।नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणPetrol and Diesel Prices update: देश के इन शहरों में उतरे पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए कितना हुआ सस्ता?******Highlightsअन्तर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम लगातार कम हो रहे हैं। तेल कम्पनियां सस्ते में कच्चा तेल खरीद रही हैं, लेकिन इसका फायदा ग्राहकों को नहीं मिल रहा है। जिससे तेल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हो रहा है। पिछले 6 अप्रैल से तेल के दाम स्थिर बने हुए हैं। लेकिन देश के कुछ शहरों में आज कीमतों में कुछ नरमी आई है।सरकारी तेल कंपनियों की ओर से जारी रेट के मुताबिक, आज सुबह नोएडा में पेट्रोल 96.76 रुपये प्रति लीटर और डीजल 89.93 रुपये प्रति लीटर में बिकेगा। कंपनियों ने दिल्‍ली-मुंबई सहित देश के चारों महानगरों में पेट्रोल-डीजल के दाम आज भी स्थिर रखे हैं। इसके साथ ही बिहार की राजधानी पटना में भी कंपनियों ने नये दाम जारी किये हैं। पटना में पेट्रोल 107.24 रुपये और डीजल 94.04 रुपये प्रति लीटर हो गया है। इसके अलावा पोर्टब्‍लेयर में पेट्रोल 84.10 रुपये और डीजल 79.74 रुपये प्रति लीटर हो गया है।वहीं अगर इंटरनेशनल मार्केट में कच्‍चे तेल की बात की जाए तो पिछले 24 घंटे में ब्रेंट क्रूड 3 डॉलर से ज्‍यादा बढ़कर 96.58 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया है, जबकि डब्‍ल्‍यूटीआई के भाव में भी 3 डॉलर का उछाल आया और यह 90.55 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया है।– दिल्ली में पेट्रोल 96.72 रुपये और डीजल 89.62 रुपये प्रति लीटर– मुंबई में पेट्रोल 106.31 रुपये और डीजल 94.27 रुपये प्रति लीटर– चेन्नई में पेट्रोल 102.63 रुपये और डीजल 94.24 रुपये प्रति लीटर– कोलकाता में पेट्रोल 106.03 रुपये और डीजल 92.76 रुपये प्रति लीटर– नोएडा में पेट्रोल 96.76 रुपये और डीजल 89.93 रुपये प्रति लीटर हो गया है।– लखनऊ में पेट्रोल 96.57 रुपये और डीजल 89.76 रुपये प्रति लीटर हो गया है।– पटना में पेट्रोल 107.24 रुपये और डीजल 94.04 रुपये प्रति लीटर हो गया है।– पोर्टब्‍लेयर में पेट्रोल 84.10 रुपये और डीजल 79.74 रुपये प्रति लीटर हो गया है।

North Korea Missile Test: नहीं मान रहे किम जोंग, अमेरिकी चेतावनी को नजरअंदाज कर उत्तर कोरिया ने फिर किया मिसाइल परीक्षण

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणRussia: यूक्रेन को 'हराने' में फेल और 'बीमार' पुतिन को सत्ता से हटाने की तैयारी, रूस में होगा 'तख्तापलट'! ऐसा हुआ तो किस बड़े खतरे में पड़ेगा अमेरिका?******Highlightsरूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग को छह महीने से ज्यादा का वक्त हो गया है। इसका जो परिणाम सामने आया है, उसकी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कभी कल्पना भी नहीं की थी। ऐसी अफवाहें हैं कि पुतिन को यूक्रेन युद्ध में रूस के खराब प्रदर्शन और उनकी बिगड़ती तबीयत की वजह से कुर्सी से हटाया जा सकता है। हालांकि विशेषज्ञों का मानना है कि पुतिन की जगह अगर कोई और रूस का राष्ट्रपति बना तो यह अमेरिका सहित पश्चिमी देशों के लिए अच्छा नहीं होगा। वह उनसे भी ज्यादा सख्त रुख रखने वाला हो सकता है। सीआईए मॉस्को स्टेशन के पूर्व बॉस डेनाइल हॉफमैन ने दावा करते हुए कहा है कि पुतिन को सत्ता से हटाने के लिए साजिश रची जा रही है।