नई पोस्ट करें

सरकार ने लोगों से कहा- कोरोना की दूसरी लहर खत्म नहीं हुई है, लापरवाही नहीं बरतें

2022-10-01 06:07:29 226

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंMadrasa:​ असम से लेकर उत्तर प्रदेश तक 'मदरसों' पर बवाल, जानिए सबसे पहले दुनिया में किसने रखी इसकी नींव******Highlightsउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में गैर-मान्यता प्राप्त मदरसों का सर्वेक्षण करने का निर्णय लिया गया है। इसके कुछ दिनों बाद, जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने कई इस्लामिक मौलवियों के नेतृत्व में मंगलवार को दिल्ली में एक बैठक की और सरकार को समर्थन दिया। मौलाना महमूद मदनी ने राज्य में बिना लाइसेंस वाले मदरसों का पता लगाने के लिए रणनीतियों पर चर्चा करने के लिए एक बैठक बुलाई। उत्तर प्रदेश सरकार ने 1 सितंबर को घोषणा की थी कि वह राज्य के गैर-मान्यता प्राप्त मदरसों का सर्वेक्षण करेगी ताकि कई शिक्षकों और छात्रों, पाठ्यक्रम और किसी भी गैर-सरकारी संगठन से इसकी संबद्धता जैसी जानकारी का पता लगाया जा सके।अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री दानिश आजाद अंसारी ने कहा था कि सर्वेक्षण राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) की आवश्यकताओं के अनुसार किया जाएगा, जो मदरसों में छात्रों को प्रदान की जा रही बुनियादी सुविधाओं की जांच करना चाहता है। मंत्री ने आगे कहा कि सर्वेक्षण से मदरसे का नाम और इसे संचालित करने वाली संस्था का नाम, चाहे वह निजी या किराए के भवन में चलाया जा रहा हो, और पीने के पानी, फर्नीचर की बुनियादी सुविधाओं के बारे में जानकारी जैसे अन्य विवरण इकट्ठा करने में मदद मिलेगी। जिसमें बिजली की आपूर्ति, और शौचालय भी शामिल होंगे। इससे पहले दिन में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने राज्य में गैर-मान्यता प्राप्त मदरसों का सर्वेक्षण करने के उत्तर प्रदेश सरकार के फैसले पर सवाल उठाया था। इसने कहा कि सरकार जानबूझकर अल्पसंख्यक संस्थानों को निशाना बना रही है।एआईएमपीएलबी के एक कार्यकारी सदस्य कासिम रसूल इलियास ने कहा कि उत्तर प्रदेश और असम में मदरसों को निशाना बनाया जा रहा है। कानून के तहत अल्पसंख्यक संस्थाओं को संरक्षण मिलने के बावजूद ऐसा किया जा रहा है। असम में सरकार कुछ छोटे मदरसों को बुलडोज़ करने के लिए चली गई है जबकि अन्य को स्कूलों में परिवर्तित कर रही है। यदि मुद्दा धार्मिक शिक्षा को प्रतिबंधित करने और इसके बजाय धर्मनिरपेक्ष शिक्षा को बढ़ावा देने का है, तो सरकार गुरुकुलों के खिलाफ समान कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है।इलियास ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश में मदरसों की कुल संख्या का कोई स्पष्ट अनुमान नहीं है। उन्होंने सच्चर कमेटी द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट का भी हवाला दिया और कहा कि लगभग 4 प्रतिशत मुस्लिम बच्चे मदरसों में पढ़ते हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस समय राज्य में कुल 16,461 मदरसे हैं। राज्य के कुल मदरसों में से 560 मदरसों को सरकारी सब्सिडी मिलती है लेकिन नए मदरसों को पिछले छह वर्षों से अनुदान सूची से बाहर रखा गया है।मदरसा हमेशा विवादों में रहता हैं। हाल ही में असम कुछ मदरसों का लिंक अल-कायदा से पाया गया है। राज्य के बोंगाईगांव में एक मदरसे के ऊपर कार्रवाई की गई है। जिसके बाद मदरसों के ऊपर बुलडोजर चलाया गया। कई ऐसा नेता है जो आरोप लगाते हैं कि बच्चों को मदरसे में कट्टरपंथी विचार धारा के प्रति प्रेरित किया जाता है। कई मौके पर सरकार मदरसों को लेकर कार्रवाई भी कर चुकी है। इस संबंध एक समाजसेवी से पुछा कि क्या मदरसा को लेकर क्या सोचते हैं तो उन्होंने नाम न बताने के शर्त पर बताया कि मदरसा की शिक्षाओं का आधुनिक समय में कोई वास्तविक जीवन मूल्य नहीं है। उन्होंने बताया कि तुर्की के राष्ट्रपिता "केमल अतुर्क" ने इसे आधुनिक देश बनाने के लिए तुर्की से मदरसा शिक्षा पर प्रतिबंध लगा दिया। इसलिए तुर्की संस्कृति इस्लामी दुनिया में सबसे आगे और आधुनिकहै। और दूसरी ओर अफगानिस्तान, पाकिस्तान आदि जैसे देश हैं जहां मदरसा संस्कृति ने उन देशों के सामाजिक ताने-बाने को खराब कर दिया है और उन्हें कट्टरपंथी इस्लाम का केंद्र बना दिया है।इतिहासकारों के मुताबिक, 11वीं सदी में इस्लामिक स्कॉलर और सेलिजुक माम्राज्य के मंत्री निजाम अल-मुल्क ने मदरसों की नींव रखी थी। ऐसा माना जाता है कि निजाम ने ईरान और खोरासान के इलाकों में पहली बार मदरसा की जाल तैयार किया था। निजाम ने दुनिया में तेजी से मदरसों में का निर्माण करवाया। जिसके बाद अन्य मुस्लिम देशों ने अपने राज्यों में मदरसे बनवाएं। वहीं कुछ इतिहासकार कहते हैं कि दुनिया का पहला मदरसा सऊदी अरब की सफा पहाड़ी पर बना था। इसमें शिक्षक के रुप में पैगंबर मुहम्मद और उनके समर्थक ही छात्र थे।