उन्होंने कहा कि अगर रूस में तख्तापलट होता है, तो यहशांतिपूर्ण तरीके से बिलकुल नहीं होगा। क्योंकि कोई पुतिन से ये नहीं पूछने वाला कि वह सत्ता में रहना चाहते हैं या नहीं? उन्होंने कहा कि पुतिन को सत्ता से हटाकर कोई भी शख्स तभी राष्ट्रपति बन सकता है, जब वह पुतिन को मार दे। क्योंकि उनके जीवित रहते ऐसा होना संभव नहीं है। विशेषज्ञों ने कहा कि उनकी नजर में ऐसे तीन नाम हैं, जो रूस के राष्ट्रपति बन सकते हैं। इनमें पहले स्थान पर पुतिन के शीर्ष आर्थिक सलाहकार सर्गेई ग्लैजेव, दूसरे पर रूसी सुरक्षा परिषद के सचिव निकोलाई पेत्रुशेव और तीसरे पर रूस की काउंटर-जासूसी एजेंसी के प्रमुख अलेक्जेंडर बोर्तनिकोव हैं।द सन की रिपोर्ट के अनुसार, वाशिंगटन डीसी में सेंटर फॉर यूरोपियन पॉलिसी एनालिसिस के सीनियर फेलो ओल्डा लॉटमैन का दावा है कि कई और लोग इस कतार में खड़े हैं। ऐसे 100 लोग होंगे जो पुतिन की सत्ता हथियाना चाहते हैं और वह उनसे भी ज्यादा कड़े रुख वाले होंगे। उन्होंने कहा कि सर्गेई ग्लैजेव दिन रात नाटो को खत्म करने का सपना देखते हैं। विशेषज्ञ ने कहा, 'ग्लैजेव पुतिन से ज्यादा मानसिक रूप से अस्थिर और फासीवादी हैं।'पुतिन के प्रतिद्विंदी रहे मिखाइल श्वेतोव इस वक्त पनामा में निर्वासित जीवन जी रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर एक बार पुतिन चले गए, तो रूस में असली कट्टरपंथी आ जाएंगे। उन्होंने कहा कि रूस के भीतर भी युद्ध होने का उसी तरह खतरा रहेगा, जिस तरह पूरे पश्चिम में युद्ध होने का खतरा होगा। श्वेतोव ने कहा कि पश्चिम में कुछ लोगों का मानना है कि एक बार अगर पुतिन सत्ता से हट जाएं, तो चीजें बदलने लगेंगी। लेकिन ऐसा नहीं है। पुतिन का जाना पश्चिम के लिए दशकों का सबसे बड़ा खतरा होगा।पुतिन को लेकर माना जाता है कि उनके आने से देश में स्थिरता आई है, जब वह सत्ता में आए तब इसी की कमी थी। उन्होंने वैश्विक स्तर पर खुद को एक ताकतवर नेता और रूस को ताकतवर देश दिखाने में खूब कामियाबी हासिल की है। वो लगातार खुद को ताकतवर बनाते चले गए। आर्थव्यवस्था से लेकर सैन्य फैसले तक वही लेते हैं। उन्हें वन मैन आर्मी कहें, तो कुछ गलत नहीं होगा। हाल का ही उदाहरण ले लें, जब लगभग पूरी दुनिया खासतौर से पश्चिमी देशों ने रूस को अलग-थलग करने की कोशिश की, तब भी पुतिन उनके आगे नहीं झुके। उन्होंने व्यापार को डॉलर के बजाए रूबल में करने का फैसला लिया। यूक्रेन द्वारा रूस की मांगें नहीं माने जाने तक हमले करने की जिद नहीं छोड़ी। दुनियाभर की आलोचनाओं के बावजूद वो अपने फैसले पर कायम हैं। अब वो इतने मशहूर हैं, कि अगर बिना पार्टी के भी चुनाव लड़ें, तो भी जीत ही हासिल करेंगे।कभी रूस की खुफिया एजेंसी केजीबी के एजेंट रहे पुतिन अब उसी देश के राष्ट्रपति हैं। वो उस वक्त सत्ता में आए थे, जब शीत युद्ध के चलते दुनिया दो हिस्सों में बंटी हुई थी और दुनिया के साथ रूस के रिश्ते संभालना जरूरी था। आपको बता दें पुतिन को आइस हॉकी में महारत हासिल है। उनके पास जूडो में ब्लैक बेल्ट है और वह मार्शल आर्ट्स के एक्सपर्ट हैं। वह हर दांव पेच जानते हैं। पुतिन सबसे पहले 1999 में देश के कार्यकारी राष्ट्रपति बने थे। इसके एक साल बाद 2000 में वो राष्ट्रपति बन गए। उन्होंने बकायदा चुनाव लड़ा और उसमें जीत हासिल की। दो बार राष्ट्रपति का कार्यकाल पूरा करने के बाद संविधान तीसरी बार उन्हें इस पद पर रहने की अनुमति नहीं दे रहा था। तो पुतिन प्रधानमंत्री बन गए। इसके बाद वो दोबार 2014 में देश के राष्ट्रपति बने और फिर 2018 में हुए चुनाव में दोबारा चुनाव लड़कर राष्ट्रपति बने, उनका ये कार्यकाल 2024 तक चलेगा।पुतिन ने अपनी लगभग हर इमेज दुनिया को दिखाई है। कभी वो शर्टलेस होकर घोड़े की सवारी करते दिखते हैं, कभी स्वीमिंग करते नजर आते हैं, कभी बाइक चलाते हैं, तो कभी प्यारे से पपी को प्यार करते दिखते हैं। एक मौके पर वह अपने सहयोगी की मौत पर रोते हुए भी दिखे थे। अगर आप चारों तरफ अपनी नजर फिराएं, तो आपको शायद ही कोई पुतिन जितना ताकतवर नेता दिखाई देगा। पुतिन के सत्ता में आने के बाद से भारत के साथ भी रूस के रिश्ते काफी मजबूत हुए हैं।

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षण100 बॉल के फॉर्मेट पर फूटा विराट कोहली का गुस्सा, कहा- कभी नहीं खेलूंगा ये लीग******दुनियाभर में टी20 लीग का बोलबाला देखने को मिल रहा है। , बिग बैश लीग, कैरीबियन प्रीमियर लीग जैसी टी20 लीग ने दर्शकों को अपना दीवाना बना दिया है और फैंस जमकर इनका लुत्फ उठाते हैं। वहीं क्रिकेट का जनक इंग्लैंड भी अपनी नई लीग लाने की तैयारी कर चुका है। लेकिन इंग्लैंड की ये लीग 20 ओवरों की नहीं बल्कि 100 गेंदों की होगी। इंग्लैंड ने जब से 100 गेंद की लीग की बात की है तब से ही ये चर्चाओं का विषय बनी हुई है और आलोचकों के निशाने पर भी है। विशेषज्ञों का मानना है कि क्रिकेट के अभी ही 3 फॉर्मेट (टी10 को मिलाकर 4) हैं और ऐसे में एक और फॉर्मेट लाने का क्या मतलब है। इन्हीं आलोचकों में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का नाम भी जुड़ गया है और कोहली भी इस 100 बॉल की लीग से खासा नाराज दिखे। कोहली ने तो यहां तक भी कह दिया कि वो कभी इस लीग का हिस्सा नहीं बनेंगे।विस्डन क्रिकेट को दिए इंटरव्यू में कोहली ने कहा, 'निश्चित तौर पर जो भी लोग इस लीग के पीछे हैं वो इसे काफी अच्छा मान रहे हैं और उनके लिए ये काफी अच्छा है। लेकिन मैं एक और फॉर्मेट के बारे में नहीं सोच सकता। ईमानदारी से कहूं तो मैं ये नहीं कहूंगा कि मैं निराश हूं लेकिन मैं ये जरूर कहूंगा कि आज के दौर में काफी क्रिकेट खेली जा रही है और ऐसे में खिलाड़ियों की मांग बढ़ती जा रही है। मेरा मानना है कि क्रिकेट के खेल में कमर्शियलाइजेशन बढ़ता जा रहा है।'कोहली ने आगे कहा, 'मैं इस लीग का हिस्सा नहीं बनना चाहूंगा। मैं उन खिलाड़ियों में नहीं रहूंगा जो वर्ल्ड इलेवन का हिस्सा बनकर इस लीग को लॉन्च करने यहां आएंगे। मुझे आईपीएल में खेलना पसंद है। मुझे बिग बैश लीग देखना अच्छा लगता है क्योंकि इन लीग का कुछ मकसद है। इन लीग में टीमें अपना बेस्ट देती हैं और दमदार क्रिकेट देखने को मिलती है। एक क्रिकेटर के तौर पर आपको यही चाहिए होता है। मैं हर लीग के तैयार हूं लेकिन मैं एक्सपेरिमेंट के लिए तैयार नहीं हूं।'नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणPakistan Diplomat Sacked in Italy: इटली में पाकिस्तान के डिप्लोमेट बर्खास्त, महिला अफसर से यौन शोषण के आरोप******Highlights एक बार फिर पाकिस्तान की पूरी दुनिया में नाक कटी है। इस बार अपने देश को शर्मशार किसी राजनेता ने नहीं बल्कि इटली में पाकिस्तान के डिप्लोमेट ने किया है। दरअसल, इटली में पाकिस्तान के हेड ऑफ द मिशन को महिला स्टाफर के यौन शोषण के आरोप में बर्खास्त कर दिया गया है। आरोपी डिप्लोमेट नदीम रियाज पर आरोप है कि उन्होंने एम्बेसी में तैनात एक महिला अफसर का यौन शोषण किया था। इस मामले की जांच इटली और पाकिस्तान में हुई थी। फिलहाल, पाकिस्तान सरकार की इस मामले पर प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पीड़ित महिला अफसर का नाम सायरा इमदाद अली है। वो मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स में ग्रेड 20 की अफसर हैं और 4 साल पहले रोम एम्बेसी में तैनात थीं। तब रियाज वहां हेड ऑफ द मिशन थे। दो साल पहले वो रिटायर हो चुके हैं। सायरा ने नदीम पर आरोप कुछ वक्त पहले लगाए थे। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा था कि एम्बेसी में हेड ऑफ द मिशन नदीम रियाज ने वर्क प्लेस पर मुझसे बदसलूकी (यौन शोषण) की है।