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंManish Sisodia On BJP: दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सोदिया ने भाजपा पर बोला हमला, बताया ‘निरक्षरों की पार्टी’****** दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को दावा किया कि आबकारी नीति(Excise Policy) मामले में केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) को उनके खिलाफ कुछ नहीं मिला। उन्होंने कहा कि कुछ न मिलने के बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) उन्हें निशाना बनाने के लिए दिल्ली सरकार के स्कूलों के निर्माण में भ्रष्टाचार की ‘‘नई मनगढ़ंत कहानी बुनने’’ लगी है। सिसोदिया ने भाजपा को ‘निरक्षरों की पार्टी’ करार देते हुए आरोप लगाया कि भाजपा द्वारा शासित राज्यों में निजी स्कूलों के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए कम से कम 72,000 सरकारी स्कूल बंद कर दिये गए हैं।सिसोदिया ने यह भी दावा किया कि भाजपा राष्ट्रीय राजधानी में सभी सरकारी स्कूलों को बंद कराने और निजी स्कूलों के खुलने का मार्ग प्रशस्त करने के लिए एक ‘साजिश’ के तहत ‘‘भ्रष्टाचार की फर्जी कहानी’’ जैसी बातें सामने ला रही है। सिसोदिया ने भाजपा को ‘निरक्षरों की पार्टी’ करार देते हुए आरोप लगाया कि भाजपा द्वारा शासित राज्यों में निजी स्कूलों के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए कम से कम 72,000 सरकारी स्कूल बंद कर दिये गए हैं। उनके इन दावों से एक दिन पहले ही उपराज्यपाल वी के सक्सेना ने सरकारी स्कूलों में अतिरिक्त कक्षाओं के निर्माण की जांच संबंधी केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) की रिपोर्ट पर कार्रवाई करने में ढाई साल से अधिक की देरी पर मुख्य सचिव से रिपोर्ट मांगी।सतर्कता सचिव ने फरवरी, 2020 में सीवीसी को यह रिपोर्ट भेजी थी जिसमें परियोजना के क्रियान्वयन में भारी अनियमितता और प्रक्रियागत खामियां पाई गई थी। सतर्कता सचिव ने सीवीसी से आगे की जांच एवं कार्रवाई पर उसकी राय मांगी थी। सिसोदिया ने कहा, ‘‘ शराब के मुद्दे को छोड़कर उन्होंने अब कल से दिल्ली सरकार के विद्यालय भवनों के निर्माण में घोटाले की मनगढ़ंत कहानी बनानी शुरू कर दी है।’’ हालांकि उन्होंने उपराज्यपाल द्वारा मुख्य सचिव को दिए गए निर्देश का जिक्र नहीं किया।सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंGujarat News: युवती की शादी के एक दिन बाद ही आ धमका एक्स ब्वॉयफ्रेंड, पति को पहले चाकू घोंपा और फिर...****** गुजरात के से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। शादी के एक दिन बाद ही पुराने प्रेमी ने महिला के पति की बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने युवक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है। वहीं हमलावर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है।जानकारी के मुताबिक, 15 अगस्त 2022 को कमलेश चावड़ा नाम के व्यक्ति की कोमल से शादी हुई थी। शादी के एक दिन बाद कमलेश चावड़ा की उसकी पत्नी के प्रेमी ने चाकू मारकर हत्या कर दी। कमलेश चावड़ा के भाई विनोद चावड़ा ने एटकोट पुलिस स्टेशन में अपनी शिकायत में कहा, "यह मेरे भाई कमलेश की दूसरी शादी थी। उनकी पिछली शादी से उनकी पांच साल की बेटी है। कोमल के प्यार में पड़ने के बाद उसने अपनी पहली पत्नी को तलाक दे दिया, लेकिन कोमल उस समय यशवंत मकवाना को डेट कर रही थी। वह मकवाना के साथ रह रही थी और शादी से ठीक दो महीने पहले कोमल अपने पैतृक गांव लौट आई।"दोनों पक्षों की मंजूरी के बाद कमलेश चावड़ा और कोमल ने 15 अगस्त को शादी कर ली। मकवाना को जब शादी की जानकारी हुई तो वह 16 अगस्त की रात कमलेश के घर गया और उस पर चाकू से वार कर दिए। शोर मचाने पर परिजनों ने आरोपी को रोकने का प्रयास किया, जो फरार हो गया। कमलेश को निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।पुलिस उपाधीक्षक पी.ए. जाला ने बताया कि, "राजकोट ग्रामीण पुलिस ने हमलावर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है, जिसकी पहचान यशवंत मकवाना के रूप में हुई है, जो फरार है।"वहीं, ऐसा ही एक दिल दहला देने वाला मामला द्वारका के कल्याणपुर थाना क्षेत्र से सामने आया है। यहां एक भाई ने अपनी बड़ी बहन की हत्या कर दी थी। मौत का कारण हर्ट अटैक बताकर उसने शव का अंतिम संस्कार भी करवा दिया। मामले का खुलासा तब हुई, जब महिला की बेटी को शक हुआ तो उसने थाने में शिकायत दर्ज करवाई। कल्याणपुर तालुका पुलिस के अनुसार, थाना क्षेत्र के चंद्रवाड़ा गांव में 42 वर्षीय सुमरी मोधवडिया की अचानक मौत हो गई। परिजनों द्वारा मौत को नेचुरल दिखाने की कोशिश की गई। लेकिन मृत महिला की बेटी की शिकायत पर मामले की जांच शुरू हुई तो मामला सगे भाई द्वारा हत्या का निकला।

सरकार ने लोगों से कहा- कोरोना की दूसरी लहर खत्म नहीं हुई है, लापरवाही नहीं बरतें

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंGood News: 2 नवंबर से घर-घर लगेंगे कोरोना से बचाव के टीके, दिसंबर तक हर महीने लगेंगी 30 करोड़ वैक्सीन!******Good News: 2 नवंबर से घर-घर लगेंगे कोरोना से बचाव के टीके, दिसंबर तक हर महीने लगेंगी 30 करोड़ वैक्सीन!कोरोना संकट से डटकर मुकाबला कर रहे भारत में अब सरकार का कार्यक्रम नई करवट लेने जा रहा है। सरकार ने टीकाकरण में तेजी लाने के लिए 'हर घर दस्तक' अभियान शुरू करने का फैसला किया है। यह अभियान ऐसे जिलों में शुरू होगा जिनका प्रदर्शन अब तक खराब रहा है।सरकार के सूत्रों के अनुसार धनतेरस यानि 2 नवंबर को कोरोना वैक्सीनेशन के डोर टू डोर कैंपेन की शुरूआत की जाएगी। देश में अब तक 104 करोड़ डोज लगाई जा चुकी हैं। लेकिन देश में लगभग 48 जिले ऐसे हैं जहां पात्र लाभार्थियों के बीच पहली खुराक का कवरेज 50 प्रतिशत से कम है।