बताया जा रहा है कि यौन शोषण के आरोप के बाद पाकिस्तानी राजदूत नदीम रियाज को बर्खास्त कर दिया गया है और साथ ही 50 लाख रुपये (पाकिस्तानी करंसी) का हर्जाना भी पीड़िता सायरा को देना होगा। जांच रिपोर्ट की एक कॉपी इस्लामाबाद में विदेश मंत्रालय को भी भेजी जाएगी।पीड़ित महिला अफसर सायरा इमदाद अली ने यह शिकायत 2018 में की थी। सायरा ने कहा था कि रियाज अकसर उन्हें अपने साथ दूसरे देशों के दौरों पर चलने का दवाब डालते थे। कई बार इसका काम से कोई ताल्लुक नहीं होता था फिर भी साथ चलने को कहते थे। सायरा ने ये भी कहा था कि नदीम ने उन पर अपने घर के बगल में ही रहने का दबाव डाला था। वो जिस भाषा में बात करते थे, वो बहुत आपत्तिजनक होती थी। सायरा को इंसाफ पाने में 4 साल लग गए।

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणMumbai News: मुंबई में दूर के इलाकों को करीब लाने की कवायद, समुद्र तट पर बनाई जा रही सड़कें, यहां जानिए पूरी डिटेल******Highlights मुंबईकरों को रोजाना कई घंटे ट्रैफिक जाम में बिताना पड़ता है। शहर पुराना है। जगह की भी कमी है और आबादी लगातार बढ़ रही है। ऐसे में ट्रैफिक की समस्या दिन-ब-.दिन गंभीर बनती जा रही है। मुंबई में नई सड़क बनाने के लिए जमीन नहीं है। इसलिए कुछ साल पहले पर्याय के रूप में मुंबई के समुद्र तट पर ही सड़क बनाने का विचार किया जाने लगा। मुंबई के तटीय इलाके के सर्वे के बाद जब एक्सपर्ट्स से ग्रीन सिग्नल मिला तभी से आगाज हुआ मुंबई कोस्टल रोड परियोजना के सपने का जो अब धीरे धीरे मुक्कमल हो रहा है।प्रस्तावित योजना के मुताबिक, मुंबई कोस्टल रोड परियोजना के तहत मुंबई के मरीन ड्राइव से उत्तर मुंबई के कांदिवली को समुद्र मार्ग से जोड़ा जाएगा। मरीन ड्राइव से कांदिवली का अंतर करीब 22.02 किलोमीटर है।मुंबई के मरीन ड्राइव से वर्ली सी लिंक 10.58 किलोमीटरवर्ली सी लिंक से कांदिवली 12.04 किलोमीटरसाल 2018 में शुरु हुआ था कोस्टल रोड़ बनने का कामकोस्टल रोड प्रोजेक्ट के पहले चरण की कुल लागत साढ़े 12 हजार करोड़ से ज्यादा है। कोस्टल रोड का निर्माण कार्य साल 2018 में शुरू हुआ था। चार साल में इस प्रोजेक्ट का काम 62 फीसदी पूरा हो गया है। इस प्रोजेक्ट को नवंबर 2023 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।कोस्टल रोड की ये है खासियत111 हेक्टेयर जमीन का इस रोड़ के लिए किया गया है अधिग्रहणकोस्टल रोड के लिए कुल 111 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहित की गई है। इसमें से 26.50 हेक्टेयर जमीन पर परियोजना का निर्माण, 14.50 हेक्टेयर जमीन पर समुद्र सुरक्षा दीवार और 70 हेक्टेयर जमीन का उपयोग सार्वजनिक स्थान बनाने के लिए किया जाएगा।कोस्टल रोड परियोजना के ये हैं फायदेकोस्टल रोड परियोजना का एक अहम हिस्सा है ‘सी वॉल‘मुंबई तटीय शहर होने की वजह से अक्सर अरब सागर से हाई लहरें उठती है। विशेष कर मानसून के दौरान जब हाई टाइड होता है, तब ऊंची लहरें उठती हैं। इन विशाल लहरों से कोस्टल रोड के स्ट्रक्चर को नुकसान ना पहुंचे इसलिए तट पर मजबूत समुद्र दीवार बनाई जा रही है। सी वॉटर लेवल से करीब 8 मीटर ऊंची दीवार बनाई जा रही है।इन सी वॉल्स की अहमियत के बारे में क्वालिटी एश्योरेंस इंजीनियार वसीम पटेल और साइट इंजीनियर अरविंद सोनकुसारी ने विस्तार से बताया है कि कैसे सी वॉल हाई टाइड और सुनामी जैसी स्थिति में कोस्टल रोड के स्ट्रक्चर की रक्षा करेंगे।कोस्टल रोड का सबसे अहम फिचर है टनलदेश के सबसे बड़े टनल बोरिंग मशीन ‘मवला‘ की मदद से इस टनल की खुदाई की गई। गिरगांव चौपाटी मलबार हिल से लेकर प्रियदर्शनी पार्क तक यह टनल बनाई गई है। पहले टनल का काम लगभग पूरा हो गया है। दूसरे समानांतर टनल का काम करीब 60 फीसदी पूरा हो गया है। मलबार हिल में यह टनल जमीन से करीब 75 मीटर नीचे तो गिरगांव चौपाटी में यह टनल जमीन से 25 मीटर नीचे बना है।टनल को बनाने में क्या आई थीं चुनौतियांइस टनल को बनाने में कई चुनौतियां थीं। समुद्र से उठती लहरें थी बावजूद इसके कडी मेहनत के बाद इस टनल का पहला हिस्सा बनकर तैयार हो गया है। टनल में सुरक्षा के सभी पहलुओं का ख्याल रखा गया है जैसे टनल में हर 300 मीटर पर क्रॉस वे होगा। गाड़ी चालक के चलने के लिए वॉक-वे होगा। एक टनल में 3 लेन होंगे। दो लेन गाड़ियों के लिए जबकि तीसरा लेन इमरजेंसी हालात के लिए होगा।टनल में फायर सेफ्टी का भी इंतजाम किया गया है। यहां दिन रात काम हो रहा है। मेन जंक्शन होने की वजह से ट्रैफिक की समस्या लगातार होती है। इन तमाम परेशानियों के बावजूद निर्माण कार्य निरंतर जारी है। प्रोजेक्ट इंजीनियर चेतन खेडेकर ने बताया कि कैसे पूरा निर्माण कार्य चल रहा है। कब तक प्रोजेक्ट पूरा हो जाएगा। किन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणहिमाचल हिमस्खलन: 5 सैनिक अभी भी लापता, खराब मौसम के कारण खोज अभियान रुका****** के साथ लगी तिब्बत सीमा के पास खराब मौसम के कारण बचावकर्मी खोज अभियान को शुक्रवार को फिर से शुरू करने में असमर्थ हैं जहां इस सप्ताह हुए हिमस्खलन के कारण एक सैनिक की मौत हो गई जबकि पांच अन्य लापता हो गए थे। खोज अभियान का आज तीसरा दिन है। प्रशासन ने संदेह जताया है कि बर्फ में दबे पांच सैनिकों के बचने की संभावना बहुत कम है।राज्य सरकार के एक अधिकारी ने बताया, "रात भर हुई बर्फबारी के कारण आज सुबह अभियान शुरू नहीं हो सका। उम्मीद है कि मौसम साफ होने के बाद अभियान शुरू किया जाएगा।"उन्होंने कहा कि अभियान गुरुवार को भी क्षेत्र में भारी बर्फबारी और हिमस्खलन के कारण अधिकांश समय बंद ही रहा था। इस अभियान में सेना के जवान और राहत कर्मी शामिल हैं।हिमस्खलन बुधवार को उस समय हुआ जब तिब्बत सीमा से सटे नामिया डोगरी के पास का ग्लेशियर खिसक गया जिसमें नियमित गश्त पर निकले जम्मू और कश्मीर राइफल्स के 16 सैनिकों में से छह बर्फ में दब गए। इस आपदा में भारत-तिब्बत सीमा बल (आईटीबीपी) के पांच जवान भी घायल हो गए।राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि जिस समय हिमस्खलन हुआ तब सेना और आईटीबीपी की दो अलग-अलग पार्टियां नामगिया डोगरी में गश्त कर रही थीं। इस घटना में मरने वाले सैनिक की पहचान हिमाचल प्रदेश निवासी राजेश कुमार (41) के रूप में हुई है।

नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणसरकार ने खरीदा 200 लाख टन से ज्‍यादा धान, पंजाब से हुई सबसे ज्‍यादा खरीद******Govt procures 200 lakh tonne paddy at MSP so far this season धान की सरकारी खरीद चालू खरीफ विपणन सीजन 2020-21 में 200 लाख टन के पार हो गई है, जिसमें से सिर्फ पंजाब में करीब 143 लाख टन धान की खरीद हुई है। केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की ओर से रविवार को मिली धान की खरीद के आंकड़ों के अनुसार सरकारी एजेंसियों ने पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, तमिलनाडु, चंडीगढ़, जम्मू-कश्मीर, केरल और गुजरात में 31 अक्टूबर तक किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी पर 204.59 लाख टन धान की खरीदा की, जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 21.16 प्रतिशत अधिक है। सरकार ने चालू फसल वर्ष के लिए कॉमन ग्रेड के 1,868 रुपए प्रति क्विंटल और ग्रेड-ए वेरायटी के धान का 1,888 रुपए प्रति क्विंटल तय किया है। मंत्रालय से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, पंजाब में 142.81 लाख टन धान की खरीद हो चुकी है, जोकि पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 69.80 प्रतिशत अधिक है।