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बुधवार को कहा कि घातक संक्रमण के खिलाफ पूर्ण टीकाकरण के लिए लोगों को उत्साहित करने और प्रेरित करने के लिए खराब प्रदर्शन करने वाले जिलों में डोर-टू-डोर COVID-19 टीकाकरण के लिए अगले एक महीने में 'हर घर दस्तक' अभियान शुरू किया जाएगा।प्राप्त जानकारी के अनुसार डोर टु डोर वैक्सीनेशन अभियान का पहला चरण 2 नवंबर से 2 दिसंबर तक चलेगा। टीकाकरण का यह अभियान दिसंबर में भी चलेगा। नवंबर और दिसंबर में सरकार ने 30—30 करोड़ टीकाकरण का लक्ष्य तय किया है। नवंबर में सरकारी अभियान के तहत 22 करोड़ कोविशील्ड वैक्सीन और 6 करोड़ कोवैक्सीन उपलब्ध होंगी।देश ने इसी महीने 100 करोड़ कोरोना वैक्सीनेशन का लक्ष्य हासिल किया है। लेकिन सरकारी आंकड़ों के अनुसार अभी भी 10.34 करोड़ लोग ऐसे हैं जिन्होंने वैक्सीन का पहला डोज लगवाने के बाद दूसरा नहीं लगाया। सरकार का मानना है कि पहला डोज लगाने से साफ है कि इन लोगों के अंदर वैक्सीन को लेकर डर नहीं है। ऐसे में सरकार ने अब लोगों के घर तक वैक्सीनेशन अभियान को शुरू करने का फैसला किया है।सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंFour Players Retirement: 20 दिन और चार खिलाड़ियों ने ले लिया संन्यास, सभी ने अपनी टीम को जिताया था वर्ल्ड कप******Highlightsक्रिकेट जगत में सोमवार (18 जुलाई) का दिन फैंस के लिए हैरान करने वाला रहा। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दिन तीन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों ने एक के बाद एक संन्यास का ऐलान कर दिया। दिलचस्प बात ये कि तीनों ही क्रिकेटर अपनी-अपनी टीम का अहम हिस्सा रहे और कम से कम एक बार विश्व कप जीतने में सफल रहे। वैसे एक महीने की बात करें तो इस दौरान कुल चार खिलाड़ियों ने क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया। इंग्लैंड को पहली बार वनडे विश्व कप जिताने वाले कप्तान इयोन मोर्गन ने सबसे पहले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा। उनकी कप्तानी में इंग्लैंड ने 2019 वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड को हराकर खिताब जीता था। मोर्गन ने पिछले महीने 28 जून को क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लिया। 35 साल के बाएं हाथ के विस्फोटक बल्लेबाज इंग्लैंड के सीमित ओवर क्रिकेट के सबसे सफल कप्तान होने के साथ-साथ सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी भी रहे। मोर्गन ने इंग्लैंड के लिए 356 मैच खेले और कुल 10115 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से 15 शतक निकले।इंग्लैंड के ऑलराउंडर और 2019 विश्व कप के फाइनल में मैच जिताऊ पारी खेलने वाले बेन स्टोक्स ने सोमवार (18 जुलाई 2022) को एकदिवसीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया। वह आज दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना आखिरी वनडे खेलेंगे। स्टोक्स ने फिटनेस का हवाला देकर 31 साल की उम्र में वनडे क्रिकेट छोड़ने का बड़ा फैसला किया। उन्होंने 2011 में आयरलैंड के खिलाफ अपना वनडे डेब्यू किया था। इसके बाद उन्होंने अपने एकदिवसीय करियर में तीन शतक और 21 अर्धशतक की मदद से 2919 रन बनाए।वेस्टइंडीज के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश रामदीन ने भी सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान करते हुए अपने 14 साल के करियर पर ब्रेक लगा दिया। 37 साल के रामदीन 2012 और उसके बाद 2016 में टी20 वर्ल्ड कप जीतने वाली वेस्टइंडीज टीम का हिस्सा रहे थे और फाइनल में भी खेले थे। उन्होंने तीनों फॉर्मेट में मिलाकर कुल 284 मैच खेले और इस दौरान छह शतक और 24 अर्धशतक की मदद से 5734 रन बनाए। रामदीन ने 74 टेस्ट में 2898 रन, वनडे में 139 मैच में 2200 और 71 टी20 में 636 रन बनाए।वेस्टइंडीज के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज और सीमित ओवर के स्पेशलिस्ट लेंडल सिमंस ने भी सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया। उन्होंने भी 37 साल की उम्र में अपने 15 साल के लंबे करियर पर विराम लगा दिया। सिमंस भी दो बार विश्व विजेता टीम का हिस्सा रहे थे। रामदीन की तरह ही वह भी 2012 और उसके बाद 2016 में टी20 वर्ल्ड कप जीतने वाली वेस्टइंडीज टीम में शामिल थे। 2016 के सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ उन्होंने मैच जिताऊ पारी खेलते हुए 51 गेंदों मे नाबाद रहते हुए 82 रन बनाए थे। दाएं हाथ के बल्लेबाज के करियर की बात करें तो उन्होंने 8 टेस्ट, 68 वनडे और 68 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 278, 1958 और 1537 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से दो शतक और 25 अर्धशतक भी आए।सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंIPL 2022 : उमेश यादव ने आईपीएल में किया नया कमाल, इस लिस्ट में हुए शामिल******Highlightsआईपीएल 2022 में आज केकेआर और पंजाब किंग्स के बीच मुकाबला खेला जा रहा है। केकेआर के कप्तान श्रेयस अय्यर ने टॉस जीता और उन्होंने पहले गेंदबाजी का फैसला किया, जो कि इससे पहले भी इस आईपीएल में कप्तान करते आए हैं। इस बीच मैच जब शुरू हुआ तो कप्तान श्रेयस अय्यर ने पहला ओवर उमेश यादव को दिया। इस वक्त उमेश यादव कमाल का प्रदर्शन कर रहे हैं। उमेश यादव ने अपने पहले ही ओवर में पंजाब किंग्स के कप्तान मयंक अग्रवाल को आउट कर दिया। इसके साथ ही उनके इस आईपीएल में कुल पांच विकेट अब तक हो गए हैं। दोनों ही टीमें एक-एक मुकाबला जीतकर आगे बढ़ रही है। केकेआर और पीबीकेएस के बीच अब तक 29 मुकाबले खेले गए हैं, जिसमें केकेआर ने 19 और पंजाब किंग्स ने 10 मुकाबले अपने नाम किए हैं।मयंक अग्रवाल को आउट करने के साथ ही उमेश यादव ने एक और कीर्तिमान अपने नाम कर लिया। उमेश यादव आईपीएल के पावर प्ले में 50 विकेट लेने वाले गेंदबाजों की लिस्ट में शामिल हो गए हैं। उमेश यादव से पहले जहीर खान पावर प्ले में 52 विकेट ले चुके हैं, इसके बाद संदीप शर्मा के भी नाम 52 विकेट हैं। भुवनेशवर कुमार के नाम पावर प्ले में 51 विकेट हैं। अगर उमेश यादव तीन और विकेट पावर प्ले में ले लेते हैं तो वे बाकी जहीर खान को भी पीछे छोड़ देंगे।अजिंक्य रहाणे, वेंकटेश अय्यर, नितीश राणा, श्रेयस अय्यर (कप्तान), सैम बिलिंग्स (विकेटकीपर), आंद्रे रसेल, सुनील नरेन, टिम साउदी, उमेश यादव, शिवम मावी और वरुण चक्रवर्ती। मयंक अग्रवाल (कप्तान), शिखर धवन, लियाम लिविंगस्टोन, भानुका राजपक्षे (विकेटकीपर), शाहरुख खान, ओडियन स्मिथ, राज बावा, अर्शदीप सिंह, हरप्रीत बरार, कगिसो रबाडा और राहुल चाहर।

सरकार ने लोगों से कहा- कोरोना की दूसरी लहर खत्म नहीं हुई है, लापरवाही नहीं बरतें

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंऑटोमोबाइल की बिक्री फरवरी में 19.08 प्रतिशत घटी, आर्थिक मंदी और बीएस-6 में बदलाव रही वजह******Automobile sales down 19.08 percent, economic slowdown, BS-VI transition take toll भारत में सभी श्रेणियों में ऑटोमोबाइल की बिक्री फरवरी माह में 19.08 प्रतिशत घटी है। उद्योग संगठन सियाम ने शुक्रवार को कहा कि बीएस-6 में बदलाव के कारण निम्‍न उत्‍पादन ने थोक आपूर्ति को प्रभावित किया है और आर्थिक मंदी से मांग पर प्रतिकूल असर पड़ा है। फरवरी माह के दौरान सभी श्रेणियों के वाहनों की कुल बिक्री 16,46,332 इकाई रही, जो फरवरी 2019 में 20,34,597 इकाई थी। ने कहा कि थोक आपूर्ति में गिरावट का मुख्‍य कारण आर्थिक मंदी और बीएस-4 वाहनों का कम उत्‍पादन है। सियाम के अयक्ष राजन वढेरा ने कहा कि कुछ ग्राहकों ने बीएस-6 वाहनों को खरीदने के लिए अंतिम समय पर बीएस-4 वाहनों की बुकिंग को रद्द कर दिया।उन्‍होंने कहा कि चीन से होने वाली आपूर्ति में व्‍यवधान आना भी एक मुद्दा है, जिससे भविष्‍य में कंपनियों के प्रोडक्‍शन प्‍लान पर असर पड़ सकता है। सियाम के मुताबिक फरवरी, 2020 में घरेलू वाहनों की बिक्री 7.61 प्रतिशत घटकर 2,51,516 इकाई रही, जो एक साल पहले की समान अवधि में 2,72,243 इकाई रही थी। फरवरी माह में कार की बिक्री 8.77 प्रतिशत घटकर 1,56,285 इकाई रही, जो एक साल पहले 1,71,307 इकाई रही थी।मार्केट लीडर मारुति सुजुकी की यात्री वाहनों की ब्रिकी फरवरी, 2020 में 2.34 प्रतिशत घटकर 1,33,702 इकाई रही। हुंडई मोटर इंडिया की बिक्री भी इस दौरान 7.19 प्रतिशत घटकर 40,010 इकाई रही। तीसरे स्‍थान पर किया मोटर्स रही और इसने कुल 15,644 इकाई की बिक्री की।फरवरी में कुल दोपहिया बिक्री 19.82 प्रतिशत घटकर 12,94,791 इकाई रही, जबकि एक साल पहले समान माह में यह बिक्री 16,14,941 इकाई रही थी। मार्केट लीडर हीरो मोटोकॉर्प ने इस दौरान 4,80,196 इकाई की बिक्री की, इसकी बिक्री में 20.05 प्रतिशत की गिरावट आई है। होंडा मोटरसाइकिल की बिक्री भी 22.83 प्रतिशत घ्‍ज्ञटकर 3,15,285 इकाई रही।सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंएफपीआई ने जनवरी में अब तक भारतीय बाजारों में 18,456 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया******विदेशी निवेशकों ने घरेलू शेयर बाजार में बढ़ाया निवेशनई दिल्ली। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने जनवरी में अबतक भारतीय बाजारों में शुद्ध रूप से 18,456 करोड़ रुपये का निवेश किया है। वैश्विक स्तर पर तरलता की स्थिति बेहतर होने की वजह से एफपीआई उभरते बाजारों में निवेश कर रहे हैं। डिपॉजटरी के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने एक से 22 जनवरी के दौरान शेयर बाजारों में 24,469 करोड़ रुपये का निवेश किया जबकि उन्होने ऋण या बांड बाजार से 6,013 करोड़ रुपये की निकासी की। इस तरह उनका शुद्ध निवेश 18,456 करोड़ रुपये रहा।ग्रो के सह-संस्थापक एवं मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) हर्ष जैन ने कहा, ‘‘भारतीय बाजारों में निवेश का प्रवाह जारी है। वैश्विक स्तर पर तरलता की स्थिति बेहतर होने की वजह से एफपीआई भारत जैसे उभरते बाजारों में निवेश कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि इसके अलावा ऐसे भी संकेत मिल रहे हैं कि लॉकडाउन के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति में सुधार उम्मीद से बेहतर रहा है। इस महीने कुछ उभरते बाजारों में एफपीआई का निवेश सकारात्मक रहा है। इनमें इंडोनेशिया को 80 करोड़ डॉलर, दक्षिण कोरिया को 32 करोड़ डॉलर, ताइवान को 2.3 अरब डॉलर और थाइलैंड को 11.3 करोड़ डॉलर का निवेश मिला है। जैन ने कहा कि इंडोनेशिया, थाइलैंड, ब्राजील और रूस को छोड़कर अन्य उभरते बाजारों ने सकारात्मक रिटर्न दिया है।सकारात्मक संकेतों की वजह से भारतीय बाजार कोरोना के असर से पूरी तरह बाहर निकल कर नई ऊंचाईयों पर पहुंच चुके हैं। भारत की अर्थव्यवस्था में अनुमानों से बेहतर रिकवरी को देखते हुए विदेशी निवेशक लगातार भारतीय बाजारों में निवेश कर रहे हैं। बीते हफ्ते ही सेंसेक्स ने 50 हजार का ऐतिहासिक स्तर पार किया है। फिलहाल सेंसेक्स 48800 के ऊपर कारोबार कर रहा है। जो कि साल भर पहले 41100 के स्तर पर था। यानि बीते एक साल में सेंसेक्स ने अपने निवेशकों को करीब 19 फीसदी का रिटर्न दिया है।