मंत्रालय ने बताया कि भारतीय खाद्य निगम और राज्यों की खरीद एजेंसियों ने चालू खरीफ विपणन सीजन में किसानों से 742 लाख टन धान खरीद का लक्ष्य रखा है, जोकि पिछले साल के 627 लाख टन से 18 प्रतिशत अधिक है। राज्यों के प्रस्तावों पर केंद्र सरकार ने तमिलनाडु, महाराष्ट्र, तेलंगाना, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान और आंध्रप्रदेश से कीमत समर्थन स्कीम यानी पीएसएस के तहत 45.10 लाख टन दलहन और तिलहन की खरीद की अनुमति दी है।मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, अक्टूबर के आखिर तक नोडल एजेंसियों के जरिये सरकार ने 10,293.61 टन मूंग, उड़द, मूंगफली व सोयाबीन की खरीद की है। वहीं, भारतीय कपास निगम ने एमएसपी पर 6,33,719 गांठ (एक गांठ में 170 किलो) कपास किसानों से खरीदा है।नहींमानरहेकिमजोंगअमेरिकीचेतावनीकोनजरअंदाजकरउत्तरकोरियानेफिरकियामिसाइलपरीक्षणThe Family Man 2: रिलीज से पहले ही हंगामा, सोशल मीडिया पर हो रही सीरीज के बहिष्कार की मांग, जानें क्यों?******की मशहूर वेब सीरीज 'द फैमिली मैन' के दूसरे सीजन का प्रसारण 4 जून को होगा। हाल ही में इसका ट्रेलर लॉन्च किया गया, लेकिन स्ट्रीमिंग से पहले ही इस शो को लेकर हंगामा शुरू हो गया है। सोशल मीडिया पर इसके बहिष्कार की मांग हो रही है। दक्षिण भारत में वेब सीरीज को लेकर गुस्सा देखने को मिल रहा है। बता दें कि सीरीज में मनोज बाजपेयी अपने पहले के किरदार में नजर आने वाले हैं, जबकि उनके अलावा प्रियमणि राज, शारिब हाशमी, सीमा विश्वास, दर्शन कुमार, शरद केल्कर, सनी हिंदुजा और श्रेया धनवंतरी भी अहम भूमिकाओं में हैं। दक्षिण भारतीय अभिनेत्री सामंथा अक्किनेनी भी इस शो के साथ डिजिटल क्षेत्र में अपना डेब्यू करने वाली हैं।ट्रेलर में श्रीकांत तिवारी (मनोज बाजपेई) की वापसी को दिखाया गया है। इस बार वो नए दुश्मन का सामना करेंगे, जिसका किरदार सामंथा अक्किनेनी ने निभाया है। इस बार भी श्रीकांत अपने परिवार और काम के बीच जद्दोजहद करते दिखाई देंगे।दरअसल, 'द फैमिली मैन 2' का बैकग्राउंड दक्षिण भारत से जुड़ा हुआ है। ट्विटर पर #FamilyMan2_against_Tamils ट्रेंड हो रहा है और इस बात को लेकर विवाद हो रहा है कि इसमें श्रीलंका में अपने हितों की लड़ाई लड़ने वाले तमिल विद्रोहियों का संबंध इस्लामिक आतंकी संस्था से जोड़कर दिखाया गया है। कहा जा रहा है कि सीरीज में तमिलों को आतंकियों की तरफ पेश किया गया है और श्रीलंका में बरसों से जारी संघर्ष को बदनाम करने की कोशिश की गई है। इस शो पर तमिल विरोधी होने के आरोप लग रहे हैं।सीरीज के निर्माता राज और डीके ने अपने एक संयुक्त बयान में कहा, "एक निर्माता के तौर पर हम ' फैमिली मैन' के बहु-प्रतीक्षित नए सीजन के ट्रेलर को आज साझा करने का लंबे समय से इंतजार कर रहे थे। हमने वादा किया था कि इस गर्मी के अंत तक सीजन को जारी कर दिया जाएगा। हमें इस बात की खुशी है कि हमने अपना वादा निभाया है। यह इंतजार 4 जून को खत्म होने वाला है क्योंकि श्रीकांत तिवारी एक रोमांचक कहानी के साथ अपनी वापसी कर रहे हैं । 'खतरे' को भी एक नए चेहरे, सामंथा अक्किनेनी के साथ पेश किया गया है, जिन्होंने एक बेहतरीन कास्ट के साथ शानदार ढंग से अपना काम किया है।"अमेजॉन प्राइम वीडियो पर पेश किए जाने वाले इस सीरीज को लेकर दोनों ने अपने बयान के अंत में कहा है, "महामारी की स्थिति में काम करने के बावजूद भी हम इस बात को लेकर सुनिश्चित हैं कि हमने आप सभी के लिए एक रोमांचक सीजन की रचना की है। उम्मीद करता हूं कि यह इंतजार बेहतर साबित होगा। यह एक बहुत मुश्किल घड़ी है और हम अच्छे वक्त की कामना करते हैं। कृपया सावधान रहें, मास्क पहनकर रहें और जितनी जल्दी हो सके वैक्सीन लगवा लें।"सीरीज एक मध्यम वर्गीय व्यक्ति, श्रीकांत तिवारी के इर्द गिर्द घूमती है, जो राष्ट्रीय जांच एजेंसी के एक विशेष प्रकोष्ठ के लिए काम करता है। यह उनके गुप्त, कम भुगतान, उच्च दबाव, उच्च दांव वाली नौकरी और एक पति और एक पिता होने के बीच संतुलन बनाने के उनके संघर्ष को दर्शाता है।(IANS इनपुट के साथ)