सरकार ने लोगों से कहा- कोरोना की दूसरी लहर खत्म नहीं हुई है, लापरवाही नहीं बरतें

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंअगर आप भी हैं कोरियन ब्यूटी के दीवाने तो फॉलो करें ये टिप्स, आपकी त्वचा भी वैसे ही करेगी ग्लो******Highlightsकोरियन ब्यूटी की पूरी दुनिया में चर्चा होती है। उनकी त्वचा पर एक अलग ही चमक होती है। दिन हो या रात उनकी स्किन पर हमेशा ही ग्लो रहता है।भारतीय महिलाएं भी अपनी स्किन को सुंदर बनाने के लिए कोरियन प्रोडक्ट्स का खूब इस्तेमाल करती हैं। पूरे विश्व में कोरियाई महिलाओं और पुरुषों की स्किन काफी बेहतर मानी जाती है। इसके पीछे उनकी लाइफस्टाइल और कुछ ब्यूटी टिप्स हैं जिनका इस्तेमाल कर हम भी अपने चेहरे और त्वचा को लंबे समय तक जवां और खूबसूरत बनाए रख सकते हैं तो चलिए जानते हैं इनके बारे में-दिनभर की भागदौड़ से चेहरे पर गंदगी जम जाती है साथ धूप के कारण चेहरा डल पड़ जाता है इसीलिए हमें रोजाना दो बार मुंह को धुलना चाहिए। अगर स्किन ऑयली है तो फोम बेस्ड फेस वॉश का इस्तेमाल करें। वॉटर बेस्ड फेस वॉश ऑयली और कॉम्बिनेशन स्किन दोनों के लिए बेस्ट साबित हो सकते हैं।कोरियन इस बात का खास ख्याल रखते हैं कि उनकी त्वचा रूखी न रहे और इसके लिए वो 10 सेकेंड का ट्रिक अपनाते हैं। इसके लिए वो चेहरा धोने के 10 सेकेंड के अंदर उस पर टोनर का इस्तेमाल करते हैं। इससे त्वचा को जरूरी पोषक तत्व तो मिलते है हीं, साथ ही चेहरे की नमी बाहर निकलने नहीं पाती।शीट मास्क एक फेमस कोरियाई प्रॉडक्ट है, जो त्वचा के लिए आरामदायक होने के साथ-साथ उपयोग में भी आसान है। चेहरे के आकार का मास्क सीरम और हाइड्रेटिंग एसेंस में भिगोया जाता है, जो स्किन को पोषण देता है और सभी प्रकार की स्किन के लिए उपयुक्त है।आजकल लोग त्वचा को जवां रखने के लिए सीरम का अधिक इस्तेमाल करते हैं। सीरम का इस्तेमाल आपके चेहरे पर नमी लाने के लिए आवश्यक है। इसका प्रयोग झुर्रियां, सूखापन, हाइपर-पिग्मेंटेशन को रोकता है। अगर आप ज्यादा से ज्यादा समय एसी में बिताती हैं तो इसका इस्तेमाल जरूर करें।अगर आपकी स्किन ऑयली है तो दही, ओटमील, और शहद से बना फेस पैक ट्राई करें। इसके अलावा जिलेटिन पाउडर का फेस पैक भी ट्राई किया जा सकता है। इसके लिए अनफ्लेवर्ड जिलेटिन पाउडर लें और इसमें 2 चम्मच दूध मिक्स करें। अब इस मिश्रण को गर्म करें और फिर चेहरे पर अप्लाई करें। 15 मिनट बाद फेस वॉश कर लें। इन्हें ​DIY हैक्स कहा जाता है।

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंNational Emblem Controversy: सारनाथ और नई संसद के ऊपर लगा अशोक स्तंभ एक समान हैं- केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी******Highlightsराष्ट्रीय प्रतीक (National Emblem) को लेकर चल रहे विवाद के बीच केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री ने मंगलवार को विपक्ष पर पलटवार करते हुए जोर दिया कि यदि सारनाथ स्थित राष्ट्रीय प्रतीक के आकार को बढ़ाया जाए या नए संसद भवन पर बने प्रतीक के आकार को छोटा किया जाए, तो दोनों में कोई अंतर नहीं होगा। विपक्षी दलों और कार्यकर्ताओं ने सरकार पर अशोक की लाट के ‘मोहक और राजसी शान वाले’ शेरों की जगह उग्र शेरों का चित्रण कर राष्ट्रीय प्रतीक के स्वरूप को बदलने का आरोप लगाया। उन्होंने इसे तत्काल बदलने की मांग की।पुरी के मंत्रालय पर के तहत नए संसद भवन के निर्माण का जिम्मा है। उन्होंने कहा कि दो संरचनाओं की तुलना करते समय कोण, ऊंचाई और माप के प्रभाव की सराहना करने की आवश्यकता है। मंत्री ने ट्वीट किया कि यदि कोई व्यक्ति नीचे से सारनाथ प्रतीक को देखता है, तो वह उतना ही शांत या क्रोधित दिखाई देगा, जितना बताया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि मूल प्रतीक की वास्तविक प्रतिकृति नई इमारत पर लगाई जाती है, तो वह दूर से नहीं दिखाई देगी। उन्होंने कहा कि 'विशेषज्ञों' को यह भी पता होना चाहिए कि सारनाथ में रखा गया मूल प्रतीक जमीन पर है जबकि नया प्रतीक जमीन से 33 मीटर की ऊंचाई पर है।उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, "अगर सारनाथ स्थित प्रतीक चिन्ह के आकार को बढ़ाया जाए या नए संसद भवन पर लगे प्रतीक के आकार को छोटा कर दिया जाए तो दोनों में कोई फर्क नहीं दिखेगा।’’ पुरी ने सारनाथ स्थित प्रतीक चिन्ह की एक तस्वीर भी ट्वीट की।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को नए संसद भवन की छत पर राष्ट्रीय प्रतीक का अनावरण किया था। इस दौरान आयोजित समारोह में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश उपस्थित थे।सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंJharkhand Board JAC 10th Result 2021: झारखंड बोर्ड की 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी, इस लिंक से करें चेक****** झारखंड एकेडमिक काउंसिल (JAC) की ओर से 10वीं कक्षा (मैट्रिक) का रिजल्ट (JAC Matric Class 10th Result 2021) जारी कर दिया गया है। शिक्षा मंत्री जगन्नाथ महतो ने मैट्रिक का रिजल्ट जारी किया है।छात्रों को अपना रिजल्ट चेक करने के लिए रोल कोड और रोल नंबर सबमिट करना होगा।जैक बोर्ड द्वारा जारी 10वीं कक्षा के रिजल्ट के अनुसार,इस साल 10वीं की परीक्षा में 95.93 फीसदी छात्र पास हुए हैं। मैट्रिक बोर्ड परीक्षा के लिए 4,33,571 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया था, जिसमें से 4,15,924 छात्र पास हुए हैं। इस बार2,70,931 बच्चे फर्स्ट डिवीजन से पास हुए हैं। वहीं, 1,13,924 बच्चे सेकेंड डिवीजन और 11,009 बच्चे थर्ड डिवीजन से पास हुए हैं।बता दें कि, कोरोना के कारण अन्य राज्यों की तरह झारखंड सरकार ने भी 10वीं की बोर्ड परीक्षा को रद्द कर दिया था, जिसके नतीजे आज जारी किए गए हैं। आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर रिजल्ट घोषित किया गया है। ऐसे में इस बार टॉपर की लिस्ट नहीं जारी की गई है। इस संबंध में जेएसी ने पहले स्पष्ट कर दिया था कि पिछली कक्षा यानि 9वीं कक्षा के अंक के आधार पर विद्यार्थियों को प्रमोट किया जाएगा।

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंBabar Azam PAK vs ENG: बाबर आजम ने इंजमाम, मिस्बाह, मियांदाद जैसे दिग्गजों को पछाड़ा, बने पाकिस्तान के 'सुपरहिट' कप्तान******Highlightsपाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम ने गुरुवार 22 सितंबर को इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टी20 में अपनी शानदार शतकीय पारी से कई रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए। उन्होंने 66 गेंदों पर 110 रन की नाबाद पारी खेली जिसमें 11 चौकों के साथ 5 छक्के भी शामिल थे। बाबर के टी20 इंटरनेशनल करियर का यह दूसरा शतक है। इसके अलावा बतौर पाकिस्तानी कप्तान उन्होंने 10वीं इंटरनेशनल सेंचुरी लगाई और सभी पूर्व दिग्गजों को पीछे छोड़ दिया।बाबर आजम की शानदार शतकीय पारी की बदौलत पाकिस्तान ने इंग्लैंड को 7 मैचों की सीरीज के दूसरे टी20 में 200 रन का लक्ष्य चेज करते हुए 10 विकेट से मात दी। पाकिस्तानी क्रिकेट टीम ने बाबर आजम की कप्तानी में दूसरी बार ऐसा किया। पिछली बार भारत के खिलाफ 2021 टी20 वर्ल्ड कप के पहले मैच में दुबई में बाबर और मोहम्मद रिजवान की जोड़ी ने यह कारनामा किया था। इस जीत के साथ पाकिस्तान ने पहला मुकाबला गंवाने के बाद सीरीज में 1-1 से बराबरी भी कर ली है।इसके अलावा बाबर आजम अब पाकिस्तान के लिए टी20 इंटरनेशनल में सबसे ज्यादा मैच जीतने वाले कप्तान भी बन गए हैं। उन्होंने इस मामले में भी सरफराज अहमद, शाहिद अफरीदी, शोएब मलिक और मोहम्मद हफीज जैसे स्टार खिलाड़ियों को पछाड़ा है। इसके साथ ही पाकिस्तान पहली ऐसी टीम भी बनी है जिसने 200 का लक्ष्य टी20 इंटरनेशनल में बिना कोई विकेट खोए हासिल किया है।गौरतलब है कि बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान की इस अविश्वसनीय पारी और पार्टनरशिप ने इंग्लैंड के हाथों से यहां दूसरा टी20 जीतकर सीरीज में 2-0 की बढ़त लेने का मौका छीन लिया। अब शुक्रवार को दोनों टीमें सीरीज के तीसरे मुकाबले में आमने-सामने होंगी। इस मैच में भी दोनों टीमों के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिल सकती है। इंग्लैंड ने पहले मैच में पाकिस्तान को 6 विकेट से हराकर सीरीज का विजयी आगाज किया था।सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंDigital Currency: इस साल लॉन्च होगी डिजिटल करेंसी, क्रिप्टोकरेंसी से कई मायनों में होगा अलग******Highlightsभारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के डिप्टी गवर्नर टी. रबी शंकर ने बताया है कि केंद्रीय बैंक इस साल पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर अपनी डिजिटल करेंसी लॉन्च करेगा। इंडिया आइडियाज समिट को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (सीबीडीसी) सीमा पार भुगतान के लिए सबसे कुशल प्रणाली है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्रीय बजट में घोषणा की थी कि 2022-23 के दौरान सीबीडीसी को लॉन्च किया जाएगा। हालांकि, रबी शंकर ने दोहराया कि आरबीआई कैशलेस समाज का लक्ष्य नहीं बना रहा है, बल्कि ग्राहकों को व्यवहार्य विकल्प देने का इच्छुक है। शंकर ने आगे कहा कि यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस या यूपीआई के और अधिक अंतर्राष्ट्रीयकृत होने की संभावना है।चूंकि, इसे आरबीआई जारी करेगा तो क्रिप्टो के मुकाबले यह काफी सुरक्षित होगा। इसमें फर्जीवाड़ा या धोखाधड़ी की संभावना न के बराबर होगी।डिजिटल करेंसीमें आप छूने का अहसास नहीं कर पाएंगे जो अभी प्रचलन में मुद्रा के साथ कर पाते हैं। यानी आप डिजिटल करेंसीको घर या पर्स में नहीं रख पाएंगे। इसे वॉलेट, बैंक खाते या ऑनलाइन ही रख पाएंगे।उन्होंने बताया कि आरबीआई हितधारकों से प्राप्त फीडबैक के अनुसार डिजिटल भुगतान पर नीति को जांचने की कोशिश कर रहा है। देश में डिजिटल भुगतान खंड के बढ़ते महत्व पर प्रकाश डालते हुए, शंकर ने कहा कि यह प्रति वर्ष 40 से 50 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है। आरबीआई के डिप्टी गवर्नर नेबताया कि केंद्रीय बैंक डिजिटल बुनियादी ढांचे के दायरे में डेटा गोपनीयता की रक्षा करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह डिजिटल भुगतान बुनियादी ढांचे की तकनीकी स्थिरता को बढ़ाने पर भी काम कर रहा है। इस संबंध में, शंकर ने कहा कि आरबीआई धोखाधड़ी प्रबंधन को बढ़ाने पर भी ध्यान केंद्रित कर रहा है।

सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंCWG 2022 Lovlina Borgohain: ओपनिंग सेरेमनी से क्यों जल्दी निकलीं लवलीना? BFI उपाध्यक्ष हुए नाखुश******Highlights ओलंपिक कांस्य पदक विजेता भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन मौजूदा कॉमनवेल्थ गेम्स की शुरुआत से पहले ही काफी चर्चा में रही हैं। इसी बीच गुरुवार को राष्ट्रमंडल खेलों के ओपनिंग सेरेमनी को बीच में ही छोड़ना भी उन्हें महंगा पड़ा क्योंकि इसके बाद वह करीब एक घंटे तक फंसी रहीं। ओपनिंग सेरेमनी गुरुवार रात को लगभग दो घंटे तक चली और लवलीना ने भारतीय मुक्केबाजी दल के एक अन्य सदस्य मुहम्मद हुसामुद्दीन के साथ अलेक्जेंडर स्टेडियम से खेल गांव के लिए जल्दी निकलने का फैसला किया।लवलीना से जब पूछा गया कि उन्होंने समारोह को बीच में क्यों छोड़ा उन्होंने पीटीआई से कहा, ‘‘हम सुबह अभ्यास करना चाहते थे क्योंकि इसके एक दिन बाद हमारा मुकाबला है। समारोह चल रहा था और हमने तब निकलने का फैसला किया। हमने टैक्सी उपलब्ध कराने को कहा लेकिन हमें बताया गया कि टैक्सी उपलब्ध नहीं है।’’ समारोह अभी चल रहा था और ये दोनों ही मुक्केबाज स्वयं टैक्सी नहीं कर पाए। ऐसे में उनके पास खेल गांव पहुंचने का कोई विकल्प नहीं था। बाद में उन्होंने राष्ट्रीय प्रदर्शनी केंद्र से खेल गांव जाने वाली पहली बस पकड़ी।भारतीय दल को आयोजकों ने तीन कार उपलब्ध कराई थी लेकिन उनके ड्राइवर मौजूद नहीं थे क्योंकि भारतीय खिलाड़ी और अधिकारी बसों से उद्घाटन समारोह के लिए पहुंचे थे। भारतीय दल के प्रमुख राजेश भंडारी इस पूरे घटनाक्रम से खुश नहीं थे। भंडारी भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) के उपाध्यक्ष भी हैं। भंडारी ने कहा, ‘‘समारोह के बीच में ही मुझे पता चला कि वह एक अन्य मुक्केबाज के साथ वापस लौट गई है। हम सभी बसों में आए थे और तब टैक्सी का विकल्प उपलब्ध नहीं था। अगर उन्हें जल्द ही लौटना था तो फिर उन्हें समारोह में नहीं आना चाहिए था। कई अन्य खिलाड़ियों ने भी समारोह में नहीं आने का फैसला किया था क्योंकि अगले दिन उन्हें अभ्यास या फिर अपनी स्पर्धाओं में हिस्सा लेना था। मैं इस मामले में मुक्केबाजी टीम से बात करूंगा।’’भारत से कुल 164 खिलाड़ियों और अधिकारियों ने उद्घाटन समारोह में हिस्सा लिया। जिन भारतीय खिलाड़ियों ने समारोह मैं नहीं आने का फैसला किया उनमें महिला भारतीय क्रिकेट टीम भी शामिल थी क्योंकि उसे अगले दिन मैच खेलना है। खेलों से पहले लवलीना ने आरोप लगाया था कि उनकी कोच को लगातार परेशान किया जा रहा है और उनकी निजी कोच संध्या गुरुंग को खेल गांव में आने की अनुमति नहीं दी जा रही है। हालांकि संध्या को बाद में खेल गांव का मान्यता पत्र दिया गया था।सरकारनेलोगोंसेकहाकोरोनाकीदूसरीलहरखत्मनहींहुईहैलापरवाहीनहींबरतेंJug Jugg Jeeyo trailer OUT: प्यार, रोमांस और फैमिली ड्रामा से भरपूर फिल्म जुग-जुग जियो का ट्रेलर रिलीज******Highlightsनीतू कपूर, अनिल कपूर, वरुण धवन और कियारा आडवाणी अभिनीत फिल्म 'जग जुग जीयो' का ट्रेलर रिलीज हो गया है। राज मेहता निर्देशित यह फिल्म प्यार, रोमांस और फैमिली ड्रामा से भरपूर है। ट्रेलर में अनिल कपूर और वरुण धवन की जोड़ी कमाल की लग रही है। इसमें अनिल कपूर, वरुण धवन के पिता की भूमिका निभा रहे हैं।फिल्म के ट्रेलर को अनिल कपूर ने इंस्टाग्राम पर साझा करते हुए लिखा- 'जरूर आना इस परिवार के पुनर्मिलन के लिए आपके परिवार के साथ आश्चर्य से भरा! 24 जून को सिनेमाघरों में रिलीज होने के लिए तैयार।'दूसरी ओर, ट्रेलर की घोषणा करते हुए, करण जौहर ने लिखा, 'आइए इस अनोखे परिवार के जादू का अनुभव करें और भावनाओं को एक समूह में गले लगाने दें! यह अब तक के सबसे बड़े पारिवारिक पुनर्मिलन में से एक होने जा रहा है और आप सब आमंत्रित हैं!'ट्रेलर की शुरुआत कियारा आडवाणी और वरुण धवन की शादी के जश्न के साथ होती है, लेकिनदोनों अपनी शादी से परेशान होते हैं और तलाक फाइल करने का फैसला करते हैं और अपने फैसले को अपने परिवारों से गुप्त रखते हैं। वहीं इसमेंनीतू कपूर, मनीष पॉल और प्राजक्ता कोली भी नजर आ रहीहैं।बता दें कि ट्रेलर से पहले मेकर्स ने फिल्म का मोशन पोस्टर रिलीज किया था। इस फिल्म को करण जौहर वायकॉम 18 के साथ मिलकर प्रोड्यूस कर रहे हैं। साथ ही दर्शकों को पहली बार वरुण और कियारा की जोड़ी देखने को मिलेगी।यह फिल्म 24 जून 2022 को सिनेमाघरों में हिट होने के लिए तैयार है।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-01 06:58
उद्धरण 1 इमारत
Bihar News: बिहार में मंत्रिमंडल को लेकर मंथन जारी, राजद की नजर 'ए टू जेड' पर******Highlightsबिहार में दूसरी बार महागठबंधन की सरकार बन गई है। नीतीश कुमार ने एक बार फिर मुख्यमंत्री की शपथ ले ली है जबकि राजद नेता तेजस्वी यादव उप मुख्यमंत्री बनाए गए हैं। अब सबकी नजर मंत्रिमंडल विस्तार पर है। इधर दलों में मंत्रियों को लेकर मंथन का दौर जारी है। इस दौरान कहा जा रहा है कि दोनों दल मंत्रिमंडल में जहां क्षेत्रीय संतुलन को बनाए रखेंगे, वहीं जातीय समीकरण को भी साधने की कोशिश करेंगे। सूत्रों का मानना है कि राजद कोटे से सबसे अधिक मंत्री बनाए जाएंगे, इसके लिए संभावित नामों की सूची पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद के पास भेजी जाएगी, जहां अंतिम मुहर लगेगी।यादव, अति पिछड़े और अल्पसंख्यकों की संख्या ज्यादा होगीमाना जा रहा है कि नई सरकार में यादव, अति पिछड़े और अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले मंत्रियों की संख्या ज्यादा हो सकती है। वैसे, राजद मंत्रिमंडल विस्तार में 'ए टू जेड' नीति के तहत मंत्रिमंडल में सवर्णों को भी राजद कोटे से मंत्री बनाया जा सकता है। सूत्रों का कहना है कि जदयू कोटे से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को छोड़ 12 मंत्री होंगे जबकि राजद कोटे से उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव को छोड़ 15 मंत्री शपथ लेंगे। कांग्रेस को चार मंत्रीपद मिलने की संभावना है, जबकि हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) से एक मंत्री होगा।एक मात्र निर्दलीय विधायक को भी मिल सकता है मंत्री पदजदयू समर्थित निर्दलीय इकलौते विधायक को भी मंत्री बनाया जा सकता है। माना जा रहा है कि 16 अगस्त को मंत्रिमंडल का विस्तार किया जा सकता है। सूत्र बताते हैं कि नीतीश सरकार के नए मंत्रिमंडल में कई ऐसे चेहरे शामिल होंगे जिन्हें अब तक मंत्री बनने का मौका नहीं मिला है। जदयू के कुछ पुराने चेहरों की छुट्टी भी हो सकती है। राजद की तरफ से कैबिनेट में शामिल होने वाले ज्यादातर नए चेहरे होंगे।बीजेपी के विभाग आरडेडी को मिल सकते हैंविभागों की बात करें तो पिछली सरकार में जो विभाग भाजपा कोटे के मंत्रियों के पास थी, वह विभाग राजद को मिल सकता है। वैसे, सूत्र बताते हैं कि कुछ विभागों को लेकर पेंच फंस गया है। महागठबंधन के एक नेता हालांकि कहते हैं कि महागठबंधन सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर मंथन जारी है, कहीं कोई परेशानी नहीं है।
2022-10-01 06:36
उद्धरण 2 इमारत
Yeh Rishta Kya Kehlata Hai Spoiler: अक्षरा और अभिमन्यु की लाइफ में आने वाला है ये ट्विस्ट, जानिए आगे क्या बड़ा होने वाला है?******: स्टार प्लस का मशहूर टीवी सीरियल हर बीतते एपिसोड के साथ दिलचस्प होता जा रहा है। हालिया ट्रैक में अक्षरा और अभिमन्यु की शादी हो गई है अक्षरा विदाई हो गई और वह ससुराल वापस आ गई है। आने वाले एपिसोड में टीवी सीरियल में जबरदस्त ट्विस्ट देखने को मिलने वाला है।बीते एपिसोड में देखा गया है कि अक्षरा और अभिमन्यु चीजों को ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं। महिमा मेहमानों से उसके बारे में बताती है, उसका अपमान करने वाली थीं। महिमा चाहती हैं कि अक्षरा अपमान का सामना करें।वहीं बात करें सीरियल की आगे की कहानी के बारे में तो अभिमन्यु और अक्षरा आखिरकार अपनी लव लाइफ के नए दौर को जीने जा रहे हैं। हालांकि, इस नए चैप्टर में उनके बीच काफी कुछ बदलने वाला है और कुछ बड़ी चुनौतियां उनके रिश्ते को झकझोरने वाली हैं।इस बीच, जहां अक्षरा से पहले भी अभिमन्यु का पेशा उनकी पहली प्रायऑरिटी पर है, इस प्रकार तरह दोनों की लाइफ में उनकी प्रोफेशनल लाइफ सामने आएगी। इसलिए अक्षरा के लिए नई चुनौती सामने आएगी।
2022-10-01 05:54
उद्धरण 3 इमारत
BSF Personnel Accused of Rape: रेप के आरोपी BSF जवान गिरफ्तार, TMC ने गृह मंत्री शाह से की जिम्मेदारी लेने की मांग******Highlights तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में सीमा सुरक्षा बल (BSF) के दो जवानों की ओर से एक महिला से कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म किए जाने के मामले की जिम्मेदारी लेने की रविवार को मांग की। टीएमसी की वरिष्ठ नेता और मंत्री डॉ. शशि पांजा ने अन्य नेताओं के साथ उस स्थान का मुआयना किया, जहां यह घटना हुई थी। उन्होंने हैरानी जताई कि शाह ने इस मामले पर चुप्पी क्यों साध रखी है।गौरतलब है कि उत्तर 24 परगना जिले में बगडा सीमा चौकी के समीप महिला से बलात्कार के आरोप में 26 अगस्त की रात को बीएसएफ के सहायक उप-निरीक्षक और कांस्टेबल को गिरफ्तार किया गया था। उन्हें निलंबित कर दिया गया है। पांजा ने एक वीडियो बयान में कहा, "बीएसएफ कर्मियों ने एक महिला पर उसके नाबालिग बच्चे के सामने यौन अत्याचार किया। हम इस घटना की निंदा करते हैं और हम केंद्रीय गृह मंत्री से इसकी जिम्मेदारी लेने की मांग करते हैं।" पांजा के इस बयान को टीएमसी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है।बीएसएफ के दक्षिण बंगाल सीमांत के अधिकारी ने बताया था कि आरोपियों को निलंबित कर दिया गया है और उनके खिलाफ 'कोर्ट ऑफ इंक्वायरी' का आदेश दिया गया है। उन्होंने बताया कि घटना 26 अगस्त की सुबह पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में बगदा सीमा चौकी के निकट हुई। अधिकारी ने बताया, ''बीएसएफ कांस्टेबल ने भारत से बांग्लादेश में अवैध रूप से प्रवेश करने की कोशिश कर रहे एक दलाल और एक महिला को पकड़ा था। कांस्टेबल महिला को पास के एक खेत में ले गया और उससे कथित तौर पर बलात्कार किया, जबकि सहायक उपनिरीक्षक ने उसे अपराध में कथित तौर पर मदद की।'' महिला की ओर से पुलिस में शिकायत कराने के बाद यह घटना सामने आई।
वापसी