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 06:17
उद्धरण 1 इमारत
World Cup 2019: 87 साल की इंडियन फैंन 'दादी' ने जीता सबका दिल, कोहली-रोहित ने लिया जीत का आशीर्वाद******विश्व कप हो या आम मैच भारत का सबसे बड़ा मुकाबला पाकिस्तन के साथ माना जाता है। जिसमें फैंस एक तरफा दीवानगी के साथ अपने-अपने देश का समर्थन करते है। मगर फैंस की ये दीवानगी अब सिर्फ इंडिया-पाकिस्तान ही नहीं बल्कि आईसीसी विश्व कप 2019 के हर मैच में देखने को मिल रही है। टीम इंडिया के हर एक मैच में फैंस का जबर्दस्त हुजूम देखने को मिल रहा है। जिसके चलते मैदान बिल्कुल नीला दिखाई देता है। इन्ही करोड़ों-अरबो इंडियन फैंस में एक फैन की क्रिकेट के प्रति दीवानगी ने कल सबका दिल जीत लिया। जिनके लिए अगर हम कहें उम्र 55 की दिल बचपन का तो बिल्कुल फिट बैठेगा।जी हाँ इंग्लैंड एंड वेल्स में कल भारत बनाम बांग्लादेश मैच बर्मिंघम के एजबेस्टन में खेला जा रहा था। जिसमें एक 87 साल बूढी दादी को टीम इंडिया के लिए चीयर करते देखा गया। कैमरा में जैसे ही दादी को देखा गया सोशल मीडिया पर टीम इंडिया की दादी फैन का वीडियो तेज़ी से वायरल होने लगा। फिर होना क्या था कुछ सेकंड्स के लिए कैमरे पर आने वाली दादी को भी नहीं पता होगा की इंग्लैंड में 1983 विश्व कप फ़ाइनल देखने के 36 साल बाद वो इस तरह से इंटर नेट की दुनिया में 'वायरल दादी' बन जाएँगी या क्रिकेट की दीवानगी उन्हें इस तरह वायरलकर देगी।ऐसे में टीम इंडिया की जीत के बाद क्रिकेट वर्ल्ड की आधिकारिक वेब साईट पर दादी का ना सिर्फ इंटरव्यू किया गया बल्कि उन्हें कप्तान विराट कोहली और उप कप्तान रोहित शर्मा से मिलने व उनसे बातचीत करने का सुनहरा मौका भी प्राप्त हुआ। इंटरव्यू के दौरान पता चला की दादी का नाम चारुलता पटेल है। और वो टीम इंडिया की 1983 विश्व कप जीत के दौरान भी इंग्लैंड के स्टेडियम में मौजूद थी।उन्होंने एएनआई से कहा कि ‘भारत विश्व कप जीतेगा। मैं भगवान गणेश से प्रार्थना करती हूं कि भारत जीत जाए। मैं टीम को हमेशा आशीर्वाद देती हूं।’इतना ही नहीं उसके बाद जब वो कप्तान विराट कोहली से मिली तो उनकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा। जिसमें उन्होंने विराट कोहली और रोहित शर्मा को विश्व कप के लिए आशीर्वाद दिया और अपना ख्याल रखने के लिए भी उन्होने आग्रह किया।क्रिकेट से जुड़ाव पर दादी ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, “मेरे बच्चे अक्सर क्रिकेट खेला करते हैं, इसलिए मुझे क्रिकेट पसंद हैं। मैं भारत में पैदा नहीं हुई हूं। मेरा जन्म तन्जानिया में हुआ था। लेकिन मेरे माता-पिता भारत से हैं। इसलिए मैं अपने देश पर बहुत गर्व करती हूं।”वहीं, बता दें कि भारत ने बांग्लादेश को रोमांचक मैच में 28 रनों से मात दे आईसीसी विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। भारत द्वारा रखे गए 315 रनों के लक्ष्य के सामने बांग्लादेश ने काफी संघर्ष किया, लेकिन 48 ओवरों में सभी विकेट खोकर 286 रन ही बना सकी।इस तरह जीत के बाद भारत आठ मैचों में छह जीत, एक हार और एक रद्द मैच के बाद 13 अंक लेकर सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई करने वाला ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरा देश बना।
2022-10-01 05:44
उद्धरण 2 इमारत
हिमाचल हिमस्खलन: 5 सैनिक अभी भी लापता, खराब मौसम के कारण खोज अभियान रुका****** के साथ लगी तिब्बत सीमा के पास खराब मौसम के कारण बचावकर्मी खोज अभियान को शुक्रवार को फिर से शुरू करने में असमर्थ हैं जहां इस सप्ताह हुए हिमस्खलन के कारण एक सैनिक की मौत हो गई जबकि पांच अन्य लापता हो गए थे। खोज अभियान का आज तीसरा दिन है। प्रशासन ने संदेह जताया है कि बर्फ में दबे पांच सैनिकों के बचने की संभावना बहुत कम है।राज्य सरकार के एक अधिकारी ने बताया, "रात भर हुई बर्फबारी के कारण आज सुबह अभियान शुरू नहीं हो सका। उम्मीद है कि मौसम साफ होने के बाद अभियान शुरू किया जाएगा।"उन्होंने कहा कि अभियान गुरुवार को भी क्षेत्र में भारी बर्फबारी और हिमस्खलन के कारण अधिकांश समय बंद ही रहा था। इस अभियान में सेना के जवान और राहत कर्मी शामिल हैं।हिमस्खलन बुधवार को उस समय हुआ जब तिब्बत सीमा से सटे नामिया डोगरी के पास का ग्लेशियर खिसक गया जिसमें नियमित गश्त पर निकले जम्मू और कश्मीर राइफल्स के 16 सैनिकों में से छह बर्फ में दब गए। इस आपदा में भारत-तिब्बत सीमा बल (आईटीबीपी) के पांच जवान भी घायल हो गए।राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि जिस समय हिमस्खलन हुआ तब सेना और आईटीबीपी की दो अलग-अलग पार्टियां नामगिया डोगरी में गश्त कर रही थीं। इस घटना में मरने वाले सैनिक की पहचान हिमाचल प्रदेश निवासी राजेश कुमार (41) के रूप में हुई है।
2022-10-01 04:05
उद्धरण 3 इमारत
IPL 2022: सीएसके के कप्तान धोनी ने 15वें सीजन से पहले राजवर्धन हैंगरगेकर और शिवम दुबे को दी यह बड़ी सलाह******भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स के नए युवा खिलाड़ी राजवर्धन हैंगरगेकर और शिवम दुबे के साथ मजाक करते हुए उन्हें अपने फुटबॉल कौशल में सुधार करने के लिए कहा। तीन आईसीसी खिताब (2007 आईसीसी विश्व टी20, 2011 आईसीसी क्रिकेट विश्व कप और 2013 आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी) के विजेता खिलाड़ी सीएसके के हैंगरगेकर और दुबे के साथ इंडिया सीमेंट्स द्वारा आयोजित एक आभासी बातचीत के दौरान मजाकियां अंदाज में नजर आए।हैंगरगेकर सूरत में सुपर किंग्स के शिविर में धोनी के साथ अपनी पहली बातचीत कर रहे थे, शिविर के दौरान उन्हें मिली आजादी के बारे में बोलते हुए धोनी ने कहा, "उन्हें (हैंगरगेकर) अपने फुटबॉल कौशल में सुधार करना चाहिए।"उनके मजाकिया जवाब ने तुरंत यूजर्स का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया और सीएसके के आधिकारिक प्रशंसक समूह द्वारा अपलोड किया गया। अभ्यास सत्र में फुटबॉल खेलना पसंद करने वाले धोनी ने नए सत्र की शुरूआत से कुछ दिन पहले प्रशंसकों के साथ युवा खिलाड़ियों के साथ हंसी मजाक किया।हैंगरगेकर ने कहा, "अभ्यास के पहले दिन, एमएस धोनी ने मुझसे कहा कि जो तुम पहले से कर रहे हो, उसके साथ चलो। कुछ भी मत बदलो। बस वही करते रहो जो तुम वास्तव में अच्छा कर रहे हो। यह मेरे लिए वास्तव में एक अच्छी सलाह थी, कि मुझे वह करने की आजादी है जो मैं कर रहा हूं।"उन्होंने आगे कहा, "मुझे यह मौका देने के लिए मैं वास्तव में सीएसके परिवार का आभारी हूं। मैं टीम के लिए मैदान पर अपना सब कुछ दूंगा और सीएसके को फिर से गौरवान्वित करूंगा।"इस बीच, दुबे ने सुपर किंग्स के साथ अब तक के अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने कहा, "हम सूरत में अभ्यास और यहां की सुविधाओं का आनंद ले रहे हैं। सब कुछ वैसा ही है जैसा हम चाहते हैं। यह अभी सही चीजों में से एक है। हम इसका भरपूर आनंद ले रहे हैं, जो अधिक महत्वपूर्ण है और हम सही तरीके से काम कर रहे हैं।" धोनी ने भी सूरत में सुविधाओं और आतिथ्य की सराहना की।
वापसी